नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

November 27, 2009

वो पहली भारतीये महिला थी

Field Name Year
(Muslim) Ruler of India Razia Sultana (1236-1240)
Advocate Cornelia Sorabji (1894)
Ambassador Vijayalakshmi Pandit (U.S.S.R., 1947-1949)
At Antarctica Meher Moos (1976)
Central Minister Rajkumari Amrit Kaur (Health) ---
Chief Justice (High Court) Leila Seth (Himachal Pradesh) 1991
Chief Minister Sucheta Kriplani(Uttar Pradesh) (1963-1967)
Foreign Minister Lakshmi N. Menon (1957-1966)
Secretary General of Rajya Sabha V.S.Rama Devi (1993)
Governor Sarojini Naidu (Uttar Pradesh, 1963-1967)
IAS Officer Anna Rajam George (1950)
Woman IPS Officer Kiran Bedi (1974)
Jet Commander Saudamini Deshmukh ----
Jnanpith Award Winner Ashapurna Devi, Prathama Pratishruti (1976)
Judge of Supreme Court Meera Sahib Fatima Beevi (1989)
Minister of State Vijayalakshmi Pandit(Uttar Pradesh) 1937
Missionary Sanghamitra, daughter of King Ashoka (Sri Lanka, 3rd C.BC)
Pilot (Commercial) Prem Mathur, (Deccan Airways) 1951
Pilot (Indian Airlines) Durga Banerjee (1966-1988)
President of Indian National Congress Annie Besant (1917)
President of UN General Assembly Vijayalakshmi Pandit (1953)
Prime Minister Indira Gandhi (1966-1977, 1980-1984)
Sahitya Akademi Award Winner Amrita Pritam, Sunehre (1956)
climb Mount Everest Bachendri Pal (1984)
Perform a solo Flight Harita Kaur Deol (1944)
Swim across English Channel Arati Saha (1959)
Swim across the Strait of Gibraltar
[First woman in the world and enter
in guiness book of records for the same. ]
Arti Pradhan 29th August, 1988
Win an Asian Gold Kamaljit Sandhu (1970)
Go in Space Dr. Kalpana Chawla (November 1997)

11 comments:

  1. क्या यह ब्लॉग हिन्दी का नहीं रहा ?

    ReplyDelete
  2. Rachana ji...achchi jaankari hai .....bahut pasand aaee

    ReplyDelete
  3. first women president in a fighter aircraft---honourable Pratibha Patil

    ReplyDelete
  4. @Aflatoon
    sir
    hindi aur inglish mae uplabhdi to vahi rahegi aur in mahilao ki uplabdhi mujeh jaesi "naarivadi" yaani so called feminist ko yaad haen dr sanger ji ko yahii batana thaa

    ReplyDelete
  5. कृपया हिंदी में भी अनुवाद दें, आज की पोस्ट समझ नहीं आई. कृपया हम जैसे अंग्रेजी न जानने समझने वाले --अनपढ़ों, गंवारों-- का भी ध्यान रखें.

    ReplyDelete
  6. ab inconvenienti

    aap ke english kae kament bahut haen swachh abhiyaan par so mae is jhaansae mae nahin aanae vali
    haa aap tranaslate kar dae aur kament mae daal dae abhar hoga

    ReplyDelete
  7. संग्रहणीय पोस्ट.

    ReplyDelete
  8. रचना जी, चलिए हमें बताने (dr. sengar) के कारण ही सही आपने बहुत से लोगों को बहुत ही तथ्यात्मक और संग्रह करने वाली जानकारी दी. इसमें एक नाम और जोड़ दें (यदि आपत्ति न हो क्योंकि हम बता रहे हैं, जिसे अभी आपके स्त्री-विमर्श की समझ नहीं है)
    पहली महिला स्नातक - चंद्रमुखी बोस और कादम्बिनी बोस - 1883
    यदि हमारी इस जानकारी में त्रुटि हो तो क्षमा करियेगा. (अफलातून जी भी क्षमा करेंगे, हम किसी स्नातक की नीयत पर सवाल नहीं उठा रहे हैं)

    ReplyDelete
  9. महिलाओं के बारे में बहुत अच्छी जानकारी...!!

    ReplyDelete
  10. प्रथम महिला लोकसभा की सभापति - मीरा कुमार २००९
    प्रथम भारतीय महिला कार चालक - सुज़ान आर डी टाटा - १९०५
    प्रथम भारतीय कान्ग्रेस अध्यक्ष - सरोजनी नायडू -१९२५
    प्रथम भारतीय महिल नोबेल पुरुस्कार विजेता - मदर टेरेसा - १९७९
    प्रथम भरतीय महिला ओलम्पिक पदक विजेता - कर्नम मल्लेश्वरी - २०००



    1905: Suzanne RD Tata becomes the first Indian woman to drive a car.[22]

    ReplyDelete
  11. महिलाओं के बारे में बहुत अच्छी जानकारी Dhanyawaad

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts