नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

March 14, 2011

नारी "ओरिजिनल चोइस " नहीं हैं ।

आज कल हमारे देश मे कहीं किसी महिला को गोली मार दी जाती हैं , कहीं किसी महिला का बलात्कार होता हैं या कहीं कोई भी अपराध किसी महिला के प्रति होता हैं तुरंत मीडिया , अखबार और अब तो ब्लॉग पर एक सुर से कहा जाता हैं

देश कि राष्ट्रपति महिला
उत्तर प्रदेश कि मुख्यमंत्री महिला
विपक्ष कि नेता महिला
दिल्ली कि मुख्यमंत्री महिला
इसके अलावा कांग्रेस कि अध्यक्ष भी महिला

फिर भी औरत सुरक्षित नहीं हैं ??? हद्द हैं

मुझे तो ये समझ नहीं आता ये कहने का औचित्य ही क्या हैं ये चारो महिला कैसे महिला के प्रति किये जा रहे अपराधो को "तुरंत " रोक सकती हैं ? हां आज मुजरिम जो जल्दी पकड़े जाते हैं वो शायद इन्ही के प्रयासों का नतीजा हो ।

हर बार जब भी समानता कि बात कि जाती है उसको नकार दिया जाता हैं और कहा जाता हैं स्त्री पुरुष पूरक हैं । कब लोग ये समझेगे कि स्त्री पुरुष पूरक नहीं हैं केवल पति पत्नी पूरक हैं । नारी सशक्तिकरण के रास्ते मे सबसे बड़ा कांटा हैं असमानता ।

शीला दीक्षित और सोनिया गाँधी राजनीति मे इसलिये नहीं हैं क्युकी उनके परिवार वाले उनको आगे लाये या वो अपनी दक्षता से राजनीति मे आयी वो महज यहाँ इस लिये हैं क्युकी उनके परिवार मे कोई पुरुष नहीं था जो राजनीति की डोर को आगे बढ़ता । दोनों एक राजीनीतिक परिवार की बहु थी उस परिवार कि वजह से यहाँ हैं । अगर उनके यहाँ उस समय कोई पुरुष होता तो संभव हैं वो भी एक बहु / पत्नी ही रहती

समानता का मतलब हैं "चुन " सकने का अधिकार समान रूप से मिलनाजब शीला दीक्षित और सोनिया गाँधी आयी तो समानता से नहीं , मात्र पत्नी / बहु के अधिकार सेएक रिप्लेसमेंट कि तरह ना कि ओरिजिनल चोइस कि तरह इस के बावजूद जो कुछ उन्होने किया हैं वो कम नहीं हैं


प्रतिभा पाटिल , सुषमा स्वराज , मायावती और ममता बैनर्जी इत्यादि मान सकते हैं की राजनीति मे अपनी खुद की वजह से हैं ।

लेकिन इन सब के आते ही हम ये कहे की हमारी व्यवस्था मे सुधार हो जायेगा । कितने दिन से ये राजनीति मे हैं और कितना सुधार इनके आने से हुआ हैं उसका तुलनात्मक अध्यन कर के ही इन पर तंच कसना चाहिये

शीला दीक्षित ७० वर्ष की हैं और अगर वो अनुभव से ये कहती हैं कि लडकियां रात को ना निकले तो वो मुख्यमंत्री नहीं एक महिला हैं एक माँ हैं जो भारतीये समाज कि मानसिकता से परिचित हैवो जानती हैं सिस्टम एक महिला के मुख्यमंत्री बन जाने से नहीं बदलेगा इस लिये सुरक्षित रहने के उपाय जो सदियों से चले रहे हैं उन पर अमल कि सलाह देती हैं

हर माँ हर नारी यही करती हैं पर क्यूँ ??????? क्यूँ नहीं आज भी नारी "ओरिजिनल चोइस " नहीं हैंक्यूँ आज भी बलात्कार होते हैं , क्यूँ कन्या भूंड ह्त्या होती हैं

कारण आसान हैं हम समानता कि बात जो कानून और संविधान से मिला हैं उसकी बात नहीं करतेहम संस्कार और संस्कृति कि बात करते हैं पर सभ्यता कि नहीं

भारतीये सभ्यता मे जो कुछ हैं वो संस्कारों मे नहीं हैंसंस्कृति मे नहीं हैंसंस्कारो से नारी को दोयम का दर्जा मिला हैं सभ्यता से नहीं

कल कमेन्ट मे एक लिंक मिला , वहाँ पढ़ा
विगत वर्ष IIM Bangalore में मेरी प्रबंधन की पढाई केसिलसिले में मेरे कुछ माह केसंयुक्त राष्ट्र अमेरिका में प्रवास केदौरान, मुझे वहाँ के सामाजिक आर्थिक ढाँचे को नजदीक सेदेखने इसपर कुछ महत्त्वपूर्णअध्ययन का अवसर मिला इसमें सबसे सुखद , विश्मयकारी भी,अनुभव जानकारी यह रही कि वहाँ केदैनन्दिन के अधिकांशकार्यकलाप, जैसे स्कूल बस केड्राइवर,रेस्तरा के कर्मचारी, ट्रैफिक पोलिस, हाईवे की नाइटपोलिस पैट्रोलिंग, हाईवे के रिमोटवे-साइड रेस्ट सेंटर्स के कर्मचारी केयर-टेकर्स , गैस स्टेशन केनाइट सिफ्ट स्टाफ , जोकि हमारेदेश में अधिकांशतः पुरुषों द्वारा हीसँभाला जाता है, वहाँपरअधिकांशतः या सच पूछिये तोकहीं कहीं तो केवल महिलाएँ हीसँभालती नजर आयीं। वहाँ परकमोवेस हर कार्यक्षेत्र- परिवेश मेंही महिलाएँ अग्रणी भूमिका मेंनजर आयीं। यह बात महिलाओंकी समाज में वास्तविक अर्थों मेंपुरुषों के बराबर की भागीदारी कोदर्शाता है।मेरे विचार से, हमारेदेश में भी जब तक महिलाओं कीहर पक्ष- सामाजिक,आर्थिक राजनीतिक , में इस तरह कीवास्तविक अर्थों में बराबर कीभागीदारी की स्थिति नहीं बनजाती, महिलाओं के सशक्तिकरणऔर आत्मनिर्भरता की बातअधूरी ही लगती है "

13 comments:

  1. ((हम संस्कार और संस्कृति कि बात करते हैं)) बस जिस दिन ये शब्द खतम हो जाये गे ! नारी फिर से जीवित हो जाये गी !
    प्रणाम,
    मेरा ब्लॉग विसीट करे !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    ReplyDelete
  2. ये आज केवल नारी की ही नहीं वरन सभी की स्थिति है आज अपराधों का बोलबाला है और उन पर लगाम लगाने की बजाये उन्हें दर्ज करने पर लगाम लगाई जाती है और इसके लिए सभी नेता चाहे वे नारी हो या पुरुष एक से ही विचार रखते हैं...

    ReplyDelete
  3. मैंने नारी सशक्तिकरण के बारे में सभी को समर्थन देते देखा है ..चाहे ब्लोग्ग की दुनिया हो या सामाजिक या राजनीतिक ....सबने हालत के ऊपर अपने -अपने आंसू ही बहाए है ,किन्तु इस दिशा में होने वाले उपयुक्त सुझाव बराबर प्रगट नहीं किये ! इन होने वाली घटनाओं के परिप्रेक्ष में भी चर्चा होनी चाहिए.जैसे आग लगाने पर दमकल की ब्यवस्था ..वगैरह-वगैरह ! अगर हम इन समस्याओ से निदान नहीं पाते तो सिवाय सजग और होसियार रहने के अलावा कोई बिकल्प है क्या ? आज के प्रश्न दिवस के उपलक्ष में मेरा प्रश्न ब्लोग्ग जगत के सामने ! कोई जरुरी नहीं सभी इससे सहमत हो !यह मेरा एक बिचार मात्र ! इस मसाले पर ब्लोग्ग जगत में खुली चर्चा होनी चाहिए ! मंथन से ही अमृत निकलेगा !मेरी भावनाओ से बहुतो को गुस्सा भी आता है पर सच्छ्यी छुपाना समाज के लिए ...हितकर नहीं होगा ! आशा है ...इसके निदान पर खुली चर्चा हो ! बाकि सब बेहद सुन्दर ! धन्यवाद !

    ReplyDelete
  4. I have seen the above link .....

    ReplyDelete
  5. रचना जी जिस समाज की बुनियाद ही गलत हो तो ढांचा कैसे सुरक्षित रह सकता है? यहाँ तो कुर्सी पर बैठे ही वो लोग है जो खुद अपराधी है तो कैसे ये उम्मीद कर सकते है हम कि अपराध कम होगा या महिलाये सुरक्षित वो भी समानता के स्तर पर जबकि हम सभी जानते है कि कितने ही नेता तो ऐसे है जिन्होने स्नातक स्तर तक की भी पढाई नही की या कुछ केवल अंगूठा छाप के बराबर ही हैं तो ऐसे समाज मे हम कैसे उम्मीद कर सकते हैं समानता की वो भी उन लोगो से जो खुद पिछडे इलाके से आये हैं और जहां उन्होने महिलाओ को सिर्फ़ चौके चूल्हे और बच्चा जनने की मशीन के अलावा और कुछ नही समझा…………यहाँ अभी वो वक्त आने मे बहुत देर है…………बेशक सम्मिलित प्रयासो से सब संभव है और देर सवेर होगा भी मगर फ़िलहाल तो सारे हालात सामने हैं ही।

    ReplyDelete
  6. निदान बहुत आसान हैं , जहां भी जेंडर बायस हो तुरंत आवाज उठाओ और जेंडर बायस हमारे यहाँ हर बात मे हैं घर से लेकर ऑफिस तक । आज भी हमारे यहाँ काम का बटवारा लिंग आधारित हैं जैसे घर का काम औरत का , नौकरी पुरुष का ।
    आज भी हर बलात्कार के बाद बात औरत के कपड़ो की होती हैं ना की बलात्कारी की , बात होती हैं औरत कितने बजे कहा और क्यों थी

    सश्क्तिकर्ण को बढ़ावा देना हैं तो कन्या का दान बंद करना होगा , दहेज़ बंद करना होगा , मृत्यु पर लड़की के घर से सामान आने के रिवाज को बंद करना होगा । लड़की को पराया धन कहना बंद करना होगा । और भी ना जाने कितना कुछ हैं ।


    समर्थन करने मे और अपने घर मे इम्प्लीमेंट करने मे फरक हैं । वो सब कुछ जो बेटे के लिये उचित समझते हैं उसको बेटी के लिये भी उचित बनाये । जहां बेटी के जाने पर प्रतिबन्ध हो वहाँ बेटे के जाने पर भी लगाये

    ReplyDelete
  7. रचना जी जिस समाज की बुनियाद ही गलत हो तो ढांचा कैसे सुरक्षित रह सकता है?

    sahii kehaa vandana aapnae

    ReplyDelete
  8. अपराध और लिंग-भेद अलग-अलग मुद्दे हैं. महिलाएं ही केवल अपराधियों का शिकार नहीं होती पुरुष भी अपराधों से पीड़ित होते है. अपराधी मानसिकता दिनों-दिन बढती जा रही है. इस पर नियंत्रण कैसे लगेगा कोई नहीं जानता, क्योंकि मूल्यों का क्षरण निरन्तर जारी है और सरकार अपराधों को नहीं रोक सकती. समाज का ढाचा ही ठीक करने की आवश्यकता है और शायद यह कार्य महिलाएं ही अधिक कुशलता से कर सकें.

    ReplyDelete
  9. रचना जी एक बात आपसे शायद छूट गयी बेटी को पैत्रिक संपत्ति में व्यवहार में हक देना होगा, इसके बिना दहेज बन्द करना शायद उसके साथ अन्याय ही होगा. केवल कानूनी प्रावधान से कुछ नहीं होगा, उसे लागू भी होना चाहिए.

    ReplyDelete
  10. बहुत गहन विचार पर चिंतन-मनन हो रहा है .हमारे भारत देश का प्राचीन समय वर्तमान के समय से कई मायने में अच्छा भी रहा है. संस्कारों - परम्पराओं से बंधकर भी लोग विचारशून्य नहीं हुआ करते थे. नारी ब्लॉग में रचनाजी की पोस्ट देखी साथ ही भाई देवेन्द्र जी का ब्लॉग देखा. निःसंदेह उनकी भावनाओं से बहुत प्रभावित हुई. यही जरूरत है सामान्यजन की मानसिकता को बदलने की. समाज की सोच परिवर्तित करने की. स्वाभाविक है समय लगेगा ही ,पर निराश होने या हारने का मार्ग तो आज की *नारी-शक्ति* समयानुसार-आवश्यकतानुसार त्याग चुकी है व विजय-पथ की ओर अग्रसर है. जानतीं हैं राह में अनेक रोड़े आयेंगे ,संकट आएंगे . क्योंकि रोज विचलित कर देने वाले हादसे-घटनाएँ हो रहीं हैं. इस समय चैतन्यता-जागरूकता महिला-पुरुष का भेद-भाव न करके समाज को भी आगे आना ही होगा . अधिकांश परिवारों में पिता-भाई-पति-बेटे भी अपने घरों-सामाजिक क्षेत्रों की महिला-शक्ति के साथ उठ खड़े हुए हैं. संपूर्ण संवेदनशील व सजगता के साथ. तो कुछ मुठ्ठी भर असामाजिक तत्वों व गलत सोच लोगों को ढूंढकर बहिष्कृत करना ही होगा ,सजा दिलवाना ही होगा. हमारी महिला-नेत्रियों से हमें प्रेरणा लेनी चाहिए कि इन महिलाओं ने तो हमारी नारी-शक्ति को सिद्ध करके दिखलाया है कि सही मौका मिलने पर वे किसी से कम नहीं बल्कि आगे ही है. समाज व देश के लोग भी उनको पूर्ण योग्य-सम्माननीय मानते हैं.
    मेरा मानना है कि अच्छी सोच रखकर ही बेहतर कार्य किये जा सकते हैं. हाँ सावधानी में ही सुरक्षा (PREVENTION IS BETTER THAN CURE )को अपनाते हुए. निश्चय बदलाव आयेगा ही.
    अलका मधुसूदन पटेल , साहित्यकार-लेखिका

    ReplyDelete
  11. बिल्कुल सही रचना जी हमारे यहाँ महिलाओं को जिम्मेदारी देना और उनकी काबिलियत को स्वीकार करना बड़ी मजबूरी में किया जाता है..... वे ओरिजिनल चोइस नहीं होतीं....

    ReplyDelete
  12. मैं आपसे सहमत हूँ. इस तरह के अपराधों को रोकने का एक ही तरीका है कि लड़कियाँ खुद सशक्त बनें. अपने साथ हो रही छेड़छाड़ के बारे में घरवालों को बताएँ और खुद भी विरोध करें. शुरुआती छेडछाड को अनदेखा कर देने से ही बात बिगड़ जाती है.
    ये कहना तो बड़ा ही बचकाना लगता है कि शासन के उच्च पद पर किसी महिला के आ जाने से महिलाओं के प्रति अपराध एकदम से बंद हो जायेंगे. महिलाओं के साथ होने वाली घटनाओं की जड़ें सामाजिक व्यवस्था में है और जब तक ये नहीं बदलेगी स्थिति में कोई परिवर्तन नहीं होगा.

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts