नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

August 10, 2008

ये अच्छी औरते नहीं हैं

एक ब्लॉग पोस्ट लेखिका जो न्यूज़ पेपर मे लिखती हैं उसका मोबाइल नम्बर खोज कर हिन्दी के एक वरिष्ठ ब्लॉगर ने उसको फ़ोन किया और कहा ...... और ...... इनसे आप दूर ही रहो । ये अच्छी औरते नहीं हैं । कल इस लेखिका ने अपने ब्लॉग पर एक पोस्ट लिखी थी "ब्लाग पर क्या चल रहा है? " । लेखिका तुंरत सचेत हो गयी की उसे किस - किस से दूर रहना हैं । पहला फोन रखा तो एक दूसरा भी आया , फिर एक तीसरा भी आया । तीन फ़ोन दो औरतो के बारे मे "ये अच्छी औरते नहीं हैं " काफी थे लेखिका को बताने के लिये की कौन क्या हैं ? उस ने सोचा मेल बॉक्स भी देख ही लूँ सो एक मेल भी थी उन्ही ब्लॉगर की जिनका फ़ोन आया था सबसे पहले ।
अब लेखिका सोच रही हैं की आगे क्या लिखे ??? !!!!!! या कुछ ना लिखे !!!!

22 comments:

  1. मीडिया पर ऐसा होता है यह सुना था, पर क्या ब्लाग्स में भी यह सब शुरू हो रहा है?

    ReplyDelete
  2. हर जगह हर तरह के लोग होते हैं।

    ReplyDelete
  3. ये एक ही 'वरिष्‍ठ' ब्‍लॉगर जो भी हैं ये खुद ही तीन तीन बार 'बुरी औरतों' से दूर रहने की सलाह दे रहे थे या तीन तीन 'वरिष्‍ठ ब्‍लॉगर' इस अभिभावकत्‍व की भूमिका में आ गए हैं।

    मैं केवल खेद व्‍यक्‍त कर सकता हूँ। और हॉं इन 'बुरे आदमियों' से दूर न रहें क्‍यों इनको ही संवेदनशीलता की जरूरत सबसे ज्‍यादा है।

    ReplyDelete
  4. IN MASHASHAY KEE MAZAZMAT PAHALI FURSAT ME KARANI ZAROOREE HAI

    ReplyDelete
  5. इस पर तो खेद ही व्यक्त किया जा सकता है।

    ReplyDelete
  6. तीन ब्लॉगर हैं पर नाम ले कर बात करने के लिये केवल एक ने माना किया और उन्होने ही मेल भी भैजी . मै नाम लेकर भी पोस्ट लिख सकती थी लेकिन क्या फायदा . हाँ हिन्दी ब्लॉग्गिंग के इसी काले चेहरे को बे नाकाब करने मे लगी हूँ और निरंतर नए आने वाले ब्लॉगर से अपशब्द सुन रही हूँ क्योकि वो समझते हैं की हम पुरूष विरोधी हैं .
    ये जो भेड की खाल मे छुपे ........ हैं उनसे ही अपनी बेटियों को बचाने का सफर है " नारी " .

    ReplyDelete
  7. अत्यधिक शर्मनाक है यह। आप ने अच्छा किया जो नाम नहीं बताए। कम से कम उन्हें सुधरने का अवसर तो दिया।

    ReplyDelete
  8. sharmnaak se bhi kuch jyaada sharmnak ho sakta hai uska udaharan diya hai un teeno ne, unko benaqab karne me waqt jaya na karite aise log khud benaqab ho jaate hai apni harkaton se.salaam aapki bahaduri ko

    ReplyDelete
  9. इस घटना ने मन विचलित कर दिया..ब्लॉग जगत में भावपूर्ण, मर्मस्पर्शी लिखने वाले भावहीन भी हो सकते है सोचा नहीं था..

    ReplyDelete
  10. Unfortunately the blogworld has its own contaminants and we all will have to face them from time to time. But if they become too much of a problem then you will have to name names.

    ReplyDelete
  11. ye sharmnak ghatna he....yaha sabko apni ray dene ka haq he aur ye jaruri to nahi ki sabke vichar mile ho...magar iska matlab ye to nahi he ki NAARI par jo likha ja rahe he vo galat he...hame khed he aue ham shastri ji ki baat se bhi sehmat he....

    ReplyDelete
  12. हमेशा यह बात कहता हू यहाँ फ़िर से कह दू.... आप जब किसी दूसरे के बारे में बता रहे हैं तो आप उस शख्स से कही ज्यादा अपने बारे में बता रहे होते हैं की आप कौन हैं.... इतिश्री

    ReplyDelete
  13. आप नाम न भी बतायें तो कम से कम ये तो बता दिजीए कि बुरी औरत/औरतों की परिभाषा क्या है, ताकि हम निर्णय ले सकें कि हम किस कैटेगरी में आते हैं

    ReplyDelete
  14. हम सब थोड़े अच्छे, थोड़े बुरे हैं। सो कोई बात नहीं। जो चश्मा लगाया है उसके अनुसार किसीको अच्छाई दिखेगी किसीको बुराई।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  15. मिनी शर्माAugust 11, 2008 at 4:36 PM

    ’वरीष्ठ ब्लॉगर’ आयु में या ब्लाग लेखन में या पद में? यहाँ पद का भी महत्त्व चल रहा है।
    उनकी असली वरीयता तो उनके विचार हैं।

    ReplyDelete
  16. शर्मनाक एवं अफसोसजनक. अपनी विकृत मानसिकता का परिचय दिया है उस ब्लागर ने.

    ReplyDelete
  17. हर इंसान हर बात को अपने नजरिये से देखता है ..अच्छा बुरा सब दिमाग का खेल है ..और यहाँ उनको क्या गन्दा दिखायी दिया यह उनके अपने दिमाग के सोच की हद को तय करता है ...तभी कहा जाता है कि काम रुकता नही है किसी के कहने से ..ऐसी बातें तो ताक़त है और अच्छा लिखने की ...लगे रहे हम अपना कम करने में ...यही अच्छा है ..वो भी अपना काम कर रहे हैं ..यही उनके लिए शायद अच्छा होगा ...

    ReplyDelete
  18. स्त्री के केवल लिखने से इतना खतरा ?
    च च च ...स्त्री कितना डरायेगी !!!
    अभी पेट्रनाइज़ करने वाले और भी आयेंगे वरिष्ठ भी गरिष्ठ भी ।
    कोई चिंता नही ।

    ReplyDelete
  19. अनिताजी की कमेंट को पेस्ट कर रहा हूँ..
    हमें भी तो बताइये कि बुरी औरतें कैसी होती है? उनकी परिभाषा क्या होती है?
    हम भी जानें और आगे से सचेत रहें..
    बेहद शर्मनाक!!

    ReplyDelete
  20. ---स्त्री बोध-----

    जीवन पथ के
    लम्बे गुजरते रास्तो पर,
    एक बार नही
    अनेको बार
    मुझे अपने बोध का
    अहसास हुआ है..
    पिता की
    गोद से लेकर ,
    मा के आन्चल तक .
    गाव की गली से लेकर,
    शहर की चोडी
    सडक तक.
    इस बोध के विष को
    ना जाने कीतनी ही बार
    पीना पडा है,
    फिर भी इसका भार ,
    मेरे व्यक्तीत्व को
    नही दबा पाया है ,
    क्यु की मैने तो
    उसको हमेशा ,
    हर बार काठ की तरह,
    इसके उपर ही
    तैरता पाया है .....................गुरु कवी हकीम

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts