नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

February 15, 2010

तुलना कर तौलें नहीं!


                                     "तुलना" करने के लिए  सभी भाषाओं में अलंकारों का प्रयोग किया जाता है . उसका प्रयोग साहित्य कि दृष्टि से अच्छा भी लगता है, किन्तु जब यह सामान्य जीवन में उतर कर आता है तब इसकी भूमिका बड़ी ही विध्वंसक भी हो सकती है. अच्छे परिणाम तो कम ही समझ आते हैं , जब भी देखा है एक नहीं तो दूसरे के ऊपर इसका प्रभाव विपरीत ही पड़ता नजर आता है.

                       यह तो निश्चित है कि दो पीढ़ियों के बीच में वैचारिक मतभेद  मूल्यों  और  मान्यताओं के प्रति आस्था में फर्क होने से होता है. जब परिवेश , शिक्षा और जीवनचर्या बदल रही है तो पीढ़ी कि सोच भी बदलेगी ही. उसकी सोच और आचरण भी अपने समय के अनुरूप ही होंगे. मैं अपने युवाकाल कि बात करती हूँ - जब मैं उस उम्र में थी तो हमारे बुजुर्गों को हमारे जीवनचर्या में कमियां नजर आती थीं , और वे हर बात में टोका करते थे. आज वही काम हम करने लगे हैं. 

                         ये दो पीढ़ियों के अंतर ही आलोचना और तुलना के लिए जिम्मेदार बन जाता है और कभी कभी ये हमारे स्वभाव का एक अंश बन जाता है.  तुलना किसी भी दृष्टि से सार्थक नहीं होती है. जब हम दो इंसानों, चीजों और या फिर परिस्थितियों को तौल नहीं सकते  - जैसे  एक आकृति कि पुनर्रचना हूबहू नहीं कि जा सकती है ( बशर्ते कि मशीन निर्मित न हो) वैसे ही किसी भी हालत में हम दो की तुलना करें तो कम या अधिक अंतर अवश्य ही पायेंगे. तुलना हम चाहें अपनी वस्तु को बेहतर साबित करने के लिए करें या फिर दूसरे कि वस्तु को हीन समझ कर करें - उसका प्रभाव  हमें अच्छा देखने को कम ही मिलता है. उसके स्वरूप और परिणाम सदैव ही कष्टकारक होते हैं ( अपवाद इसके भी होते हैं.).

                           सुचिता जी कि छोटी बहू बड़े घर कि आई , हाथों हाथ ली गयी, उसकी हर चीज को तारीफ बाधा- चढ़ा कर की जा रही है. बड़ी बहू साधारण परिवार की लड़की थी परन्तु सयंमित और संतुलित थी. छोटी बहू के आते ही  सुचिता जी ने लेन - देन  , उपहार और उनकी स्थिति की रिश्तेदारों में तुलना शुरू कर दी. सिर्फ अपने बेटों कि तुलना नहीं की. कि जहाँ उनका बड़ा बेटा जनरल स्टोर का मालिक है और छोटा इंजीनियर . 
                            बड़ी बहू चुचाप सुनती रहती लेकिन क्या उसका संयम और संतुलन ऐसी स्थिति में कायम रह सकता है. जब आप दूसरे के सामने उसको नीचा दिखने के लिए माहौल बना रही हों. यही तुलना कल यदि बड़ी बहू के संयम को तोड़ दे और वह उत्तर और प्रत्युत्तर करने लगे तो ?
                           ये तुलना भी एक मानसिक प्रवृति है, जिसके लिए हर कोई विषय बन जाता है. हर क्षेत्र में देखिए माँ - बाप अपने दो बच्चों के बीच तुलना करते हैं? शिक्षक भी अपने छात्रों के बीच तुलना करते हैं. नौकर अपने मालिकों की तुलना करते हैं. पति और पत्नी भी आपस में तुलना करते हैं. स्वयं बच्चे अपने को दूसरे से तुलना करते हैं. 

--बड़ा बेटा तो इस उम्र में कमाने लगा था, ये अभी तक निठल्ला बैठा है.   (बेटे से बेटे की  तुलना)
-- तुमसे तो मेरी बेटी अच्छी है, हर काम में माहिर है, पता नहीं क्या सीख कर आई हो? ( बहू से बेटी की तुलना)
-- मैं तुम्हारी उम्र में दस लोगों कि गृहस्थी संभाल   रही थी. (अपनी दूसरों से)

-- ये पैसा बेटे में लगाओ तो बुढ़ापे में तुम्हारे काम आएगा.  (बेटी बेटे में )
-- अपने उस मित्र को देखो, हर समय पढता रहता है . (मित्र से)
-- इस बार इतने नंबर आने चाहिए कि मेरा सर नीचा न हो.
--  मेरे अमुक मित्र कि पत्नी को देखो कितनी होशियार है.
-- मेरे जीजाजी तो ............. 


                       ऐसे कितने ही उदहारण हैं , जिनसे हम सभी दो चार हुआ करते हैं और फिर इसके परिणामों से भी. ये तुलना किसी भी स्तर पर हो सकती है. इसी कोई सीमा नहीं है. बच्चे हों या बड़े हों अपनी अपनी सोच के अनुसार इसको लेते हैं. बहुत कम ऐसे होते हैं , जो इन बातों को नजरंदाज कर दें. 
                     मैं तो इस तुलना कि प्रवृति को एक मानसिक विकार कि दृष्टि से ही देखती हूँ क्योंकि  जिस सोच  या अभिव्यक्ति से सार्थक परिणाम न हों वह अच्छी कैसे हो सकती है?  घर में दो बहुयों कि तुलना, बहू और बेटी की तुलना या  दो भाइयों की तुलना. जिसको भी आप हीन बता रहे हैं , वह उसको सहज नहीं ले सकता है. वह हीन है या उससे कम है ये अहसास कोई दूसरा दिलाये तो बहुत बुरा लगता है. हो सकता है कि वह स्वयं इस बातको सोचता हो किन्तु तुलना करने से हम किसी कि बराबरी नहीं कर सकते हैं. इससे आपस में वैमनस्यता उत्पन्न होती है. आप की भी भूमिका इसमें सार्थक नहीं साबित होती है. तुलना करने वाला अपना सम्मान खो बैठता है. साथ ही दूसरे के मन में आपके प्रति मलिनता भी आ सकती है. हो सकता है जिससे आप जिसकी तुलना कर रहे हैं वह इस बारे में न सोचता हो, वह अपने स्तर पर खुश हो, लेकिन आपकी तुलना उनको दो को एक सीढ़ी ऊपर और नीचे खड़ा कर सकती है और बराबरी पर खड़े दो भाई या कोई भी इस अंतर को सहज स्वीकार नहीं कर पाते हैं.
                     यही तुलना बाल मन पर और भी घातक प्रभाव डाल देती है, उनका बाल मन बहुत ही कोमल होता है कभी कभी ये तुलना उनको अंतर्मुखी बना देता है, इसके विपरीत वह उत्श्रंखल भी हो सकता है. दोनों ही स्थितियां उसके लिए घातक हैं. वह दूसरे को चोट पहुँचाने के बारे में सोच सकता है, या स्वयं अपने को हानि पहुँचाने के बारे में कदम उठा सकता है. ऐसी घटनाएँ भी देखने को मिलती हैं की छते भाई - बहन को क्षति पहुंचाई या बच्चे ने आत्महत्या कर ली.

                     आपसी संबंधों में ये तुलना के तनाव की जननी बन सकती है. यह आवश्यक नहीं है कि आपके साथी को अपनी तुलना किसी के साथ अच्छी ही लगे. कितना ही सुलझा हुआ इंसान या औरत हो. अपने निजी रिश्तों के बीच किसी तीसरे को किसी भी रूप में जगह नहीं देते हैं फिर चाहे तारीफ हो या फिर कुछ और. इसके दुष्परिणाम भी आये दिन देखने को मिलते ही रहते हैं.
                    अक्सर समाचार होता है कि छात्र या छात्र ने फेल होने के दर से आत्महत्या कर ली..........


                                  हम एक समाचार कि तरह से पढ़ कर अख़बार रख देते हैं किन्तु कभी इस ओर सोचा ही नहीं कि इसमें व्यक्तिगत तुलना की भावना बसी होती है. . बड़े भाई और बहनों कि उपलब्धियों या सहपाठी और मित्रों कि उपलब्धियों से कभी कभी स्वयं कि तुलना में कमतर पाने पर हादसे हो जाया करते हैं.


                     इनको बचने के लिए ये आवश्यक है कि कभी तुलना में किसी को तौलें नहीं -- सबके लिए सब कुछ हासिल करना मुनासिब नहीं होता.
 

9 comments:

  1. अच्‍छा आलेख। तुलना करना मानवीय स्‍वभाव है और इसके परिणाम इतने विध्‍वंशकारी होते हैं कि बोलने वाला तो बोल जाता है लेकिन परिणाम उस व्‍यक्ति को भुगतने पड़ते हैं जिसके बारे में कहा गया है। निश्‍चय ही आपने अच्‍छा मुद्दा उठाया है बधाई।

    ReplyDelete
  2. ek sadhaa huae aalekh sochnae par majboor karegaa

    ReplyDelete
  3. Blog ka safar karke bahut achha lagaa.

    ReplyDelete
  4. तुलना मानवीय स्वभाव जरूर है लेकिन एक सीमा तक। सीमा लांघने के परिणाम सदैव दुखदायी होते है।

    ReplyDelete
  5. मैं आपकी बात से पूर्णरूपेण सहमत हूँ. दहेज-प्रथा के समाप्त न होने के लिये ज़िम्मेदार बहुत हद तक यही तुलना की प्रवृत्ति है. इसी से बचने के लिये लड़कियाँ स्वयं अपने माँ-बाप पर दहेज़ देने के लिये ज़ोर डालती हैं.

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  7. बहुत ही विचारपरक आलेख....बिलकुल सच कहा,आपने....ये तुलनात्मक प्रवृत्ति कितने ही मन को ठेस पहुंचाती है...और दो लोगों के बीच क्लेश बढाने का काम करती है....पर यह मानवीय मन की ऐसी कमजोरी है जिससे शायद ही कोई अछूता हो...कई बार अनजाने में ही हम अपने दो बच्चों के बीच या उनके मित्रों के साथ उनकी तुलना कर जाते हैं...पर हमें इस से उबरने की कोशिश करनी चाहिए...बहुत ही सार्थक आलेख...सोचने को मजबूर करती हुई.

    ReplyDelete
  8. आपके इस प्रभावशाली आलेख से शत प्रतिशत सहमत हूँ मैं...
    बहुत सुन्दर ढंग से आपने विषय को विवेचित किया है...
    नकारात्मकता नकारात्मकता को ही परिपोषित करती है,यह कभी सकारात्मक प्रभाव नहीं छोड़ सकती..कभी कल्याणकारी नहीं हो सकती...

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts