नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

December 25, 2009

आत्महत्या मत कर बेटी , ये जिंदगी ईश्वर ने जीने के लिये दी हैं ruchika molestation case india

रुचिका के केस के बारे मे पता नहीं था । दो दिन पहले जब इस केस का फैसला आया तो पता लगा कि एक लड़की / बच्ची थी रुचिका उम्र मात्र १४ वर्ष , एक उभरती टेनिस कि खिलाड़ी । उसका मोल्सटेशन १९९० मे किया गया था । किसने किया था एक सम्मानित सरकारी पद पर आसीन हरयाना के उस समय के आ ई जी अस पी अस राठोर । जी हाँ आप का मुह भी श्याद खुल गया होगा ये पढ़ कर क्युकी मेरा तो खुल ही गया था जब इस केस कि डिटेल पढ़ी ।
आप अंदाजा लगा सकते माननिये जी साहिब कि उम्र का उस समय ४८ वर्ष थी । बात यहीं नहीं थमी , तीन साल तक उस बच्ची और उसके परिवार वालो के नाक मे दम कर दिया गया और अंत मे उस बच्ची नए आत्महत्या कर ली ।
रुचिका कि एक सहेली गवाह थी इस सब का , उस सहेली अनुराधा ने इस केस को आगे बढया जिसका खामयाजा अनुराधा के पिता को भी भुगतना पडा ।

आ ई जी साहिब अपने रुतबे से आगे बढते गए और मोल्सटेशन का चार्ज लगाने के बाद भी उनको तरक्की मिलती गयी और १९ साल तक ये केस चलता रहा
अनुराधा और उसके माता पिता नए बिना हिम्मत हारे इस लड़ाई को लड़ा लेकिन १९ साल बाद राठौर जी को इस लिये महीने कि सजा देकर छोड़ दिया गया क्युकी वो एक सीनियर सिटिज़न थे और केस पहले ही काफी समय ले चुका था !!!!!!!!!! वह क्या न्याय हैं !!!


कभी कभी लगता हैं हम सब नपुंसक से भी गए बीते हैं जो उन सब का महिमा मंडन करते हैं जो किसी भी प्रकार का अत्याचार करते हैं और वो भी बच्चो पर , महिला पर या अपने से कमजोर परमोल्सटेशन को रेप नहीं माना जाता सो उसकी सजा मात्र साल हैं वो भी अगर साबित हो जाएसाबित कैसे होगा क्युकी राठोर जी कि पत्नी खुद अपने पति कि इज्जत बचा रही थी और उनका केस खुद लड़ रही थीछि !!!
एक बच्ची मात्र १४ साल कि उम्र मे अपने से ३४ वर्ष बड़े आदमी से क्या लड़ सकती थी ???
वो आदमी जो पुलिस मे बड़ा अफसर था और जिसकी बीवी कानून कि वकील थी ??
रुचिका तो चली गयी , अनुराधा कि हिम्मत से से से से लेकिन सिखाना सब कहा हैं जो बार बार नारी के प्रति अत्याचार करने वालो को महिमा मंडित करते हैं और कहते हैं कि जब तक उनका क्राइम साबित नहीं होता वो गुनहगार नहीं हैं
यौन शोषण , यौनिक गाली , यौन का बार बार एहसास कराया जाना अपने आप मे एक मानसिक अत्याचार हैंलेकिन लोग तो इसके खिलाफ आवाज नहीं उठाना चाहते हैं क्युकी जो ये सब करता हैं वो एक सम्मानित पद पर हैं या उसकी उम्र ६० के ऊपर हैं या वो बहुत पढ़ा लिखा हैं

कभी कभी मन होता हैं कि "सम्मान" , "आत्म सम्मान " इत्यादी क्या केवल पुरुषो कि जागीर हैं क्या बच्चो और महिलाओ का इन पर कोई अधिकार नहीं हैं

धिक्कार हैं उन सब लोगो पर जो ये सब करते हैं और उसके ऊपर से ये भी कहते हैं नारी कितना नीचे गिरेगीक्या नारी कि स्वतंत्रता का मतलब पुरुष कि बराबरी करना हैंक्या अगर पुरुष नगन घूमता हैं तो नारी भी घूमेगी , क्या पुरुष अब बच्चे पैदा करेगा और नारी बाहर का काम करेगी ?? और सबसे बढ़िया "नारी स्वतंत्रता किस से sae चाहती हैं पिता , भाई , पति या पुत्र से ??


मुझे लगता हैं हमे अपनी बेटियों को अपने शरीर कि शुचिता से ऊपर उठ कर सोचने के लिये तैयार करना होगा , उनको सिखाना होगा कि जो तुमको नंग्न करता हैं वो तुमको नहीं खुद को नगन कर रहा हैंतुम्हारी अस्मिता तुम्हारा शरीर नहीं हैं जी किसी के छू देने से गन्दा हो जाता हैंतुम अपने शरीर को भूल जाओ और अपनी जिंदगी को जियो आत्म हत्या मत कर बेटी , ये जिंदगी ईश्वर ने जीने के लिये दी हैं

भगवान् से कामना हैं कि रुचिका कि आत्मा को शांति दे और अनुराधा को और साहस दे ताकि वो इस लड़ाई को आगे ले जा सकेहम कुछ कर सकते हैं , हां क्यूँ नहीं कम से कम इस पर अपना विरोध तो दर्ज करा सकते हैंअपने अपने ब्लॉग पर अपनी आपतियां दर्ज कराये जब भी ऐसा कुछ सुने .

11 comments:

  1. aapka kahan jaayaj hai.....kabhi kabhi ham sab napunsak se bhin gaye gujare ho jate hain.
    ruchika case ke baare me suna to tha lekin adhik jankri kal mili'=.
    doshi ko saja kam milim hai use aur saja milani chahiye thi

    ReplyDelete
  2. जी हाँ इस शर्मनाक घटना पर हर एक को विरोध करना ही चाहिए..शायद हमारी आवाज़ कहीं सुनी जाये..

    ReplyDelete
  3. grt pace of yours !
    we must do something... we have to turn the table...
    it's really very very much dissapointing...!

    ReplyDelete
  4. रुचिका के मामले को मीडिया देश के सामने ले आया है। वरना न जाने कितनी बच्चियाँ, स्त्रियाँ इस तरह के हादसों की नित्य शिकार होती हैं। मुख्य कारण है हमारे हाथी जैसे बड़े देश की चूहे जितनी बड़ी न्यायपालिका। नतीजा यह कि निर्णय में बरसों बरस लग जाते हैं। यदि यही निर्णय दो बरस में अपील साल भर या छह माह में निर्णीत होने लगे और अन्वेषण करने वाली पुलिस प्रशासनिक पुलिस से बिलकुल अलग हो तो ही इन समस्याओं पर काबू पाया जा सकता है। यह इन दोनों की संख्या बढ़ाने से संभव हो सकेगा। लेकिन सरकारें ये सब क्यों करने लगीं? फिर नेताओं और अफसरों का क्या होगा?

    ReplyDelete
  5. हमारी आपति दर्ज की जाए.

    ReplyDelete
  6. ऐसे अधिकारी से ज्यादा इसको प्रश्रय देने वाले ज्यादा दोषी हैं ...जिनकी वजह से इसकी हिम्मत इतने बढ़ गयी ....... !

    न जाने कितनी रुचिकाएं इसके द्वरा बर्बाद की गयी हों ?

    कैरिअर के चक्कर में ना जाने कितने शिकार अपमान का घूँट पी कर रह गएँ हों?

    ReplyDelete
  7. हमारा भी तीक्ष्ण विरोध दर्ज किया जाय !

    ReplyDelete
  8. sabse pehle to anuradha aur fir media ka dhanyewad deti hu ki is baat ko publically kiya gaya. jo 60 saal ki police adhikari apni izzet ke tamge apne seene par lagaye ghoomta tha ab be-ijjati ke daago se uska muh to kala hua...hamare desh ki adalat ek baar ko yathasambhav saja na bhi de payi to kam se kam media ne uska mukhota utaar kar use puri zindgi apmaan ki saja to di hai aur saath me hamare naitao ko jinke naam aa rahe hai.

    ruchika jaise anginat ladkiya hai jo aise dansh seh rahi hai. meri samvaidnaye uske saath hai. aur me bhi usko nyaye mile iske liye praarthna karti hu.

    ReplyDelete
  9. रचना, सच लिखा है आपने. मुझे भी इस केस में जो बात सबसे ज़्यादा खराब लगी वह है उस पुलिस ऑफ़िसर की पत्नी का उसके बचाव में आगे आना. ऐसा और भी केसों में हुआ है जब पत्नियाँ अपने पति के बचाव में आगे आती हैं यह जानते हुये भी कि उनके पति ने कितना बड़ा अपराध किया है. और इससे भी ज़्यादा वह समाज दोषी है, जो एक मासूम बच्ची के साथ हुये शोषण के लिये उसे ज़िम्मेदार ठहराता हैं. मैं आपकी इस बात का पूरी तरह से समर्थन करती हूँ कि हमें अपनी बच्चियों को बहुत मजबूत बनाना होगा जिससे कि वे स्वयं को देह-शुचिता के पूर्वाग्रह से मुक्त कर सकें.

    ReplyDelete
  10. ये सुर्ख़ियों में आ रही न्यूज को पढ़ रही हूँ, लेकिन सत्ता और शक्ति से जीतना आसन काम नहीं है. लड़ने वालों से पूछिए कि क्या क्या सहा है उन्होंने? इसके लिए हर वह इंसान हो वाकई इंसानी संवेदनाओं से पूर्ण है आपत्ति दर्ज करेगा. फिर परिणाम क्या है? क्या बम्बई में बड़ी ३६ साल से मृतप्राय महिला की दशा और कथा इसका एक सशक्त उदारहण नहीं है कि हमारा क़ानून सबूत चाहता है और ऐसे कारनामों के कोई सबूत नहीं होते.

    ReplyDelete
  11. दिनेश द्विवेदी जी से पूर्णतः सहमत . मैं तो देश की बेटियों से कहूँगा की आत्म हत्या नहीं ,जरूरत पड़े तो ऐसे नराधम राक्छासों का बध करें . भले ही देश की नाकाम , नपुंसक न्याय व्यवस्था उन्हें फांसी पर ही क्यूं न चढ़ा दे .

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts