नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

December 30, 2008

समय बदलेगा और जरुर बदलेगा उस दिन जिस दिन हर महिला उठ कर किसी भी नारी के प्रति कहे गए अप शब्दों मे पूरी नारी जाति का अपमान देखेगी ।

नारी को नारी की जगह दिखानी बहुत जरुरी हैं . और नारी को ये जगह केवल और केवल उसके शरीर को याद दिला कर ही दिखाई जा सकती हैं . विषय कोई भी हो , बहस किसी भी चीज़ के ऊपर हो लेकिन अगर बहस पुरूष और स्त्री मे होगी तो पुरूष बिना स्त्री के शरीर की बात किये उसको कैसे जीत सकता हैं क्युकी वो सोचता हैं की "नंगा कर दो फिर देखे साली क्या करती हैं , बहुत बोल रही हैं " इस लिये जरुरी हैं की हम अपनी बेटियों को "नंगा " किये जाने के लिये मानसिक रूप से तैयार कर दे ताकि आने वाली पीढी की बेटिया अपनी लड़ाई नंगा करने के बाद भी लड़ सके और ये समझ सके की जो उन्हे नंगा कर रहा हैं वो उन्हे नहीं अपने आप को "नंगा ' कर रहा हैं .
२ साल से हिन्दी ब्लोगिंग मे हूँ और यही देख रही हूँ सभ्य और सुसंस्कृत लोग कैसे अपने पुरूष होने को prove करते हैं .
लेकिन तारीफ़ करनी होगी ब्लॉग लेखन करते पुरुषों की क्युकी उनमे एका बहुत हैं और कहीं से भी एक दो आवाजो को छोड़ कर चन्द्र मौलेश्वर प्रसाद की टिपण्णी के विरोध मे कोई आवाज नहीं आयी हैं पुरूष समाज से . क्या मौन का अर्थ स्वीकृति हैं . रही बात ब्लॉग लिखती महिला के विरोध करने की और एक जुटता से इसके विरोध मे अपनी आवाज उठाने की तो दोष उनका उतना नहीं हैं जितना उनको "सिखाने और कन्डीशन " करने वालो का हैं ।

समय बदलेगा और जरुर बदलेगा उस दिन जिस दिन हर महिला उठ कर किसी भी नारी के प्रति कहे गए अप शब्दों मे पूरी नारी जाति का अपमान देखेगी गंदगी को इग्नोर करना या ये कहना की कीचड मे पत्थर मारने से कीचड अपने ऊपर आएगा से ज्यादा जरुरी हैं गंदगी को साफ़ करना चाहे हमारे हाथ इस प्रक्रिया मे कितने भी गंदे क्यों ना हो जाए ।


14 comments:

  1. सही लिखा और ज़रूरी लिखा । चोखेर बाली पर हुई व्याख्या मे इसे जोड़ दें तो शायद एक सटीक व्याख्या हो जाएगी, इरादों के नाम पर अब छिपाने को कुछ नही बचा रह गया !

    ReplyDelete
  2. समय बदलेगा और जरुर बदलेगा उस दिन जिस दिन हर महिला उठ कर किसी भी नारी के प्रति कहे गए अप शब्दों मे पूरी नारी जाति का अपमान देखेगी

    these lines are realy mindblowing
    but what i need to say let we have transperent approach to resolve any issue irrespective of gender

    ReplyDelete
  3. Thanks Rachna for writing this. I agree with you and Sujatha on this matter.

    ReplyDelete
  4. आपने सही लिखा है, नारी को सदा नारी बना रखकर ही तो पुरुष शासन करता चला रहा है. नारी को नारी कि जगह दिखानी ही होगी और एक इस आवाज के साथ कई आवाजें साथ आ रही हैं तो कल यह एक जुलूस बन कर नारों में तब्दील होते देर नहीं लगेगी. अभिव्यक्ति सबका अधिकार है और हम तो उनकी बात को उचित स्थान दिख ही सकते हैं.

    ReplyDelete
  5. सहमत हूं आपसे। इग्‍नोर करना समस्‍या का हल कभी नहीं हो सकता।

    ReplyDelete
  6. रचना ....सुजाता .....मैं आपसे सहमत हूँ.....ये भी कोई बात हुई ........इसे अनदेखा नही किया जा सकता है...... किसी भी कीमत पर.....

    ReplyDelete
  7. मेरी टिप्पणी को लेकर कुछ गलतफहमी फैलाई जा रही है। जब गालियों की बात उठी और कुछ सशक्त महिलाओं ने कहा कि हम भी पुरुषों की तरह छूट ले सकते हैं तो मेरी प्रतिक्रिया थी कि उन्हें कौन रोक सकता है। ज़रूर कीजिए और आगे बढिए।
    सुजाता जी के विचार हैं कि-

    "जैसे स्वाभाविक इच्छा किसी पुरुष की हो सकती है -सिगरेट पीने ,शराब पीने , दोस्तों के साथ ट्रेकिंग पर जाने,अपने करियर मे श्रेष्ठतम मुकाम तक पहुँचने और उसके पीछे जुनून की हद तक पड़ने,या फ्लर्ट करने, या गाली देने, या लड़कियों को छेड़ने ,या गली के नुक्कड़ पर अपने समूह मे खड़े रहकर गपियाने ...............
    ठीक इसी तरह ऐसे या इससे अलग बहुत सारी इच्छाएँ स्त्री की स्वाभाविक इच्छाएँ हैं।
    "जब आप भाषा के इस भदेसपने पर गर्व करते हैं तो यह गर्व स्त्री के हिस्से भी आना चाहिए। और सभ्यता की नदी के उस किनारे रेत मे लिपटी दुर्गन्ध उठाती भदेस को अपने लिए चुनते हुए आप तैयार रहें कि आपकी पत्नी और आपकी बेटी भी अपनी अभिव्यक्तियों के लिए उसी रेत मे लिथड़ी हिन्दी का प्रयोग करे और आप उसे जेंडर ,तमीज़ , समाज आदि बहाने से सभ्य भाषा और व्यवहार का पाठ न पढाएँ। आफ्टर ऑल क्या भाषा और व्यवहार की सारी तमीज़ का ठेका स्त्रियों ,बेटियों ने लिया हुआ है?”
    यह प्रसन्नता की बात है कि इस छूट को लगभग सभी लोगों ने नकारा है जिनमें सिधार्थ ने कहा है कि "उम्मीद के मुताबिक प्रतिक्रियाएं इस छूट के विरुद्ध रही। मनिशा जी ने भी कहा है कि महिलाओं को इस तरह का सशक्तिकरन नहीं चाहिए जिससे वो पुरुषों की बुराई को अपनाएं।
    मैं आज की चिट्ठाकार विवेकजी का आभारी हूं जो उन्होंने इस संदर्भ के सभी चिट्ठे एक जगह जमा करके सुविधा पहुंचाया। संदर्भ से काट कर बात का बतंगड बना कर चरित्रहनन करना सरल है, बात को समझना अलग बात है।

    ReplyDelete
  8. आप ने जो कहा वो केवल और केवल एक गलत मानसिकता हैं स्त्री स्वंत्रता / सश्क्तिकर्ण के विरुद्ध.
    आप ने चर्चा मंच का इस्तमाल अपनी गलत धारणा को फेलाने के लिये किया . सुजाता और सिदार्थ मे क्या वाद विवाद चल रहा था वो उनके ब्लॉग तक सिमित था उसका केवल और केवल सन्दर्भ ही चर्चा पर आया और आप की टिपण्णी उनके ब्लॉग पर ना आकर चर्चा ब्लॉग पर आई . आपने जो टिपण्णी दी वो नितांत ग़लत थी क्युकी आप ने सीधा सीधा "रेड लाईट " एरिया मे जाने को कहा उन महिला को जो पुरूष की बराबरी करती हैं गली देने मे .
    अगर पुरूष गली देगा तो अब गली खायेगा भी हम अपनी बेटियों को यही बताना चाहते हैं की अगर तुम से कोई ग़लत जबान मे बोले तो उसका उत्तर उसी जबान मे दो जो तुम से बोली गयी हैं .
    अगर आप वाद विवाद अगर आप वाद विवाद करते हैं तो कृपा करे नारी की शरीर संरचना को बीच मे ला कर अपने अहेम की तुष्टि ना करे . आप को अपनी बात कहने का पूरा अधिकार हैं या तो अपने ब्लॉग पर अपनी बात कहे या वहा कहे जहाँ विवाद चार रहा हैं .

    कमेन्ट को यहाँ बिना मकसद और बीच मे नहीं डाला गया हैं

    और आप की अपनी कही हुई बात की
    "संदर्भ से काट कर बात का बतंगड बना कर चरित्रहनन करना सरल है, बात को समझना अलग बात है। "
    को आप अपनी ऊपर भी लागू करे . और रह गयी बात विवेक जी की तो चर्चा मंच पर जहाँ उन्होने सब लिंक एक साथ दिये हैं वही ये भी कहा हैं की वो गाली प्रकरण से "साधू साधू " कह कर निकल गए हैं .
    पर मै ऐसा नहीं कर सकती
    मेने सन्दर्भ सहित यहाँ लिखा हैं और चर्चा पर भी कहा हैं .
    नारी का शरीर कोई खिलौना नहीं हैं और शरीर की क्या दुर्दशा कोई कर सकता उस से बहुत ऊपर उठ चुकी हूँ

    ReplyDelete
  9. सी एम परशाद जी
    आपने जो कहा वह बहुत स्पष्ट कहा , वहाँ गलतफहमी की कोई गुंजाइश नही छोड़ी आपने।अब आप कुछ भी करके रेड लाइट एरिया खोलने के अपने सुझाव का स्पष्टीकरण नही दे सकते।बस अफसोस कर सकते हैं कि आपसे अभद्रता हुई।

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया पोस्ट पढ़कर अच्छी लगी. धन्यवाद. नववर्ष की ढेरो शुभकामनाये और बधाइयाँ स्वीकार करे . आपके परिवार में सुख सम्रद्धि आये और आपका जीवन वैभवपूर्ण रहे . मंगल्कामानाओ के साथ .
    महेंद्र मिश्रा,जबलपुर.

    ReplyDelete
  11. 'लेकिन तारीफ़ करनी होगी ब्लॉग लेखन करते पुरुषों की क्युकी उनमे एका बहुत हैं और कहीं से भी एक दो आवाजो को छोड़ कर चन्द्र मौलेश्वर प्रसाद की टिपण्णी के विरोध मे कोई आवाज नहीं आयी हैं पुरूष समाज से।'

    यदि किसी टिप्पणी का विरोध न हो तो इसका अर्थ यह नहीं है कि सभी चिट्टाकार उस टिप्पणी से ठीक समझते हैं।

    हिन्दी चिट्ठजगत में, टिप्पणी पर कुछ लिखने पर, अक्सर बेकार का विवाद खड़ा हो जाता है। इसीलिये मैं इससे बचता हूं। उस टिप्पणी का सन्दर्भ ने देते हुए अपनी बात अलग से लिखता हूं। जो अपने परिपेक्ष में उस टिप्पणी को नकारती है। जहां तक मैं समझता हूं, बहुत सारे चिट्टाकार इसी नीति पर विश्वास करते हैं।

    हां यह भी सच है कि मैंने एक दो बार टिप्पणी का जवाब दिया, जैसे कि ' एक शब्द, एक हीरो, एक जीरो' या ' डकैती, चोरी या जोश या केवल नादानी' या ' बनेगे हम सुकरात या फिर हो जायेंगे नील कण्ठ' पर यह तब हुआ जब सर से पानी ऊपर से जाने लगा और लगा कि हिन्दी चिट्ठजगत टूट जायगा।

    ReplyDelete
  12. नारी ब्लाग से जुड़े सभी सदस्यों को नववर्ष की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  13. अगर इस प्रकरण का पटाक्षेप ''वर्ष 2008 के अवसान'' के साथ करते हुए , ब्लागीवूड '' सब की मंगल कामना की आकांक्षा एवं भावना के साथ नववर्ष 2009 '' को खुश-आमदीद कहे तो क्या ज़्यादा आनन्ददायक नही होगा | ज़ेर-ए-बहस विषय की भाषा के सन्दर्भ में मेरा जो अध्ययन है ,उसी के आधार पर मेरा कहना है कि उक्त भाषा के कुछ शब्दों का भाव एवं अर्थ दोनो [ दोनों शब्दों की संधि ना कर अलग अलग जानते बूझते लिखा है ] सापेक्षिक होता है ,केवल और केवल किसी विवाद या वास्तविक झगड़े में ही उनके भावार्थ जीवंत होते हैं वारना वे केवल और केवल '' एक'तकिया कलाम '' से अधिक नही होते |
    " सभी को नववर्ष मंगलमय हो "

    ReplyDelete
  14. सहमत हूं आपसे। इग्‍नोर करना समस्‍या का हल कभी नहीं हो सकता।

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts