नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

July 06, 2008

... लेबल तो हटाना ही होगा

पहले कुश के ब्‍लॉग पर एक मार्मिक कविता और फिर मीनाक्षी जी द्वारा नारी पर लिखी गई रचना- तोड़ दो सारे बंधन और अपने बल पर मुक्ति पाओ....देखी। दोनों को पढ़ने के बाद मुझे यही अहसास हुआ कि जब तक स्‍त्री खु़द अपनी कोमलता को कमज़ोरी की शक्‍ल में सामने रखती रहेगी उसे मदद के लिए हमेशा गुहार ही लगानी होगी। ये उसकी कि़स्‍मत पर है कि उसे सुनकर कोई मदद के लिए आता है या नहीं। यहां यह एतराज जायज़ हो सकता है कि क्‍या किसी मदद लेना या अपनों को मदद के लिए पुकारना कमज़ोरी है....बिलकुल कमज़ोरी नहीं है क्‍यों‍कि तकलीफ़ में हर इंसान मदद के लिए गुहार लगाता ही है, लेकिन मेरा आशय उस कमज़ोरी से है जो औरत होने के नाते महसूस की जाती है, अबला भाव से। इस भाव का ख़ात्‍मा ज़रूरी है क्‍योंकि, अगर किसी वजह से आपका वो अपना जिसे आप पुकार रहे हैं मदद भी करे, तो आप कम से कम इतनी सक्षम ज़रूर हों कि खु़ अपनी मदद कर सकें। अपने दुख से बाहर निकल सकें, कि खु़द को सिर्फ़ इसलिए तबाह कर दें कि हमारी मदद के लिए तो कोई आया नही नहीं था। साथ ही इतनी हिम्‍मत भी खुद में जगा पाएं कि अत्‍याचार का सामना चुप रहकर न करें।


यहां मैं आपको दो ऐसी लड़कियों से मिलवा रही हूं जो साहस, इच्‍छा-शक्ति और हौसले की जीती जागती मिसाल हैं। इन्‍होंने अपने ऊपर से अबला का लेबल हटाया और लोगों को दिखा दिया कि अगर मन में मजबूती हो तो कोई राह मुश्किल नहीं है। इन दिनों पंजाब और उससे लगते इलाक़ों में इनके चर्चे हैं। ये दोनों चंडीगढ़ शहर के मशहूर डिस्‍कोथेक स्‍कोर-8 में बाउंसर हैं। देश का तो मुझे पता नहीं, लेकिन ये इस इलाके की पहली महिला बाउंसर हैं और लोग इनसे लाइन लगाकर ऑटोग्राफ लेते हैं-


अमनदीप कौर-

ये पंजाब‍ के संगरूर शहर के एक गांव से चंडीगढ़ पहुंचीं। देखा कि डिस्‍कोथेक में पुरुष बाउंसर्स ही काम करते हैं। उसके मन में सवाल था मैं यहां काम क्‍यों नहीं कर सकती। काम के लिए पूछा तो जवाब मिला-लड़कियां ये काम नहीं कर सकतीं। अमनदीप निराश नहीं हुई और बार-बार कोशिश करती रही। वो बताना चाहती थी कि मैं किसी भी तरह पुरुषों से कम नहीं हूं, लेकिन कोई मानने को तैयार था। एक दिन बाज़ार में उसकी दोस्‍त को कुछ मनचलों ने छेड़ दिया। ये देख अमनदीप ने छेड़ने वाले लड़के की पिटाई शुरू की और इतना मारा कि उसे उसके दोस्‍त उठाकर ही ले जा सके, पांव पर चलाकर नहीं। ये बात स्‍कोर-8 तक पहुंची। बस उसी वक्‍़त अमनदीप को वहां से जॉब की कॉल गई और वे बन गईं एरिया की पहली महिला बाउंसर। अमनदीप कहती हैं-मैं बारह-पंद्रह मेल बाउंसर्स के साथ काम करती हूं और मुझे कभी इस बात को लेकर समस्‍या नहीं आई कि मैं एक लड़की हूं। वे मानती हैं कि शारीरिक रूप से हम कमज़ोर हैं यह मानकर चलना ही सबसे बड़ी कमज़ोरी है। जब हम मा‍नसिक रूप से खुद को सशक्‍त कर लेते हैं तो वही सशक्तिकरण होता है और वहीं से सारी राह आसान होनी शुरू हो जाती हैं।


मनप्रीत कौर-

बीस बरस की इस लड़की को बाउंसर बनने के‍ लिए दो साल तक कड़ी मेहनत करनी पड़ी। स्‍कोर-8 में ही तैनात बाउंसर, मनप्रीत का कहना है कि हम मानसिक रूप से बहुत मजबूत हैं। इसी मजबूती को बढ़ाकर हम इतना आगे जा सकती हैं कि लोग रश्‍क करें। मनप्रीत भी जब जॉब मांगने स्‍कोर पहुंची तो उन्‍हें कहा गया कि तुम फिजि़कली मजबूत नहीं दिखती। सुनकर मनप्रीत ने हौसला नहीं गंवाया इसे चुनौती की तरह लिया। रोज मीलों की दौड़ लगाने से लेकर जिम जाना और मार्शल आर्ट सीखना उसके रुटीन में शामिल हो गया। एक दिन फिर स्‍कोर-8 पहुंची और इस बार उसने उन्‍हें कन्विंस कर लिया था काम के लिए। मनप्रीत कहती हैं-हमें खु़द को निडर बनाना होगा और मन से इस बात को पूरी तरह निकाल फेंकना होगा कि जो काम पुरुष कर सकते हैं वो हम नहीं कर सकते। हम कमज़ोर हैं और हमारे लिए ऐसी जॉब्‍स का दरवाज़ा बंद है जहां पुरुषों की ही चलती है। लड़कियों को अपने अंदर की शक्ति को पहचानना होगा जिससे कि कोई उन्‍हें अबला कभी कह सके और इसके लिए सबसे पहले उन्‍हें अपने बल के बारे में जानना होगा।

तो ये थे उस सशक्तिकरण के उदाहरण जिसकी हम बात किया करते हैं। अपनी मर्जी़ से काम चुन सकने का अधिकार, अपनी मर्जी़ से जी सकने की आज़ादी और अपनी तरह से फै़सला ले पाने का साहस तभी आ पाता है जब स्‍त्री अपने अंदर छिपी शक्ति को पहचान कर अबला का लेबल हटा फेंकती है। और शायद तभी संभव हो पाता है कि किसी भी अत्‍याचार का सामना कर पाना अपने बल पर।


नोट-वैसे दाद तो रचना जी के हौसले की भी देनी चाहिए क्‍योंकि इन दिनों उन सभी से कुछ कुछ लिखवा लेने में सफल हो गई हैं जो जल्‍दी से पकड़ में नहीं आते थे। उन्‍होंने अनिता जी के साथ मिलकर बड़े-बड़े ब्‍लॉगर्स से दाल, ऑमलेट और दूसरे व्‍यंजन बनवा डाले। यहां तक कि मुझ जैसी आलसी से भी उन्‍होंने कुछ कुछ लिखवा ही लिया। हां अभी, मुझे इंतजार है कि कब वे प्रमोद जी से गोभी पुलाव बनवाने में सफल हो पाती हैं।

photographs- courtesy Daninik Bhaskar chandigarh.

8 comments:

  1. शायदाजी, बस यही तो चाहिए... अपने अन्दर की ताकत को पहचानना... आपने इतनी प्यारी हौसले की जीती जागती चिंगारियों से मिलवा कर दिल में रोशनी पैदा कर दी.. बहुत बहुत शुक्रिया...
    रचनाजी के बारे में आपने सही कहा..अब देखना है कब प्रमोदजी गोभी पुलाव बनाते हैं...

    ReplyDelete
  2. नारी शारीरिक रूप से कमजोर है यह धारणा ही उसे कमजोर बनाती है। पर ऐसा नहीं है। पुरुषों में भी यह धारणा होने पर वे कमजोर सिद्ध होते हैं। यदि इस धारणा को हटा दें तो नारी और पुरुष दोनों ही समान स्तर पर आ जाएंगे।

    ReplyDelete
  3. शायदा मेरा आग्रह आपने माना , थैंक्स . बाकी इन दो " सुकुमारियों " से परिचय करवाया . बहुत प्रेरणा मिलती हैं इन सब को देख कर . बस समाज नारी को उन्कोन्वेन्तीओनल मे देख कर खुश हो ये ही कामना हैं . सब को चोखेरबाली ना कहा और समझा जाए क्योकि जिन्दगी को हर इंसान अपनी तरह जी सके तब ही किसी भी समाज का उत्थान सम्भव हैं , और प्रमोद पुलाव बनाये या ना बनाये ये उनकी खुशी पर निर्भर हैं क्योकि हम किसी को भी बाध्य नहीं करे कुछ करने के लिये , आग्रह करना , रेकुएस्ट करना मेरा काम है , याद दिलाना और करवा पाना मेरा कर्तव्य हैं और मेरे आग्रह को जो मान देते हैं वोह सब आदर के पात्र ही हैं

    ReplyDelete
  4. shayda ji achha laga apko yahan bhi padhkar. vese humne to suna hai ki apko apke ofc me jhansi ki rani kaha jata hai...sach hai kya?

    ReplyDelete
  5. shyada jab jwaab dae paayegee jarur daegi par mae itna jarur kahugee agar anam bandhu aap shyaada ko karibb sae jantey haen to naam kae sath bhi likh saktey thae aur anythaa na lae par vyaktigat kaments ko ek saarvjanik manch par kehna kitan uchit hotaa haen . sab ki apni vyaktigat kamiyaan uar khubiyaa hotee hae .
    comment kae liyae dhnyavaad

    ReplyDelete
  6. अनानिमस जी आप तो बहुत अच्‍छी तरह जानते हैं मुझे, फिर अनाम रहकर क्‍यों बात कर रहे हैं। झांसी की रानी नाम से नवाज़ा जाना तो सम्‍मान की बात है, मुझे बहुत ख़ुशी कि आपने इस बात को यहां शेयर किया। धन्‍यवाद आपका।

    ReplyDelete
  7. नारी कहीं भी अब पीछे नही हैं बर्शते वह ख़ुद को कमजोर न समझे ..और यह लडकियां तो मिसाल है आने वाले सुखद भविष्य की ...

    ReplyDelete
  8. बिल्कुल सही है. ज़रूरत है ये ठान लेने की कि अपनी मदद ख़ुद करनी है, और अत्याचार को चुप रहकर सहना नहीं है, जैसा आप ने कहा. In fact, to a great extent, its a mental, rather than a physical state of being.

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts