नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

June 26, 2008

वृन्दावन और मथुरा ---- महिला सशक्तिकरण --- मूक स्तब्ध मै

"वृन्दावन और मथुरा मे ८ गौशाला हैं मन्दिर की आय से जिन्हे चलाया जाता है और जहाँ तक़रीबन ५००० गाय रहती हैं । ये गाय वो हैं जिनको उनके "मालिको " ने घरो से इसलिये निकल दिया क्योकि या तो इन गायो का दूध सुख गया था या फिर किसी वजह से ये अपंग हो गयी थी । इन्हे कसाई को नहीं बेचा जाता हैं और मरने का बाद इनको जमीन मे १ किलो नमक के साथ गाढ़ दिया जाता हैं । वृन्दावन और मथुरा मे जहाँ तक़रीबन ५००० विधवा और अपंग स्त्रियाँ मंदिरो मे रहती हैं । मन्दिर की आय से इनको १० रुपए रोज और आधा किलो चावल मिलते हैं । "

ये कथन हैं एक गाइड का जो हमे मथुरा वृन्दावन मे मिला था । इसके आगे क्या ........... ? वो लोग जीवन के आर्थिक पक्ष को भूलकर भावनात्मक सोच को अपनाना चाहते हैं एक फिर से सोचे और अपनी विचारो को यहाँ दे , मै , जो उस दिन जब ये वार्तालाप गाइड और मेरी माता जी के बीच चल रहा था मूक सुन रही थी आज तक बिल्कुल स्तब्ध और मूक हूँ । क्यों नहीं गृहणी को आर्थिक रूप से स्वतंत्र और संपन्न होना चाहिये , और होम मेकर का ये हश्र है तो अपनी संवेदनाओ को भूल कर अपनी आर्थिक क्षमताओं को बढ़ना ही नारी का मूल मंत्र हो , मेरी तो यही कामना हैं ।

ये बात २००८ , २५ जून की हैं , कोई सालो पुरानी कहानी नहीं हैं ।

6 comments:

  1. मेरे हिसाब से भावनात्मक सोच ही ज्यादा मायने रखती है। ऐसी भी स्त्रियां ( नहीं कहना चाहिए मां बाप) देखी हैं जिनके पास करोड़ों रुपया है बैंकों में लेकिन शरीर से अशक्त होने के कारण वो दूसरों पर निर्भर हैं और उतने ही लाचार हैं जितनी आप इन विधवाओं की बात कर रही हैं। दो तीन साल पहले मैने पेपर में पढ़ा था कि बम्बई के एक पॉश इलाके में जहां एकदम रईस लोग बसते हैं एक वृद्ध जोड़े ने बाल्कनी से कूद कर आत्महत्या कर ली क्योंकि करोड़ों का मकान होते हुए भी जिसमें वो रहते थे और भारी भरक्म बैंक बैलेस होते हुए भी उनका इतना बुरा हाल था कि हफ़्तों उनके बिस्तरों की चादर नहीं बदली जाती थी, दवा के लिए भी बहु की दया पर निर्भर थे। अपने ही घर में एक कमरे से दूसरे कमरे में घूमने की इजाजत नहीं थी।
    तो ऐसे पैसे को क्या करना। दूसरी तरफ़ ऐसे भी केस देखे हैं जहां सास के पास एक पैसा भी न होते हुए बेटे बहु ने खूब अच्छा ख्याल रखा।
    पैसा तो सिर्फ़ एक साधन मात्र है जिससे सुखी जीवन की सिर्फ़ आशा की जा सकती है पर असली सुख तो है रिशतों में, भावना में, प्यार में । कोई अपना हो तो गरीबी में भी जीवन सकून से कट जाता है , बाकि मौत तो शाश्वत है उस से क्या डरना।

    ReplyDelete
  2. मेरी सोच इस बारे में यही रही है हमेशा कि पैसा जरुरी है पर उतना ही जो सकून दे सके जब कोई लड़की घर में शादी कर के आती है तो यह सोच कर नही आती कि उसको इस घर में काम करने के लिए पैसे मिलेंगे ..वह एक प्यार और सम्मान की आशा ले कर आती है ...और यही भवात्मक सोच एक स्त्री को हर सुंदर रूप में ढाल देता है ..जहाँ तक मथुरा की बात है जब मैं कुछ साल पहले वहां गई थी तो वही औरते देखने को मिली जिनका परिवार अशिक्षित था या बाल विधवा थी तब लगा था कि शिक्षा का होना और अपने पेरों पर खड़ा होना बहुत जरुरी है ..और यदि आज भी वही सिथ्ती है तो जरूरत है उन अंधविश्वासों को जड़ से मिटाने की और शिक्षा के प्रसार की ..अनीता जी ने जो कहा मैं उस से पूर्ण रूप से सहमत हूँ

    ReplyDelete
  3. "तब लगा था कि शिक्षा का होना और अपने पेरों पर खड़ा होना बहुत जरुरी है" सही कहा रंजना आपने

    हर नारी को अपने को आर्थिक रूप से सशक्त करना होगा वरना ये कुरीतिया कभी समाप्त हो ही नहीं सकती . और श्याद यही कारन हैं की जो स्त्रियाँ काम करके धन को प्राप्त करती हैं वो आर्थिक रूप से सुध्ढ़ होना के कारन अपनी बात को ज्यादा बेहतर तरीके से कह सकती हैं . आर्थिक स्वतंत्रता स्त्री को मानसिक रूप से भी सक्षम करती है . भावनातक रूप से मन संतुष्ट हो सकता हैं पर पेट भरने के लिये और आत्म समान के लिये आर्थिक स्वतंत्रता ही एक मात्र मूल मन्त्र हैं , रंजना और अनीता जी मेरा एसा मानना है

    ReplyDelete
  4. भावानत्मक सोच के बिना आर्थिक रूप से सशक्त होना अर्थहीन लगता है...घर परिवार को प्राथमिकता देने वाली कई औरतों को अपने कैरियर से ज़्यादा परिवार को ही चुनते देखा है. शिक्षा है जो मानसिक रूप से नारी में आत्मशक्ति पैदा करती है..जिसके कारण वह कभी भी अर्थोपार्जन के लिए घर के बाहर निकल सकती है. दुबई में आकर 18 महीने काम करने के बाद लगा कि परिवार को मेरी भावात्मक स्पोर्ट की ज़रूरत है सो नौकरी छोड़ने में एक पल भी नही लगाया हाँलाकि बढ़ती महँगाई में कम धन भी तिनके का सहारा जैसा ही लगता है. इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि नारी को आर्थिक रूप से सशक्त होना चाहिए लेकिन घर परिवार की कीमत चुका कर तो कतई नहीं.....!

    ReplyDelete
  5. hum bhi si baat se sehmat hai,nari shiksha bahut jaruri hai,taki waqt padne par wo apne pairon par khadi ho sake,magar pariwar hamari bhi pehli pasand hai,aur pariwar ko chalane,sukhi rakhne tak ka paisa dusri.

    ReplyDelete
  6. कल एक अखबार में पढ़ा कि दिल्ली में कामकाजी औरतों की संख्या 9 प्रतिशत से भी कम है। जब हमारे देश की राजधानी में यह हाल है, तो अन्य शहरों में बेहतर स्थिति की उम्मीद कैसे की जा सकती है?

    स्त्री की आत्मनिर्भरता ही उसे सार्थक जीवन प्रदान कर सकती है। मगर भारतीय समाज में स्त्रियों का आत्मनिर्भर होना आसान नहीं होता है। घर और बाहर की दुनिया में संतुलन स्थापित करने की जिम्मेदारी स्त्रियों को सौंप दी जाती है। पुरुष अपनी व्यस्तता का बहाना बनाकर घर की जिम्मेदारियों से मुक्त हो जाते हैं।

    अधिकतर विवाहित स्त्रियाँ कमाने के बावजूद अभावग्रस्त रहती हैं। उनकी कमाई पर उनका नहीं, बल्कि उनके पति या ससुराल के लोगों का हक होता है। ऐसी स्त्रियों की घुटन की कल्पना भी नहीं की जा सकती है।

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts