नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

November 09, 2009

'वंदे मातरम' पर क्यों है हंगामा बरपा...बराहे-करम कोरी लफ़्फ़ाज़ी करने वाले न पढ़ें...

जिस तरह से 'वंदे मातरम्' पर उलेमाओं के फ़तवे को लेकर इन दिनों हंगामा बरपा है, उसे देखकर यह कहना क़तई गलत न होगा कि "और भी गम है जमाने में 'वंदे मातरम् पर फ़तवे' के सिवा... सबसे ज़्यादा हैरत की बात यह है कि 'वंदे मातरम्' देश से जुड़ा गीत है (फ़िलहाल इसकी ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में जाने की ज़रूरत नहीं), इसलिए इसके खिलाफ फ़तवा जारी कर माहौल को खराब करने को किसी भी सूरत में जायज़ नहीं ठहराया जा सकता...

अगर फ़तवा जारी कर...मुसलमानों से अपने हर बच्चे को तालीम दिलाने की बात की जाती तो जाए तो... खुशामदीद...क्योंकि मुसलमान शिक्षा के मामले में बेहद पिछड़े हुए हैं...इस वजह से उनकी सामजिक और आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है...

अगर फ़तवा जारी कर...अगर मुस्लिम औरतों की हालत बेहतर बनाने पर ज़ोर दिया जाए तो...खुशामदीद...क्योंकि मुस्लिम औरतों की हालत बेहद दयनीय है...मर्द को यह हक़ हासिल है कि वो कभी भी चार निकाह कर सकता है...और कभी भी तलाक़ के तीन लफ्ज़ बोलकर अपनी बीवी को घर से निकाल सकता है...

अगर फ़तवा जारी कर...जेहाद से जुडी तथाकथित प्रचलित बातों पर लगाम लगाई तो...खुशामदीद...क्योंकि आम प्रचलन में जो बातें हैं उनके मुताबिक़ जेहादी मर्दों को जन्नत में हूरें, जन्नती शराब और एशो-आराम की ऐसी ही चीज़ें मिलेंगी...(जन्नत में औरतों को क्या मिलेगा इसका कोई ज़िक्र नहीं है, शायद जन्नत सिर्फ़ मर्दों के लिए ही होगी...औरतें यहां भी नर्क भोगें और वहां भी...औरत होने की यही सज़ा है...) इसमें क्या सही है और क्या ग़लत?...उलेमाओं को इस बारे में फ़तवे जारी कर स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए...ताकि कंफ्यूज़न दूर हो...

आज देश के मुसलमानों को शिक्षा और रोज़गार की ज़्यादा ज़रूरत है... इसीलिए सवाल यह है कि मुसलमानों की इन बुनियादी ज़रूरतों की तरफ़ ध्यान दिया जाना चाहिए या फिर 'वंदे मातरम्' का मुद्दा उठाकर उन्हें देश के बहुसंख्यकों से अलग करने की कोशिश करनी चाहिए?

'वंदे मातरम्' पर देवबंद का रुख़ सबको मालूम है...इसके बावजूद 'वंदे मातरम्' के खिलाफ़ बार-बार फ़तवा जारी करने का मक़सद क्या है...? यह सवाल भी ख़ुद कई सवाल पैदा कर रहा है, जिसका जवाब सिर्फ़ फ़तवा जारी करने वाले ही बेहतर दे सकते हैं...

-फ़िरदौस ख़ान

पाठक ध्यान दे फिरदौस एक महिला हैं , कमेंट्स मे बराबर उनको भाई कह कर संबोधित किया जा रहा हैं ।
सुमन
नारी ब्लॉग मोडरेटर

20 comments:

  1. thanks kae allawa koi alfaaz nahin haen itnae sadhey huae aalekh par
    jai hind vandaemaatrm aur jan gan man par jab koi duvidha hotee haen to lagtaa haen log kyun nahin samjhtey

    ReplyDelete
  2. फरदौस भाई बहुत सही लिखा है आपने। सलाम करता हूँ आपके जज्बे को। बहुत ही सटिक बात कही आपने

    ReplyDelete
  3. आपने बिल्कुल सही कहा है...एक-एक लफ्ज़ से सहमत...

    ReplyDelete
  4. मिथिलेश
    नारी ब्लॉग पर केवल नारी की ही पोस्ट आती हैं

    ReplyDelete
  5. bahut sahi likha aur aapki kalam se to aur bhi achchha hua, kyonki hamari maansikata abhi badali nahin hai. agar main likhati to shayad kuchh logon ko bura lagata ki main alochana karane vali kaun hoti hoon. aap aur sab mere likhane ke ashay ko samajh rahe honge.

    ReplyDelete
  6. sukriyaa sahi likha ek dum 100% aur unlogo ka bhi jo aapki baat se sahmat hain.

    apas mai bhai bhai ko ladane pe tule hain ye loog

    desh ki tarakki inhe pasand nahi

    lagaan ka geet yaad aaya
    baar baar haan bolo yaar haan apni jeet ho unki haar ho koi hamse jeet na paaye..baade chalo baade chalo....

    aur jo badna jaante hai woh inki baat par nahi aate

    ReplyDelete
  7. bahut shi likha hai buniyadi jrurte hi jutana kathin ho rha hai to aise ftvo ka kya aouchity?
    bhukhe pet bhjan na hoy gopala .
    kuch isi tarh ka hashra hoga kabhi .

    ReplyDelete
  8. फिरदौस भाई
    आपका यह पोस्ट पढ्कर मै पूरी तरह से नतमस्तक हूँ ........आपके बहुत ही नेक ख्याल है !

    बिल्कुल इन सब मुद्दाओ पर पहल होनी चहिये!

    ReplyDelete
  9. ओम आर्य

    नारी ब्लॉग पर केवल नारी की ही पोस्ट आती हैं

    ReplyDelete
  10. Bahut Achha Likha Hai ! Badhaai !!

    ReplyDelete
  11. ये हमारे देश का दुर्भाग्य है कि यहाँ पर येन केन प्रकारेण जरूरी चीजों से हमेशा लोगों का ध्यान भटकाया जाता है। और बेवकूफ जनता आपस में सिर फुटौवल करने पर तुल जाती है।
    ------------------
    और अब दो स्क्रीन वाले लैपटॉप।
    एक आसान सी पहेली-बूझ सकें तो बूझें।

    ReplyDelete
  12. बिलकुल सही सवाल उठाया आपने. धन्यवाद. ऐसी ही लौ जगाए रखें.

    ReplyDelete
  13. इस थकेले विवाद को आज हवा देने की कोई ज़रूरत नहीं थी, और न ही ऐसा कोई प्रसंग बन रहा था. पर


    धार्मिक झगड़े क्यों उठाए जाते हैं? लोग जानने लगे हैं कि उन की रोटी महंगी हो गई है यह बात शोर में दब जाए।

    ReplyDelete
  14. आपने जितने सुझाव दिए उनको अमली जामा पहनाने के लिए हिम्मत की ज़रुरत भी है और मुसलामानों के प्रति प्यार की भी. हम सब जानते हैं की इन फतवाचियों में कितना प्यार और कितना साहस है.

    बेरीढ़ के लोग क्रान्ति नहीं कर सकते वे पहले अमरीकी हथियारों से रूस के नाम पर अफगानों को मार सकते हैं और बाद में चीनी हथियारों से अमरीका के नाम पर पर. चाहे छुरा तरबूज पर गिरे चाहे तरबूज छुरे पर आखिर में दोनों बार मरा गरीब अफगान मुसलमान ही.

    ReplyDelete
  15. माफी चाहूगाँ रचना जी ऐसा गलती से हो गया, मुझे पता नहीं था।

    ReplyDelete
  16. खुशआमदीद...।

    अफ़सोस इस बात का है कि इन मुल्ला हजरात को मुस्लिम समुदाय की तरक्की, औरतों के मानवाधिकार, बच्चों की शिक्षा आदि के बारे में कुरआन शरीफ़ में कुछ लिखा हुआ दिखाई ही नहीं देता है। उन्हें सिर्फ़ एक यन्त्र हाथ लगा है जो बताता है कि अल्ला मियाँ किन बातों से नाराज हो जाते हैं और इस्लाम को किन बातों से नापाक होने का खतरा है।

    बाकी बातों के लिए कुछ पढ़े लिखे लोगों से उम्मीद करिए। इन मूढ़ देवबन्दियों से नाहक उम्मीद पाल रही हैं।

    ReplyDelete
  17. firdos ji
    bahut sahi farmaya hai aapne.but u know what is the problem with we people of india we wright, we debate but never try to put our affort to root out this problem. how many of those who r here participate in social cause, we always think that Ashfaq ullah khan gar paida hon to padosi ke ghar me. do u know why i took this name becoz everybody says bhagat singh paida hon par ashfaq bhai bhi utane hi bhartiy the jitne bhagat singh.
    aaj hame bhagat singh se jyada ashfaq bhai jaise log chahiye jo apnai com ko samjhaye unhe bataye ki bhrtiyata kya hoti hai deshprem kya hota hai jo rah se bhatake muslim yuvao ke liye ek role model bane.
    shayad kuch jyada hi likh diya. sahi hai na

    ReplyDelete
  18. एक ओर वन्देमातरम्‌ पर फतवा और दूसरी ओर वन्देमातरम्‌ विरोधियों का पुतला जलाया जाना - ये दोनों ही सरासर गलत हैं। सही तरीका यह है जो फिरदौस जी ने अपनाया है। जिस दिन इन कौम के ठेकेदारों को पता चल जायेगा कि जनता में अपनी खुद की भी समझ है और वह उनके फतवों से न तो प्रभावित होती है और न ही उनकी कोई कद्र करती है उस दिन ये इस प्रकार से सस्ती लोकप्रियता हासिल करने की कवायद छोड़ देंगे। अपने अनुयायियों को भेड़-बकरी सदृश हांकना तब ही बन्द हो सकता है जब जनता शिक्षित हो जाये। पर ये लोग तो अंग्रेज़ी, गणित, विज्ञान,हिन्दी व संस्कृत पढ़ाने का भी विरोध करते हैं! इस लिये ऐसे लोगों की बातों की क्या परवाह की जाये !

    ReplyDelete
  19. फ़िरदौस जी, आपने सही कहा है यही सही तरीका है... मुस्लिमों की सबसे बडी कमज़ोरी यही है कि उन्होने सारे इस्लाम का ठेका मुल्लाओं को दे दिया है उन्हे किसी चीज़ से कोई मतलब नही है... जो मुल्ला जी ने कह दिया वो सही है चाहे उसका कुछ भी मतलब हो हम तो उसी को मानेंगे....

    तलाक की बात पर मैं आपसे सहमत नही हूं मैं नही जानता की आपको इसके बारे में पुरी जानकारी है या नही...

    लेकिन सिर्फ़ तीन बार तलाक कहने से तलाक नही हो जाता है इसका पुरा एक तरीका है====

    जिसका खुलासा मैं हदीसों और कुरआन की आयतों के साथ करूगां बहुत जल्द....

    वैसे इस लेख का ज़िक्र मैनें अपने लेख में किया है...

    http://qur-aninhindi.blogspot.com/2009/11/no-indian-muslim-is-patriostic.html

    ReplyDelete
  20. firdaus saheba,asa,sahi mauqe se bilkul sahi baat kahi aapne.jab logon ko thodi khhamoshi mahsoos hoti hai to aatishbaazi ki tayyari shuru ho jaati hai.

    maaf keejiyega main talaq wali baat par kaashif sahab se sahmat hoon.allah pura mauqa deta hai ke insaan apni ghhalti sudhar le.

    bahar haal is lekh ke liye mubarakbad qubool karen.

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts