नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

November 06, 2009

यह मिथक तोड़ना ही होगा कि नारी अबला है!

नारी मंच के माध्यम से मैं यह बताना चाहूंगी कि हमारे भारतीय सामाजिक व्यवस्था आज भी बहुत कुछ पुरुष प्रधान ही है. माँ, पत्नी व पुत्री को समर्पित होने की असमानता आधारित सोच आज भी विद्यमान है. आज भी इसी मानसिकता के चलते नारी को कमजोर आंका जाता है. यही कारण है कि पुरुषों की अपेक्षा अधिक कर्मठ महिलाएं भी अशक्त समझ ली जाती हैं. इसलिए इस दिशा में महिलाओं के जीवन स्तर को उन्नत करने, अपने विकास के लिए स्वतंत्रता प्रदान करने, शिक्षा व समाज के सभी क्षेत्रों में सजगता पैदा करने पर बल दिए जाने की बहुत आवश्यकता है. इसके लिए महिलाओं को अपनी आत्महीनता, शर्म, संकोच छोड़कर जीवन की चुनोतियों को स्वीकार कर उनमे बदलाव लाने के लिए स्वयं संघर्ष कर अपनी सहभागिता बढाकर अग्रसर होना होगा.
नारी मंच के मध्यम से मैं कहना चाहूंगी की हमें बहुत दूर जाने की जरुरत नहीं है हमें हमारे आस- स जहाँ कहीं भी नारी जाती का अपमान होता दिखे उसका तत्काल पुरजोर विरोध कर नारी के स्वाभिमान को बचाने के लिए आगे आकर सिर्फ अपनों तक सीमित न रहकर सबके स्वाभिमान को बचने के लिए तत्पर रहने का संकल्प लेना होगा और उसपर हमेशा अडिग रहना होगा.
हमें सभी नारियों को यह बताने की जरुरत है कि उसे अपने आप को निर्बल नहीं बल्कि सबल समझना है, उसमें असीम शक्ति है बस उसे उसको पह्चाना होगा. उसे यह समझाने की जरुरत है की जब तक निर्बल बनी रहोगी तब तक कोई साथ नहीं देगा. अपने अन्दर स्वाभिमान की रक्षा के लिए आग पैदा करनी होगी. देखो प्रकृति भी उसी का साथ देती है जो सबल होता है. आग को हवा का साथ मिल जाने पर वह धधक उठती है, किन्तु जब उसी हवा का संपर्क दीपक से होता है तो वह उसे पल भर में बुझा देती है.
हमें नारी स्वाभिमान के लिए अपने अन्दर आग पैदा करने और अपनी शक्ति को पहचानने के लिए हमेशा जागरूक रहकर सभी को इस दिशा में अविरल भाव से प्रेरित करते रहने के लिए संकल्पित रहना होगा.

- कविता रावत

5 comments:

  1. आपके विचारों से पूर्ण सहमत हूँ!नारी अबला नहीं है वरन सामाजिक षड़यंत्र से उसकी मानसिकता अबला बना दी जाती है.
    अच्छे लेख केलिए आभार!

    ReplyDelete
  2. कविताजी
    नारी ब्लॉग पर आपका स्वागत है आपने नारी शक्ति को बहुत ही अच्छे रेखांकित किया है ,अब पुरुष के इस मिथक से बाहर आना होगा कि हाय अबला जीवन तुम्हारी यही कहानी आँचल में है दूध आँखों में पानी |

    ReplyDelete
  3. शोभना चौरे
    didi aap ne kavita ji kaa swagat kiya mujeh achcha lagaa aasha haen aap is manch par isii prakaar sae hamara aur sabka utsaah badhaatee rahegi

    kavita
    naarimanch blog jagat mae isiiliyae banaa haen ki ham sab us par apni baat keh sakey aap ne keha aur kitna sahi kehaa . asmaantaa haen uar usko dur karnae ki pehal ham nahin karaegae to kaun karaega
    samay haen apni baat ko gunj banaaney kaa .

    ReplyDelete
  4. kavitaji,

    svagat hai, apane apani isa post se jo dastak di hai, vah sab ne suni hai aur asha hai ki isa dastak ko sab tak pahuncha kar sabal hone ki praman dena hoga. vaise ham apane sabal hone ka praman barabar dete rahen hain phir bhi isa samaaj ko samajh nahin aata hai ki aleli rani lakshmibai ne jhansi ka itihaas badal diya tha to sab mil kar nari ke star ko to sudhar hi sakte hain.

    ReplyDelete
  5. thank you for writing kavita its a pleasure to have you writng here on this blog keep the flow going

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts