नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

February 24, 2010

फिर से महिला-आरक्षण का झुनझुना

एक बार फिर से महिला आरक्षण विधेयक को उसके मूल स्वरूप में केंद्रीय मंत्रिमंडल को भेज दिया गया है। गाहे-बगाहे हर साल देश की आधी आबादी के साथ यह नौटंकी चलती है और नतीजा सिफ़र. इस देश में राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, लोकसभा अध्यक्ष व मुख्यमंत्री पदों पर महिला आसीन हो चुकी हैं, पर एक अदद आरक्षण के लिए अभी भी महिलाओं के पक्ष में सकारात्मक माहौल नहीं बन पाया है. यद्यपि राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने संसद में अपने अभिभाषण में कहा है कि सरकार महिला आरक्षण बिल को जल्दी से जल्दी संसद से पारित कराने के लिए प्रतिबद्ध है। पर दुर्भाग्यवश इस प्रतिबद्धता के पीछे कोई राजनैतिक इच्छा-शक्ति नहीं दिखती है. महिला आरक्षण बिल वाकई एक मजाक बन चुका है, जिस पर हर साल हंगामा होता है. कोई तर्क देगा कि महिलाएं इतनी शक्तिवान हो चुकी हैं कि अब उन्हें आरक्षण की जरुरत नहीं, कोई पर- कटियों से डरता है, कोई आरक्षण में भी आरक्षण चाहता है, कोई इसे वैसाखी बताकर ख़ारिज करना चाहता है तो किसी की नज़र में यह नेताओं की घरवालियों व बहू-बेटियों को बढ़ाने की चाल है. बस इन्हीं सब के चलते राजनीतिक दलों में इस मसले पर आम राय नहीं बन पाने के कारण पिछले एक दशक से भी ज्यादा समय से यह बिल संसद की मंजूरी का इंतजार कर रहा है। पर कोई यह बता पाने की जुर्रत नहीं कर पाता है कि वास्तव में यह बिल मंजूर क्यों नहीं हो रहा है. महिला-आरक्षण को एक ऐसा झुनझुना बना दिया गया है जिससे हर राजनैतिक दल व सत्ताधारी पार्टी खेलती जरुर है, पर उसे कोई सम्मानित स्थान नहीं देना चाहती. फ़िलहाल इंतजार इस बिल के पास होने का....!!!

आकांक्षा यादव

25 comments:

  1. ये महिला आरक्षण बिल से आप क्या उम्मीद कर रही हैं की रातों रात महिलाओं की स्थिति में परिवर्तन आ जायेगा. कुछ राजनैतिक मुद्दे ऐसे हैं जो सिर्फ और सिर्फ मुद्दे बने रहने के लिए ही है. जहाँ जरूरत नहीं है वहा आरक्षण बराबर बढ़ता जा रहा है और अब हर क्षेत्र में आरक्षण के सिवा बचा क्या है? सिर्फ वोट बैंक के लिए ये इस्तेमाल किये जाते हैं. अगर इनको खत्म कर दिया जाएय्गा तो अगले चुनाव में जनता को लुभाने के लिए बचेगा क्या?
    इस लिए इससे कुछ भी उम्मीद मत करिए. महिलायों को उनके हाल पर छोड़ दीजिये, वे अपनी रास्ता खुद ही बना लेंगी. फिर नेतृत्व क्षमता सभी में तो नहीं होती, वही होगा की प्रधान पत्नी बनेगी और राज पतिदेव करेंगे.

    ReplyDelete
  2. महिला-आरक्षण को राजनेताओं ने शायद कभी गंभीरता से लिया ही नहीं. बस अपना वोट बैंक बढ़ाने के लिए हर साल वे ये झुनझुना इस्तेमाल करते हैं. उम्दा पोस्ट.

    ReplyDelete
  3. आकांक्षा जी, 'इण्डिया टुडे' के नवीनतम 3 मार्च अंक में इण्डिया टुडे स्त्री परिशिष्ट में आपकी 03 कवितायेँ पढ़ीं, वाकई दिल को छूती हैं..बधाई.

    ReplyDelete
  4. @रेखा श्रीवास्तव
    वही होगा की प्रधान पत्नी बनेगी और राज पतिदेव करेंगे.
    _________________________
    एक-दो उदाराहनों से पूरी महिला-शक्ति को तो नहीं तौला जा सकता...क्या हर प्रधान पत्नी अक्षम ही होती है. महिलाएं ही जब महिला की टांग खिंचेंगीं तो फिर पुरुषों से क्या आशा ???

    ReplyDelete
  5. बड़ा सार्थक मुद्दा उठाया आकांक्षा जी ने. महिला आरक्षण बिल को शीघ्र पास होना चाहिए.इसके नाम पर नौंटकी ज्यादा दिन तक नहीं चलेगी.

    ReplyDelete
  6. वाजिब मुद्दा, जिस पर गंभीर बहस की जरुरत है. आपने सही रूप में इसे प्रस्तुत किया.

    ReplyDelete
  7. रोचक विमर्श. नेता लोग अपनी बपौती छोड़ दें, मुश्किल लगता है. एक डिम्पल यादव के हारने पर अमर सिंह जैसा दिग्गज नेता आउट हो गया. फिर कहाँ से ये नेता महिला नेताओं को पचा पायेंगें.

    ReplyDelete
  8. aaranchhan ke bharose mat rahiye apane paron pe khade hoyeeye

    ReplyDelete
  9. रश्मिजी ,

    ये मैं महिला के कमजोर या अक्षम होने की बात नहीं कर रही हूँ. सक्षम पुरुष स्त्री को वह स्थान देने के लिए कब तैयार है? मेरा मतलब उस बात से नहीं है. आप क्या समझती हैं? ये आरक्षण किस तरह से लागू होगा. रातों रात महिला नेत्रियाँ तैयार नहीं हो जायेंगी. तब ये तथाकथित नेता अपने परिवार की महिलाओं को उस आरक्षण के नाम पर सामने ले आयेंगे और फिर राज कौन करेगा? ये महिलायें जो कभी राजनीति की परिभाषा से परिचित नहीं हैं. इस नेताओं को कथ्पुलियाँ चाहिए होंगी. जो आरक्षण के नाम पर उनके लिए सीट हासिल कर काम कर सकें. क्या राबड़ी देवी ने बिहार पर राज किया तो वह इस राजनीति से वाकिफ थीं. फिर राज कैसे चला? यह तो सर्वविदित है.
    --

    ReplyDelete
  10. क्या होगा एक और आरक्षण से अभी क्या कम राक्षस है .
    जब तक राजनीति एक नयी दिशा नहीं लेती महिलाएँ इस दलदल से दूर ही रहें तो अच्छा है

    ReplyDelete
  11. महिलाएँ इस दलदल से दूर ही रहें तो अच्छा है
    saari duniya mae agar daldal haen to mahila kehaa kehaa sae dur rahey yae koi upyaay nahin haen

    ReplyDelete
  12. महिला आरक्षण का मुद्दा औरतों को बहलाने वाला झुनझुना ही है. ये लोग ऐसे ही तमाशा करते रहेंगे, पर आरक्षण देंगे नहीं.

    ReplyDelete
  13. @ रचना जी
    उपाय है अगर महिलाएँ एकजुट खड़ी हो जायें तो बिना किसी आरक्षण के दिशा बदल सकती हैं . एक तरफ इतना जुड़ाव किसी भी व्यवस्था या राजनीति को हिला सकता है .
    आरक्षण एक भीख है अधिकार नहीं
    रेखा जी ने सही कहा है :
    " ये महिला आरक्षण बिल से आप क्या उम्मीद कर रही हैं की रातों रात महिलाओं की स्थिति में परिवर्तन आ जायेगा."
    दलदल अभी भी सीमित है इसीलिये ये दुनिया जीवित है.

    ReplyDelete
  14. राष्ट्रपति, लोकसभा अध्यक्ष, संप्रग की अध्यक्ष..सभी महिला ही हैं, पर देखिये ये इस बिल को पास करा सकती हैं य नहीं. नहीं तो यह मानना पड़ेगा कि महिला आरक्षण सिर्फ भुलावा है.

    ReplyDelete
  15. यहाँ तो महिला आरक्षण को लेकर संसद का नजारा है. हर कोई अपनी बात कहता है, पर यह नहीं बताता कि महिला-आरक्षण के पारित होने से नुकसान क्या है..आकांक्षा जी ने सही ही लिखा है कि इसे लोगों ने बस झुनझुना बना दिया है.

    ReplyDelete
  16. मैंने इस पोस्ट की चर्चा 'शब्द-शिखर' व 'नारी' पर इसीलिए की थी कि लोगों के विचार से रु-ब-रु हुआ जा सके. अभी भी देखा जा सकता है कि इसके पक्ष-विपक्ष में भिन्न-भिन्न मत हैं, ठीक वैसे ही जैसे राजनैतिक दलों में. योग्यता की बात अपनी जगह सही है, पर आरक्षण समाज के उपेक्षित पक्ष को अतिरिक्त अवसर देकर लोगों के समान लाने की बात करता है. आज भी भारतीय महिला का चेहरा देखना हो तो ग्रामीण क्षेत्रों में चले जाइये, असलियत अपने आप दिखने लगेगी.....जहाँ तक पत्नी के नाम पर पतियों के राज करने की बात है, हो सकता है कुछ समय तक यह स्थिति रहे, पर जैसे-जैसे महिलाएं अपनी शक्ति व अधिकार समझेंगीं, वैसे-वैसे ये रोग भी दूर हो जायेगा. तैरना सीखने के लिए पानी में तो उतरना ही पड़ेगा, भयभीत होकर तट पर खड़े होकर तैरना नहीं सीखा जा सकता.

    ReplyDelete
  17. ....आप सभी की टिप्पणियों के लिए आभार. अभी चर्चा ख़त्म नहीं हुई है, आपके मत-विमत का इंतजार रहेगा.

    ReplyDelete
  18. तैरना सीखने के लिए पानी में तो उतरना ही पड़ेगा, भयभीत होकर तट पर खड़े होकर तैरना नहीं सीखा जा सकता. clap clap

    ReplyDelete
  19. महिला-आरक्षण को एक ऐसा झुनझुना बना दिया गया है जिससे हर राजनैतिक दल व सत्ताधारी पार्टी खेलती जरुर है, पर उसे कोई सम्मानित स्थान नहीं देना चाहती.

    bahut sahi kaha hai aapne. bas sab khel rahe hain.

    visit my blog - www.vicharonkadarpan.blogspot.com

    ReplyDelete
  20. @ ersymops
    आज तक जीतने आरक्षण हुए हैं उसका परिणाम क्या हुआ है जग जाहिर है 60 सालों में भी कोई बदलाव तो नजर नहीं आता . आरक्षण एक अफ़ीम के नशे के समान है जिससे न उसे सेवन करने वाले का भला होता है न किसी और का .तथाकथित धर्म निरपेक्ष्य देश में इस बीमारी ने आपसी वैमनस्य ही फैलाया है . कैसा धर्म निरपेक्ष्य राज्य है यह जहाँ जाती और जन्म को आधार बनाकर लोगों को बाँट दिया गया . क्या कभी ये खाई हम पाट पायेंगे . नेताओं के स्वप्नजाल में जीती इस देश की जनता कब जागेगी .
    जितने पैसे आदिवासियों और अनुसूचित जाति के लोगों के नाम पर खर्च हुए अगर वह उन्हे दे दिये जाते तो आज इस देश में कोई गरीब नहीं होता .
    नारा दिया गया गरीबी हटाओ लेकिन गरीब बढ़ते ही जा रहे हैं .
    अपनी स्वयं की क्षमता से जो स्थान देश के सर्वोच्च पदों पर आसीन महिलाओं ने प्राप्त किया है वही सही रास्ता है .

    ReplyDelete
  21. आकांक्षा जी, बेहतरीन पोस्ट. आरक्षण बिल का पारित होना बहुत जरुरी है.

    ReplyDelete
  22. @ डॉ महेश सिन्हा

    बदलाव तो बहुत आया है भाई. जिस समुदाय के लोग शासन-प्रशासन में नगण्य थे, उनकी उपस्थिति दिखने लगी है. वे लोग अपने अधिकारों के प्रति जागरूक हो गए हैं. अब आप दलितों को पीटकर देखिये, जवाब मिलने लगेगा. पहले ऐसा नहीं था. राजनीति में तमाम दलित-पिछड़े चहरे दिखने लगे हैं. मंडल के बाद भारतीय राजनीति का चेहरा बहुत बदला है, उसे आप इग्नोर नहीं कर सकते. जिन दलितों के घर लोग पानी नहीं पीते थे, उन्हें सलाम करने वाले भी है. कम से कम अब तो कोई नहीं कहता कि- ढोर, गंवार, शुद्र, पशु, नारी ! ये सब ताड़ना के अधिकारी !!

    ReplyDelete
  23. @ बाजीगर
    यही तो प्रजातन्त्र का खून हो गया
    गुण को पीछे छोड़ नंबर गेम हो गया

    शायद ही विश्व के किसी देश में ऐसा उदाहरण देखने
    को मिले की देश को जोड़ने के बजाय तोड़ने का काम किया गया और किया जा रहा है . आधार होना चाहिए था आर्थिक लेकिन बना दिया गया जातीय क्यों आखिर क्यों ? क्योंकि आर्थिक आधार से वोट की रोटी नहीं सेकी जा सकती थी .

    अपने बौद्धिक धन का इतना अनादर किसी देश ने नहीं किया और आज भी झोली फैलाये प्रधान मंत्री माँग करते है कि वापस आ जाओ !

    इन नेताओं ने जिनने सारे रेकॉर्ड तोड़ दिये भ्रष्टाचार के दूसरों को देश की दुहाई देते हैं .....

    ReplyDelete
  24. आज जो प्रगति के परचम लहराये जा रहे हैं इसे किसने प्राप्त किया है

    देश के बौद्धिक धन ने, न किसी नौकरशाह न नेता ने

    ReplyDelete
  25. rajnaitik netaon kee yah bheekh naree ke swabhiman par chot hai. ise thukarakar naree aage aaye.

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts