नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

April 18, 2009

कन्या भूण ह्त्या - इस विषय पर आप की राय , , यहाँ दे

हमेशा ये लिखा जाता रहा हैं ,कन्या भूण ह्त्या हो रही हैं इसको रोको । इसके कारण की बात करो तो अशिक्षा , अज्ञान और रुढिवादी सोच को बताया जाता । तीनो कारणों को बदला जा सकता हैं और अपनी अपनी जगह हम सब भी इसके प्रति लोगो को सचेत कर रहे हैं । हम मे से ज्यादा इस बात को मानते हैं की ये ग़लत हैं ।

आज की पोस्ट मे , बात करना चाहती हूँ उन कारणों की जिनसे इस सोच ने जन्म लिया की बेटी को मार दो , बेटी को जन्म ना दो ।

समाज मे
  1. कब से ये सब शुरू हुआ ,
  2. किन कारणों से हुआ ,
  3. क्यूँ बेटियों के प्रति भारतीये समाज को इतना निर्मम होना पडा ,
  4. क्यूं समाज को बेटियों को बेटो से कमतर आँका गया
आज बस आप कारण बताये ताकि समस्या के जड़ तक ये बात जाएप्रश्नों को क्रम दिया गया हैं सो उत्तर उसी क्रम से दे जिससे लोगो को बात समझने मे आसानी होब्लॉग लेखन की पहुँच विश्वव व्याप्त हैं सो क्या पता कब कुछ भी लिखा किसी के अनपूछे प्रश्न का उत्तर बन जाये

8 comments:

  1. मेरे ख्याल से इन सब सवालों का एक ही जवाब है...हमारा सामाजिक तानाबाना...जिसमे बेटों को हद से जयादा महत्त्व दे दिया गया है..!आज के इस वैज्ञानिक.. युग में भी बेटी के लिए नारी को ही दोषी समझा जाता है...और बेटों से ही पीढी चलेगी जैसी आव धारणाएं..व्याप्त है..!इन्हें मेरे ख्याल से शिक्षा के प्रचार प्रसार से ही दूर किया जाना चाहिए...

    ReplyDelete
  2. kuchh bhee likhne se pehle aapko bata doon ki ye sab mera shodh hai ya jaankaaree kahein, koi nischit satya nahin,
    dekhiya jahan tak main samajahtaa hoon iskee shuraat tab se huee jab betiyon ke maataa pitaa ko dahej aur gareebee ke kaaran unka vivaah karna mushkil hone laga.
    beshak ye samaaj purushvaadee hai magar ye bhee sach hai ki betee paidaa hone kaa jyada dukh ya kahein ki kabhi kabhi to maatam ghar kee mahilaaon ko hee hotaa hai.
    ek aur aashcharyajanak baat ye ki dukh kee baat ye hai ki is paap kee dar shahree kshetron mein jahan shikshit log rehte hain jyada hai jabki adhik santaan aur beton kee chaahat ke baavjood graameen kshetrom mein abhee bhee ye utnaa nahin failaa hai.
    sarkaar yadi sachmuch chaahtee hai isko samapt kiya jaaye to bahut sakth kaanoon banana padege, na sirf banana balki laagoo karnaa padegaa.
    waise yadi nari khud hee nirnay kar le to kisi kaa baap bhee usse ye sab jabran nahin karaa saktaa..
    waise aapne is mudde ko uthaa hee diya hai to bahas aage jaaree rehnee chaahiye.

    ReplyDelete
  3. जिसमे बेटों को हद से जयादा महत्त्व दे दिया गया है
    rajnish parihaar ji yae kyun shuru hua hoga is ki barae mae bhi likhae please

    ReplyDelete
  4. kanya broon hayta ek abhishap hai iss dekh ko aaj bhi agar ye hota hai
    kai log garbh me jach jarva kar ladkiyo ko maar dete hai ........
    ve is ghoor mahapaap ko pata nahi kyu aacha samjjhte hai
    ladki to devi ka roop hoti uski pooja ki jani chahiye

    ReplyDelete
  5. भ्रूण हत्‍या को जब कानूनी मान्‍यता मिली तो बिना टेस्‍ट के गर्भ को समाप्‍त कर देने की प्रवृत्ति समाज में आयी ... पर उस समय यह बिना लिंग परीक्षण के सिर्फ परिवार नियोजन के लिए ही किया जाता था ... जब चार महीने के बाद का भ्रूण का लिंग परीक्षण होना शुरू हुआ तब भी लोग इतनी हिम्‍मत नहीं जुटा पाते थे कि कन्‍या के गर्भ को समाप्‍त कर दिया जाए ... वास्‍तव में जब से छह सप्‍ताह से ही भ्रूण का लिंग परीक्षण की तकनीक विकसित हुई है और छोटी अवधि के गर्भ समापन में रिस्‍क कम हुआ है ... तब से कन्‍या भूण हत्‍या की प्रवृत्ति विकसित हुई है ... रहा सवाल लडके और लडकी में फर्क का तो वह काफी दिनों से चला आ रहा है ... पर पहले कोई उपाय नहीं था और लोग ढोने को मजबूर थे ... पहले परिवार के बढने की भी कोई चिंता नहीं रहती थी ... दो चार लडकियों के बाद भी लडका हो तो कोई फर्क नहीं पडता था ... पर अब एक लडकी के बाद कोई दूसरी नहीं होने देना चाहता और अगर पहला लडका ही हो जाए तो लडकी के लिए दूसरे बच्‍चे का चांस भी कोई नहीं लेना चाहता ... यही सब कारण हैं कन्‍या भ्रूण हत्‍या के।

    ReplyDelete
  6. EK-DO DIN ME AAPKO IS VISHAY PAR SAMPOORN JAANKARI DETE HAIN.
    ISAKE PEECHHE SIRF DAHEJ HI KAARAN NAHIN HAI.
    YE EK BHRANTI HAI SAMAAJ ME....
    SHESH AAP HAMAARE DWARA BHEJE MATTER ME DEKH LIJIYEGA.

    ReplyDelete
  7. कोई भी कानून सामाजिक स्वीकृति के बिना अधिक प्रभावी नहीं हो सकता। आवश्यकता उस बर्बर और जाहिल मानसिकता को बदलने की है जो अपनी ही सन्तान की हत्या करने को भी ग़लत नहीं समझती।

    ReplyDelete
  8. भ्रूण हत्‍या को जब कानूनी मान्‍यता मिली तो बिना टेस्‍ट के गर्भ को समाप्‍त कर देने की प्रवृत्ति समाज में आयी ... पर उस समय यह बिना लिंग परीक्षण के सिर्फ परिवार नियोजन के लिए ही किया जाता था ... जब चार महीने के बाद का भ्रूण का लिंग परीक्षण होना शुरू हुआ तब भी लोग इतनी हिम्‍मत नहीं जुटा पाते थे कि कन्‍या के गर्भ को समाप्‍त कर दिया जाए

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts