नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

September 02, 2008

नारीवाद

अभी एक ब्लॉग पर नारीवाद के विषय में पढ़ा सदियों से नारी शोषित रही है अतः अपने हक़ के लिए नारीवाद का सहारा लेना पड़ता है ....सवाल यह है की लोग नारी को व्यक्ति की तरह न लेकर एक अलग वर्ग क्यों बना रहें हें .....व्यक्ति को अपनी तरक्की के लिए कुछ भी करने का हक़ है जो आज की नारी कर रही है जिस पर हमें गर्व होना चाहिए.......विचार आमंत्रित हें ....

6 comments:

  1. मुझे फक्र हैं की मे नारी हूँ और अगर इस वजह से मेरा किया हुआ काम "नारीवाद " हैं तो मुझे कोई गिला नहीं हैं . लेकिन अगर आप फेमिनिस्म को नारीवाद कहते हैं और नारी के किये हुए हर कार्य को " फेमिनिस्म " का फतवा देते हैं तो आप नारी की तरक्की की कोशिश को एक नेगेटिव एंगल देते हैं क्युकी फेमिनिस्म को समाज नेगेटिव मानता हैं . नारी को अपनी तरक्की के लिये किसी भी सहारे की जरुरत नहीं हैं . बस मेहनत और लगन और सबसे ऊपर के पायदान पर खडे होने की चाह हर काम मे चाहे वो गृहणी की रसोई हो या ऑफिस का मेनेजमेंट . मूलमंत्र हैं " BE SELF SUFFICIENT AND BEST IN WHAT EVER "YOU DO

    ReplyDelete
  2. नीलिमा जी नारी वर्ग को कमजोर समझने वाले स्वयं मानसिक रुप से कमजोर होते हैं । मुझे भी कई बार ऐसी टिप्पणी आ जाती है कि आपको महिला होने की वजह से लोग आपके पोस्ट पर आते है। लेकिन मैं इस तरह की बातों पर ध्यान नही देती ऐसे लोंगो का डर उनकी टिप्पणी देख कर ही पता चल जाता है ।

    ReplyDelete
  3. bhrun hatya ka maslaa jaroor dekhe meri post per
    apka sujhav amantrit hai

    ReplyDelete
  4. नारी समाज का एक अंग है. समाज का दूसरा अंग पुरूष है. जब समाज के दोनों अंग तरक्की करेंगे तभी समाज तरक्की करेगा. किसी एक अंग को दबा कर समाज तरक्की नहीं कर सकता. लेकिन यहाँ इस बात का ध्यान रखना जरूरी है कि एक प्रभावशाली सामाजिक व्यवस्था में सबके अधिकार और कर्तव्य निर्धारित होते हैं. कहाँ अकेले काम करना है और कहाँ मिल कर काम करना है यह सब भी निर्धारित होता है. नारी की तरक्की पुरूष की तरक्की के ख़िलाफ़ नहीं है, दोनों एक दूसरे की पूरक हैं. यह सब सामान्य रूप से होना चाहिए. नारी यदि तरक्की करती है तो उसे पुरूष को चुनौती के रूप में न तो दिखाया जाना चाहिए और न ही माना जाना चाहिए. यह कहना कि नारी को अपनी तरक्की के लिये किसी भी सहारे की जरुरत नहीं हैं क्या हासिल करता है? नारी और पुरूष दोनों को एक दूसरे की जरूरत है. इस जरूरत में कोई अपमान वाली बात नहीं है. मैं इस बात से पूरी तरह सहमत हूँ कि नारी को एक व्यक्ति के रूप में देखा जाना चाहिए, उसे एक अलग वर्ग बना कर देखना उचित नहीं है.

    ReplyDelete
  5. यह कहना कि नारी को अपनी तरक्की के लिये किसी भी सहारे की जरुरत नहीं हैं क्या हासिल करता है?
    suresh ji
    yae dikhataa haen ki ab ham competent haen , independent haen aur bina kisi saharey kae apni zindgi ko jee saktey haen
    hamari tarakki kae raastey kki rukavtey ham khud dur kar rahey haen
    ab purush ko bhi yae sam,jhna hoga ki naari ko ghar ki chaar diwaro mae kaed karke nahin rakha jaa sktaa
    naari kae liyae khulaa asmaan haen apne pankho ko phelaa kar udnae kae liyae

    ReplyDelete
  6. sabse pahle mera aapse 1 sawal hai what is femenism? plz kisi purvagah se grasit hokar answer na de

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts