नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

October 26, 2010

पता नहीं ये क्यूँ लिखा हैं ? पर लिखा हैं क्यूंकि मन मे था

  1. आज करवा चौथ हैंहर सुहागन आज के दिन व्रत रखती हैं और कहा जाता हैं की ये व्रत वो पति की लम्बी आयू केलिये रखती हैं लेकिन क्या ये सच हैंशायद नहीं सच तो ये हैं की क्युकी नारियों से सजने और सवारने का अधिकार , रंग बिरंगे कपडे पहने का अधिकार पति की मृत्यु के उपरान्त छीन लिया जाता हैं इस लिये वो पति की लम्बी आयू की कामना करती हैंअगर आप ध्यान से देखेगे तो जिन प्रदेशो मे नारियां साधरण पोशाको मे रहती हैं जैसे पहाड़ीइलाके वहाँ करवा चौथ का प्रचलन नहीं हैं वही पंजाब और उत्तर प्रदेश मे नारियों को गहनों और तमाम ताम झाम सेलदे फंदे देखा जाता हैं ।कहीं ना कहीं अपने को"sellfish intrest "के तहत नारियां ऐसा करती हैं ताकि सजने सवारने का अधिकार बना रहे .
  2. वो नारियां जो पढ़ी लिखी होने के बावजूद नौकरी नहीं कर पाती हैं वो बार बार समाज को याद दिलाती हैं की उन्होने कितनी बड़ी "कुर्बानी " दी हैं जबकि ये कोई क़ुरबानी हैं ही नहीं । वो खुद कमजोर होती हैं और शादी और नौकरी मे से एक ही काम कर सकती हैं , इसके अलावा वो सबकी अच्छी बनी रहना चाहती हैं । अपने पति को वो बार बार याद दिला देती हैं की वो उसकी वजह से नौकरी नहीं कर पायी । इस की वजह से वो जो कुछ भी करती हैं पति को सर झुका कर मान लेना चाहिये और उनके आगे नत मस्तक भी रहना चाहिये क्युकी "क़ुरबानी " देने की वजह से वो माननिये और स्तुत्य हो गयी हैं यानीएक देवी ।कहीं ना कहीं अपने को"sellfish intrest "के तहत नारियां ऐसा करती हैं ताकि वो पूजी जाये

15 comments:

  1. मैं आप की बातों से सहमत नहीं हूँ।
    जहाँ करवा चौथ की परंपरा नहीं है वहाँ कोई बात नहीं। पर जहाँ है वहाँ यदि कोई विवाहित और सधवा स्त्री यह व्रत न करे तो पुरुषों को इस से कोई फर्क नहीं पड़ेगा। पर खुद स्त्रियों के समाज में उस का मान दो कौड़ी का न रह जाएगा। इसी भय से यह सब प्रचलन में है, स्वैच्छिक बिलकुल नहीं।
    वस्तुतः जिस व्यवस्था ने स्त्री को दूसरे दर्जे की नागरिक बनाया है उसी ने यह सब बाध्यकारी व्रत उपवास प्रचलित किए हैं। जब तक समाज में विशेष रूप से स्त्रियों में चेतना का स्तर न बढ़ेगा यह सब चलता रहेगा।

    ReplyDelete
  2. To Moderator of the blog:

    Please change the setting such that the music (Song) doesn't automatically play while opening this blog. It is a distraction.

    Regards,
    Neeraj

    ReplyDelete
  3. सुमन जी,
    भारतीय समाज में तमाम व्रत,पर्व और त्यौहार व्यवहारिक रूप में आज जिस प्रकार अपने मूल उद्देश्य से भटक कर ताम झाम बनकर रह गए हैं, उस परिपेक्ष्य में आपकी बातें काफी हद तक सही हैं और इसका मुखर विरोध भी होना चाहिए..
    परन्तु जैसे यदि नदी गंगा मनुष्यों द्वारा प्रदूषित कर दी गयी है या की जा रही है,तो इस आधार पर गंगा को महत्वहीन ठहराना उचित नहीं,वैसे ही इन व्रत उपवासों को भी अप्रासंगिक ठहराना सही नहीं होगा..
    आज पश्चिमी देशों में लगभग प्रत्येक सम्बन्ध या बात के लिए कोई न कोई दिन तय कर कभी फादर्स डे,कभी मदर्स डे, वेलेंटाइन डे या असंख्य ऐसे ही डे मनाये जाते हैं और हमारा भारतीय समाज अपने संस्कृति के पर्व त्योहारों के साथ इन सभी डेज को भी मना लेता है...
    भारतीय और पाशात्य सभ्यताओं में इन डेज को मानाने में थोडा सा अंतर है...उनकी संस्कृति में इन दिवसों को खा पीकर मौज मस्ती के साथ सेलेब्रेट किया जाता है तो हमारे यहाँ , पति पुत्र भाई इत्यादि इत्यादि संबंधों को गरिमा और सुदृढ़ता देने के लिए इन दिवसों को व्रत उपवास पूजा प्रार्थना के साथ मनाया जाता है..अपने प्रिय जनों के लिए शुभ की कामना करना ,उनकी कुशलता के लिए ईश्वर से प्रार्थना करना,मुझे नहीं लगता की किसी भी भांति अप्रासंगिक है..
    आज तो विज्ञान भी मानने लगा है कि सकारात्मक सोच/शुभकामना (पोजिटिव वाइव्स) में कितनी शक्ति है..तो यदि सच्चे मन से ईश्वर को साक्षी मान अपने अपनों के मंगल कामना की जायेगी तो शंशय नहीं रखना चाहिए कि ये फलदायी नहीं होंगी...
    व्रत उपवास से तो यूँ भी शरीर की सुद्धि ही होती है..और अपने यहाँ स्त्रियों के लिए यह इसलिए भी यह नियम बना दिया गया है कि साधारण जीवन में जितनी जिम्मेदारियां स्त्रियों को निभानी पड़ती हैं और उसके लिए जितने धैर्य और मानसिक संबल की आवश्यकता होती है,वह स्त्री अपने को साधकर ही पा सकती है..
    यह आक्षेप लगाया जा सकता है कि यह सब स्त्रियों के लिए ही क्यों है...तो बात यह है कि जब इन परम्पराओं का प्रचलन हुआ पुरुष घर के बहार अर्थोपार्जन में लिप्त रहते थे,जिसमे उनके लिए ये नियम निबाहना सरल न था..वैसे ऐसी बात नहीं है कि परिवार की मंगल कामना के लिए पुरुष कोई व्रत करते ही नहीं..आज भी कई कठिन व्रत हैं,जिसे पुरुष भी उतनी ही संख्या में करते हैं जितनी स्त्रियाँ..

    ReplyDelete
  4. suman jee main aapki dono hi soch se sahmah nahi hoon.karvachauth ka vrat pati patni ke aapsi prem ko darshata hai ,virasat me mile sanskaron ko darshata hai n ki sajne-savarne ke shok ko pura karne ke karan.doosre yeh kahna ki naukri n kar pane ka ahsan ve pati par ladti hai aur isiliye ve yah vrat karti hain to yah kahna bhi galat hai kyonki bahut si nariyon ne apne parivar ke hit ko dekhte hue swayam nokri chhodi aur parivar ke hiton ko dekha.
    karvachauth ke is pavitra vrat ko swarthipan se jodna aisee soch ka hi natiza hai jise virasat me pyar aur sanskar nahi mile.

    ReplyDelete
  5. सुमन जी, आप इस परम्परा को तोड़ने का प्रयत्न करें. आप अपने मन की करें, किसी के कहे के अनुसार न चलें..

    ReplyDelete
  6. सुमन जी

    १- थोडा असहमत हु | महिलाए सिर्फ सजने सवरने के लिए ये व्रत नहीं रखती है उसके लिए सात वार और नौ त्यौहार वाला हमारे देश के बाकि त्यौहार ही काफी है | ये समाज द्वारा बनाई गई ऐसी परंपरा है जो हर पत्नी को रखना जरुरी है( तीज ,करवाचौथ किसी भी रूप में ) ताकि वो पति की तरफ अपनी वफादारी साबित करे जो नहीं रखता तो कहेंगे देखो पति से प्यार नहीं है उसकी चिंता नहीं है खुद पति को भी लगता है की ये मेरे लिए एक दिन भूखा नहीं रह सकती है तो और क्या कर सकती है जबकि वो भी जनता है की ऐसा करने से उसकी आयु लम्बी नहीं होने वाली है | कुछ श्रद्धा आस्था से रहती है कुछ परम्परा है इसलिए रह रही है और कुछ के लिए मजबूरी है और मैं ये परंपरा नहीं निभाती हुं |

    २- नो कमेन्ट :-)

    ReplyDelete
  7. .

    रचना जी,
    @--पता नहीं ये क्यूँ लिखा हैं ? पर लिखा हैं क्यूंकि मन मे था....

    आपके मन में जो आया , वो आपने लिखा । बहुत अच्छा किया। ऐसे ही शायद हर कोई अपने मन में आने वाले विचारों को अपने ब्लॉग पर लिखता होगा। इसीलिए बहुत अच्छा लगता है मुझे लोगों के इंस्टंट विचारों को पढना। एक जैसा विचार तो शायद ही कभी किसी के मन में रहता होगा।

    या ब्लॉग एक ऐसा सशक्त माध्यम है , जहां एक स्त्री और पुरुष अपने मन में आने वाले विचारों को बिना हिचक अपने जैसे आम इंसानों के साथ बाँट सकते हैं। जरूरी नहीं पति, भाई-बहन और पडोसी के साथ ही साझा किया जाए। यहाँ हम सभी परस्पर मित्र भी हैं और एक दुसरे से अनजान भी हैं। ऐसी स्थिति में विचारों के आदान प्रदान में सुविधा होती है । जिसे बुरा लगता है वो कमेन्ट नहीं करता। जिसे ठीक लगता है वो समर्थन करता है। किसी पर किसी भी तरह की बंदिश या जोर जबरदस्ती नहीं होती। न पढने की , न कमेन्ट करने की।

    इसलिए मुझे लगता है , लेखक को अपने विचार अपने ब्लॉग पर लिखने की पूरी स्वतंत्रता होनी चाहिए। इससे विचारों का आदान प्रदान भी होता है और विविधता भी बनी रहती है।

    ----------------------------

    Regarding Karwachauth --

    कोई भी तीज-त्यौहार मन को तथा माहौल को खुशहाल बना देते हैं। आपसी प्यार को बढाते को हैं और एक दुसरे के करीब लाते हैं। इसी बहाने पड़ोसियों से भी कुछ गप शप हो जाती है । हम सामाजिक प्राणी हैं, समाज में इन तीज त्योहारों से ही रौनक और मुस्कुराहटें रहती हैं।

    ----------

    Regarding---वो नारियां जो पढ़ी लिखी....

    पढ़ी लिखी हों या गंवार, हम सभी आखिर इंसान ही हैं । कभी न कभी हम सभी हताश होते ही हैं। यदि अपने कैरियर से न्याय न कर पाने के लिए उसका मन कभी उदास होगा तो वह व्यक्ति अपने मन की व्यथा लिख सकता है या कह सकता है अपनों से। गैर तो वैसे भी उसका मखौल ही बनायेंगे।

    इसलिए ये सोचना उचित नहीं लगता की पढ़ी-लिखी महिलाएं अपने बलिदान की दुहाई देती हैं। क्या उदास होकर मन की बात कहना /लिखना भी गुनाह है ?

    Good questions !...Such questions enables us in knowing a person.

    .

    .

    ReplyDelete
  8. @ zeal
    The author of this post is suman and not Rachna

    ReplyDelete
  9. आपके मन मे जो आया वो आपने लिखा ......पर मुझे लगता है आज की व्यस्त जिंदगी मे इसी बहाने कुछ लम्हे अपने लिए मिल जाते है .

    ReplyDelete
  10. .

    Rachna ji,

    Thanks for pointing out the mistake. My comment is addressed to Suman ji.


    .

    ReplyDelete
  11. Prashn achchha hai....
    karva chauth ka vrat chahe parampara nibhane ke liye rakhe chahe samarpan jatane ke liye, yah karta to purush aham ko hi poshit hai aur samaj ki balikaon ke mann me bhi jane anjane yahi upjata hai ki purush ke liye balidan dete rahne me hi unki hasti hai. iske vipreet balkon ke mann ki conditioning ye ho jati hai ki purush hona badi aham baat hai.
    nari swayam jab tak in paramparaon ko challenge nahi karti nari ke daman ke kuchakra ko toda nahin ja sakta......
    koi vyavastha kyon bani thi yah mahatvapoorn nahin, mahtvapurna baat yah hai ki uska prabhav kya pad raha hai
    samaj me stri-purush samanta ko badhava diya jana chahiye

    ReplyDelete

Popular Posts