नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

July 03, 2008

घरेलू हिंसा

हर रोज़ जब भी समाचार पत्र पढने बैठती हूँ ,तो महिलाओं के अपहरण ,बलात्कार ,हत्या व् महिलाओं द्वारा आत्महत्या की ख़बरों से समाचार पत्र को भरा पाती हूँ !आज के परिवेश में जब पति ,पत्नी ,बच्चे सभी मानसिक रूप से परिपक्व व स्वतंत्र हैं तो इस प्रकार की घटनाओं में वृद्धि क्यों हो रही है !आश्चर्य तो इस बात का है संभ्रांत परिवारों में भी उच्च पद पर होते हुए भी पति द्वारा मानसिक यातनाएं दिए जाने की खबरें पढने को मिलती हैं !इन महिलाओं में डिप्रेशन के कारण आत्महत्या की प्रवृति उत्पन्न हो जाती है ! जीवन के प्रति सोच नकारात्मक हो जाती है ,फलस्वरूप बहुत सी महिलायें शराब व् सिगरेट का सेवन करने लगती हैं !

मध्यम वर्ग में भी जो महिलायें अपने पति पर पूर्ण रूप से निर्भर होती हैं , न चाहते हुए भी पति की यातनाएं सहती हैं क्यूंकि वो विरोध नही कर पाती ,अपने परिवार और बच्चों की खातिर वे चुप रहना बेहतर समझती हैं.

आज भी ८०% निम्नवर्गीय परिवारों में महिलाओं की स्थिति बहुत ही दयनीय है !ये महिलाएं अपना व् परिवार का पेट पालने के लिए कुछ भी काम करने को मजबूर हैं !वह काम चाहे बर्तन मांजने का ,कपड़े धोने ,मजदूरी या सब्जी बेचने का हो !अधिकतर महिलाओं के पति घर में रहते हैं और बेरोजगार होते हैं या यूँ कहिये कि काम नही करना चाहते!अपनी औरतों को सम्मान देने के बदले अपनी शराब के लिए पैसे की मांग करते हैं और मारपीट करते हैं उन्हे शारीरिक व् मानसिक यातनाएँ भी देते हैं !

दरअसल घरेलू हिंसा तब उत्पन्न होती है , जब घर का कोई सदस्य अपने परिवार के दूसरे सदस्य पर मानसिक व् शारीरिक रूप से हावी होने की कोशिश करे !ये बहुत ही गंभीर समस्या है !हमें इस समस्या से निजात पाने के लिए ठोस कदम उठाने की आवश्यकता है ! आवश्यकता है पुरुषों की मानसिकता में बदलाव लाने की !

11 comments:

  1. घरेलू हिंसा की शिकार महिला के ऊपर बात विस्त्रत होनी चाही ये क्योकि ये बहुत कॉमन बात हैं बहुत बार हम सब समझ ही नहीं पाते हैं . जब इसका शिकार ashvaryia ray हो सकती हैं तो आप सब समझ सकते हैं की ये समाज मे कितना फेला हैं .

    ReplyDelete
  2. इसे आप इस तरीके से समझ सकती हैं कि अदालत ने जब एक आदमी को अपनी पत्नी की पिटाई का आरोप सुनाया तो उस ने स्वीकार करते हुए अदालत को कहा कि यह उस का अधिकार है।

    ReplyDelete
  3. निम्न वर्ग में या बहुत ज्यादा है पर कई बहुत पढ़े लिखे भी यह सब करते हैं . ठीक कहा मानसिकता बदलनी जरुरी है

    ReplyDelete
  4. सबसे पहले जरूरी हॆ खुद ऒरत की मानसिकता में बदलाव लाना। वह बहू या पत्नी के तॊर पर अन्याय को सहन ना करे;सास या नणद के रूप में हिंसा की भागीदार ना बने। बहुत से ऎसे मामले होते हॆं जब पति मां या बहन के भडकाने से पत्नी पर हिंसक हो उठता हॆ। ऒरत को खुद्न को हिंसा सहने ऒर करने से रोकने के अलावा इसका पुरजोर विरोध भी करना होगा। यदि १/४ आबादी भी क्रान्ति कर दे तो सिंहासन पलट जाते हॆं तो हमारी आबादी तो १/२ हॆ।

    ReplyDelete
  5. मैंने सत्संग में सुना है, अगर आपने कोई पाप किया है या किसी का दिल दुखाया है तो रामायण पढने से पाप करने के स्वभाव में कमी आती है ! रामायण, पाप पुण्य चाहे जो कुछ भी हो ये मानाने ना मानाने वाली बात है !
    ठीक रामायण की तरह ही मै यहाँ आप नारियो से कुछ सिखने आया था ! ये क्या, पढने के बाद तो ऐसा लगा की मैंने कोई पाप या किसी नारी को दुःख पहुचाया ही नहीं है !
    : मेरी माँ को हवाई यात्रा पसंद नहीं है, कहती है की ट्रेन से देश दुनिया दीखता है लेकिन हवाई जहाज में ऐसा कुछ दीखता ही नहीं ! परन्तु वाही मेरी बीवी कहती है की भला कौन १२ घंटे का सफ़र करे मर जाती हु मै तो ! जब कभी भी मुझे अपनी माँ और पत्नी के साथ सफ़र करना होता है तो बड़ी मुश्किल होती है एक को खुश रखो तो दूसरा क्रोधी ! वैसे मेरी माँ कुछ कहती तो नहीं है लेकिन उनके अंतरात्मा को चोट पहुचती है जब कभी उनके बातो को अनसुना करके हवाई जहाज से सफ़र करने को कहता हु वाही मेरी बीवी ट्रेन से सफ़र की नाम पर नारी प्रताड़ना की आवाज बुलंद करने लगती है !
    वैसे मैंने आप सब नारियो का प्रवचन पढ़ा बिलकुल कड़वी सच्चाई झलकी है! आप लोगो की बातो से, लेकिन जहा तक मै समझता हु की नारी के पास इतनी शक्ति का भण्डार भरा है की उसे शक्ति की देवी के रूप में पूजा जाता है ! लेकिन आपलोगों की बातो से ऐसा लगता है की आप इं शक्ति के कुप्रभाव से भस्मासुर बन चुकी है और खुद अपना ही अस्तित्व मिटाने पर तुली है !शायद आप लोग शक्ति के मद में अंधी हो चुकी है ! एक परुष में जन्म लेने से किसी को कोई खास अधिकार नहीं मिल जाता पर हां उसकी जिम्दारी हमेशा नारियो से ज्यादा होती है ! समझने की कोशिश कीजिये आपलोग ! भस्मसुर बनकर अपनी ही विनाश की लीला खुद रच रही है !

    ReplyDelete
  6. Raja Ram Rai
    blog par aaney kae liyae aur apni vyathaa ki peeda kaa krodh ham sab par uttarney kae liyae dhnyavaad . ham yaahan kisi ko kuch seekha rahey esaa hamey sae kisi nae kab aur kehaa kahaa haen ?? aap aaye aapney padhaa achchalagaa , dubaraa na aaye bekar jal jaayegae !!!!!!!

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  8. Me bhi iski shikar huu ...mene Helpline me Complain bhi par sabhi ne sirf kagajo par shikayat likhli koi samadhan nahi hua . krapaya jo meri Is samsya me madad karana chahe wah mujhe contact kare to me unhe apnee samasya batau.
    mera email id- rohini.khare342@gmail.com

    ReplyDelete
  9. hii
    meri sister bhi is domestic violence ki shikaar huyi mai india me(lucknow)me is ka kya law hai poochana chaheti hu uski 2 saal ki beti bhi hai kya india me beti ma baap ager divorce le to kya beti father ke paas r beta mother ke paas rehenge chahy vo galte ho tub bhi kya r kya hum apni bechhi ki security nahi ker sekte plzz mujhe ans dijiye

    ReplyDelete
  10. hii
    mai bhi is domestic violence ka shikaar hu

    ReplyDelete
  11. hii meri didid bhi is domestic violence ka shikaar hai india me speciallly U P me ye law kya kaam kerega plzz koi betaye humko

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts