नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

August 04, 2008

इसे क्या हादसा कहेगे ??

वर्ष १९९४
मेरी अन्तरंग मित्र रीटा की जेठानी सुषमा अस्पताल मे भरती थी दूसरे प्रसव के लिये । पहले उसके एक लड़का था , दूसरे प्रसव मे सब ठीक नहीं रहा और दुर्भाग्य से सुषमा एक लड़के को जनम देकर मृत्यु को प्राप्त हो गयी । केवल ३४ वर्ष की थी सुषमा और एक कामकाजी महिला भी थी । प्रेम विवाह हुआ था उसका , ख़ुद वह दक्षिणी प्रान्त से थी , शादी पंजाबी मे हुई थी ।

दाह संस्कार के लिये सब जमा हो गए थे लेकिन घर के लोगो मे किसी गहन मुद्दे पर मशविरा चल रहा था । कुछ देर बाद हम लोगो ने देखा की सुषमा के माता पिता बाहर निकले गाड़ी मे बैठ कर चले गए । किसी को कुछ भी समझ नहीं आया । फिर रीटा का पति यानी सुषमा का देवर , सुषमा के बडे ३ साल के बेटे को लेकर बाहर आया और सुषमा के ससुर ने कहा की संस्कार रीटा का पति करेगा , बेटे से हाथ लगवा दिया जायेगा ।

सबको बहुत आश्चर्य हुआ की सुषमा के पति को क्या हुआ हैं , वह बाहर क्यों नहीं आ रहा हैं और क्यूँ संस्कार अपनी पत्नी का वो नहीं कर रहा हैं ? पूछने पर पता चला की अभी सुषमा के पति की आयु केवल ३७ वर्ष की हैं और दो बच्चे है छोटे छोटे सो पंजाबी रीति रिवाज के अनुसार अगर वो अपनी मृत पत्नी के शरीर को हाथ लगाएगा या उसका संस्कार करेगा तो ९ { नों } महीने तक वो दुबारा शादी नहीं कर सकता इस लिये संस्कार देवर से करा देते हैं , अब अपना लड़का तो हाथ लगा ही रहा हैं पति करे या ना करे संस्कार क्या फरक पड़ता हैं ।

और सच मे किसी को कोई फरक नहीं पडा , पति ने ३ महीने के अन्दर दूसरा विवाह कर लिया , बच्चो का माँ चाहिये थी । बस एक फरक पडा सुषमा के माता पिता ना तो संस्कार मे आए और ना उन्होने कोई सम्बन्ध रखा लेकिन इस के अलावा कोई फरक नहीं पडा किसी को भी ।

क्या एक विधवा को भी ये आज़ादी दी जा सकती हैं की उसको अपनी मांग का सिंदूर ना पोछना पडे , उसकी चूडियों को ना उतारा जाए , उसको एक दिन को भी सफ़ेद लिबास न पहना पडे क्योकि उसको दुबारा विवाह करना हैं ।

और कहां जाता हैं वो प्रेम जिसकी इतनी दुहाई दी जाती हैं शादी मे , और कहां जाता हैं वो एक दूसरे का पूरक होना । कहां हैं वोह भावनात्मक लगाव जिस की दुहाई शादी का गुन गान करने वाले देते हैं । दैहिक जरुरतो की पूर्ति मात्र लगती हैं कभी कभी ये शादी पर इस सच को कितने स्वीकारते हैं ??

17 comments:

  1. यही सच है रचना ..विधवा विवाह अभी भी होना बहुत मुश्किल है ....

    ReplyDelete
  2. रचना जी, आप और मैं भी, नाहक हाहाकार मचाते हैं,पुरुष जब विवाह करता है, पहला या दूसरा या तीसरा, या जो भी वां, एक स्त्री का बेड़ा पार लगाता है। उसे पुण्य मिलना चाहिए न कि यूँ कटघरा। एक मित्र के अनुसार पुरुष तो काँसे का लोटा है, माँजा और चमक गया। वह हमारी तरह किसी के छूने मात्र से जूठा नहीं हो जाता। तो क्या हुआ कि उसने एक स्त्री के साथ प्रेम किया, दो पुत्रों को जन्म दिया? तीन महीने तो बहुत होते हैं वह तीन घंटे में भी विवाह रचाता तो कोई पहाड़ न टूट पड़ता। खैर, अच्छा हुआ जो मृतक के माता पिता को किसी भ्रम में नहीं रखा।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  3. सब आँखों के आँसू उजले, सबके सपनों में सत्‍य पला!
    जिसने उसको ज्‍वाला सौंपी, उसने इसमें मकरंद भरा,
    आलोक लुटाता वह घुल-घुल, देता झर यह सौरभ बिखरा!
    दोनों संगी, पथ एक किंतु कब दीप खीला कब फूल जला?


    Lekin ek vidhva ke aanchal mein samaz ne hamesha kaante hi bhara.

    ReplyDelete
  4. ऐसी घटनाएँ मन को हिला देती हैं....
    समाज की सोच को मुझे खुद बदलना है अपनी आत्मशक्ति से...समाज और परिवार को अपनी सकारात्मक सोच मे ढालना है.. ...बस ऐसा होते ही बदलाव की प्रक्रिया सही दिशा की ओर बढ़ॆगी.....

    ReplyDelete
  5. मेरे विचार में एक विधवा को पूरी आज़ादी होनी चाहिए कि अगर वह चाहे तो अपनी मांग का सिंदूर ना पोंछे, अपनी चूडियों को ना उतारे, एक दिन भी सफ़ेद लिबास न पहने. उसको दुबारा विवाह करना है या नहीं, यह भी उस का व्यक्तिगत निर्णय होना चाहिए. मुझे बिग बी की वह फ़िल्म बहुत पसंद आई थी जिसमें उसकी विधवा पुत्रवधू का विवाह होता है. जीवन बहुत सुंदर है. पति की म्रत्यु हो जाने से स्त्री से उसका जीवन ही छीन लेना पाप है.

    ReplyDelete
  6. महिला ब्लाग पर टिप्पणी करने के लिए अनुमति न ले ने के लिए क्षमा...बीकानेर मैं रेडियोलॉजी के एक प्रोफेसर महोदय की धर्म पत्नी जो कि गायनी मैं प्रोफेसर थी तब भी उन्होने ऐसा ही किया थी.प्यार मोहब्बत की तो छोङें जो महिला उन्हें महिने के 2-3 लाख रूपये कमा कर देती थी उसके साथ ऐसा व्यबहार ...खैर दो महिने बाद उन्होंने अपनी एक छात्रा से विवाह कर लिया there after they are living a very very loving and happy life

    ReplyDelete
  7. ब्लॉग पर पोस्ट महिला करती हैं पर टिपण्णी तो सब ही कर सकते हैं . आप को ऐसा लगा की टिपण्णी करने के लिये अनुमति की आवश्यकता हैं तो कहीं ना कहीं मे अच्छी मोडरेटर नहीं हूँ
    मिहिर भोज जी इस कनफूजन के लिये क्षमा करदे और निरंतर टिपण्णी करे

    ReplyDelete
  8. रचना जी, आप कैसी बात करती हैं? नारी को यह अधिकार पुरुष प्रधान समाज कैसे दे सकता है। हाँ नारियाँ ही छीन लें तो बात अलग है।
    पर सोचिए किसी पुरुष को भी यह अधिकार होना चाहिए क्या?
    और रिवाज ने ही पुरुष के कपड़े उतार भी दिए हैं। इस से पता लगता है कि पहला विवाह तो फर्जी था। पति-पत्नी के बीच सिर्फ मशीनी रिश्ता था।
    मुझे महान भौतिकवादी 'कार्ल मार्क्स'का स्मरण हो रहा है, जो पत्नी की मृत्यु पर उस की कब्र में पैर लटका कर बैठ गए थे कि उन्हें भी जेनी के शव के साथ ही दफन कर दिया जाए। उन के मित्र जबरन उन्हें वापस लाए। मार्क्स ने अपना जीवन विदुर के रुप में ही गुजारा।

    ReplyDelete
  9. दिनेश जी बात केवल स्त्री और पुरूष की नहीं हैं बात हैं समाज मे व्याप्त असमानता की और बात हैं पुरूष कमजोरी की भी हैं । स्त्री को अबला कहते कहते पुरूष कितना निरिही और समाज के हाथो की कठपुतली बनता गया हैं की अपने दिमाग से उसने सोचना ही बंद करदिया हैं । मैने निरंतर कहा हैं की समाज की रुदिवादी सोच को बदलो और ये ब्लॉग भी उसी बात को आगे बढाने का माध्यम हैं । आप निरंतर कमेन्ट दे कर उर्जा देते हैं आगे और लिखने की

    ReplyDelete
  10. purusho ke hak mai bani ek or waywastha ko aap ne ujager kiya....
    sach to je hai ki ess waywastha mai keechad hi keechad hai...
    samaaj ko aaiena dikhane ke leye badhaae
    Manvinder

    ReplyDelete
  11. Bahut tarah ke log hai hamare samaaj me..koi sach ke liye mar mitta hai to koi jhuth ke liye.mujhe lagta hai yah wyakti wyakti par nirbhar karta hai..lekin haan ab bhi bahut saare parivartano ki gunjaish hai khash karke mahilaaon ke liye.

    ReplyDelete
  12. समाज स्त्री और पुरूष दोनों से बनता है. समाज की कुछ व्यवस्थाएं होती हैं. इस व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए स्त्री और पुरूष के बीच में अधिकार और जिम्मेदारियों का विभाजन किया जाता है. इन्हें असामानता के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए. पर इस व्यवस्था में कोई भी बिसंगतता असामानता को जन्म देती है और इस से समाज में समस्यायें पैदा होती हैं. यह बिसंगतता स्त्री और पुरूष दोनों और से हो सकती है. इसे दूर किया जाना चाहिए.

    सुषमा के पति का अपनी पत्नी का संस्कार न करना मेरे विचार में ग़लत था. पत्नी की मृत देह चिता पर रखी हो और पति दूसरी शादी के बारे में सोचे, यह तो एक अमानवीय कर्म है. दूसरी और सुषमा के पिता का संस्कार से ही चला जाना भी ग़लत था. अन्तिम यात्रा में बेचारी सुषमा को तो पिता और पति दोनों ने ही छोड़ दिया. ऐसे रीति-रिवाज किसी भी समाज के लिए कलंक हैं.

    आज मुझे अपने एक सहकर्मी की याद आ रही है. देहरादून की बात है. उसका लगभग एक वर्ष पहले विवाह हुआ था. पत्नी किसी काम से अपने मायके गई हुई थी.वह नहाने के लिए विजली के हीटर से पानी गर्म कर रहा था. विजली का झटका लगने से उसकी मौत हो गई. उसके घर और ससुराल दोनों को ख़बर की गई. घर वाले आए पर ससुराल वाले नहीं. जब फ़ोन किया तो उन्होंने बहाना बना दिया और आने में असमर्थता जाहिर कर दी. सबको अजीब सा लगा. दुःख भी हुआ.

    ReplyDelete
  13. सुषमा के पति ने जो किया वो गलत था और किसी तरह से माफ़ नहीं किया जा सकता। उसने तीन महीने में जी दूसरी शादी कर ली? गलती उनकी भी है जिन्हों ने उसे लड़की दे दी।
    वैसे यहां बम्बई में मैने देखा है कि आजकल पति के मरने पर नारियां सफ़ेद कपड़े नहीं पहनती और गले के मंगलसूत्र नहीं उतारतीं। इस बात की तरफ़ कोई ध्यान भी नहीं देता। विधवा विवाह भी अक्सर होते देखे हैं यहां

    ReplyDelete
  14. मैंने ऐसी कई स्त्रियों को देखा है जिनके पति का देहांत हो चुका है पर न तो वह सफ़ेद वस्त्र पहनती हैं और न ही उन्होंने गहने पहनना बंद किया है. पहनावे की तरफ़ से सब कुछ पहले जैसा है. इस बात से किसी दूसरे को कोई परशानी नहीं है. मुझे लगता है कि अब समाज में सोच बदल रहा है. लोग विधवा स्त्रियों की तरफ़ ज्यादा सामान्य हो रहे हैं.

    ReplyDelete
  15. सुरेश जी
    प्रश्न सफ़ेद कपड़ो का और मंगल सूत्र का नहीं हैं प्रश्न हैं असमानता का समाज मे बनाये नियमो का . औरत को मानसिकता ऐसी दी जाती है की वो सोचती हैं की पति गया तो सब कुछ गया और पुरूष को मानसिकता दी जाती हैं औरत का क्या गयी तो दूसरी मिलेगी

    ReplyDelete
  16. मै सुरेश चन्द्र और अनीता कुमार की बात से सहमत हूं, निश्चय ही सुषमा के पति का व्यवहार निन्दनीय ही नहीं घोर निन्दनीय है, ऐसे पुरुष से किसी महिला को शादी करने के लिये तैयार नहीं होना चाहिये. हां महिलाऒं को भी विधवा होने के बाद विवाह करने की पूरी आजादी है और विधवा विवाह हो भी रहे हैं और समाज में स्वीकृति भी मिल रही है किन्तु समाज में परिवर्तन धीरे-धीरे व स्थाई होता है.

    ReplyDelete
  17. @औरत को मानसिकता ऐसी दी जाती है की वो सोचती हैं की पति गया तो सब कुछ गया और पुरूष को मानसिकता दी जाती हैं औरत का क्या गयी तो दूसरी मिलेगी.

    यह मानसिकता कौन देता है? क्या वह लोग समाज के बाहर से आते हैं? वह यहीं इस समाज में रहते हैं. और कितने लोग इस मानसिकता के शिकार हैं? धीरे-धीरे इन लोगों की संख्या कम हो रही है. विधवा विवाह हो रहे हैं. यह समस्या अब शिक्षित नारियों में कम होती जा रही है, पर अनपढ़ स्त्रियों में यह समस्या अभी भी विकराल रूप धारण किए हुए है.

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts