नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

March 24, 2012

The Marriage Laws Amendment Bill 2010

The Marriage Laws Amendment Bill 2010
अगर ये बिल पास हो जाता हैं तो

  1. विवाहित महिला को अपने पति संपत्ति पर समान अधिकार मिल जाएगायानी कोर्ट को ये अधिकार होगा की अलगाव की स्थिति में संपत्ति का किस तरह विभाजित किया जाए
  2. डिवोर्स के लिये "कुलिंग पीरियड " की सीमा भी कौर्ट निर्धारित कर सकता हैं जो अभी ६ महीने हैं
  3. दत्तक बच्चो के अधिकार वही होगे जो अपने जाये बच्चो के होते हैं

तमाम सर्वे ये बताते हैं भारतीये महिला एक गलत शादी में केवल इस लिये रहती हैं क्युकी वो आर्थिक रूप से सक्षम नहीं होती हैं और डिवोर्स इस लिये नहीं देती हैं क्युकी पति की आय को साबित करना उनका जिम्मा हैं अगर उनको अलिमनी चाहिये तो । ८० प्रतिशत के पास तो अपने माता पिता के पास वापस जाने का अलावा को चारा ही नहीं होता हैं ।

पत्नी अब इस लिये भी तलाक ले सकती हैं की किन्ही अपरिहार्य कारणों से शादी नहीं निभ सकती हैं लेकिन इस कारण से अगर पति तालक मांगेगा तो पत्नी को अधिकार हैं की वो मना कर दे

अच्छे कानून बनाने के साथ साथ जरुरत हैं की सरकार नारी को इन कानूनों को लागू करने और समझने की सुविधाये भी उपलब्ध करवाये ।

और मानसिकता बदलना बेहद जरुरी हैं वरना एक टकराव की स्थिति की तरफ हमारा समाज अग्रसर हैं जहां As the country grows, there will be areas where the two Indias, one modernising and progressive and the other regressive and hidebound, will collide. This means that the crimes against women could unfortunately rise. The first priority of the local administrations should be to tackle them through strong action, not kneejerk reactions like the one by the Gurgaon administration. Otherwise, even the best of laws will have no effect. It would be like going one step forward and then many steps backward. Instead, we really need to keep in step with the law as it moves forward.

इंग्लिश का ये अंश आज के हिंदुस्तान टाइम्स का एडिटोरिअल हैं
क्युकी इस एडिटोरिअल का एक एक शब्द वही कह रहा हैं जो मै कई बार कह चुकी हूँ कानून के साथ चलना बहुत जरुरी हैं

मैने उस एडिटोरिअल की कुछ बातो को हिंदी में लिख दिया हैं
अगर आप पूरा इंग्लिश में पढना चाहते हैं तो यहाँ जाए

और एक नज़र इस पोस्ट पर डाले , इंग्लिश में हैं पर पढनी चाहिये


समय के साथ चलिये कानून को मानिये तभी समाज में समानता आयेगी और जेंडर बायस से मुक्ति मिलेगी ।

ज्यादा देर करगे तो हो सकता हैं रिवर्स जेंडर बायस से समाज ग्रसित हो जाए

All post are covered under copy right law । Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium ।


Indian Copyright Rules

5 comments:

  1. हाँ , नारी का सघर्ष बढ़ जाता है इसलिए तलाक लेने में देरी करती है। देखते है कानून की पालना कहा तक होती है।

    ReplyDelete
  2. कोई कानून समाज के हित में हैं तो क्यों नही माना जाएगा?इस कानून में ये संशोधन हालाँकि समानता की बात पर तो खरा नहीं उतरता लेकिन फिर भी ये महिलाओं और समाज के हित में हैं और समय की जरुरत भी.
    कानून में बदलाव की जरूरत किसीने समझी तभी तो बदलाव किया गया.मैं तो कब से यही कह रहा हूँ कि कानून के मामले में हमें यथास्थितिवादी नहीं होना चाहिये.वर्तमान कानूनों में बहुत सी कमियाँ हैं यदि हम उन्हें ज्यों का त्यों मानते चले जाएँगे और उन पर कोई सवाल ही नहीं उठाएँगे तो समाज को उनका कोई फायदा नहीं होगा.

    ReplyDelete
  3. Kripya hame ye samjhane ki koshish karen ki Kin mahilaao ko apne maa-baap ki sampatti me adhikar prapt hua hai ya hoga, Un mahilaao ko jinke koi bhaai nahi hai ya sabhi tarah ki mahilaao ko????????

    Sandeep singh, Allahabad

    ReplyDelete
    Replies
    1. सब बच्चो का अपने माँ पिता की संपत्ति पर बराबर का अधिकार हैं . कानून की नज़र में बेटा और बेटी को समान अधिकार हैं .

      भाई हो या ना हो महिला के अधिकार में कोई फरक नहीं हैं उसको कानून अपना हिस्सा मिलेगा . संपत्ति का विभाजन बराबर होगा हर बच्चे में . अगर विल हैं तो जिसके नाम विल हैं वो अधिकारी होगा पर विल को चैलेंज भी किया जा सकता हैं . नॉमिनी का कोई मतलब नहीं होता हैं वो केवल कस्टोडियन होता हैं

      Delete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts