नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

September 28, 2008

मथुरा हमारा अतीत है, भविष्य नहीं

अंजलि सिन्हा

पिछले दिनों एक ऐसी घटना हुई, जिसने तीस साल पुरानी याद ताजा कर दी। हुआ यह कि इलाहाबाद हाई कोर्ट ने बलात्कार के एक मामले में यह नतीजा निकाला कि पीड़ित महिला का चरित्र संदिग्ध है। इसी आधार पर इस केस के दोनों आरोपियों को बरी कर दिया गया। अपील में यह मामला सुप्रीम कोर्ट में गया। देश की सबसे बड़ी अदालत ने सख्त रुख अपनाते हुए कहा कि हाई कोर्ट ने संवेदनशीलता के साथ काम नहीं किया है। जस्टिस अरिजित पसायत और जस्टिस एम. शर्मा की बेंच ने कहा कि यह बात तीस साल पहले ही साफ कर दी गई है कि बलात्कार के मामले में चरित्र का हवाला नहीं दिया जा सकता। बेंच ने तमाम सबूतों को देखते हुए आरोपियों को कसूरवार करार दिया।

बेंच ने कहा कि अगर महिला अक्सर यौन संबंध बनाती रही हो, तो भी फैसले का आधार यह नहीं हो सकता। फैसला इस आधार पर होना चाहिए कि महिला जिस समय बलात्कार की शिकायत कर रही है उस समय बलात्कार हुआ या नहीं। महिला के व्यक्तिगत चरित्र के आधार पर किसी व्यक्ति को बलात्कार करने की छूट नहीं दी जा सकती।

वैसे यौन अत्याचार के मामले में स्त्री के चरित्र को मुद्दा बनाना हमारे समाज की प्राचीन परंपरा में शामिल है। कई अदालतों ने पीड़िता की कथित बदचलनी को आरोपियों के पक्ष में बड़ा तर्क माना है। यह समझा जाता है कि अगर औरत चरित्रहीन है, तो उसे बलात्कार की शिकायत करने का हक नहीं रह जाता। आज से तीस साल पहले 1978 में ऐसा ही कुछ हुआ था, जिसे मथुरा बलात्कार कांड के नाम से जाना गया। मुंबई के नजदीक ठाणे की आदिवासी युवती मथुरा के साथ थाने में हुए बलात्कार की घटना में सुप्रीम कोर्ट का जो फैसला आया, वह काफी उद्वेलित करने वाला था। इस फैसले में अदालत ने आरोपी पुलिसकर्मियों को सन्देह का लाभ देते हुए बरी किया था और इसकी वजह यह बताई थी कि मथुरा के पहले से ही शारीरिक संबंध रहे हैं और इस घटना में उसकी तरफ से प्रतिरोध के निशान नहीं मिलते।

लोगों को याद होगा कि इस फैसले के खिलाफ देश के अग्रणी वकीलों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने एक खुला पत्र जारी कर अपनी घोर असहमति प्रगट की थी। यह बात अब इतिहास हो चुकी है कि देश भर से उठी प्रतिक्रिया और लम्बे अभियानों के बाद 1983 में बलात्कार विरोधी अधिनियम में सुधार किया गया। तब से लगातार यह बात किसी न किसी रूप में चर्चा में रही है कि सुनवाई घटित घटना के आधार पर हो, न कि किसी के चरित्र के व्यक्तिगत लेखेजोखे के आधार पर। बावजूद इसके हमेशा यह बात किसी न किसी रूप में सामने आती है कि 'वह' इतनी रात बाहर क्यों गई? अकेले क्यों गई? क्या वह आरोपियों को पहले से जानती थी? इसी तरह छेड़खानी जैसे मामलों में कहा जाता है हैं कि वह भड़काऊ ड्रेस क्यों पहनती है या अपने हावभाव से लड़कों को उकसाती है।

ये तमाम प्रसंग इसी बात को रेखांकित करते हैं कि हमारे सोच पर मर्दवाद हावी है। वरना खराब चरित्र या खराब कपड़े तो क्या, स्त्री निर्वस्त्र हो, तो भी उसके साथ मनमानी करने का हक किसी का नहीं बनता। पड़ताल सिर्फ इसी बात की हो सकती है कि उस खास मौके पर वह घटना आपसी सहमति से हुई या जबर्दस्ती और दबाव से। अदालत का न्याय क्षेत्र इतना ही है।

हमारे देश में बलात्कार आज भी औरत को दबाने का सबसे बड़ा हथियार बना हुआ है। बलात्कार के जो आंकड़े हर साल सामने आते हैं उनकी संख्या 12 हजार से भी ज्यादा है, लेकिन घटनाएं इससे कई गुना ज्यादा घटती हैं, क्योंकि सभी मामले थाने और कोर्ट तक नहीं पहुंचते। कुछ दर्ज ही नहीं किए जाते, कुछ शुरुआत में खारिज कर दिए जाते हैं, तो कुछ में दबाव या लालच देकर बयान बदलवा दिया जाता है। अगर देश की राजधानी की ही बात करें तो हर साल यहां पांच से छह सौ तक बलात्कार के मामले दर्ज होते हैं। देश भर में यह आंकड़ा 12 हजार तक पहुंच जाता है। सन 2002 में एक सर्वेक्षण के आधार पर खुलासा किया गया था कि हर 35 मिनट में एक औरत बलात्कार की शिकार होती है।

हाल ही में एक जिला अदालत ने सामूहिक दुष्कर्म के तीन आरोपियों को बाइज्जत बरी किया। बात यह नहीं थी कि तीनों आरोपी निर्दोष साबित हो गए थे, बल्कि पीड़िता के बयान में फर्क बता कर उन्हें बरी किया गया था। बताया गया कि सेशन कोर्ट में दिए बयान और मैजिस्ट्रेट के सामने दिए बयान में फर्क था। गौरतलब है कि इस मामले में पुलिस द्वारा कराई गई मेडिकल जांच में बलात्कार की पुष्टि हो चुकी थी। पुलिस ने अदालत को यह भी बताया था कि बलात्कार के बाद इस किशोरी ने छत से कूद कर आत्महत्या की कोशिश की थी। अभी कुछ समय पहले हाई कोर्ट का फैसला आया था कि बलात्कार के मामले में पीड़िता की गवाही ही काफी है, किसी अन्य सबूत की जरूरत नहीं। एक तरफ हाई कोर्ट जहां बलात्कार के मामले में जुर्म तय करने के लिए ज्यादा उदार पैमाने की हिमायत करता दिखता है, वहीं बयान में फर्क जैसे आधार पर निचली अदालत का फैसला एक गहरी विडंबना पैदा करता है।

बलात्कार की घटनाओं का जो कुछ विश्लेषण किया गया है, उसमें साफ तौर पर यह बात सामने आई है कि हमारे समाज में यह सिर्फ मानसिक विकृति या मौज-मजे का मामला नहीं है। हमारे मर्दवादी समाज में औरत को सबक सिखाने के लिए या पारिवारिक, जातीय और धार्मिक मामलों में सत्ता व शक्ति प्रदर्शन के लिए भी बलात्कार किए जाते हैं। ऐसे हाल में यह और भी जरूरी है कि औरत की सुरक्षा तथा समाज के हिंसामुक्त रहने के हक को सुनिश्चित करने के लिए पीड़िता थाने और कोर्ट तक पहुंचने की हिम्मत जुटा सके। उसे इंसाफ की भी उम्मीद हो। केस ठीक से चलें और तकनीकी आधार पर मामले को उलझा कर या पीड़िता के चरित्र पर लांछन लगा कर केस खारिज होने की कोई भी घटना न हो। कम से कम हम यह तय करें कि मथुरा हमारा इतिहास है, भविष्य नहीं!

( लेखिका अंजलि सिन्हा स्त्री अधिकार संगठन से जुड़ी हैं)

6 comments:

  1. Rachana ji,
    Anjali ji ka jaankaari bhara lekh padwaane ke liye sadhuwaad.
    ab baat karte hai mudhe ki.
    baat court tak phuchaane ke liye bhi oorton ko kafi kawayad krani padati hai. police statoin per hi oorat ko is kaabil nahi choda jaata hai ki wah sahi prkaar se apni report darj kra sake. agar report sahi prkaar se darj ho jaaye...vivechna sahi dang se ho jaye to blaatkaari bach nahi sakta hai....
    dussri baat..essi gatnaon ko ghro se bahar nahi jane diya jaata...kitni oorte to essi bhi hoti hai jo ghron mai badnaami ke kaaran bata nahi paati hai...
    mere vichaar se estithiya badalne se cheejon mai sudhaar hoga.....

    ReplyDelete
  2. अंजली जी आपने एक महत्तवपूर्ण विषय को उठाया । आपका लेख उन तमाम समस्या को दर्शाता है जो कि स्त्री को झेलनी पड़ती है । बहुत दुखद बात ही है हमारे समाज के लिए कि पीड़ित को न्याय नहीं मिलता है और आरोपी बरी हो जाते है । हमारा कानून अंधा है वह सही और गलत नहीं देखता बस वही देखता है जो उसे दिखाया जाता है ।

    ReplyDelete
  3. भारतीय दंड संहिता की धारा 375,376,376-क और 377 जो यौन अपराधों से सम्बन्धित हैं संशोधित की गई हैं। अब इन धाराओं को व्यापक बना दिया गया है। संशोधित कानून के लागू होने के पहले के मामलों पर इन का उपयोग नहीं किया जा सकता है।
    संशोधन के उपरांत बलात्संग साबित हो जाने पर केवल स्वतंत्र सम्मति ही अभियुक्त के लिए एक मात्र बचाव का साधन शेष रह गया है।

    ReplyDelete
  4. आप की पोस्ट तारीफ़ के काबिल है. मैं कानून ज्यादा नहीं जानता. अदालत बलात्कार के दोषिओं को बरी कर देती हैं या लोग बलात्कार के बारे में क्या कहते हैं इस से भी मुझे कोई सरोकार नहीं है. मैं यह मानता हूँ कि बलात्कार से बुरा कोई अपराध इस दुनिया में नहीं है. इस अपराध की सजा केवल मौत ही होनी चाहिए. हमारी मर्जी के ख़िलाफ़ हम पर कोई बात थोपी जाती है तो हम कितने दुखी हो जाते हैं, हिंसक भी हो उठते हैं. किसी नारी की मर्जी के खिलाफ ख़ुद को उस पर थोपने वाला एक इंसान नहीं दरिंदा है और ऐसे दरिन्दे को जितनी जल्दी नष्ट कर दिया जाए उतना ही समाज के लिए लाभदायक है.

    ReplyDelete
  5. Rachna, aap ne ye post NAVBHARAT TIMES se lee hai. achha lekh hai aur anjli bebaaki se likhti hee hain. purushon ki duniya dhurt hai

    ReplyDelete
  6. lekh kaa link jo anjali kae naam clcik karte hee khultaa haen woh navbharat times kaa hee haen so yae baat swatah hii spasht haen ki laekh anjlai kaa haen aur navbharat times sae hae

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts