नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

September 20, 2008

जिस दिन महिलाए अपने अभिभावकों से ये तीन अधिकार ले लेगी उसदिन वो समानता की सही परिभाषा को समझगी ।

अगर महिलाए समानता की बात करे तो उन्हे अपने अभिभावकों से इन अधिकारों के विषय मे सबसे पहले बात करनी चाहिये
१ जब आपने हमे इस लायक बना दिया { पैरो पर खड़ा कर दिया } की हम धन कमा सकते हैं तो हमारे उस कमाये हुए धन पर आप अपना अधिकार समझे और हमे अधिकार दे की हम घर खर्च मे अपनी आय को खर्च कर सके । हम विवाहित हो या अविवाहित पर हमारी आय पर आप अधिकार बनता हैं । आप की हर जरुरत को पुरा करने के लिये हम इस धन को आप पर खर्च कर सके और आप अधिकार से हम से अपनी जरुरत पर इस धन को खर्च करे को कह सके।
२ आपकी अर्थी को कन्धा देने का अधिकार हमे भी हो । जब आप इस दुनिया से दूसरी दुनिया मे जाए तो भाई के साथ हम भी दाह संस्कार की हर रीत को पूरा करे । आप की आत्मा की शान्ति के लिये मुखाग्नि का अधिकार हमे भी हो ।
३ आप हमारा कन्या दान ना करे क्युकी दान किसी वस्तु का होता हैं और दान देने से वस्तु पर दान करने वाले का अधिकार ख़तम हो जाता हैं । आप अपना अधिकार हमेशा हम पर रखे ताकि हम हमेशा सुरक्षित रह सके।

जिस दिन महिलाए अपने अभिभावकों से ये तीन अधिकार ले लेगी उसदिन वो समानता की सही परिभाषा को समझगी । उसदिन समाज मे "पराया धन " के टैग से वो मुक्त हो जाएगी । समानता का अर्थ यानी मुक्ति रुढिवादी सोच से क्योकि जेंडर ईक्वलिटी इस स्टेट ऑफ़ माइंड { GENDER EQUALITY IS STATE OF MIND }

25 comments:

  1. जो तीन 'अधिकार' आपने सुझाए हैं उनसे कोई वास्तविक परिवर्तन न हो कर मात्र 'कॉस्मेटिक' परिवर्तन ही होना है। वास्तविक परिवर्तन के लिये
    ये तीन अधिकार आवश्यक हैं:-
    1-पुरुष मित्र बनाने का अधिकार
    2-पारिवारिक संपत्ति में बराबर हिस्से का अधिकार
    3-अपना मनचाहा जीवन-साथी चुनने का अधिकार

    ReplyDelete
  2. तीनो अधिकार पुत्रियों को मिलने चाहिए!
    हिंदू धर्म की कुरीतियों के खिलाफ कार्य करना ही होगा , एक और अधिकार माता पिता के पैर भी , कई जगह पर लडकी को नही छूने दिए जाते ! वह भी एक ख़राब रीति है !

    ReplyDelete
  3. adhikaar kisi ko bhee bheekh me nahi milate. usake liye sata pryaas karana padataa hai. ye 1-2-3 yaa 100 ki list bhee banaa di jaay to bhee, mujhe lagataa hai ki ye haasyaaspad hee hai.

    jeevan kaa ek sampoorn nazariyaa, jisame har insaan ke liye sammaan ho, baraabaree ho, viksit karane kee jaroorat hai.
    Stree swatantrtaa bhee puruSh kee har achchee-booree baat kee nakal yaa barabaree karake nahee haasil honewalee.

    agar pitrsattak values itanee he follow karane laayak hotee to sadiyon kaa itihaas itane maar-kaat aur khoon kharabe se nahee bharaa hota
    Too some respect we should develope female viewpoint.

    ReplyDelete
  4. कुछ छूट गया सा लग रहा है..
    बस इतने ही अधिकार काफी नहीं होंगे..
    वैसे डा.अमर जी ने भी सही कहा है..

    ReplyDelete
  5. नारी शक्ति की, महिला सशक्तिकरण की सबसे बड़ी जीत होगी. इस तरह की लड़ाई महिलाओं को ताकत देगी और उन पुरुषों को मुँहतोड़ जवाब देगी जो एक महिला-माँ-के द्वारा जन्म लेकर भी उसको हतोत्साहित करते हैं. आपको बधाई.....नारी से ऎसी ही हिम्मत की अपेक्षा है.

    ReplyDelete
  6. मैं इन अधिकारों की मांग के पीछे से झांक रही भावनाओं से पूर्णतः सहमत हूँ.

    ReplyDelete
  7. स्वप्नदर्शी जी ने बिल्कुल सही कहा है। अधिकार भीख में नहीं मिलते। उनके लिये प्रगतिकामी स्त्री व पुरुष दोनों को मिल कर प्रयास/संघर्ष करना होगा।

    ReplyDelete
  8. http://swapandarshi.blogspot.com/2008/04/blog-post_24.html
    swapndarshi aap nae is post par jo kehaa wo aap ki upar kahii hui post sae kaffi farak haen . par shayad samay kae saath vichaar badeltey rehtey haen aur paripakv hotey jaatey haen

    ReplyDelete
  9. स्वप्नदर्शी जी को अधिकार कभी मांगने नहीं पड़े, मुफ्त में मिले, और बराबरी में भी वो खुद को ऊंचा रखते हैं। बराबरी की बात तब जरूर उठेगी जब एक ही घर की रसोई से बेटी की कटोरी में कम सब्जी और बेटे की कटोरी में ज्यादा सब्जी परोसी जाती है। बाकी लड़ाई बराबरी की नहीं अपने हक़ की है।

    ReplyDelete
  10. रचना जी सही लिखा है आपने।

    ReplyDelete
  11. अच्छी लगी आपकी बात रचना यह ..पर बहुत वक्त लगेगा अभी इस लड़ाई को जीतने में

    ReplyDelete
  12. sammj mai is jagrati ko laane mai wakt lgega.....lakin iske liye pahal to karni hogi....

    ReplyDelete
  13. कन्यादान पर एक पोस्ट जल्द ही दूँगा। वैसे रचना जी को सूचित करना था कि आपके समाज में आ गया हूँ।

    ReplyDelete
  14. rachanaji..ek nayi disha kel iey dwaar khola hai apane.. sab milke koshish kare ki ye dwaar pura khul jaaye aur woh 3 adhikaarm il jaye.. bahut shukriya aapka nayi disha mai naya raasta dikhane keliye..shaayd kahi na kahi iss jyot k iasar ho jaaye

    ReplyDelete
  15. समान अधिकार की बात में ये अधिकार सम्मिलित हैं।

    ReplyDelete
  16. @ varsha
    kuch had tak aapakee baat sahee hai, mere maata-pitaa ne mere palaan, aur shiksha me koee bbhedbhaav nahee kiyaa. Infect ham dono bahane Ph.D. hai, aur bhaee sirf masters.

    par isee samaaj me ham bhee baDe huye hai. aur yahan tak pahunchane ke liye hamane bahut jyaadaa mehanat kee hai.

    Individual efforts aur ek sakriy samajik bhaageedaaree dono hee level par efforts kee jaroorat hote hai.

    par manav jeevan viraat hai, ek tarah kee problem solve hogee to usase badee samane aayegee.

    ReplyDelete
  17. डा अमर जी की बात से सहमत हूँ। आप ने जिन तीन अधिकारों की बात की है वो मेरे परिवेश में ऑलरेडी नारियों के पास हैं। हम श्मशान भी जाती हैं, हमारे माता पिता अब हमसे पैसा लेने में सकोंच नहीं करते( मेरे तो माता पिता अब रहे ही नहीं, सहेलियों की बात कर रही हूँ) और रजिस्टर्ड शादियों का प्रचलन है तो कन्यादान का सवाल ही नहीं उठता। हां , डा अमर जी के सुझाए प्रस्तावों पर काम होना चाहिए। पहले तो ऑनर किलिंग्स बंद हों।

    ReplyDelete
  18. मैं अधिकार को कर्तव्य के साथ मिला कर सोचता हूँ. समाज और परिवार में पुरूष और नारी को समान अधिकार मिलने चाहियें और उन्हें अपने कर्तव्यों को भी समान रूप से निभाना चाहिए.

    ReplyDelete
  19. आपके बिन्दुओं के समझने की कोशिश कर रहा हूँ । -

    १ जब आपने हमे इस लायक बना दिया { पैरो पर खड़ा कर दिया } की हम धन कमा सकते हैं तो हमारे उस कमाये

    हुए धन पर आप अपना अधिकार समझे और हमे अधिकार दे की हम घर खर्च मे अपनी आय को खर्च कर सके । हम

    विवाहित हो या अविवाहित पर हमारी आय पर आप अधिकार बनता हैं । आप की हर जरुरत को पुरा करने के लिये

    हम इस धन को आप पर खर्च कर सके और आप अधिकार से हम से अपनी जरुरत पर इस धन को खर्च करे को कह

    सके।

    - यह अधिकार प्राप्त करने की बात है या कर्तव्य निर्वहन करने की इच्छा - अनुच्छेद का तात्पर्य समझ में नहीं आया ।

    २ आपकी अर्थी को कन्धा देने का अधिकार हमे भी हो । जब आप इस दुनिया से दूसरी दुनिया मे जाए तो भाई के

    साथ हम भी दाह संस्कार की हर रीत को पूरा करे । आप की आत्मा की शान्ति के लिये मुखाग्नि का अधिकार हमे भी

    हो ।

    - सोच रहा हूँ वो दिन जब हमारे गाँव में घर के बुढ़े स्वामी के मरने पर उसकी पत्नी, दो बेटी और लोगों के साथ राम-नाम सत्य करते हुए बाँस के खाट पर नदी के किनारे पर लाश लाऐंगे - लाश के पुरे कपड़े उतारकर उसे नहाऐंगे - फिर पुरे देह पर धी -सुगंध लगाऐंगे । फिर लकड़ी से उससे देह को सजाऐंगे, फिर रो-रोकर 2-3 घंटे तक पुरी तरह से पहले बाल - फिर चमड़ा - फिर माँस - फिर हड्डी को जलाऐंगे । पता है - सिर की हड्डी जल्दी नहीं जलती है - बड़े बाँस से पिट-पिटकर उसे जलाया जाता है । और यह कमबख्त लाश ठीक से जलती भी नहीं होगी तो बेटी बाप के लाश को उलट-पलट करके जलाएगी । फिर उसका भस्म लेकर घर आऐंगे । घर में बाकी शोक संतप्त संबंधी लोग उनके खाने-पीने का प्रबंध करेंगे ।

    धत् मैं भी क्या बात कर रहा हूँ - यह सब तो गाँव में होता है । बुद्घिजीवी शहर में तो गाड़ी में अर्थी डाल दो - बाकी का काम तो वहाँ बिजली का चुल्हा 1700 डिग्री फारेनहाईट में यह सब खुद कर देगा । लकड़ी आग का झमेला नहीं - तो बेटी - बेटा - दामाद - बहू - सास - ससुर ( अगर जिंदा है तो) - साला साली - मौसा -मौसी - फुआ - फुफा सब साथ आऐंगे । जब तक अस्थिकलश नहीं आता है - तब तक सब कुर्सी पर बैठेंगे ।

    ३ आप हमारा कन्या दान ना करे क्युकी दान किसी वस्तु का होता हैं और दान देने से वस्तु पर दान करने वाले का

    अधिकार ख़तम हो जाता हैं । आप अपना अधिकार हमेशा हम पर रखे ताकि हम हमेशा सुरक्षित रह सके।

    आपने कितने वैवाहिक मंत्रो का अध्यन किया है ? अगर नहीं तो जरुर करें उसमें वर को जिम्मेवारी का आभास कराया

    जाता है । बेटी को गाजर-मुली की तरह दान नहीं किया जाता है । सबने देखा होगा एक अच्छे परिवार में दान की रस्म अदाकर शायद कोई पिताजी बेटी को प्यार देना बंद नहीं कर देता है - उसे अच्छी - अच्छी बातें बताना बंद नहीं करता है । अपने नाती-नातिन को गले से लगाना बंद नहीं करता है ।

    और आपने जो यह लिखी है - "आप अपना अधिकार हमेशा हम पर रखे ताकि हम हमेशा सुरक्षित रह सके ।" - यह

    नारी की सुरक्षा के लिए पुरुषों पर निर्भरता की आवश्यकता को बतलाता है । यह बाडीगार्ड रखने की मानसिकता कब खत्म होगी ?

    ReplyDelete
  20. आप किस चीज़ से नाराज़ हैं , प्सोत मे छुपी सचाई से या अपने अंदर छुपे डर से की अगर नारी का सश्क्तिकर्ण इस राह चला तो क्या होगा ? या वाकी ये बाते आप को समझ नहीं आई . और सुरक्षा की बात पुरूष के सम्बन्ध मे आप सोच रहे हैं यहाँ बात अभिभाव और बच्चे यानी बेटी की हैं . . ये बच्चे का अधिकार हैं और माता पिता की छत्र छाया जब तक होती हैं हम कितनी भी बड़े क्यों ना हो जाए सुरक्षित महसूस करते हैं . आप पोस्ट को दुबारा पढे और सब कमेंट्स को भी .

    ReplyDelete
  21. पहली बिन्दू तो समझ में मेरी आयी ही नहीं ।

    आप अगली बार किसी के मैयत में जाकर कहें की मैं भी मुर्दे को जलाना चाहती हूँ । यह समानता का अधिकार है - आपको कोई मना नहीं करेगा । हास्यास्पद है कि अभिभावक से कहें कि आप मरने से पहले अधिकार दें कि आपकी लाश को मैं जलाउँगा या जलाऊँगी । यह महिला सश्क्तिकरण के लिए आवश्यक है ।

    तीसरी बात यह कि एक तरफ तो अभिभावक के साथ बचपना का संबंध जोड़कर सुरक्षा का आभास पाना चाहती है और उसी समय महिला शसक्तिकरण की बात कर रहीं हैं ।

    आगे मेरे लिए आप कुछ बौलें - मैं बता दूँ की मै भी एक ऐसे ही एक माँ का पुत्र हू - जो बिना भाषणबाजी के सब पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रही है ।

    आपके पोस्ट में आप खुद क्या चाहती हैं - स्पष्ट नही है ।

    ReplyDelete
  22. these condition of do s and dont is followed by either so called social or in other word aam aadame
    otherwise those who make rules never follow the same
    just see idustrial houses bollywood
    regards

    ReplyDelete
  23. sir ji mai apse purnta sahmat hu. mai b isi soch ki ladki hu. mai puri koshish karugi ki har beti apne 3 adhikar paakar rahe

    ReplyDelete
  24. sir ji mai apse puri tarah sahmat hu. mai b isi soch ki ladki hu. mai puri koshish karugi ki har beti apne 3 adhikar paakar rahe

    ReplyDelete
  25. apnaay bilkul sahi kaha shayad hum khud heen ahi jantay kee hamay kya cahiye aur aapnay jin adikaro kee bat kahi usko paney kee koshis shoro ho jani chahiye mainay tou shooroo kar dee hai.

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts