नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

June 20, 2011

कहाँ से लायें पिता का नाम ?

आज समाज में बलात्कार की घटनाएँ दिन पर दिन बढ़ती जा रही हैं, इसमें दोष किसे दें? उन लड़कियोंको जो इसका शिकार हो रही हैं या फिर उन पुरुषों को जो अपनी बहशियत में पागल होकर इन मासूमों को अपनाशिकार बना रहे हैंजिन्हें मार दिया - उनके माँ बाप भाग्यशाली है क्योंकि बलात्कार की शिकार बेटी को लेकर समाजके कटाक्षों का सामना तो नहीं करना पड़ता है और वह लड़की उससे भी अधिक भाग्यशाली है क्योंकि इस समाज की हेय दृष्टि वह बेकुसूर होते हुए भी कब तक सहन कर सकती है? वे हेय दृष्टि से नहीं देखे जाते हैं जो ऐसे कुकृत्यों कोअंजाम देते हैं क्योंकि ये या तो उनकी फिदरत में शामिल है और ये लोग या तो रईस बाप की बिगड़ी हुई संतान है याफिर दबंग कहे जाने वाले अपराधी प्रवृति के लोगइन सबके १०० खून माफ होते हैं क्योंकि पुलिस इनके पैसे पर ऐशकरती है और इनके दरवाजे पर हाजिरी लगाने आती है
पिछले दिनों अपनी मूक बधिर बलात्कार की शिकार बेटी के बच्चे को स्कूल में नाम लिखने के लिए एकपिता गया तो उससे बच्चे के पिता का नाम पूछा गया और बता पाने पर उसको लौटा दिया गयाबाप ने बेटी कोसमझाया तो वह चीख चीख कर रोने लगी क्योंकि यह संतान उसके बलात्कार के शिकार का ही परिणाम थी और उसेएक नहीं कई लोगों ने बलात्कार का शिकार बनाया थावह किसका नाम ले ये तो उसको भी पता नहीं है
इतना ही नहीं बल्कि इस बलात्कार की शिकार लड़की को गाँव से बाहर निकाल दिया गया क्योंकि पूरागाँव उन दबंगों के खिलाफ बोल नहीं सकता है अतः दोषी इसी को बना दिया गयाउस गूंगी और बहरी लड़की ने जिसबच्चे को जन्म दिया उसके लिए ये सबसे बड़ा प्रश्न है? ऐसे एक नहीं कई किस्से हो सकते हैं लेकिन कुछ ही घटनाएँऐसे बन जाती हैं की सोचने के लिए मजबूर कर देती हैंये उसका साहस की उसने चुनौती दी उन लोगों को जिन्होंनेउसे अपनी हवस का शिकार बनाया लेकिन अब?
इस अब के लिए अब सोचना होगा , कौन सोचेगा? ये समाज, हम, कानून या फिर हमारी सरकार? येप्रक्रिया इतनी आसान भी नहीं है, ऐसे बच्चों को पिता का नाम देने के लिए विकल्प सोचना होगा क्योंकि ऐसीलड़कियाँ या महिलाएं इन बलात्कारियों का नाम अपने बच्चे को दें यह उनके लिए अपमान होगाअब कानून कीनजर में अगर बाप का नाम जरूरी है तो फिर ये क्या करें? हमें इसका विकल्प कोई भी सुझा सकता हैएक बाप केनाम को पाने के लिए या फिर अपनी अस्तित्व को स्वीकार करने के लिए ऐसे बच्चे खुद क्या लड़ पायेंगे? रोहितशेखर जैसे लड़के इसके लिए लड़ रहे हैं और फिर उसके द्वारा किये गए दावे के लिए जिम्मेदार लोग उससे भाग रहे हैंक्यों ? इसलिए कि उनकी प्रतिष्ठा का सवाल है और ये सौ प्रतिशत सच है कि अगर वह दोषी होता तो उसको डी एन टेस्ट कराने में कोई भी आपत्ति होती
वह तो मामला ही इतर है , लेकिन ऐसे बच्चे के लिए क़ानून के द्वारा माँ का नाम ही काफी होना चाहिएजोजीवित है उसका नाम देंपिता का नाम माँ के अतिरिक्त कोई नहीं बता सकता और फिर ऐसे मामले में तो कोई पिताकहा ही नहीं जा सकता हैऐसे लोग क्या डी एन टेस्ट करने की चुनौती दें और फिर बच्चे को दाखिला दिलाएंअबआवाज ऐसे ही उठाई जानी चाहिए कि ऐसे मामलों में पिता का नाम हो तो उसको माँ के नाम के आधार पर शिक्षासंस्थानों में प्रवेश दिया जाना चाहिएइस बात के लिए एक लम्बी लड़ाई लड़नी होगी क्योंकि ऐसा काम आसान नहींहै और फिर इसको अब सोचने का एक मुद्दा तो मिल ही गया हैअब आप भी कहें की क्या मेरी ये सोच गलत है? याफिर इस पर विचार किया जाना चाहिए

17 comments:

  1. बिल्कुल सही कहा है....

    ReplyDelete
  2. हाँ ...अगर ऐसी कोई परिस्थिति हो तो माँ नाम ही बच्चे की पहचान बने..... वो भी पूरे सम्मान के साथ ...क्योंकि उस बच्चे और पीड़ित लड़की की कोई गलती नहीं..... वे क्यों अपमान सहन करें .....

    ReplyDelete
  3. rekha ji aap bilkul sahi kah rahi hain aur vandna shiva ji ne[shayad] iske liye badi kanooni ladai ladi aur isme safalta bhi payee hai aur maa ke naam ko bachche ke sanrakshak ke taur par pramukh naam dilaya hai.

    ReplyDelete
  4. आपकी राय से सौ फीसदी सहमत...ऐसा तब और भी आसान होगा जब आम माता पिता में से कोई भी अपने नाम से बच्चे को स्कूल में दाखिला दिलवा सकेगा..

    ReplyDelete
  5. कई देशों में जरुरी कागजों (पासपोर्ट आदि) में केवल माँ का नाम होता है... पिता या पति के नाम की कोई जगह नहीं होती.. और पता नहीं ये चाहिए ही क्यों?

    ReplyDelete
  6. सत्यकाम से ऋषि ने पूछा वे तो सिर्फ ब्राह्मणों को शिक्षा देते हैं तो उस ने बताया कि उस की माँ तो वेश्या थी और उसे स्वयं नहीं पता कि उस के पुत्र का पिता कौन है। तब ऋषि ने कहा कि वे उसे शिक्षा देंगे क्यों कि सामाजिक प्रथा के विरुद्ध जा कर भी यह सत्य सिर्फ एक ब्राह्मण पुत्र ही बोल सकता है।

    कहते हैं कयामत के दिन तमाम मरे हुए लोगों को उन की माँ के नाम से पुकारा जाएगा। क्यों कि कोई माँ शर्मसार न हो।

    सही बात तो ये है कि बच्चों को उन की माता के नाम से ही जाना जाना चाहिए। कानून होना चाहिए कि बच्चों पहचान उन की माँ से ही होगी, न कि पिता से।

    ReplyDelete
  7. आजकल फॉर्म पर पिता के साथ माता का नाम भी भरना होता है , शायद वो दिन भी आये जब पिता या माता में से किसी एक के नाम से भी सारी कागजी कार्यवाहियां की जा सकेंगी !

    मार्मिक प्रकरण !

    ReplyDelete
  8. मुझे नहीं लगता है की बच्चे के पिता का न होना किसी तरह की क़ानूनी परेशानी का कारण होता होगा आज के समय में कई महिलाए अकेले रहती है और बच्चो को गोद भी लेती है वो पिता के नाम पर किसका नाम देती होंगी | मुझे लगता है की शायद वो लोग कम पढ़े लिखे या जानकर और गरीब लोग है जिसके कारण उन्हें परेशान किया जा रहा है | रही बात लड़की के कसूर की तो हमारे समाज में हर बात के इए पहले लडकियों को ही दोष दिया जाता है वो चुप रहे तो भी और वो बोल दे तो भी |

    ReplyDelete
  9. वह बहुत ही उम्दा पोस्ट है !टाइम निकल कर कभी हमारे ब्लॉग पर भी आए !मेरे ब्लॉग पर आ कर मेरा मान रखे!
    Download Movies
    Lyrics + Download Latest Music

    ReplyDelete
  10. school me bachche ke admission ke liye pita ka nam hona ab jaroori nahi raha...lekin ho sakta hai gaon me aur pichhade ilake me ye niyam na pahunch paya ho...lekin aise vakaye dardnak hai lekin in hadson ke bad ladki ke mar jane ki ya mar dene ki bat sochna to aur bhi jyada bhayavah...lekin ek kadva sach hai...

    ReplyDelete
  11. पिता का नाम समाज की ऐसी जरुरत हैं की जिसके बिना बच्चा बास्टर्ड कहलाता हैं या नाजायज़ . अगर माँ हैं और वो कहती हैं की ये मेरा बच्चा हैं तो फिर किसी को भी अधिकार नहीं हैं पिता का नाम पूछने का पर पूछा जाता हैं क्यूँ ??

    ReplyDelete
  12. आप सही कह रही है और आजकल अब माँ का नाम लिखने की परम्परा शुरु कर दी गयी है जैसे बैंक मे माता का नाम पहले जरूरी हो गया है और भी कयी जगह ऐसा हो रहा है और होना भी चाहिये।

    ReplyDelete
  13. Mere paas ek hi uttar hai...Balatkari ko Maar dalo!

    Ek balatkari insan ko pita ka naam dene se achha hai bachcha sirf maa ke naam se jana jaye.

    ReplyDelete
  14. http://www.circleofmoms.com/mommies-doin-it-alone/who-s-last-name-if-the-father-isnt-around-505919

    ReplyDelete
  15. http://www.circleofmoms.com/mommies-doin-it-alone/who-s-last-name-if-the-father-isnt-around-505919

    ReplyDelete
  16. http://www.circleofmoms.com/mommies-doin-it-alone/who-s-last-name-if-the-father-isnt-around-505919

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts