नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

March 30, 2010

पर उपदेश कुशल बहुतरे वाली स्थिति हैं

कल कि पोस्ट का मूल प्रश्न था कि जो लोग निरंतर नारी के लिये क्या अच्छा हैं और क्या बुरा हैं , विवाह नारी के लिये कितना सुरक्षात्मक हैं , कितना जरुरी हैं इत्यादि पर निरंतर टिप्पणी देते हैं बहस करते हैं ,
क्या उन्होने अपने विवाह मे अपना सहचर खुद चुना था ,?
क्या उन्होने शादी के समय दहेज़/ स्त्री धन या अन्य प्रकार का व्यय किया था ?
क्या अपने विवाह का निर्णय उनका अपना था , ?

लेकिन अफ़सोस किसी भी ब्लॉगर ने अपनी स्थिति से परचित नहीं कराया ।
जितने भी विवाहित ब्लॉगर हैं जब तक वो अपने कारणों से अवगत नहीं कराते हैं हम कभी भी बहस को किसी भी निष्कर्ष तक नहीं ले जा सकते । और वो जितने भी नारी को ये समझते हैं कि शादी से बेहतर नारी के लिये कुछ नहीं हैं अपने समय मे उन्होने क्या निर्णय लिया था ये कभी नहीं बताते ।

पर उपदेश कुशल बहुतरे वाली स्थिति हैं
और शब्दों के छलावे से इतर ही दुनिया हैं

20 comments:

  1. नारी से सम्बंधित एक पोस्ट मैंने आज ही डाला है....यह हो सकता है मेरा पूरा कमेन्ट....
    ...नारी की समस्याएं सुलझने में वक्त लग सकता है....लेकिन सुलझना ही है....
    ........................
    भविष्य में नारियाँ शक्तिशाली होती जायेंगी ......पुरुष कमजोर होते जायेंगे....
    http://laddoospeaks.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. रचना जी,
    आपने अक्सर देखा होगा कि ब्लॉगजगत हो या कहीं और औरतें अपने अनुभवों के बारे में जितने धड़ल्ले से बता लेती हैं, पुरुष नहीं. क्या कारण है इसका. हाँ, सच है मानव अपने अनुभवों से सीखता है, लेकिन सिर्फ़ अपने नहीं दूसरों के अनुभवों से भी. मैं सिर्फ़ अपने अनुभवों के आधार पर कोई निष्कर्ष नहीं निकाल लेती. मैंने बहुत फ़ील्डवर्क किया है, वहाँ की औरतों और हॉस्टल में सैकड़ों लड़कियों से मिली हूँ. उन सभी के अनुभवों को सुना है. इन सब से बढ़कर ये बात होती है कि आप कितने संवेदनशील हैं किसी मुद्दे को लेकर. मैं संवेदनशील थी, इसलिये सबकी परेशानियाँ सुनती थी. लोगों को ये बात समझनी चाहिये. विवाह संस्था को मैं औरतों के शोषण का माध्यम मानती हूँ, पर मैं जानती हूँ कि इसका उन्मूलन अभी संभव नहीं है, इसीलिये मैं उसे अन्तरिम व्यवस्था के रूप में स्वीकार करती हूँ, पर अगर कोर्ट ने लिव इन को कानूनी रूप दे दिया, तो मैं उसे सही व्यवस्था मानूँगी.

    ReplyDelete
  3. मै नारी पर आयी अधिकतर पोस्ट से सहमत रहता हूँ
    आज की पोस्ट से भी सहमत हूँ
    पिछली पोस्ट का जिक्र किया गया है उसे पढ़ नहीं पाया मगर आपज की पोस्ट से ही अंदाजा लग गया कि वहा क्या लिखा मिलेगा

    लिव इन. के परिणाम क्या होंगे वो तो भविष्य के गर्त में हैं

    आज इस मंच पर यही पूछना है कि खुलापन और भौंडापण में बहुत कम अंतर है खुला पण अपनाने के चक्कर में भौंडापन हांथ लगे और खुलापन दूर से और दूर होता जाये तो क्या समाज का भला हो सकता है ?

    अभी तो मै तो खुद की शादी को लेकर असमंजस में हूँ करूँ या नहीं (?)

    वीनस

    ReplyDelete
  4. एक बात नारी के पाठकों से पूछना चाहता था कई दिन से

    आज कल कुछ बढ़िया जोकरों के ब्लॉग पर ४० से ५० तक कमेन्ट आ जाते हैं तो यहाँ जब कमेन्ट करने की बारी आती है तो क्या सबको एक साथ नींद आने लगती है ???

    ReplyDelete
  5. रचना जी,
    आपने अक्सर देखा होगा कि ब्लॉगजगत हो या कहीं और औरतें अपने अनुभवों के बारे में जितने धड़ल्ले से बता लेती हैं, पुरुष नहीं. क्या कारण है इसका. हाँ, सच है मानव अपने अनुभवों से सीखता है,

    ReplyDelete
  6. रचना
    जैसे इमानदार आत्मकथा लिखने का साहस सभी में नहीं होता वैसे ही इतने बड़े मंच पर अपने आप को खोल कर रखने का साहस जुटाने में अभी समय लगेगा ...कविता,कहानी लिखना और बात है,मुक्ति की बात सही है औरते अपने आपको जितनी सहजता से सामने रख देती है वैसे कोई और नहीं...
    तब तक.....

    ReplyDelete
  7. लड़की के पिता ने जो दिया वही. न तो पिताजी ने माँगा और हमारी मंशा ही नहीं रही थी. दहेज़ में मिला वो भी बता दें.................पलंग, ड्रेसिंग टेबल, अलमारी, टी वी, एक मोटरसाइकिल.

    क्यूँ हमेशा लड़की के पिता कि देनदारी होती हैं ?? क्या ये असमानता नहीं हैं , भेद भाव नहीं हैं लडके और लड़की मे । ये सबसे सुविधाजनक बात हैं माँगा नहीं उन्होने दिया ।

    एक मोटरसाइकिल
    आज कि समय मे वो कार बन गयी हैं !!!!!!!!!!!! क्यूँ दी जाए किसी को शादी मे कार सिर्फ इस लिये क्युकी वो पुरुष बन कर पैदा हुआ हैं ।

    स्त्री धन क्या है
    कुछ दिन पहले कोर्ट ने एक निर्णय मे कहा हैं जो भी चीज़ शादी के समय मिलती हैं वर पक्ष को वो सब स्त्री धन हैं यानी अगर वो कार आप बेचना चाहे तो नहीं बेच सकते ।

    आप महिलाओं को दिशा नहीं दे सकतीं तो कम से कम दिशा से भटकाव तो न करिए.
    आप महिलाओ को कम अकल समझते ही क्यूँ हैं । हम क्या किसी को दिशा देगे हम तो केवल अपने सवालों को रख देते हैं और इंतज़ार करते हैं कि कितने विविध रंगों से शब्दों के जाल को बुन कर लोग हम को पुरुष विरोधी , असंस्कारी और ना जाने क्या क्या कहते हैं ।

    ReplyDelete
  8. वीनस केशरी
    इस ब्लॉग मे कोई भी ऐसी पोस्र्ट आप बता दे जहाँ हम ने खुले पण कि पैरवी कि हो । हम बार बार ये कहते हैं कि लडको और लड़कियों के लिये एक से नियम बनाओ । आज कल कि नयी पीढ़ी कि लडकिया हर वो बात करना चाहती हैं जो लडके करते हैं सो अगर समाज चाहता हैं कि नगनता कम हो तो उसको लडको पर लगाम कसनी होगी ताकि उनको फोल्लो करने के कारण जिस नग्नता को लडकिया अपनी अपरिपक्व उम्र के कारण अपनाती हैं वो न अपनाये ।

    ReplyDelete
  9. हर जगह ओर हर स्थिति में विवाह पैसों पर टिका सम्बन्ध नहीं है, यह तो एक सामाजिक स्तर है जो नर ओर नारी दोनों को ही एक नयी पहचान देता है. संस्कृति ओर समाज की दुहाई सिर्फ मध्यम वर्ग के लिए बने हैं. उनको ही सामाजिक सुरक्षा ओर छत्रछाया जैसे विशेषणों की जरूरत से बांधा जाता है. आज वह स्वतन्त्र है ओर आत्मनिर्भर भी. दोनों ही आपसी सहयोग से जिम्मेदारी को उठा रहे हैं. अब दकियानूसी सोच को नारी के आत्मविश्वास ओर आत्मनिर्भरता ने बदल दिया है.
    अपनी स्थिति मैं बताती हूँ, आज से ३० साल पहले विवाह का निर्णय लड़कियाँ स्वयं बहुत कम ही ले पाती थी. मैंने भी नहीं लिया था, हाँ सहमति जरूर ली गयी थी. लेकिन अपने घर में मेरे पति ने जरूर इस विवाह के लिए अपनी मर्जी व्यक्त की थी और घर वालों को न चाहने के बाद भी विवाह करना पड़ा. सामान्य खर्च जो होते हैं किये गए .
    परिवार के लिए समझौते जैसी स्थ्थी सबके लिए आती हैं. मैंने विवाह के बाद कई डिग्री लीं और इसमें मेरे पति का ही सहयोग था जो संभव हुआ. तमाम विषम परिस्थितियों के बाद भी मुझे कमजोर नहीं पड़ने दिया. ये संबल ही इस परिवार की नींव है.

    ReplyDelete
  10. kshama karen aapki kuC baate reality se kafi dur our purvaagrh se grasit hoti hai. .........

    ReplyDelete
  11. मेरे पति मेरा चुनाव थे, या हम दोनों एक दूसरे का चुनाव थे।
    बहुत दूर दूसरे शहर से आए परिवार को होटल में ठहराया व उनकी आवभगत की थी। यह बारात नहीं थी बस एक परिवार था। दहेज नहीं दिया था।
    निर्णय हमारा अपना था। बाद में परिवार भी सहमत हो गया था।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  12. @ रचना जी खुलापन और भौंडापण की बात मैंने लीव इन रिलेशन शिप को लेकर कही थी
    क्या इससे खुला पण बढ़ेगा या सामाजिक रिश्ते दरक जायेंगे ?
    इस विषय को ध्यान में रख कर मेरा कमेन्ट आप पुनः पढ़े , निवेदन है

    आप इस विषय में क्या सोचती हैं जानने की इच्छा है

    -आपका वीनस केशरी

    ReplyDelete
  13. आपके इस कमेन्ट से भी सहमत हूँ :)

    ReplyDelete
  14. venus
    according to me when two adults take a decision then we need to leave it to them . society means accepting the desicion of two matured adults and according to me maturity is when one starts earning and is finacially independent .
    why should we question someone about their option to live in relationship ??? who are we to judge
    why not let the court of law decide what is right or wrong

    why should we inpose the laws of society over the laws of court ???

    i dont promote live in relationship but i dont question why people do it either

    ReplyDelete
  15. no one has the right to dictate what two matured consenting adults do .

    ReplyDelete
  16. सबसे पहली बात तो ये कि जब आप ब्लोगजगत से रूबरू होकर कोई प्रश्न करते हैं तो जरूरी नहीं कि सभी बढचढ कर उसका जवाब देने आ जाएं , हालांकि आना चाहिए , मगर ये कोई शर्त नहीं होनी चाहिए इसलिए अफ़सोस की कोई बात नहीं होनी चाहिए ।
    आपने कुछ प्रश्न पूछे हैं यदि उनका उत्तर मैं देना चाहूं तो कुछ इस तरह होगा

    हां मैंने अपने मन से प्रेम विवाह किया , और माता पिता की भी पूरी सहमति रही उसमें ।

    दहेज , .....पता नहीं ..इतना याद है कि अपने ही विवाह के लिए लिया गया लोन अगले कुछ महीनों तक निपटाता रहा था .....हां मगर इसके बावजूद मैं इस बात का फ़र्क नहीं बता सकता कि यदि माता पिता द्वारा चुनी गई किसी लडकी से विवाह किया होता तो क्या अंतर पडता

    अजय कुमार झा

    ReplyDelete
  17. हर जगह ओर हर स्थिति में विवाह पैसों पर टिका सम्बन्ध नहीं है, यह तो एक सामाजिक स्तर है जो नर ओर नारी दोनों को ही एक नयी पहचान देता है

    ReplyDelete
  18. क्या विवाह सम्पूर्णता है ?... is par apne saarthak vichar vatvriksh ke liye preshit karen rasprabha@gmail.com per parichay, tasweer , blog link ke saath

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts