नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

July 09, 2008

"घर की समस्याओं का हल घर के बाहर तलाश रही है. " कूप मंडूक क्यों नहीं बनी रहती ???

नारी को कमजोर बनाती उसकी सोच की " ये काम क्योकि हम सालो से कर रहे हैं इस लिये ये काम नारी का काम हैं और इस लिये ये निम्न क्षेणी मे आता हैं . ये हमारा पूर्वाग्रह हैं कि क्योकि हम सालो से ये करते रहे रहे हैं ये निम्न क्षेणी चला गया हैं . और क्योकि हम सालो से ये करते रहे रहे हैं इस लिये हम इसको छोड़ कर ही आगे जा सकते हैं " खाना बनाना और उसमे प्रवीण होना ऐसा काम हैं जिसमे जितनी महारथ हो जाए उतना बढिया . नारी बरसो से रसोई संभाल रही हैं अब अगर वोह mutidimensional task करती हैं और समय नहीं पाती की खाना बना सके तो इसके लिये उसके मन मे ना तो कोई गिल्ट होना चाहीये और इसके साथ साथ उसके परिवार वालो को भी ये नहीं मानना चाहीये की " ये उसी का काम हैं " लेकिन अगर वह बाकी काम को साथ खाना बनाना भी करना चाहती हैं तो ये उसके एक्स्ट्रा स्ट्रोंग होने का सबूत हैं । काम का विभाजन समस्या नहीं हैं . समस्या हैं " सोच " कि काम का विभाजन हो लिंग भेद के आधार पर .
"
घर की समस्याओं का हल घर के बाहर तलाश रही है. "

ये कह कर आपने मूल समस्या को दर किनार कर दिया . समस्या हैं कि क्या "घर " केवल नारी की जिम्मेदारी हैं , क्या उसको बनाए रखना नारी का काम हैं . अगर कोई भी ये सोचता हैं तो उसका मानसिक मंथन का आधार लिंग भेद हैं . घर अगर नारी और पुरूष से बनता हैं , अगर वह एक दुसरे के पूरक हैं तो फिर ये प्रश्न ही क्यों "घर की समस्याओं का हल घर के बाहर तलाश रही है."

अगर कोई भी ये बात कहता हैं की " घर से बाहर निकल कर घर की समस्याओं का समाधान नहीं हो सकता." तो कही न कही वह ये जरुर मान रहा हैं की "नारी / औरत " को घर से बाहर नहीं निकलना हैं , समस्या का समाधान अगर घर मे होता तो नारी सशक्तिकरण की जरुरत ही ना होती , आर्थिक रूप से सुध्ढ़ होने की जरुरत ना होती .
सब को ये समान अधिकार हो की अपनी पसंद का काम कर सके . जहाँ नारी को ये अधिकार नहीं दिया जाता हैं वहां उसकी सुरक्षा के लिये उसके किये हुआ हर काम का आर्थिक मूल्य हो तो ग़लत क्या हैं ?? कब तक स्त्री को ये सुनवाते रहेगे की "जाओ खाना बनाओ मै कमा कर आया हूँ " " सारा दिन घर मै गैप मारती हो बाहर जा कर कमा कर लाना पडे तो समझ आयेगा "


घर की समस्याओं का हल घर के बाहर ही हैं और मिलेगा भी क्योकि नारी का कूप मंडूक बने रहने का समय ख़तम हो गया हैं . अपने अधिकारों के प्रति सजग होना बहुत जरुरी हैं .अधिकार समानता का ५०% की हिस्सेदारी का तकलीफ और आराम दोनों मे .

5 comments:

  1. रचना जी
    घर की समस्याओं का हल बाहर जरूरी नहीं है। घर में रहे या बाहर ये उसकी अपनी सोच है। बस नारी को अपनी आज़ादी खुद अर्जित करनी है। मेरे घर में मेरी भाभियाँ नौकरी नहीं करती लेकिन वे मुझसे भी ज्यादा स्वतंत्र हैं और मेरे साथ ऐसी कई महिलाएँ नौकरी करती हैं जिनको आज भी पति की ज्यादती सहन करनी पड़ती है। नारी को अपने स्वाभिमान की रक्षा स्वयं करनी होगी उनपर कोई दबाव नहीं डाल सकता । अन्याय घर में हो या बाहर उसका विरोध करो ।

    ReplyDelete
  2. शोभाजी से सहमत हूं.विस्तृत सोच और आत्मविश्वास के जरिये ही नारी आज़ादी की जंग लड सकेगी,चाहे घर में रहे या बाहर.हां उसे यह विश्वास घर वाले ही दिला सकते हैं कि वो जो भी कार्य(घरेलू या बाहर का) कर रही है, वो गौरवपूर्ण है,थैंकलेस नही.

    ReplyDelete
  3. मैं आंशिक रूप से शोभा जी और इला से सहमत हूँ। लेकिन जब तक नारी कम से कम इतना न कमाए जिस में वह आत्मनिर्भर हो सके और उसे अपनी कमाई पर पूरा अधिकार भी हो तब तक पूर्ण स्वतंत्रता संभव नहीं है। पिता, पति, पुत्र, भाई या मित्र के साथ अपना सामुहिक निवास बनाना एक प्रकार का समझौता है। समझौता तब होता है जब दोनों पक्ष कुछ न कुछ एक दूसरे को देते हैं। इस समझौते में कुछ तो स्वतंत्रताएँ हमें छोड़नी ही पड़ेंगी और कुछ दायित्व तो उठाने ही होंगे। लगता है विवाह को नए रूप में परिभाषित होना शेष है। इस के साथ ही नारी-पुरुष के अन्य संबंधों को भी।

    ReplyDelete
  4. घर सबसे मिल कर बनता है और काम घर का सब मिल कर करे तभी सही है और बाहर किस के पास समय की कोई दूसरों की समस्या का हल तलाश करे वैसे ही मुझे लगता है की घर हो या बाहर सब तरफ़ वैसे ही बहुत समस्या हैं . और सबको अपने तरीके से अपनी समस्या अक हल तलाश करना है .शोभा जी ने सही कहा कि जो भी करे स्वाभिमान के साथ करे ...जिंदगी की गाड़ी तो तभी मिल जुल कर ही चलेगी ..

    ReplyDelete
  5. [कब तक स्त्री को ये सुनवाते रहेगे की "जाओ खाना बनाओ मै कमा कर आया हूँ " " सारा दिन घर मै गैप मारती हो बाहर जा कर कमा कर लाना पडे तो समझ आयेगा "
    ]

    Itne dino se mahilayen purush ke shashan mein rahi hai to ye sab sunna padta hai. Aur barabari ka darza itni jaldi to nahi hi milegi. Thoda waqt lagega lekin nariyan chin hi lengi apna haq, apne vichar.

    उस हिटलरी गुमान पर सभी रहें है थूक
    जिसमें कानी हो गई शासन की बंदूक

    जली ठूँठ पर बैठकर गई कोकिला कूक
    बाल न बाँका कर सकी शासन की बंदूक


    Mujhe lagta hai itna hi kafi hai aur jo smajhe wo gyani hai jo na samjhe wo nadan!

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts