नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

March 22, 2010

क्या मुस्लिम औरतों को इसी तरह बेइज्ज़त होते रहना होगा...?

देश के एक वरिष्ठ पत्रकार से बात हुई... बात दुआ सलाम के बाद महिला आरक्षण और फिर शिया धर्म गुरु कल्बे जव्वाद के शर्मनाक बयान पर आकर रुक गई... वरिष्ठ पत्रकार महोदय ने हमारी प्रतिक्रिया जाननी चाही...

हमने कहा- कौम के लिए इससे ज़्यादा डूब मरने की बात क्या होगी कि कल्बे जव्वाद जैसा व्यक्ति मुस्लिम औरतों के बारे में सरेआम बेहद शर्मनाक बयान दे रहा है और मुस्लिम मर्द तमाशा देख रहे हैं...आख़िर कोई अपनी मां, बहन और बेटियों की इस 'बेइज्ज़ती' पर खामोश कैसे रह सकता है...? क्या लोगों की ग़ैरत मर चुकी है...? क्या मुस्लिम औरतों को हमेशा इसी तरह बेइज्ज़त होते रहना होगा...?

-फ़िरदौस ख़ान

11 comments:

  1. धर्म के ठेकेदारों से और क्या अपेक्षा की जा सकती है?

    ReplyDelete
  2. @ sister firdos
    Jannat maan ke Qadmon tale hai.
    Kisi ne janama na hota to aaj main bhi na hota.
    Maan banna aurat ke liye kaise beizzati hai?
    haan maal ki khatir sare aam badan dikhana ya apne bachchon ko aaya ke chhod kar kitty partyon men jaana zurur aurat ke liye sharmnak hai.
    ek bachcha maan ki puri tawajjo chahta hai.
    Agar maan hi apne bachche ki tarbiyat na karegi to kya anpadh aaya karegi?
    Aaya to use kisi Bhikari ko kiraye par dene men bhi na chookegi.
    Aisa ho bhi chuka hai.
    Naukri Taraqqi sab kuchh jayaz hai lekin apne bachchon ki bali dekar nahin.
    Muslim mard agar aurton ko apni jaydad men shariat ke mutabiq unka jayaz haq hissa dene lagen to aurat ghar men reh kar bhi economically strong ho jayegi.
    Muslim mard aurat ko exploit kar rahe hain.
    unki mukhalifat honi hi chahiyye.
    main aapke saath hun.
    Aap sahi soch ko sahi rukh par aage badhayen.
    Insha Allah Hamari tayeed apke saath rahegi.
    kabhi hamara blog bhi dekhiyega.
    apka babri masjid wala article bhi dekha tha .
    mujhe wo article apne english blog ke liye chahiyye.
    pls send me.
    eshvani@gmail.com

    ReplyDelete
  3. देखिए, जहां धर्म का दखल चरम पर होगा वहां महिलाएं ऐसे ही प्रताड़ित होती रहेंगी।

    ReplyDelete
  4. शाबाश फिरदौस
    सवाल अब इज्ज़त और बे-इज्ज़ती का नहीं अस्तित्व का है! माँ बहन भाई पिता पति से आगे निकलो वहां खुला आसमान कबसे राह देख रहा है!
    अधिकार छीनो मांगो मत ! शरियत और इस्लाम की दुहाई देने वालों से पूछो की उन्होंने शरई अधिकारों का कितना प्रतिशत अपने घर की औरतों को दिया है,

    ReplyDelete
  5. मुस्लिम महिलाएं भी सोचें कि कब तक बेइज्जत होती रहेंगी।

    ReplyDelete
  6. aapki baaton mein sacchaai hai...

    ReplyDelete
  7. .
    .
    .
    Shafiqur Rahman khan yusufzai साहब का कमेंट काबिले-गौर व काबिले-तारीफ है।

    ReplyDelete
  8. औरत माँ-बहन भी होती है? अच्छा! हमे लगा हरम में भरने का सामान होती है, जिस पर हिजड़े पहरा देते है, कहीं बाहर न निकल जाए.

    ReplyDelete
  9. शाबास ! साहस के साथ सत्य.

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts