नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

October 17, 2010

समझौते से मौत तक !

दहेज़ हत्याओं पर अभी अंकुश नहीं लगा है और ही लगेगा जब तक कि दहेज़ देने और लेने वाले इस समाज का हिस्सा बने रहेंगे. फिर जब देने वाले को अपनी बेटी से अधिक घर और प्रतिष्ठा अधिक प्यारी होती है और समाज में अपनी वाहवाही से उनका सीना चौड़ा हो जाता है तो फिर क्यों आंसूं बहायें? उसके ससुराल वाले बारात लाये थे उसमें बढ़िया बैंड और आतिशबाजी भी थी. साड़ी और जेवर भी ढेर सा लेकर आये थे कि लोग देख कर वाह वाह करने लगे.
आज उसको शादी के सात साल बाद बिल्कुल ही ख़त्म कर दिया गया.फिर मैके वालों को खबर दी कि आपकी बेटी ने फाँसी लगा ली. माँ बाप जब पहुंचे तो उसका शव जमीन पर पड़ा था. गले में रस्सी के निशान थे और उसका सारा शरीर नीला पड़ा हुआ था. उसके पिता ने रोते हुए बताया कि हमने अपनी सामर्थ्य के अनुसार शादी में खूब दहेज़ दिया था और तब ये लोग संतुष्ट भी थे लेकिन उसके बाद फिर उनकी मांगें बढ़ने लगी, जब तक रहा तो पूरा किया उसके बाद दो साल पहले बेटी माँ के घर पहुँच गयी कि वहाँ रही तो वे लोग जान से मार देंगे. उसके पास एक साल का बेटा भी था.रिश्तेदारों ने समझौता करा दिया और उन्होंने बेटी को वापस ससुराल भेज दिया. समाज में लोग अंगुली उठाने लगे थे. उसके बाद भी उसको सताया जाता रहा और आज उसकी हदें पार कर दीं. साल का बेटा माँ को हिला हिला कर जगा रहा था और उसके नाना फूट फूट कर रो पड़े बेटा अब तेरी माँ कभी नहीं उठेगी.
दहेज़ के विवाद को समझौते या किसी तरह से खुद को बेच कर लड़के वालों की मांग पूरी करने की हमारी आदत ही हमारी बेटियों के हत्या का कारण बनता है. जहाँ बेटी सताई जाती है, वहाँ के लोगों की मानसिकता जानने की कोई और कसौटी चाहिए? अगर नहीं तो समझौतों की बुनियाद कब तक उसकी जिन्दगी बच सकती है? इनके मुँह खून लग जाता है वे हत्यारे पैसे से नहीं तो जान से ही शांत कर पाते हैं. ऐसे लोग विश्वसनीय कभी नहीं हो सकते हैं. इसमें मैं किसी और को दोष क्यों दूं? इसके लिए खुद माँ बाप ही जिम्मेदार है , जिन्होंने अपनी सामर्थ्य से अधिक दहेज़ माँगने वालों के घर में रिश्ता किया. उसे अपने पैरों पर खड़ा होने दीजिये. अब मूल्य और मान्यताएं बदल रहीं है. बेटी किसी पर बोझ नहीं है वह अपना खर्च खुद उठा सकती है. दुबारा उस घर में मत भेजिए कि उसके जीवन का ही अंत हो जाये.
सबसे पहले माँ बाप का यही तर्क होता है कि अगर बेटी की शादी नहीं हुई तो समाज उन्हें जीने नहीं देगा. आप किस समाज की बात कर रहे हैं. वह हमसे ही बना है . आपकी बेटी मार दी गयी क्या समाज आपको आपकी बेटी वापस लाकर दे सकता है ? अगर नहीं तो हम उस समाज की परवाह क्यों करें? जब आपकी बेटी ससुराल में कष्ट भोग रही थी और रो रो कर अपनी दास्तान आपसे बताती थी तो क्या इस समाज ने आपसे कहा था कि उसको वापस मरने के लिए भेज दें.? बेटी हमारी है और उसका जीवन उसका अपना है - हमारा हक है कि हम उसको एक अच्छा जीवन दें, कि दहेज़ के हवन कुण्ड में उसकी आहुति दे दें. बेटी अविवाहित रहेगी कोई बात नहीं, अपना जीवन तो जियेगी और फिर ऐसा नहीं कि सारे लोग दहेज़ लोलुप ही होते हैं . आप योग्य वर देखें चाहे वह आर्थिक रूप से सुदृढ़ हो, अपने जीवन में सुख शांति से जी सके उसको स्वीकार कर लीजिये. बड़े घर के लालच में आकर अपनी बेटी खोएं.
संकल्प करें की दहेज़ लोलुप परिवार में बेटी नहीं देंगे उसको सक्षम बना देंगे और उसको आहुति नहीं बनने देंगे.

15 comments:

  1. उसे अपने पैरों पर खड़ा होने दीजिये. अब मूल्य और मान्यताएं बदल रहीं है. बेटी किसी पर बोझ नहीं है वह अपना खर्च खुद उठा सकती है. 'समझौते से मौत तक'में बहुत सही बात आपने कही है.दहेज़ का दानव, माँ-बाप और मेरी मानें तो बेटी, तीनों की परिपक्व सोंच से ही मारा जा सकता है.
    बहरहाल आज नकली रावण तो मारा /जलाया ही जा रहा है.
    दशहरा मुबारक .

    कुँवर कुसुमेश
    कृपया मेरे ब्लॉग:kunwarkusumesh.blogspot.com पर नई पोस्ट देखें.

    ReplyDelete
  2. नारी के ऊपर जुल्म करने वाले भेडियों को चौराहे पर सजा मिलना चाहिये.

    ReplyDelete
  3. रेखा जी हम आप की बात से पूरी तरह सहमत हैं। आपके इस संकल्प को हमने दशकों पहले लिया था। एक बहन खो चुके हैं इस कुप्रथा के कारण, क्योंकि ह्मने संकल्प लिया था कि न दहेज लेंगे, न देंगे। उसकी मौत ने तोड़ा नहीं हमें, बल्कि संकल्प और भी दृढ हुआ है। क़नूनन जो सजा दिलवा सकते थे दिलवाई। हम तो जो देहेज लेकर शादी करता है उसकी बारात या शादी का हिस्सा भी नहीं बनते, चाहे वह कितना भी घनिष्ठ संबंधी ही क्यों न हो!

    ReplyDelete
  4. एकतरफा प्रयासों से यह समस्या हल नहीं होने वाली । देखा तो यहाँ तक भी गया हैं कि अपनी बेटी की शादी में जो परीवार खुद को दहेज विरोधी दिखाने की कोशिश करते हैं वो ही घर के लडके की बारी आने पर पलटी मार जाते हैं ।ऐसे में समस्या खत्म हो तो कैसे?

    ReplyDelete
  5. भारतीय नागरिक के विचार ही मेरे विचारों से सहमत....

    "नारी के ऊपर जुल्म करने वाले भेडियों को चौराहे पर सजा मिलना चाहिये".

    ReplyDelete
  6. मैं उत्तरांचली हूँ. हमारे समाज में दहेज़ प्रथा का वो घातक स्वरुप अभी तक नहीं रहा है जो कि मैदानी इलाकों में व्याप्त है फिर भी इस समस्या कि शुरुवात हो चुकी है. अपने बहुत जोरदार ढंग से अपनी बात रखी है. हम सभी को मिलकर इस कुप्रथा के खिलाफ लड़ना चाहिए .

    ReplyDelete
  7. रेखाजी
    हमारे समाज में अभी भी बिना दहेज के ही शादी होती है \माँ बाप अपनी ख़ुशी से अपनी बेटी को देते है और न ही तीज त्योहारों पर बेटियों को उपहार देने की ही परम्परा है | सिवाय रक्षा बंधन पर वो भी बहुत प्रतीकात्मक |लड़की की शादी में आजकल ज्यादा समस्या है की लडकियाँ लडको की अपेक्षा ज्यादा शिक्षित हो रही है और उनके लिए योग्य वर नहीं मिल पा रहे है |

    ReplyDelete
  8. मनोज जी,
    मैं आपके संकल्प को नमन करती हूँ, और चाहती हूँ कि सभी ऐसे संकल्प लें तो क्या रोज रोज मरने वाली बेटियों का जीवन सुरक्षित न होगा. ये संकल्प नई पीढ़ी भी ले तो अधिक अच्छा है, चाहे बेटे हों या बेटियाँ जीवन साथी के लिए गुणों और उसकी योग्यता को ही महत्व प्रदान करें. माँ बाप का पैसा या फिर प्रतिष्ठा से शादी नहीं की जाती बल्कि एक समझदार जीवनसाथी ही सदैव साथ देता है और वही होना भी चाहिए. इस प्रथा को ख़त्म करने के लिए हमें जाति के बंधन से ऊपर उठना होगा क्योंकि जातिवाद में भी दहेज़ प्रतिष्ठा का प्रश्न बन जाता है. अपनी सोच बदलें और सबसे अधिक युवा पीढ़ी. अगर वे डट जाएँ तो बड़े हार मान ही लेंगे.

    ReplyDelete
  9. राजन जी,
    आपका कहना शत प्रतिशत सच है लेकिन यहाँ भी वही बात आ जाती है न, कि हम दहेज़ दें क्यों? बल्कि बेटी के ससुराल वालों को उनको इस बारे में प्रताड़ित करना चाहिए कि इन दोहरे मूल्यों के साथ जीने से अच्छा है कि बेटे को बेच दें और ऐसे लोग बेचते ही है, इसका पता उन्हें तब लगता है जब बहू घर में आकर उन्हें कुछ नहीं समझती या फिर बेटा भाषा में बोलनेनए रिश्तों में गहराई नापने लगता है और उन्हें उपेक्षित करने लगता है. कम से कम सम्मानकी आशा तो वे न ही करें.

    ReplyDelete
  10. बिल्कुल सही कहा है आपने. हम अगर समाज की परवाह करते रहेंगे तो अपनी बेटियों को एक खुशगवार माहौल नहीं दे पाएंगे. उसे आप उपहार देना भी चाहते है तो तो शिक्षा का, अच्छी विद्या का दें जिससे लडकी अपने पैरों पर खड़ी हो सके , उसे परमुखापेक्षी न होना पड़े.

    ReplyDelete
  11. आप योग्य वर देखें चाहे वह आर्थिक रूप से सुदृढ़ न हो, अपने जीवन में सुख शांति से जी सके उसको स्वीकार कर लीजिये. बड़े घर के लालच में आकर अपनी बेटी न खोएं.

    यह सौ बात की एक बात कही आपने....वस्तुतः यही जड़ है इस समस्या की...बेटी के भविष्य को आर्थिक रूप से सुनिश्चित देखने और समाज में अपनी नाक ऊंची करने के चक्कर में स्वयं कन्या के अभिभावक अन्य सभी बातों को किनारा कर जाते हैं और अंततः ऐसे त्रासद परिणाम सामने आते हैं...

    इस सार्थक पोस्ट के लिए आपका साधुवाद !!!

    ReplyDelete
  12. भारतीय नागरिक के विचार ही मेरे विचारों से सहमत....

    "नारी के ऊपर जुल्म करने वाले भेडियों को चौराहे पर सजा मिलना चाहिये".

    ReplyDelete
  13. सजा तो मिलनी चाहिए और मिल रही है पर क्या सिर्फ सजा से कम बन रहा है?

    माँ-बापको जागरूक होने कि सबसे जादा जरुरत है .. सिर्फ समाज के डर से वो चुप रहा जाते है मिलता क्या है बेटी कि लाश ...

    सदियोसे चली आरही हमारी सामाजिक व्यवस्थाभी आज बदलने कि जरुरत है... जातपात उच-नीच ये भी इसका एक कारण है!

    बेटी के लिए सुयोग्य वर होते हुए भी वो निचले जाती का है इस लिए आज भी हमारे यहाँ उसे चुना नहीं जाता !

    अपनी झुटीशान या सामाजिक डर कहिये बेटी के हत्यारोको पनाह दे रहे है !

    जब तक माँ बाप डरते रहेंगे तब तक बेटियां बलि चढती रहेंगी !

    ReplyDelete
  14. beti kisi pe bojh nahi, aaj betiyan bhi beton k saath kandhe se kandha mila kar chal rahi hai... wo har tarah se saksham hai....

    Mere blog par bhi sawaagat hai aapka.....

    http://asilentsilence.blogspot.com/

    http://bannedarea.blogspot.com/

    Music Sunne or Download karne ke liye Visit karein...
    Download Direct Hindi Music Songs And Ghazals

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts