नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

February 22, 2010

मैं खुले आकाश में उड़ना चाहती हूँ


चौदह साल की रिंकू अपने खिलंदड़े स्वभाव के लिए घऱ-स्कूल में जानी जाती थी। किसी की कोई भी समस्या हो रिंकू के पास उसका समाधान रहता था। घर में मम्मी-पापा के अलावा एक बड़ा भाई था। घर में कभी उसको इस बात का अहसास नहीं कराया गया कि लड़की होने के कराण वह लड़कों से किसी भी बात में कमतर है। उसकी उपस्थिति किसी सुखद वायु के झोके के समान थी।

एक दिन नियत समय पर वह स्कूल जाने के लिए घर से निकली, अभी गली के नुक्कड़ तक ही पहुँची थी कि वहां खड़े कुछ शोहदों ने उस पर फब्तियां कसी। यह सब इतना अप्रत्याशित था कि की पहले तो उसे कुछ समझ नहीं आया। फिर उसने पलट कर देखा तो पाया ज्यादातर चेहरे जाने-पहचाने थे। सब उसी मुहल्ले के लड़के थे। जिन्हें वह बचपन से देखती आ रही थी। वह कुछ कहना चाहती थी कि तभी पीछे से आ रही सहेली ने उसका हाथ पकड़ा और खींचती हुई आगे ले गई। काफी दूर तक उन शोहदों की हँसी उनका पीछा करती रही।

इसके बाद तो ये रोज की ही बात हो गई, रिंकू कभी अकेले तो कभी सहेली के साथ वहां से गुजरती और वे उस पर फब्तियां कसते। रिंकू ने उनकी शिकायत माँ से की। पर माँ ने कहा, बेटा उस रास्ते से स्कूल मत जाया करो, किसी और रास्ते से जाया करो। उन बदमाशों के मुंह लगने की जरूरत नहीं है। लेकिन दुर्भाग्यवश स्कूल जाने का एक मात्र वहीं रास्ता था। पिताजी को जब रिंकू की परेशानी के बारे में पता चला, तो उन्होंने कहा, परेशान होने की बात नहीं है। कोई गुण्डाराज नहीं है। हम पुलिस में कमप्लेंट करेंगे। जब पुलिस के चार डंडे पड़ेगे, साले लड़कियों को छेड़ना भूल जाएगे।

रिंकू के पिताजी ने स्थानीय थाने में रिपोर्ट दर्ज करा दी। उन्हें लगा कि अब उनकी बेटी सुरक्षित है। लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। उल्टे शिकायत करने वे शोहदे और चिढ़ गए और छीटाकशी, शारीरिक छेड़छाड़ में बदल गयी। पुलिय द्वारा कोई कार्यवाही न करने और शोहदों के बढ़े हुए तेवर देखकर, रिंकू के घरवालों ने उसका स्कूल जाना बंद करवा दिया। वे नहीं चाहते थे कि उनकी लाडली बेटी के साथ किसी तरह दुर्घटना हो। रिंकू के लिए ये पूरी परिस्थितियां अत्यन्त कष्टदायक थी। हरदम हवा में उड़ने वाली लड़की घर की चाहरदिवारी के बीच कैद थी। स्कूल की सहेलियों से फोन पर बातें होती, लेकिन दरवाजे पर खड़े शोहदे और तमाशबीन बना मुहल्ला उसे घर से निकलने की इजाजत नहीं देता।

रिंकू को अपने लड़की होने का अहसास रह-रह कर कचोटता। वह खुली में हवा में साँस लेना चाहती थी। वह अपने कमरे में पड़-पड़े रोती रहती। दूसरों की समस्याओं को समाधान करने वाली रिंकू ने अपनी समस्या का भी एक समाधान निकाला। एक दिन जब माँ किचेन में व्यस्त थीं, भाई स्कूल गया था और पिताजी ऑफिस। रिंकू ने अपने कमरे में लटकते फैन में फाँसी लगा ली। साथ की टेबल पर एक कापी खुली रखी थी - जिसपर लिखा था, आप मुझे इस तरह कैद में नहीं रह सकते। मैं खुले आकाश तले उड़ना चाहती हूँ। इसलिए मैंने खुद को हर बंधन से आज़ाद कर लिया है। -रिंकू.

-प्रतिभा वाजपेयी

12 comments:

  1. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. बाप रे !! बड़ी मार्मिक कहानी है. लगभग हर लड़की के साथ ऐसा होता है...भले ही परिणाम इतना दुःखद न होता हो. फ़ब्तियाँ कसने वाले ये नहीं जानते कि उनकी इस ओछी हरकत से किसी बच्ची के बाल मन पर कितना दुष्प्रभाव पड़ सकता है?.... और अगर जानते भी हों तो उन्हें क्या फ़र्क पड़ता है?......उस पर से ऐसे शोहदों को यह कहकर उत्साहित करने वाले भी होते हैं कि इस तरह की छेड़खानी तो स्वाभाविक बात है.

    ReplyDelete
  3. जब तक हम सब अपने विरोध मे "शोर" नहीं पैदा करेगे हमारी बेटियाँ यही करेगी । विरोध कि आवाज को और ऊँचा करिये ताकि वो लोग जो नारी को "सामान " समझते हैं , "जागीर " समझते हैं और "भोग विलास और प्रजनन कि मशीन "समझते हैं उनके कान टाक हमारे विरोध का शोर पहुचे । आप कि सभ्य भाषा अगर वो ना समझे क्युकी वो असभ्य हैं तो अपनी भाषा को उनकी समझ के हिसाब से सही कर ले और शोर को टंकार बना कर उन तक पहुचाये । इसके अलावा हर लड़की को समझाए कि वो अपने लिये "important " होना सीखे . जब वो सीखेगी कि कि वो खुद के लिये "कितनी जरुरी" हैं तभी वो अपनी "जिन्दगी " को काटेगी नहीं जीयेगी और उसको ख़तम करने का कभी नहीं सोचेगी

    प्रतिभा अगर ये कहानी सच्ची घटना हैं तो लिंक भी उपलब्ध करा दे ताकि लोगो को समाज कि असलियत दिखे क्युकी यही नारी ब्लॉग कि कोशिश हैं । और अगर ये कहानी हैं तो नारी ब्लॉग पर उन स्त्रियों कि कहनियों को प्राथमिकता दे जिन्होने "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित की " सदियों से यही हो रहा हैं सब जानते लेकिन इन सब से उठ कर लडकियां बहुत कुछ कर रही हैं जिस से उनको घुटन ना हो क्यूँ ना उनको सलाम करे । आप निरंतर नारी ब्लॉग को सक्रियाए बनाये हैं इसके लिये शुक्रिया ।

    ReplyDelete
  4. बहुत मार्मिक . ऐसा हर लड़की के जीवन में होता है.एक ऐसा त्रासदमय समय आता है कि पता ही नहीं चलता है कि ये कयू होने लगा अचानक . अब तक तो सब ठीक थे फिर एकाएक सब कयू बदल गए ? सबकी नज़र बदल गई .नसीहतों के पिटारे खुल गए.कल तक जो अठखेलियो पर बलैयिया लेते थे वे अब चुप कराते है कि अब सीखो कुछ !
    इनको झेलने वाली भी मुस्किल से गुज़र कर झेल पाती है और सामना करने वाली बस सावल उठती ही रह जाती है. पर कुछ नहीं बदलता !

    ReplyDelete
  5. इस दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति को धैर्य , हिम्मत और काबिलियत के सहारे बदले जाने की आवश्यकता है......

    सद्प्रयास के लिए साधुवाद !!!

    ReplyDelete
  6. sahi hai samaaj me is tarah kee paresaanee hai soharpuravak vatavaran ko sudarane ke prayash karane chahiye

    ReplyDelete
  7. ऐसे दुखद घटनाओं को पढ़कर बहुत दुःख होता है. काश इन असामाजिक तत्वों पर इसका असर होता? ऐसी घटनाओं को रोकने की लिए सबसे पहले घर परिवार और उसके बाद समाज को आगे आकर आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में कोई ठोस कदम उठाने की जरुरत है, पुलिस प्रशाशन के राह ताकने के बजाय हर नागरिक को अपने साहस और सूझ-बुझ से काम लेने पर बल देने की सख्त आवश्यकता है, क्योंकि हिम्मत और सूझ-बुझ से कोई भी काम से आशातीत सफलता मिलने को पूरी संभावना रहती है.

    ReplyDelete
  8. रचना ये कहानी नहीं सत्य घटना है और कानपुर के गोविंदनगर मोहल्ले की है। नारी ब्लॉग में मैंने आजतक जितने भी पोस्ट किए हैं, उनमें से कोई भी मनगढ़ंत कहानी नहीं है....सभी घटनाएं सत्य है।

    ReplyDelete
  9. ये बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है और यदि ये समाज स्वीकार कर सके तो इसके लिये बहुत ही शर्मनाक भी…
    लेकिन हम तस्वीर बदल सकते हैं और बदल कर ही दम लेंगे।

    ReplyDelete
  10. pratibha
    then make it point to put this in bold letters on all your posts that this is real story so that people know that this is happening in this centuary because our critics say we post obselete stories here
    regds

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts