नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

June 29, 2011

ये नारी ब्लॉग पर मेरी अंतिम पोस्ट हैं

सभी सदस्यों और नारी ब्लॉग के पाठको को मेरी नमस्ते
हिंदी ब्लॉग जगत में ५ साल रहने के बाद अब नारी ब्लॉग से विदा लेने का वक्त आगया हैं
नारी ब्लॉग पर ये मेरी आखिरी पोस्ट हैं
नारी ब्लॉग को मै बंद नहीं कर रही हूँ वो सदस्यों और पाठको के लिये खुला रहेगा ।
सदस्यों में से कोई भी अगर सूत्रधार बन कर इसको अपने हिसाब से चलाना चाहे तो वो संपर्क कर सकती हैं
मै अपने काम से खुश हूँ क्युकी मेरा समय यहाँ बहुत सार्थक और अच्छा बिता ।
इस ब्लॉग पर और ना लिखने का मन बन चुका हैं । बिना बताये जाना नहीं चाहती थी सो ये पोस्ट दे कर सूचित कर रही हूँ । जाने का कारण महज इतना हैं की जाने के लिये ये समय सबसे उपयुक्त हैं । जाना तब ही चाहिये जब समय अनुकूल हो और मन में ये शांति जो हम करने आये थे वो हमने किया ।
सादर
रचना

41 comments:

  1. as a regular reader of this blog i
    can't belive such type of 'tanki arohan'..................and need not accept your decission.........

    PRANAM.

    ReplyDelete
  2. रचना जी मुझे भी आपका यह निर्णय पसंद नहीं आया

    ReplyDelete
  3. आखिर जाने का कोई तो कारण होगा। आप को प्रकट करना चाहिए।

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत शुभकामनाएं -आपने एक मिशनरी की तरह अपना काम किया ...आप एक गरिमापूर्ण विदाई की स्वतः अधिकारिणी बन जाती है ....
    मैं उन लोगों में से नहीं कि लोगों को उनके तरीके से जीने के अधिकार और निर्णय पर सवाल जवाब करूं!

    ReplyDelete
  5. रचना...इस ब्लॉग पर आपकी अंतिम पोस्ट पढ़ कर कैसे रिएक्ट किया जाए..समझ ही नहीं आ रहा...ज़िन्दगी के कुछ पड़ाव ऐसे होते हैं जहाँ आप किसी को भी जबरन रोक नहीं सकते...
    विदाई के नोट में अंतिम नमस्ते नहीं लिखा....यह देख कर फिर मिलने की आशा है...लेकिन इस पड़ाव पर कमी तो खलेगी...

    ReplyDelete
  6. नहीं नारी ब्लॉग पे ये आपकी आखिरी पोस्ट नहीं है

    ReplyDelete
  7. रचना जी कुछ समझ नही आ रहा है क्या कहूँ.आपने ब्लॉगिंग में 5 वर्ष पूरे किये है लेकिन ये तो सिर्फ एक पडाव है.इस ब्लॉग के पाठकों और सदस्यों को आपके मार्गदर्शन व सहयोग की जरुरत है.प्लीज एक बार फिर से सोचिये.आप चाहे तो हफ्ते भर ब्लॉगिंग से छुट्टी ले लें और एक बार फिर से नई ऊर्जा के साथ लौटें.आपने कारण नहीं बताया लेकिन उम्मीद है आप ये विचार त्याग देंगी.

    ReplyDelete
  8. नारी ब्लॉग पर लिखें या न लिखें --लेखन तो जारी रहना चाहिए ।
    आप जैसे बेबाक लोगों की यहाँ बहुत ज़रुरत है रचना जी ।

    ReplyDelete
  9. आपका निर्णय आपका है और आप जैसा व्यक्ति किसी भी तरह बिना सोचे-समझे ऐसा फैसला नहीं कर सकता. इस निर्णय पर स्वागत, बधाई जैसे शब्द तो कहे ही नहीं जा सकते पर जैसा कि आपने लिखा कि "सही समय है" तो इस सही समय के लिए, और वो क्या है, कैसा है, उसके लिए आपको बधाई....क्योंकि सही समय बहुत कम लोग पहचान पाते हैं.
    जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

    ReplyDelete
  10. एक पारी संपन्न अब दूसरी की तैयारी .अन्यत्र .यही तो है ज़िन्दगी .

    ReplyDelete
  11. प्रसाद जी की शब्दावली में कुछ मन भाव :

    क्या हमने कह दिया,
    हुए क्यों रुष्ट हमें बतलाओ भी.
    ठहरो, सुन लो बात हमारी,
    तनक न जाओ, आओ भी.
    रूठ गये तुम, नहीं सुनोगे,
    अच्छा! अच्छी बात हुई.
    सुहृद, सदय, सज्जन मधुमुख थे
    मुझको अब तक मिले कई.
    सबको था दे चुका, बचे थे
    उलाहने से तुम मेरे.
    वह भी अवसर मिला,
    कहूँगा हृदय खोलकर गुण तेरे....

    ReplyDelete
  12. @ पुनश्च !
    रचना , मैं आपकी मनस्थिति समझ सकता हूँ ...मनुष्य कुछ निर्णय अच्छे समयों में ले ले तो अच्छा ही रहता है ..एडवर्स परिस्थतियों में ऐसे निर्णय लेने पर भगोड़े का आरोप लगता है .....
    मनुष्य सर्जना के पौधे रोपता है तो वह उसे लहलहाते हुए ही देखना चाहता है हर वक्त .....नारी ब्लॉग इस समय अपने उरूज पर है ....निश्चित ही आप उसे किसी अच्छे से हाथों में सौंप कर जायेगीं -ऐसा इंतजाम कर लिया होगा ...लोग बहुत स्वार्थी और आत्मकेंद्रित हो गए हैं ...ऐसे में कोई आपको ऐसा मिल गया हो तभी आप सहज होकर जाने की बात कर रही हैं ....तो फिर जाईये ..आमीन !

    ReplyDelete
  13. रचना जी

    सबसे पहले तो ये जानना है की जाने की वजह क्या है यदि वजह कोई निजी और अत्यधिक व्यस्तता है तो आप को शुभकामनाये | किन्तु वजह ब्लॉग जगत है तो

    @ जो हम करने आये थे वो हमने किया ।

    मुझे तो नहीं लगता है की जो आप करने आई थी वो काम हो चूका है अभी तो आप ने बस एक सीढ़ी चढ़ी है मंजिल और लड़ाई तो बहुत दूर तक है अभी बहुत काम बाकि है और किसी भी काम को शुरू करते समय खुद के हिम्मत पर भरोसे पर उसे शुरू करना चाहिए लोग जुड़ जाये तो बोनस समझिये न जुड़े या कम साथ दे या साथ आ कर चले जाये तो उसका दुख न करे अपने काम में लगे रहना चाहिए |

    ReplyDelete
  14. अब समझा.आपको लगा कि पाँच साल अब बहुत है.मुझे नहीं लगता ब्लॉगजगत में ऐरे गैरों की आप परवाह करती है.यदि आपको लगता है कि पाँच साल में आप जो लक्ष्य लेकर चली थी वो पूरा हो गया तो माफ कीजिए ये अभी उसी तरीके से अधूरा है जैसे किसी सरकारी पंचवर्षीय योजना के लक्ष्य.हाँ एक छोटी सी बदलाव की जमीन जरूर तैयार हुई है.आप अंशुमाला जी की बात पर ध्यान दीजिए.और यदि कोई निजी कारण है तो ये तो बता दीजिए क्या आपके कमेंट भी अब नहीं आएँगे?सूत्रधार आप चाहें जिसे बनाएँ.

    ReplyDelete
  15. अभी तो 'नारी' के लिए ढेरों काम पड़ा है। अभी तो सतह को ही खुरचा गया है। नीचे जो सदियों का कचरा भरा पड़ा है उसे भी तो हमें ही साफ करना है। अधिक साफ न भी कर सके तो भी कचरा है यह तो प्रकट होना चाहिए ताकि जिसकी जितनी श्रद्धा हो उतना साफ कर जाए। न भी कर पाएँ तो कमसे कम कचरे को सोना न मान कचरा तो मानना शुरू कर दें।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  16. किसी (शुभ)सूचना-विशेष द्वारा आप 'अंतिम' की बात करतीं तो भी बा-मशक्कतन सही जा सकता था, लेकिन इस तरह?? दुखद लग रहा! ज्यादा क्या कहूं, कुछ भूमिकाएं विशेष जीवट के व्यक्तियों की खातिर होतीं हैं, वे अगर न निभाएं तो वहाँ कोई और विकल्प की स्थिति नहीं बनती! जगह खाली ही रह जाती है! ब्लॉग-स्पेस में आपकी उस अनन्य भूमिका को नमन, जिसने जाहिल से आत्ममुग्धी/व्यक्तिवादी/आत्मविज्ञापनी माहौल में भी सृजनात्मक रूप से नारी-आवाज को मुखर किया हो/है!! कभी कुछ त्रुटि मुझसे हुई होगी तो मुझे छोटा/खोटा समझ क्षमा कीजिएगा! हाँ, यह अवश्य चाहूंगा कि ब्लॉग-स्पेस में नारी-स्वर को आप येन-केन-प्रकारेण पूर्ववत मुखर करतीं रहें ! सादर..!

    ReplyDelete
  17. .
    .
    .
    रचना जी,

    क्या कहूँ कुछ समझ नहीं पा रहा... पर कहना जरूरी है यहाँ...मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि हर व्यक्ति को अपने फैसले खुद ही लेने चाहिये और अन्य सभी को उन फैसलों का सम्मान करना चाहिये... इसलिये आपके इस फैसले का भी सम्मान करूंगा... आशा है 'नारी' को एक आप जैसा ही या आपसे भी बेहतर मॉडरेटर-सूत्रधार मिलेगा...

    हाँ, प्रिय अमरेन्द्र की तरह ही मैं भी आपसे यह अपेक्षा तो रखूंगा ही कि ब्लॉग-स्पेस में नारी-स्वर को आप हमेशा की तरह एक मुखर, दमदार व प्रभावी अभिव्यक्ति देती रहेंगी... यह अपेक्षा कुछ ज्यादा तो नहीं ?


    आभार!



    ...

    ReplyDelete
  18. आपने यह कैसे तय कर लिया कि, आपका काम पूरा हो गया ?
    इन चिंगारियों के धधक बनने का समय तो अब आया है, और आप कहती हैं.. कि आपका काम पूरा हो गया !
    आपकी कान उमेठू टिप्पणियों ने बहुतों का मार्गदर्शन किया है... और मेरे साथा दूसरी बड़ी बात यह है कि,
    अब मैं लडूँगा किससे ? जाइये थोड़ा विश्राम लेकर तरो-ताज़ा होकर दूसरे राउँड के लिये जल्द आइये ।

    ReplyDelete
  19. रचना,
    तुम उनमें से नहीं जो पानी की टंकी पर चढकर लोगो के कहने से उतर आते हैं।
    तुम भले ही नारी ब्लाग पर नियमित न लिखो लेकिन अगर कुछ ऐसा लगे कि लिखा जाना चाहिये, तो उसमें संकोच भी मत करना ।

    तुम्हारी पांच साल पहले चलाई हुयी मुहिम निश्चित आगे बढी है और इसको बहुत आगे जाना है। उम्मीद है तुम जहाँ भी रहोगी अपने स्तर पर इस प्रकार का कुछ करती रहोगी। तुम्हारा साथ पिछले पांच साल के थोडे बहुत संवाद ने निश्चित रूप से एक बेहतर सोच विकसित करने में मदद की है।
    शुभकामनायें।
    नीरज

    ReplyDelete
  20. आप अकारण ही ऐसा लिख नहीं सकती ...कारण जानना चाहूंगी !

    ReplyDelete
  21. आप कह रही हैं कि आप जा रही हैं तो आप शायद रूकेंगी नहीं।
    आप कह रही हैं कि जो आप करने आई थीं वह काम हो गया है।
    आप क्या करने आई थीं ?
    जाने से पहले यह ज़रूर बता दीजिए और जब आप बताएंगी तो आपको ख़ुद पता चल जाएगा कि वह काम पूरी ज़िंदगी चाहता है। पांच साल कम हैं किसी भी सकारात्मक परिवर्तन के लिए।
    बहरहाल हम आपसे प्यार करते हैं और चाहते हैं कि आप हमारे दरम्यान बनी रहें।
    आपका चले जाना हमारे लिए एक बुरी ख़बर है।
    आप जहां भी रहेंगी, कुछ लोगों को सदा याद आती ही रहेंगी।

    ReplyDelete
  22. ऐसा निर्णय या तो बेवकूफ़ी भरा हो सकता है या कायरता वाला।

    अगर दोनों में से कोई नहीं है तो आप नहीं जा रही हैं।

    आपको अपने समर्थकों के स्वर से पता तो चल ही गया होगा कि वे क्या चाहते हैं।

    किसी आन्दोलन को बीच में छोड़ कर उसका लीडर नहीं जा सकता।

    ReplyDelete
  23. Nirnay to Apka hi hai.... Kya kaha ja sakata hai.... Par request hai ki apak lekhan chalata rahe to achcha lagega.......Shubhkamnayen

    ReplyDelete
  24. जाइए आप कहां जाएंगे,
    ये कलम लौट के फिर आएगी...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  25. मेरे विचार से यदि समय का अभाव हो तो कोई और सूत्रधार बन जाये पर विचारों को विश्राम देना ठीक नहीं। जब मन में कोई बात उठे तो अवश्य लिखें

    ReplyDelete
  26. इस तरह से जाना समझ में नहीं आया। कम से कम इसका कारण तो बताना चाहिए था।

    ------
    ओझा उवाच: यानी जिंदगी की बात...।
    नाइट शिफ्ट की कीमत..

    ReplyDelete
  27. कमी खलेगी आपकी...वैसे उम्मीद है आप दुबारा आएँगी...

    ReplyDelete
  28. वैसे तो निर्णय आपका है और आपने सोच समझ कर लिया होगा। यह भी स्पष्ठ नहीं कि जो आप करने आई थी हो गया, क्योंकि लगभग सभी को उस कार्य की पूर्णता पर संदेह है। और कह रहे है कार्य अभी बाक़ी है।
    खैर मेरा मंतव्य है कि आप नारी विषयों के एक अभिन्न दृष्टिकोण की प्रणेता है। थोडा तेज तर्रार ही सही पर इस दृष्टिकोण को प्रवर्तमान रहना चाहिए। जो यदा कदा अतिक्रमण को रोकनें में सहायक हो सकता है।
    बाक़ी निर्णय आपका!! जो भी उचित समझे!! आशा है अनुगामी को विचारधारा पद्धति से अवगत करवा कर ही जाएगी।

    ReplyDelete
  29. दुखद..
    लिखना बेशक कम कर दीजिए लेकिन अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को बनाए रखें...बहुतों को आपके लेखन से प्रेरणा मिलती है

    ReplyDelete
  30. आपने ऐसा निर्णय लिया है तो जरुर कुछ सोच कर ही लिया होगा ....फिर भी आपके वापस आने का इंतजार रहेगा

    ReplyDelete
  31. रचना जी
    बेशक आपने सोच समझ कर ही निर्णय लिया होगा ?-
    किन्तु फिर भी कहना चाहूंगी
    आपने" नारी "ब्लॉग के जरिये सदियों से जमी विचारो की, मानसिकता की धूल को को हटाने का कार्य शुरू किया है वो अभी कहाँ पूरहुआ है ?
    जब कारवां आपके साथ चल पड़ा है आप कसे जा सकती है ?

    ReplyDelete
  32. आपने नारी ब्लॉग से विदा लिया है...ब्लॉग जगत से तो नहीं??
    आशा है, अपने ब्लॉग पर आपकी सक्रियता
    बढ़ेगी...और टिप्पणियों के माध्यम से भी आप अपनी स्पष्ट प्रतिक्रिया देती रहेंगी.

    अब आपने निर्णय ले लिया है...तो पीछे तो शायद ना ही हटें...वैसे पुनर्विचार की गुंजाईश होती तो अच्छा था...

    शायद यह नारी ब्लॉग के सदस्यों के लिए भी एक परीक्षा है कि वे इस ब्लॉग के प्रति अपनी जिम्मेवारियों का वहन कर सकें...और इस ब्लॉग की सार्थकता बनाए रखें.

    ReplyDelete
  33. यह पढ़कर थोड़ी निराशा तो है, लेकिन यह आपका अपना निर्णय है, कुछ नहीं किया जा सकता। आप उन लोगों में से नहीं हैं जो किसी के कहने पर अपना निर्णय बदलें…। नारी ब्लॉग जारी रहेगा यह अच्छी बात है, क्योंकि मैं इस बात से सहमत नहीं हूं कि "जो हम करने आए थे, वो हमने पूरा कर लिया…", हम जैसे आम इंसान सिर्फ़ एक कार्यकर्ता होते हैं, जो एक बड़े लक्ष्य की प्राप्ति के लिए, अपने-अपने हिस्से का काम करके निकल जाते हैं।

    मैं यह भी जानता हूँ कि आप स्वयं ही कुछ कालखण्ड बीतने के बाद वापस आएंगी। मैं जाने का कारण नहीं पूछूंगा, क्योंकि यह व्यक्तिगत भी हो सकता है, समय न दे सकने की मजबूरी हो सकती है, कोई अन्य व्यावसायिक प्रतिबद्धताएं हो सकती हैं… परन्तु आप इस ब्लॉग से सतत जुड़ी रहेंगी, और जिस कार्य के लिए आप जा रही हैं वह पूरा करने के बाद पुनः इधर पधारेंगी, मुझे विश्वास है। यदि ऊपर बताये गये में से भी कोई कारण नहीं है, तब तो निश्चित ही आपको आराम की आवश्यकता है, छुट्टी मनाईये, तरोताजा होईये और वापस आईये…।

    मैं भी फ़िलहाल ऐसा ही कर रहा हूँ, महंगाई के कारण अब व्यावसायिक गतिविधियाँ बढ़ाना मजबूरी है, इसलिये महीने में 15-20 पोस्ट लिखने वाले ने जून में सिर्फ़ 5 पोस्ट लिखीं… परन्तु राष्ट्रवाद और हिन्दुत्व का कार्य तो करना ही है इसलिये रोजी-रोटी की व्यस्तता के बीच समय चुराकर फ़ेसबुक पर छोटे-छोटे नोट्स डालता हूँ…। आप भी ऐसा कर सकती हैं कि फ़ेसबुक पर पधारें और नारी ब्लॉग को नया आयाम दें…।

    बड़ा लक्ष्य और बड़े सामाजिक उद्देश्य कभी एक जीवन में पूरे नहीं होते, हम सिर्फ़ उसमें छोटा सा योगदान भर दे सकते हैं…। आपने दिया है, हम इसके प्रति आभारी हैं, जब भी वापस आएंगी तहे-दिल से स्वागत ही होगा… हम अभी यहीं बने रहेंगे… :) :) (जनवरी 2012 में मेरे भी पाँच साल हो जाएंगे ब्लॉगिंग में)

    ReplyDelete
  34. सामाजिक कार्य करने वाले सार्वजनिक होते हैं अतः उनका हक़ है कि कारण पूंछा जाये ...और रचना जैसा व्यक्तित्व यह बता नहीं पा रहा यह समझ से बाहर है !

    आपको कलम नहीं छोडनी चाहिए !

    सस्नेह शुभकामनायें !!

    ReplyDelete

  35. @ रचना !

    आम आदमी कभी समझदार नहीं होता , आम आदमी को भीड़ का अंग मानकर मनीषी लिखते रहे हैं !

    अगर यह पथप्रदर्शक नहीं होते तो शायद यह समाज भी नहीं होता ! आम पाठक से, लीक से हटकर चल सकने की क्षमता वाले एक लीडर का हटना , सामान्य और अविकसित समाज के लिए घातक होगा !

    बहुत सी बातों में , आपका आलोचक होने के बावजूद, मैं आपको इन्ही लोगों ( मनीषियों ) में से गिनता रहा हूं ! आपको, अपने आपको लेखन से अलग नहीं करना चाहिए !

    यहाँ ब्लॉग लेखन में एक से घटिया लोगों के मध्य निडर लेखन, वह भी एक महिला के द्वारा आसान नहीं है ! सामान्य महिला लेख़क एक या दो घटिया टिप्पणियों से घायल होकर या तो भाग खड़ी होती है अथवा घुटनों के बल बैठ जाती है !

    आपका तथाकथित जिद्दी स्वभाव और अपनी बनाई और सोंची लीक को न छोड़ना, आपका गुण है यह हजारों कमज़ोर बच्चियों को उनके मुंह में जबान दे सकने की क्षमता रखता है ! किसी भी कारण इस अच्छे कार्य को छोड़ कर भाग जाना मेरे जैसे, तुम्हारे प्रसंशकों को निराश करेगा !

    भारतीय नारियों को मज़बूत और निडर आवाज की बेहद जरूरत है और इस कमी को तुम्हारी जैसी नेत्री बखूबी पूरी कर रही है !

    बापस आ जाओ रचना !

    ReplyDelete
  36. आप जैसे लोगो की यहाँ जरुरत है !आपको को बीच में नहीं जाना चैये

    ReplyDelete
  37. आप जैसी जीवट महिला का यह निर्णय किसी प्रकार स्वागत योग्य नहीं ...
    कृपया पुनर्विचार करें और अल्पविराम के उपरान्त पुनः सक्रियता बढ़ाएं...

    आपकी प्रतीक्षा रहेगी..

    ReplyDelete
  38. 'tanki arohan'......is shabd ke liye
    'khed' hai....kshma karenge.........

    pranam

    ReplyDelete
  39. आपका फैसला ठीक नहीं है। मुझे तो लगता है कि जल्दबाजी और भावनाओं में बहकर लिया गया है। एक बार फिर से विचार कीजिए।
    वजह आपने यहां नहीं लिखा तो इसके पीछे कोई वजह होगी, लेकिन काम पूरा हुआ या नहीं ये फैसला आप अकेले कैसे कर सकती हैं।
    दोबारा विचार कीजिए अपने इस फैसले पर

    ReplyDelete
  40. नारी ब्लॉग यानी ब्लॉग जगत के सो कोल्ड "पुरुष" के खिलाफ मोरल पोलिसिंग . तीन साल में ही दम निकल गया पुरुष समाज का मोरल पोलिसिंग से और मेरे देश की बेटियाँ , बहुये , माँ सदियों से इस मोरल पोलिसिंग को बर्दाश्त कर रही हैं . सोचिये , अपने अन्दर झांकिये कैसा लगता हैं उन सब को जब उन्हे ये समझाया जाता हैं , ये ये मत करो क्युकी तुम नारी हो . ये मत पहनो ये पहनो क्युकी ये भारतीये संस्कृति हैं . उनकी सहनशीलता को उनकी कमजोरी मान लेना क्या पौरुष हैं ????
    उल्ट दिया मैने वो यहाँ और देखती रही की किस प्रकार से मुझे संबोधन दिये जाते रहे . सोचिये ना जाने कितने ऐसे ही संबोधन आप के घरो में मौजूद आपकी बेटियाँ , पत्निया और माँ आप को "मन " से अपने "मन " में देती हैं . कहीं पढ़ा था अगर हर स्त्री एक दम सच बोलने लगे तो ये दुनिया पुरुषो के लिये नरक हो जाए .


    नारी ब्लॉग पर जो लिख चुकी हूँ , जिन्दगी उन मुद्दों से १० साल आगे चल रही हैं . अब अगर और लिखती हूँ तो या तो खुद को रिपीट करुँगी


    ब्लॉग मैने बनाया हैं लेकिन मेरे अकेले का नहीं हैं . आभासी दुनिया की चीज़ आभासी दुनिया में इस ब्लॉग के सदस्यों के हवाले कर के जाना मुझे तो सुकून ही देता हैं . मेरा काम यहाँ तक था किया अब और लोग कर रहे हैं . दो नयी पोस्ट आ ही चुकी हैं और आएगी . नारी का ब्लॉग हैं नारी की अभिव्यक्ति होती रहेगी .
    सभी को सादर सप्रेम नमस्ते

    ReplyDelete
  41. शायद ना जाना ही नियति थी और संझा ब्लॉग को अब केवल खुद लिखना भी

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts