नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

April 14, 2011

ये जबरिया व्रत....

मेरे विद्यालय में बच्चों की छुट्टियाँ शुरू हो गई है, लिहाज़ा स्टाफ को यहाँ-वहां की बातें करने का पर्याप्त समय मिलता है। इसी बतरस के दौरान कल एक बड़ी विचित्र सी बात सामने आई । मेरे विद्यालय की ही एक शिक्षिका ने मुझसे एक व्रत ले लेने की बात कही मेरे पूछने पर उन्होंने बताया की मुझे इस गणेश-व्रत में पन्द्रह दिनों तक उनके द्वारा दी गई व्रत सम्बन्धी दो कहानियाँ और जप करना होगा,पन्द्रह दिनों के बाद मैं जब इस व्रत का प्रसाद जिस भी महिला को दूँगी,उसे भी अगले पन्द्रह दिनों तक यह क्रम दोहराना होगा। और प्रसाद भी किसी एक को नहीं बल्कि चार महिलाओं को देना होगा। फिर इसी प्रकार सिलसिला चलता रहेगा। सुन के मैं सकते में आ गई। इस प्रकार जबरिया व्रत करवाने का मतलब? चूंकि मैं मूर्ति-पूजा करती नहीं सो मैंने न केवल उनसे क्षमा मांग ली,बल्कि इस व्रत के सिलसिले को यहीं समाप्त कर देने की सलाह भी दे डाली। लेकिन इस किस्से के बाद मेरा मन बहुत दुखी हो गया। उन शिक्षिका महोदया का कहना था कि यदि हमने इस व्रत को नहीं किया तो हमारे परिवार पर संकट आ जाएगा। उनकी मंद-बुद्धि में ये बात नहीं आई कि संकट तो व्रत करने के बाद भी आते ही है। हर हिंदू परिवार में पूजा-पाठ होता ही है, तो क्या हम संकटों से बचे रहते हैं?जिन महिलाओं को हम पढ़ा-लिखा समझते हैं, कम से कम उन्हें तो ऐसी अंध-विश्वास से जुड़ी बातों का विरोध करना ही चाहिए। शिक्षित होने के बाद भी यदि हम ऐसी थोथी मान्यताओं में उलझे रहेंगे तो जो सचमुच अशिक्षित महिलाऐं हैं, उन्हें सही रास्ता कौन दिखायेगा? क्या ये महिलाऐं सचमुच शिक्षित हैं? मुझे तो नहीं लगता.....और आपको???

26 comments:

  1. परचार करने का अच्छा तरीका और पाठ पूजा में मन लगा रहे गा !मेरे ब्लॉग पर आये ! हवे अ गुड डे !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    ReplyDelete
  2. क्या ये महिलाऐं सचमुच शिक्षित हैं? मुझे तो नहीं लगता

    ReplyDelete
  3. बहुत ही रोचक जानकारी. श्रधा रखो पर अंधश्रधा का त्याग करो जैसे कोई कहे की इश्वर सत्य हें तो श्रधा होनी चाहिए और कोई कहे की तुम मुझे १०० रु. दो तुमको इश्वर का दर्शन करता हु इस पर विश्वाश करने वाला यकिनक अंधश्रधावान होता हें इसपर विश्वाश न करे.

    ReplyDelete
  4. आदरणीय वन्दना अवस्थी दुबे जी
    नमस्कार !
    ..............बहुत ही रोचक जानकारी.

    ReplyDelete
  5. अभी तक तो सिर्फ़ ऐसे SMS ही आते थे कि इन्हें इतने लोगों को भेजो नहीं तो अनिष्ट हो जाएगा, उसके पहले ऐसे पोस्ट कार्ड आते थे. तकनीक के विकास के साथ अंधविश्वास भी बढ़ता जा रहा है, हाई टेक हो रहा है... पर एक बात अभी भी कॉमन है. इस प्रकार के जबरिया व्रत औरतों को ही करवाए जाते हैं... इसका कारण ये है कि हमारे समाज में औरतों के मन में दुनिया भर के डर भर दिए जाते हैं ताकि वे हमेशा डरी-सहमी रहें. भगवान का डर भी उनमें से एक है.
    हमारे समाज में लोग पढ़-लिखकर साक्षर हो जाते हैं, पर शिक्षित नहीं होते. खासकर के औरतों को तो जानबूझकर अशिक्षित रखा जाता है.
    जी हाँ ये औरतें अशिक्षित हैं.

    ReplyDelete
  6. पढ़े लिखे और गुढ़े हुए में फर्क होता है जो आजकल साफ दिखाई देता है...

    ReplyDelete
  7. मैं मूर्ति पूजक भी हूँ और भगवान को मानने वाला भी, मगर यह सब बकवास है ...ऐसे ही कई मैसेज मोबाईल पर भी आते हैं इनको इतने लोगों को फारवर्ड करो तो इत्ते समय में आपको ये लाभ होगा ....नही तो ये हानि होगी ...ऐसे लोगों की बेवकूफी पर तरस ही आता है और क्या किया जा सकता है !

    ReplyDelete
  8. bhagvan ke nam apne ghar parivar ki sukh shanti ke liye mahilayen bina tark kiye kuchh bhi karne ko tayyar ho jati hai..isi ka fayada kuchh log aise bhramak vichar failane ke liye karte hai...

    ReplyDelete
  9. डिग्री प्राप्त करना और उसके आधार पर नौकरी पा लेना....शिक्षित होने की कैटेगरी में नहीं आता. जबतक हमारी सोच और व्यवहार में बदलाव ना आए...पूर्ण रूप से शिक्षित नहीं कहा जा सकता उन्हें.
    मुक्ति की बात सा सहमत हूँ.....ये सारे व्रत त्योहार...कर्म-काण्ड..महिलाएँ ही ज्यादातर करती हैं...उनमे एक असुरक्षा का भय हमेशा समाया रहता है. वैसे व्रत या प्रार्थना करने में कोई दोष नही...ये एक तरह से positive thinking है कि...सब अच्छा होगा...और यह दृढ विश्वास positive vibes भी लेकर आता है...तभी कहते हैं,प्रार्थना में बहुत शक्ति है. परन्तु किसी और को पूजा के लिए बाध्य करना सिर्फ उस व्रत का प्रचार ही है.

    ReplyDelete
  10. multi lavel markiting.....

    jai baba banaras...

    ReplyDelete
  11. ऐसे लोगों से दूर ही रहना चाहिए, जो आपको जबरन कुछ करने को कहें। यह तो सरासर ज्यादती है। लोग अपना दिमाग क्यों नहीं लगाते।


    मेरा ब्लॉग भी देखें
    भले को भला कहना भी पाप

    ReplyDelete
  12. पूजा पाठ किसी के कहने से नहीं होता बल्कि ये मन और श्रद्धा की बात होती है. ऐसे पढ़े लिखे लोगों से बिना पढ़े लिखे लोग अधिक अच्छे हैं जो इस तरह के आग्रहों से बचे रहते हैं. पहले SMS और फिर मेल से ये काम किया जाता रहा है अब तो रूबरू ही यही होने लगा है.

    ReplyDelete
  13. यही चीजें तो धर्म को बदनाम करती हैं..

    ReplyDelete
  14. शिक्षित होना और ज्ञानवान होने में अन्‍तर है। शिक्षा जीविकोपार्जन के लिए ली जाती है लेकिन ज्ञान जीवन को सम्‍यक दृष्‍ि
    ट से देखना सिखाता है। आज के युग में एक ही गणित है कि ज्‍यादा से ज्‍यादा कैसे मिले। लोगों ने बता दिया है कि पूजा पाठ करने से समृद्धि मिलती है तो सभी इसी राह पर चल पड़े हैं। अब उस महिला का क्‍या दोष? हम सभी तो होली दीवाली पर केवल मांगते ही हैं कभी भी उन आदर्श पुरुषों से प्रेरणा नहीं लेते।

    ReplyDelete
  15. अजित जी, शिक्षित और ज्ञानवान होने में फ़र्क नहीं है. शिक्षित व्यक्ति ही ज्ञानवान होता है. असल में शिक्षित और साक्षर होने में अन्तर है. इन तथाकथित डिग्रीधरियों को मैं शिक्षित नहीं मानती. इन्होंने डिग्रियां तो बटोरीं, लेकिन उनमें निहित ज्ञान को अनदेखा किया, लिहाजा ये केवल साक्षर हुए. पूजा-पाठ से समृद्धि मिलती है, ऐसा केवल अधकचरे लोग ही कहते हैं. यहां मामला केवल अंध भक्ति का है, जो व्यक्ति को धर्मभीरू बनाता है. वैसे भी ईश्वर से सबने केवल मांगना ही सीखा है, महापुरुषों के बताये मार्ग पर चलना तो बहुत दूर की बात है.

    ReplyDelete
  16. वंदना क्या कहा जाए लोग मेल करते हैं कि "ये मेल और ५० लोगों को forward करें अगर ये काम न किया तो आप के परिवार पर मुसीबत आ सकती है" ,,पहले यही चीज़ पोस्ट्कार्ड पर लिखी जाती थी ,अब इस अंधविश्वास का कोई जवाब तो है नहीं न

    ReplyDelete
  17. महिलाएं ही नहीं, अगूंठाछाप पढ़ेलिखे पुरुषों की भी कमी नहीं है.

    ReplyDelete
  18. असल में शिक्षित और साक्षर होने में अन्तर है.
    sahi kaha aapne.....

    ReplyDelete
  19. बचपन से ही सत्यनारायण की कथा पढ़ते सुनते आये है की प्रसाद न लेने पर भगवन क्रोधित हो गये,सन्तोशी माता के व्रत में खटाई खाने पर माँ क्रोधित हो गई ये सब सब चीजे इतनी अन्दर तक रच बस गई है और अगर फिर शिक्षित लोग ही ?ऐसी कथाये घडते है छपवाते है ?आस्था को अन्धविश्वास बनाने में आधुनिक तकनीको का प्रयोग धडल्ले से हो रहा है |
    घर में अग र महिला ऐसे व्रत करती है और गाहे बगाहे पुरुष मना भी करते है उतने आत्मविश्वास से नही ?

    ReplyDelete
  20. व़न्‍दना जी, आप किसी सुदूरस्‍थ गाँव में चले जाइए वहाँ बहुत कम लोग शिक्षित मिलेंगे लेकिन वे सभी ज्ञानवान हैं। इसलिए शिक्षित होने का अर्थ ज्ञानवान होना कतई नहीं है। जनजातीय गाँवों में भजन-मण्‍डलियां होती हैं और उनमें से अधिकांश लोग साक्षर भी नहीं होते लेकिन जीवन दर्शन उनके भावों में कूट-कूटकर भरा होता है। इसलिए मैं भी डिग्रीधारियों को शिक्षित तो मानती हूँ लेकिन ज्ञानवान नहीं मानती।

    ReplyDelete
  21. sahi kaha apne
    andhvisvas se mahilaon ko bahar nikana hoga

    ReplyDelete
  22. ऐसी फालतू की बाते करने वाले पढ़े-लिखे मूर्ख की श्रेणी में आते हैं। इस तरह के व्रत की उपेक्षा करने का आपका निर्णय एकदम सही था। आपको यह मैसेज इस टिप्पणी के साथ उस अध्यापिका को फारर्वड कर देना चाहिए। सावधान! अगर किसी ने इस तरह का व्रत किया या इसकी चर्चा की तो उसका भविष्य अनिष्टकारी होगा। उसके बाद देखिए क्या होता है.....सादर।

    ReplyDelete
  23. @Ajit sir,

    "हम सभी तो होली दीवाली पर केवल मांगते ही हैं कभी भी उन आदर्श पुरुषों से प्रेरणा नहीं लेते।"

    Aapne baat to sahi kahi hai... lekin koun आदर्श पुरुषों mein aayenge ye koun decide karega? Aur jab nariyon ke baare mein vichar dene hote hain to mujhe koi bhi insan aadarsh pursh nahi lagta hai, bhagwan RAM bhi nahi...isliye mere vichar se आदर्श पुरुषों se jyada achha hoga ye kahna ki आदर्श व्यक्तित्व, aur ek आदर्श व्यक्तित्व mein purush aur mahilayen dono hi shamil hote hain jinse hame prerna leni chahiye.

    ReplyDelete
  24. Rewa
    Ajit gupta is a distinguished woman blogger .

    And I do agree with the points expressed in your comment

    ReplyDelete
  25. काफी बहस हो चुकी है ....
    जाहिर ही है . ऐसे लोग पढ़े लिखे अशिक्षित लोगों की श्रेणी में आते हैं ...

    ReplyDelete
  26. आपने पढ़े लिखे मूर्खो के बारे में बताया पर मेरी दादी जो कभी स्कूल नहीं गयी विचारो में आज की महिलाओ से काफी आगे थी. हमारे इलाके में पूर्वजो की पूजा करने की परम्परा है पर जब तक मेरी दादी जिन्दा रही तब तक न तो उन्होंने कभी करी और न ही परिवार में करने दी. मेरी दादी मंदिर जाती थी और सभी व्रत त्यौहार मानती थी पर इस तरह की किसी बात को नहीं मानती थी.

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts