नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

June 18, 2011

स्वीकार करें जो सच्चाई है.

कल नारी ब्लॉग पर रचना जी की प्रस्तुति पढ़ी और साथ ही पढ़ी अंशुमाला जी की टिपण्णी जो वर्तमान आंकड़ों और सच्चाई को कुछ यूँ झुठ्लारही थी-
मै नहीं मानती इन सारे आकड़ो को सब झूठ है ये सब हमारे देश की महान , महानतम सभ्यता, संस्कृति,परंपरा रीती रिवाज आदि आदि को बदनाम करने के लिए कुछ आधुनिक और पश्चिमी सभ्यता वाले लोग की चाल है हमारे देश में तो नारी को पूजा जाता है हम नारी के देवी मानते है उन्हें लक्ष्मी मानते है और लक्ष्मी को कभी अपने घर से बाहर नहीं जाने दिया जाता है उस पर दुसरे बुरी नजर डाल सकते है जो हमारे घर की इज्जत के लिए ठीक नहीं है , कभी कभी पूजा करते समय घर में लक्ष्मी न देने वाली देवी के कपड़ो में आग लगा जाये तो उसे आप दहेज़ हत्या का नाम न दे | और कन्या भ्रूण हत्या जैसी कोई चीज नहीं होती है ये सब प्राकृतिक होता है आज कल प्रकृति ही लड़कियों को कम जन्म दे रही है तो इसमे समाज का क्या दोष है या मान भी लिया की कुछ लड़किया मर रही है तो आप को बता दू की हम जिस देश में रहते है वहा काफी पुरानी परम्परा है लड़कियों द्वारा बलिदान देने की यदि लड़किया अपने परिवार के भले के लिए अपनी जान की कुर्बानी दे रही है तो उसे सम्मान की नजर से देखना चाहिए न की पाप की नजर से | हम सभी भारतीयों को अपने देश के सम्मान के लिए आगे आना चाहिए और इस तरह के सभी पश्चिम द्वारा चलिए जा रहे दुष्प्रचारो का विरोध करना चाहिए जितना ऊँचा स्थान हमारे देश में नारी का है और विश्व में कही नहीं है ब्ला ब्ला ब्ला ब्ला ब्ला ब्ला.....
अंशुमाला जी ,मैं भी भारत वर्ष की नागरिक हूँ और कोई ऐसी वैसी नहीं बल्कि अपने देश व् उसकी संस्कृति पर बहुत गर्व करती हूँ किन्तु सच्चाई स्वीकार करने की ताक़त मुझमे है और ये आपमें भी होनी चाहिए.कुछ सच्चाई जो मैंने देखी है आप के समक्ष रख रही हूँ आप भी ध्यान दीजिये-
१-यहाँ आज ही क्या बहुत पुराने समय से लड़कियों की स्थिति ख़राब रही है एक बार के समाचार पत्र के अनुसार तो भाई ने बहन से रेप किया और माँ-बाप ने लड़की को ही मौत के घाट उतार दिया और अपने कुपुत्र को आगे भी ऐसी घटना को अंजाम देने के लिए जिंदा छोड़ दिया .
२- मेरी सहेली जिसके दो-ढाई साल का एक लड़का भी था उसे उसकी ससुराल वालों ने पहले उसकी आँखें फोड़ी और फिर उसके घुटने तोड़े और फिर फंदे में लटकाकर मार  दिया.क्या वह उनके घर की लक्ष्मी नहीं थी?
३-सात सात लड़के होने पर भी जिनके यहाँ लड़की होती है वे क्यों रोते हैं ?और यही नहीं अपने लिए ही नहीं अपने लड़कों के यहाँ भी तीन तीन बेटे होने पर जब एक बेटी हो जाये तो सर पकड़ लेते हैं क्यों?
ये भी भारत के ही नागरिक हैं और इसी  संस्कृति में पले  बढ़ें  हैं और नारी   को ऐसे   स्थिति में पहुंचा  रहे हैं. सच्चाई ये है कि आज भारत में ऐसा बहुत कुछ हो रहा है जो यहाँ नारियों की स्थिति दुखद बना रहा है.और रोज के समाचार पत्र कम से कम इसका तो सही ब्यौरा दे ही रहे हैं .
                                    शालिनी  कौशिक              

13 comments:

  1. शालिनी जी, आश्चर्य है कि आप अंशुमाला जी के सैटायर/ व्यंग्य को नहीं समझ पाईं। मेरे अनुसार उनकी टिप्पणी एक बेहतरीन टिप्पणी है। जो काम हमारा दुःखों का चिट्ठा खोलना नहीं कर सकता वह यह सैटायर कर सकता है।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  2. घुघुतीजी से पूर्ण सहमति।
    दूसरी पंक्ति में ही अंदाजा हो गया था कि अंशुमालाजी क्या कहना चाह रही हैं। अच्छी टिप्पणी।

    ReplyDelete
  3. अंशुमाला जी ऐसे लोगों का विरोध ही कर रही है जो धर्म और संस्कृति के नाम पर यथार्थ को झुठलाते है.लास्ट में शायद आपने 'ब्ला ब्ला' भी नहीं देखा.पर कोई बात नहीं,कई बार गलतफहमी हो जाती है.

    ReplyDelete
  4. प्रिय शालिनी
    लेख घुघूती बासूती जी का था और लिंक भी हैं
    अंशुमाला की टिपण्णी आप को शायद समझ नहीं आयी
    टिपण्णी वही कह रही हैं जो आप महसूस कर रही हैं
    बस कहने का लहजा ज़रा "हट के " हैं और इसीलिये अंशुमाला , अंशुमाला हैं आप की ये पोस्ट महज इस लिये नहीं हटा रही हूँ क्युकी इस मे छुपा दर्द और क्रोध हैं जो एक वास्तविकता हैं . अगर अंशु की टिपण्णी से इसको ना जोड़ा जाए तो ये के संगृहीत करने वाली पोस्ट हैं
    सस्नेह
    रचना

    अंशुमाला जी !!
    नमस्ते
    ज़रा सीधा सीधा लिखे वरना लोगो को लगेगा आपने साइड बदल ली हैं !!. कडवी सच्चाई हैं आप की टिपण्णी और उस से भी कडवी सच्चाई हैं शालिनी की ये पोस्ट . आग्रह बस इतना हैं की टंच कसे तो ऐसा की तीर कमान से निकल कर दिशा भ्रमित ना हो जाए
    सस्नेह
    रचना

    ReplyDelete
  5. aap sabhi sahi kah rahe hain kintu main kya karoon jab bhi kuchh galat bat dekhti hoon to khud ko rok nahi pati hoon.

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  7. शालिनी जी

    मेरी चार साल की बेटी है जब वो अपने खिलौने इधर उधर फेकती है तो मै उससे कहती हूँ की लाओ अपने खिलौने हम दोनों मिल कर उसे तोड़ते है फिर वो एक बार में ही समझ जाती है और अपने खिलौने ठीक से रख देती है जबकि उसके पहले मै कितनी बार भी कहूँ की अपने चीजे संभालो वरना वो टूट जायेगा तो वो मेरी बात नहीं सुनती है | बड़े बच्चो से अलग नहीं होते है कई बार उनको सीधे सीधे कुछ कहिये तो वो सुनने के लिए तैयार ही नहीं होते है तो उन्हें कुछ समझाने के लिए कान को( उनके कान को ) जरा हाथ घुमा कर पकड़ना पड़ता है | वैसे ये पोस्ट रहने दीजिये ताकि किसी और को भी इस तरह की गलत फहमी हो गई है तो वो दूर हो जायेगी |

    ReplyDelete
  8. रचना जी !!

    नमस्ते

    क्या करू मुझे तो आदत है उलटा लिखने और बोलने की सीधी बात किसी को समझ कहा आती है | और सोच रही हूँ एक बार साइड बदल कर देखू क्या बुरा है कम से कम अपने भाई बंधुओ का दर्द ??? जान जाउंगी जो हम लोगो के कारण गर्त में जा रही भारतीय संस्कृति के कारण परेशान है :))))

    ReplyDelete
  9. गलत फहमियाँ मिटा लेना ही ब्लागिन्ग की सार्थकता है और दूसरों के मत से दुखी न होना बल्कि अपना पक्ष शालीनता से रखना सहिश्नुता है। भारतीय संस्क्र6ति यही तो कहती है। बहस या चर्चा मे सब का पक्ष रहना चाहिये।

    ReplyDelete
  10. टंच के बारे में रचना जी की गाइड लाइन अच्छी लगी , ये पोस्ट संग्रहणीय है :))

    ReplyDelete
  11. aap sabhi ko dhanyawad meri bhool ko sudharne ke liye vishesh roop se anshumala ji ko kyonki unhone bahut hi sakaratmak roop se meri is post ko liya.thanks to all.

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts