नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

June 20, 2011

UN General Assembly declares June 23 as International Widows Day

United Nations A/RES/65/189
General Assembly Distr.: General
23 February 2011
Sixty-fifth session
Agenda item 28 (a)



Resolution adopted by the General Assembly
[on the report of the Third Committee (A/65/449)]
65/189.


International Widows’ Day

The General Assembly,
Recalling all its relevant resolutions, including the United Nations Millennium
Declaration,
1 as well as the Universal Declaration of Human Rights,
2 theConvention on the Rights of the Child,
3 the outcomes of the major United Nationsconferences and summits in the economic and social fields, and, in particular, थे agreed conclusions endorsing the eradication of poverty through the empowermentof women throughout their life cycle adopted by the Commission on the Status of
Women at its forty-sixth session,
4 and the Beijing Declaration and Platform forAction adopted at the Fourth World Conference on Women on 15 September 1995,
5Recalling also the Convention on the Elimination of All Forms ofDiscrimination against Women,6 in particular article 3, according to which parties shall take in all fields, in particular in the political, social, economic and cultural fields, all appropriate measures, including legislation, to ensure the full development and advancement of women,Affirming that ensuring and promoting the full realization of all human rights and fundamental freedoms for all women is critical to achieving all internationallyagreed development goals, including the Millennium Development Goals,

Emphasizing that the economic empowerment of women, including widows, is
a critical factor in the eradication of poverty,

Recognizing that all aspects of the lives of widowed women and their children
are, in many parts of the world, negatively affected by various economic, social and
cultural factors, including lack of access to inheritance, land tenure, employment
and/or livelihood, social safety nets, health care and education,
Recognizing also the link existing between the situation of widows and that of
their children,
Deeply concerned that millions of widows’ children face hunger, malnutrition,
child labour, difficult access to health care, water and sanitation, loss of schooling,
illiteracy and human trafficking,
Reaffirming that women, including widowed women, should be an integral
part of the society in the State where they reside, and recalling the importance of
positive steps on the part of Member States to that end,
Emphasizing the need to give special attention to the situation of widows and
their children, including those living in rural areas,

1. Decides, with effect from 2011, to observe International Widows’ Day on
23 June each year;

2. Calls upon Member States, the United Nations system and other
international and regional organizations, within their respective mandates, to give
special attention to the situation of widows and their children;

3. Invites all Member States, relevant organizations of the United Nations
system and other international organizations, as well as civil society, to observe
International Widows’ Day and to raise awareness of the situation of widows and
their children around the world;

4. Requests the Secretary-General to take the measures necessary, within
existing resources, for the observance by the United Nations of International
Widows’ Day.

No comments:

Post a Comment

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts