नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

October 23, 2008

पता रखिये आप को कौन फोलो करे रहा हैं ...

आईए फोलो करे

गूगल ब्लागस्पाट की सुविधा फोलोअर {follower} एक अच्छी सुविधा हैं । कई बार समय अभाव के कारण आप सारी पोस्ट नियमित नहीं पढ़ पाते हैं तो जिन ब्लोग्स को पढ़ना आप को अच्छा लगता केaएन हैं आप उन ब्लोग्स के फोलोअर {follower} बन सकते हैं । आप को बस इतना करना होगा की

ब्लागस्पाट पर लोग इन करे

dashboard पर जाये

Reading List पर जाए

add या manage क्लिक करे

और जिस ब्लॉग को आप फोलो करना चाहते हैं उसका url {जैसेhttp://indianwomanhasarrived.blogspot.com/ }

डाले और फिर दश बोर्ड मे रीडिंग लिस्ट मे उस ब्लॉग की सब पोस्ट दिखने लगेगी और आप का नाम उस ब्लॉग की साइड बार दिखेगा । अगर आप अपना नाम वहा नहीं चाहते तो एड करते समय अनाम की सुविधा भी हैं ।

गूगल ब्लागस्पाट की सुविधा फोलोअर {follower} एक सुविधा का फायदा हैं फोलो करे और फोलो किये जाने वाले दोनों का फायदा हैं । आप जिन ब्लॉग पर होते हैं वहाँ से आप को भी पाठक मिलते हैं ।

अपने ब्लॉग पर इस सुविधा को शुरू करनी के लिये आप को लेआउट मे जाकर Add a Gadget क्लिक करके

Followers
Displays a list of users who follow your blog

को एड करना होगा । उसके बाद ही आप को कौन फोलो करे रहा हैं आप को पता चलेगा ।

2 comments:

  1. congratulations for first technical post on Naari Blog. I think it is absolutely necessary. Some may hindi blogworld is full of technical posts then what is the point in having another one especially on Naari blog.Well, I feel that I will probably feel free to ask many questions(even the basic ones, may be repeatedly till I get that concept clearly) that I may not ask on other blogs because I don't want to appear stupid. So Rachna keep it up. You have gained the technical experties, do share it with us in as simple manner as possible, assuming that we don't know anything about computers and blogging. That will really empower atleast women bloggers on the net.

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts