नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

August 22, 2008

मेरी कलम की नजर में ´नारी`


कुछ दिन पूर्व ब्लाग पर एक आइटम लिखा था, ´क्या चल रहा है ब्लाग पर `उस समय उस पर काफी बवाल हुआ, किसी ने कहा, ´तस्वीर बुरी है`, किसी ने कहा ´ये बुरी औरतें है।` यकीन मानिये , ये औरतें चुपचाप से औरतों की मजबूती और उन्हें मुख्य धारा से जोड़ने के प्रयास में जुटी हुई हैं। मुझे तो ऐसा ही लगा है आप भी जानें मेरी कलम से कि ये कैसी औरतें हैं, इनका मकसद क्या है, औरत के बारे में इनकी सोच कैसी है। आशा हैं ये चर्चा आप को पसंद आयेगी , रोज ना सही हफ्ते मै एक बार ही सही , मेरी कलम से सफर अच्छी औरतो की बुराई का............

10 comments:

  1. Kafi acha hai mahilao ka samaj.. acha laga yaha aakar.

    ReplyDelete
  2. I think all women bloggers are quite educated , intelligent and intellectuals ...who are doing their bit for social awaking...

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छा लिखा है आप ने ...

    ReplyDelete
  4. @मेरी कलम से सफर अच्छी औरतो की बुराई का............

    कुछ अच्छी औरतों की अच्छाई का जिक्र भी हो जाए.

    ReplyDelete
  5. निःसन्देह नारी ब्लोग पर नारियों की समस्याओं को व उनके विचारों को उठाने का प्रयास किया जा रहा है.बहुत अच्छा लिखा है आपने किन्तु क्या २९ महिलाओं को ही महिलाओं का प्रतिनिधि मानकर यह माना जाना चाहिये कि इस पर प्रकाशित विचार ही महिलाओं के विचारों का प्रतिनिधित्व करते हैं? ब्लोगिन्ग से उन करोंडो-अरबों महिलाओं का क्या हित हो सकता है जो अपनी रोटी के लिये जूझ रही हैं? जो अपने लिये नहीं परिवार या समाज के लिये जूझ रही हैं क्या वे महिलाएं नहीं या उनके विचारों या आवश्यकताओं का कोई महत्व नहीं? क्या ऐसी महिलाऒ के लिये भी अभियान चलाकर कुछ किया जा सकता है. ब्लोगिंग से जमीन से जुडे लोगों को क्या फ़ायदा हो सकता है? यह विचार का विषय नहीं होता तो ब्लोगिंग केवल मनोरंजन की चीज है या व्यर्थ के वाद-विवाद का मंच.

    ReplyDelete
  6. मैं राष्ट्रप्रेमी जी की बात से सहमत हूँ.
    जन्माष्टमी की बहुत बहुत वधाई

    ReplyDelete
  7. मनविंदर आप ने अपनी ब्लॉग नारी पर अपनी अखबार के कोलम मे लिखा , धन्यवाद नहीं कहुगी क्युकी आप का अपना ही ब्लॉग हैं . पर आप अगर ब्लॉग का लिंक भी किसी जगह दे देती तो और भी अच्छा होता लेकिन मे जानती हूँ ये केवल शुरुवात हैं .
    @राष्ट्रप्रेमी जी
    "ब्लोगिंग से जमीन से जुडे लोगों को क्या फ़ायदा हो सकता है? " आज कल इंटरनेट प्रसार और प्रचार का सबसे आसन साधन हैं . गावं मे भी साइबर कैफे खुल गयी हैं पर मुझे लगता हैं रुढिवादिता की शिकार पढ़ी लिखी महिला ज्यादा हैं इस ब्लॉग के जरिये अगर हम किसी भी ऐसी महिला " जो मानसिक रूप से परतंत्र " के अंदर अपने प्रति जागुराक्ता ला सके तो ये ब्लॉग लेखन बहुत दूर तक जायेगा . नारी ब्लॉग महिला विचारों का मंच हैं और आप जिस चीज़ की बात कर रहे वो संस्था बना कर होती हैं . इस ब्लॉग की बहुत सी सदस्या इन संस्थाओं से जुडी हैं इसीलिये निरंतेर "सच " को अभिव्यक्त कर रही हैं . ब्लॉग लेखन और ngo मे फाक हैं .

    ReplyDelete
  8. रचनाजी
    मेरा मानना है कि हम जो लिखते हैं उसे आचरण में ढालकर जीयें तो समस्यायें खत्म हो सकतीं हैं. एन जी ओ से कुछ नहीं होने वाला. हमें अपने आप से ही प्रारंभ करना होगा. हम दुनिया को नहीं बदल सकते किन्तु अपने आप को बदल सकते हैं अपने परिवार और अपने परिवेश में काम कर सकते हैं. जितने लेखक-लेखिकायें व बुद्धिजीवी हैं, उनकी कथनी-करनी में एकता हो जाय वे यश प्राप्ति के लिये काल्पनिक लिखना छोड्कर करके लिखे तो सभी समस्याओं का समाधान हो सकता है.

    ReplyDelete
  9. "जितने लेखक-लेखिकायें व बुद्धिजीवी हैं, उनकी कथनी-करनी में एकता हो जाय वे यश प्राप्ति के लिये काल्पनिक लिखना छोड्कर करके लिखे तो सभी समस्याओं का समाधान हो सकता है."
    बिल्कुल सही कहा हैं आपने . मे ना तो लेखिका हूँ , ना बुद्धिजीवी हूँ और ना ही मुझे लगता हैं की ब्लॉग लेखन मे इस लिये कर रही हूँ की मुझे क्याती मिले . अपने जिंदगी मे जो जीविका के लिये काम करती हूँ उसमे धन और ख्याति दोनों हैं और अपने जीवन मे जो कहती हूँ वही मानती औरकरती भी हूँ . ब्लॉग लेखन के ज़रिये विचारों का और जिंदगी के अनुभवों का आदान प्रदान होता हैं . आप इस ब्लॉग पर क्या पढ़ना चाहते हैं हमारे लिये वो जरुरी नहीं हैं . हमारे लिये ज़रुरी हैं की हम क्या लिखना चाहते हैं . यहाँ हम कम से कम किसी भी साहित्य की रचना नहीं कर रहे हैं . आप पढ़ते हैं , आप को अधिकार हैं कमेन्ट करने का पर क्या प्रवचन देने का अधिकार भी हैं , क्या जरुरी आहें की आप यहाँ कम्नेट मे ये बताये की हमे क्या करना चाहिये . कमेन्ट करे कंटेंट पर ना की क्या सही हैं , क्या होना चाहिये . हम लिख रहे हैं क्योकि हम लिखना चाहते हैं . ब्लॉग माध्यम के ज़रिये हम देश विदेश मे अपने विचारों को पहुचा रहे हैं . बस आप से यही कहना हैं की हम जो लिख रहे हैं उस मे वो ना खोजे जो आप को लगता हैं सही हैं और हमें करना चाहिये हम अपने सही गलत के लिये ख़ुद फैसला करने मे समर्थ हैं . आप को इस विचार धारा से जुड़ना हो आप का स्वागत हैं , हम विचार धारा नहीं बद्लेगे

    ReplyDelete
  10. हम जैसे हैं, वैसे ही रहेगें, नहीं बदलेंगे, अपनी सुनायेंगे, दूसरे की नहीं सुनेंगे, इसी से नारी को आगे ले जायेंगे. बहुत-बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts