नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

March 01, 2010

दोषी कौन है कितना और कहाँ ? क्यों है एक अनुत्तरित प्रश्न ?

दोषी कौन है कितना और कहाँ ? क्यों है एक अनुत्तरित प्रश्न ?
रचना कि पोस्ट से बात आगे बढाते हुए ,



उपरोक्त कानून व उससे संबंधित बातें अधिकांशतः सबको मालूम है कि *दहेज़ लेना ही नहीं देना भी अपराध है. जानकारी भी है कि दोनों पक्षों के क्या कर्त्तव्य या दायित्व हैं.*
इस बात को अच्छी तरह जानते हुए भी लोग अपने घर में बेटी पैदा होने के बाद से ही उसके लिए पैसा जोड़ने के उपाय में लग जाते हैं. हम सभी इसमे जाने-अनजाने शामिल हैं.
आज भी हमारे भारतीय समाज में कई परिवारों में बेटी को पूरा लाड प्यार-सम्मान-उचित स्थान मिलता है. सब जगह उसके साथ भेदभाव होता ही हो ये जरूरी नहीं है.
पर हाँ कितनी भी सुयोग्य ,सद्गुणी ,सर्वगुण संपन्न उच्च शिक्षिता करवाने के बाद भी लोग उसका दहेजरूपी धन संग्रह भी करते जाते हैं. चाहे उच्च वर्ग हो या निम्न वर्ग हो ,अमीर हो या गरीब ,पढ़ा लिखा परिवार हो या ग्रामीण .सबकी मानसिकता ही ऐसी हो गई है की अपनी प्यारी बेटी को यदि जिंदगी भर सुखी देखना हो तो उसकी दान-दक्षिणा में कोई कमी न रहने पाए. लड़के वाले-वर पक्ष मांगे या न मांगे हमें तो देना ही है. ये हमारे समाज की एक अघोषित घातक बुराई बुरी तरह अपनी जड़ जमा चुकी है. कभी-कभी ज्यादा दहेज़ या पैसे का लालच देकर लड़के को भरमाने का काम भी होता है और एक लडकी का परिवार ही दूसरी लड़की के आगे दुश्मन(competitor) बनकर खड़ा हो जाता है. किसको दोषी माने, किसको समझाए ? एक अनुत्तरित प्रश्न सामने बार-बार आ जाता है।
योग्य युवक-युवतियों का आपसी राजीनामे से विवाह भी इसका एक प्रावधान है पर पूर्वाग्रह से ग्रसित ये कार्य अभी भी हमारे समाज में अधिकांशतः अमान्य है।
जाति के बाहर की बात तो दूर जाति के अंदर भी लड़के या लड़की की पसंद को पूरी मान्यता नहीं ही है। चाहे अपनी बेटी के लिए उसके माँ-पिता-परिवार अपने जीवन भर के लिए दुखी हो जाएँ, विपन्नता में जीना पड़े। बहुत गहरी जड़ें है ,सामाजिक परिवर्तन अवश्य होगा पर बहुत धीरे क्योंकि सारे रीति-रिवाज हमारे द्वारा ही निर्मित हैं न.
हाँ धीरज से चिंतन मनन व नियमित जागरूक चेतना से इसका निदान मिल सकेगा।
ये ही आशा व आकांशा की जा सकती है.
गहरा है अँधियारा हाँ दिया जलाना है , हमको तुमको सबको अब आगे आना है.

अलका मधुसूदन पटेल .लेखिका+साहित्यकार.

10 comments:

  1. होली पर आपकी बेहतर रचना और होली, दोनों को हार्दिक शुभकामनाएं....आपका स्नेहाकांक्षी ....www.sansadji.com

    ReplyDelete
  2. happy Holi
    yes society will change but speed is very slow.

    ReplyDelete
  3. आपकी रचना बहुत ही बढ़िया लगी , आपको होली की बहुत-बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  4. naari nahi hoti to samaaj banta bhi kaise ,sabse bada tyag to ye hi hai ki ek samaaj ko banaan e ke liye use kitne kasht jhelne padte hai kyaa koi purush ye sab kuch kar sakta tha ye bhi ek prashan hai ?or is samaj ko banaane me usne apni mamta tyag,dayaa dharm .ptivart jeewn ,yahan tak ki apne khoon kaa main hissa tak arpan kar diyaa ,kyaa maadhwi jaisa tyag koi purush kar saktaa hai

    ReplyDelete
  5. I loved your blog very much that too in Hindi.I have very emotional attachment to Hindi.

    ReplyDelete
  6. कानून तो ये भी है की लड़की का भी उसके पैतृक परिवार में हिस्सा होता है, कितनी जगह यह हिस्सा उसे मिलता है . आजकल कई जगह यह भी विवाद का कारण बन रहा है .
    जहाँ जहाँ सामाजिक सुधार के लिए कानून का सहारा लिया गया विनाश ही हुआ है .
    दर्द बढ़ता ही गया ज्यों ज्यों दवा की.

    ReplyDelete
  7. bahut khub,happy holi.
    kuchh sabd hote hai jodne ke liye aur kuchh sabd hote hai todne ke liye ab kaun sa sabd hame bolna hai yah khud hi vichar karna chahiye...

    ReplyDelete
  8. ''गहरा है अँधियारा हाँ दिया जलाना है , हमको तुमको सबको अब आगे आना है.''

    bilkul !

    waise.. paise to mere parents bhi jod rahe hain.. par mere dahej ke liye nahi.. meri higher studies ke liye... aur paisa mere bhaiyo ke liye bhi barabar hi jama ho raha hai... :)

    ReplyDelete
  9. आपकी रचना बहुत ही बढ़िया लगी

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts