नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

March 26, 2009

नारी ब्लॉग का आज एक वर्ष पूरा हुआ ।

कल से नवरात्री शुरू हो रही हैं । पिछले साल नारी की पहली पोस्ट नवरात्री की पहली तिथि पर आयी थी । सो हमने सोचा अग्रेजी कलेंडर को दरकिनार कर के हम हिन्दी तिथि से आज आप को सूचना दे दे की नारी ब्लॉग का आज एक वर्ष पूरा हुआ ।
नारी ब्लॉग के सदस्यों के नाम की लिस्ट भी संलगन हैं क्युकी
वो ना होते तो हिन्दी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग जहाँ केवल महिला ब्लॉगर , ब्लॉग पोस्ट करती हैं , भी ना होता । संवाद होता रहा , विवाद होता रहा , सदस्य आते जाते !!! रहे सो ये सूची आप भी देखे ।
नारी ब्लॉग आज एक वर्ष का हुआ सदस्यों को बधाई

सदस्य

सब को अपनी अपनी मंजिल ख़ुद पानी हैं । चलना जरुरी हैं और जरुरी नहीं हैं की एक लाइन मे ही चला जाये । महिला की लाइन का मतलब महिला के लिये अलग लाइन नहीं हैं महिला की लाइन का मतलब केवल बंधी बंधाई लाइन { लीक } हैं जिस पर महिला को चलना ही हैं या होता हैं । मेरा मतलब किसी आरक्षण या कानून से नहीं हैं बल्कि घिसी घिसाई मानसिकता से ऊपर उठ कर चलाना हैं । ये तो सब मानते हैं की महिला के लिये एक लाइन अभी भी बनी हैं .उस लाइन को तोड़ कर बराबरी की बात जो महिला करती हैं वही जिन्दगी मे आगे जाती । विद्रोह व्यक्ति या जाति से नहीं किया जाता हैं , विद्रोह किया जाता हैं समाज मे फैली रुढिवादिता से , दोयम फेलाने वाली मानसिकता से लेकिन किसी भी विद्रोह से पहले अपने पैरो के नीचे की जमीन को देखना जरुरी होता हैं । अगर आप के पैरो के नीचे दलदल हैं तो आप का विद्रोह आप के लिये ही हानिकारक होगा ।

नारी सशक्तिकरण यानी वूमन एम्पोवेर्मेंट मे सबसे जरुरी हैं की हर स्त्री अपने को आर्थिक रूप से स्वतंत्र करे । मेहनत करे और अपनी रोटी ख़ुद कमाए । सिर्फ़ और सिर्फ़ शिक्षा और आर्थिक स्वाबलंबन ही सदियों से जकड़ी औरत को आज़ादी दे सकता हैं

हर महिला को आज़ादी हो , अपनी सोच से ये तय करने के लिये वह क्या करना चाहती हैं । और आज़ाद वह होता हैं जो मन से आजाद होता हैं । समाज क्या हैं और कैसे बना हैं ? क्या व्यक्ति समाज को नहीं बनाता ? समाज के नियम देश और काल से बनते बदलते हैं । समाज की सोच समय के साथ बदलती रहती हैं और उस सोच को बदलने मे कुछ व्यक्तियों का ही हाथ होता हैं ।


ये एक बड़े फलक के सवाल है, और एक बड़ी ज़मीन, और बड़ा आसमान माँगते है लेकिन अगर सब अपने अपने हिस्से के सवालो के जवाब खुद खोजे तो उन्हे ज्यादा इंतज़ार नहीं करना होगा की कोई आएगा और उन्हे एक बड़ी जमीन दे जायेगा ।

समूह बनते हैं काम होते हैं समय लगता हैं , पर जिन्दगी बहुत छोटी हैं और कुछ लोग उस जिन्दगी को जीना चाहते हैं काटना नहीं इस इंतज़ार मे की एक दिन सब ठीक हो जायेगा । समाज मे उन व्यक्तियों की हमेशा आलोचना हुई हैं जो लीक पर नहीं चले .

जिस समाज मे औरत की आजादी को ये समझा जाता हैं की वह " आजाद ख्याल यानी स्वछंद हैं " उस समाज से लड़ने बेहतर हैं की हम अपने लेवल पर अपने को आज़ाद करे ।

महिला होने की वजह से मेरी सामाजिक भागेदारी केवल ५०% हैं और अगर मै उस ५०% मेरे अपने जीवन को सम्पूर्ण और सार्थक बना लूँ और किसी एक को भी और "जगा" सकूं तो हम २ नहीं ११ हैं ।

हम समाज से नहीं , समाज हम से हैं । घुटन से आजादी मिलती नहीं अर्जित की जाती हैं और उसे पाने के लिये पाने से पहले बहुत कुछ खोने के लिये भी तैयार रहना होता हैं

ग़लत को ना स्वीकारना ,सच बोलना , ग़लत को जानते हुए अपनी सुविधा अनुसार compromise कर लेना और बाद मे आत्म मंथन कर के समाज मे और समाज से स्वतंत्रता का आवाहन केवल एक लाइन पर चलना होता हैं , एक सोच पर चलना होता हैं

अपनी समस्याओं को हल जो नारी ख़ुद खोज लेगी वो अपने को ही नहीं अपने साथ एक पूरे परिवार , एक पूरे समाज , एक पूरे देश को बदलने की ताकत रखती हैंताकत हमारे अंदर होती हैं बस उसको पहचानने की जरुरत हैं

समाज मे बदलाव तभी होगा जब समाज मे नियम सबके लिये बराबर होगे और नारी को निरंतर इस बात के लिये प्रगतिशील रहना होगा

नारी के प्रति हिंसा का हिस्सा मानती हूँ ,मै उन कमेंट्स को जिसमे नाम से या अनाम किसी भी महिला ब्लॉगर के लिये प्शब्द होते हैंजिस प्रकार से डोमेस्टिक वोइलेंस के ख़िलाफ़ आवाज उठाने के लिये आवाहन होता हैं मेरा भी सब से निवेदन हैं कहीं भी महिला के प्रति ग़लत कमेन्ट देखे आवाज उठाये और विरोध करेसमाज की रुढिवादी सोच को ब्लॉग पर ना पसरने देनारी कोई doormat नहीं हैंगंदगी को साफ़ करना बहुत जरुरी होता हैं ताकि बदबू ना आयेनारी ब्लॉग पर मेरी यही कोशिश हैं की हिन्दी ब्लॉग जगत मे कहीं भी कोई भी अपशब्द किसी भी महिला के लिये ना होहमारे नज़रिये भिन्न हो सकते हैं लेकिन हर बहस पर जब बात से उत्तर कर नारी के वस्त्रो और शरीर पर आती हैं और गाली गलोज होती हैं तो वो किसी भी बलात्कारसे कम नहीं हैं और बलात्कार का दोषी केवल बलात्कारी ही नहीं होता वो सब लोग भी होते हैं जो इस बलात्कार को नहीं रोकते सो आप सब से अनुरोध हैं इस हिंसा का हिस्सा ना बने और उसे रोके

अगर आप जानना चाहते हैं आपने इस ब्लॉग पर कब और कितनी टिपण्णी दी हैं तो साइड पट्टी मे अपने नाम को क्लीक करके देखे


नारी ब्लॉग का जन्मदिन याद दिला रहा हैं मकसद जिस को ले कर सब सदस्य साथ चलेअब किसने कितना उस मकसद को जिया और नहीं जिया तो क्यूँ नहीं जिया ये मै सदस्यों के ऊपर ही छोड़ देती हूँ व्यक्तिगत रूप से मेरे लिये वो पल बहुत खुशी का होता हैं जब कोई भी महिला मेल भेज कर ब्लॉग से अपने को जोड़ना चाहती हैं


जिस पाठक ने भी इस ब्लॉग पर कमेन्ट किया हैं उसको आज थैंक्स कह कर मै नारी ब्लॉग का जन्मदिन माना रही हूँ मेरी खुशी मे हिस्सा बांटने का वक्त हैं आप सब को निमन्त्रण हैं ।



थैंक्स आप सब को

46 comments:

  1. बहुत बधाई और शुभकामनायें एक वर्ष पूरा होने पर!!

    ReplyDelete
  2. एक वर्ष पूरा होने की खुशी में बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं ... आशा है 'नारी' ब्‍लाग निरंतर प्रगति के पथ पर अग्रसर रहेगा।

    ReplyDelete
  3. इस एक वर्ष में "नारी" नें बहुत उतार चढाव देखें हैं, बहुत सी बाधायें आयीं और बहुतों ने स्वीकारा लेकिन हिचकिचाहट के साथ! और.... आज ये एक सफ़ल और सहज है.

    किंतु नारी अभी उन नारियों तक नहीं पहुँची है जिसकी अपेक्षा आप सभी से है अतः मेरा मानना है कि इसे आम नारी तक पहुँचाकर उसकी आवाज बनायें,जिससे यह एक ब्लॉग न होकर एक विशाल और संगठित मंच बने.

    एक साल पूरे होने की हार्दिक बधाई

    आप सभी से छोटा
    कमलेश मदान

    ReplyDelete
  4. नारी से जुड़े सभी ब्लोगर को बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  5. बहुत बहुत बधाई सबको ...आपने लिखा बहुत अच्छा है इस पर रचना जी

    ReplyDelete
  6. नारी ब्लॉग को सफलतापूर्वक एक वर्ष पूरा करने के लिए बधाई.. हालाँकि ये सफ़र कठिन बहुत रहा..

    वैसे आज सब लो आपको कमेन्ट देंगे.. जो यहाँ आना मुनासिब नहीं समझते वो भी आयेंगे.. क्योंकि ब्लोगर्स सार्थक टिप्पणियों में विश्वास रखते है... जैसे की बहुत बहुत बधाई आपको..

    गिनती जाइये आती रहेगी टिप्पणिया..

    ReplyDelete
  7. नारी हुई एक साल की इस अवसर पर पूरी टीम को बधाईयां और शुभकामनाएं । बढ़ते रहें यूँ ही कदम

    ReplyDelete
  8. एक साल सफलता से पूरा करने पर बधाई , कई नई चुनोतियाँ आपके सामने है . नारी या कहे जननी ही स्रष्टि का आधार है .

    ReplyDelete
  9. बहुत बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  10. बहुत बहुत बधाई सबको ...आपने लिखा बहुत अच्छा है इस पर रचना जी

    ReplyDelete
  11. पिछले एक वर्ष में नारी बहुत आगे बढ़ी है, एक साल की हमारी उपलब्धियां कम नहीं हैं, कम से कम सोचने पर मजबूर कर रही है, उन लोगों को भी जिन्होंने कभी सोचा नहीं था कि नारी जुबान भी रखती है और वह भी इतनी तीखी. उन्हें भी जिन्होंने नारी को उत्साहित किया है, अपने हक़ और जमीर को बनाये रखने के लिए.
    रचना तुम्हारी रचना ने एक नया इतिहास रचा है और आगे भी इसको इसी तरह से अपनी बात दुनियाँ तक पहुँचाने के लिए एक सफल मंच बनी रहेगी. बहुत बहुत बधाई........................

    ReplyDelete
  12. एक वर्ष पूरा होने की खुशी में बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  13. सभी को बधाई और ढेर सारी सारी शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  14. आपको व आपकी टीम को बधाई। भविष्य के लिए शुभकामनाएँ।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  15. सभी नारियों को हार्दिक बधाई।
    कामना करती हूँ कि
    ऐसे अनेकानेक मंच हों जाएँ जहाँ स्त्री की अभिव्यक्ति ,उसका पक्ष ,उसका अनुभव बेबाक लिखा जाता हो !!

    ReplyDelete
  16. *नारी* ब्लॉग की सूत्रधार "रचनाजी एवं आपके सभी सहयोगी सदस्यों" को
    "हिंदी नव संवत्सर" की पूर्व संध्या पर *नारी* के एक वर्ष पूरा होने की
    "हार्दिक बधाई व असंख्य शुभकामनाएँ".

    श्रंखलाएं हों पगों में ,
    गीत गति में है सृजन का,
    है कहाँ फुर्सत पलक को ,
    नीर बरसाते नयन का,
    उठो आगे बढो ,
    ये समय है कुछ कर दिखाने का.

    स्मरण रहे ,
    जब सागर में आये झोंके ,
    किसमें ताकत आये रोके,
    शोषित सूखी सरिताओं के ,
    आहों का अरमान उठा है,
    लहरों में तूफ़ान उठा है............

    सबको नमन.

    *अलका मधुसूदन पटेल*

    ReplyDelete
  17. जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनाएँ। मुझे भी आश्चर्य हो रहा है कि आज मैं यहाँ सौवीं टिप्पणी कर रहा हूँ।
    नारी ब्लाग 6 अप्रेल को आरंभ हुआ था, साल 365 दिन का होता है इसलिए वर्षगांठ तो 6 अप्रेल को ही होगी। पर इस बहाने एक बार और इस ब्लाग को बधाई देने का अवसर मिलेगा।
    एक सुझाव दे रहा हूँ यदि माना जाए तो। आप इस ब्लाग को योजना बद्ध तरीके से चलाएँ। रोज घट रही घटनाओं के आधार पर नहीं। क्या बातें किस तरह रखनी हैं? उन्हे पहले से सुनिश्चित कर लिया जाए, तो शायद यह ब्लाग प्रगति के नए सोपान चढ़ेगा। हाँ अचानक घटी घटनाओं पर तो लिखना ही पड़ेगा।

    ReplyDelete
  18. बहुत बधाई और शुभकामनायें !!! सकारात्मक प्रयास सार्थकता पाए .....यही कामना है.

    ReplyDelete
  19. Congratulations and best of wishes for future

    ReplyDelete
  20. प्रिय रचना व सभी साथियों को हार्दिक शुभकामनाएँ व बधाई।

    ReplyDelete
  21. बहुत बधाई और शुभकामनायें....

    ReplyDelete
  22. तहे-दिल से बहुत बहुत बधाई, और साथ में सबको यह भी याद करने/दिलाने का वक्त है कि नए रास्ते पर चलने पर आजादी के साथ जिम्मेदारी भी होती है। उम्मीद है, हम सब इसी जिम्मेदारी से आगे बढ़ते रहेंगे। शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  23. नारी ब्‍लॉग के एक वर्ष पूरे होने पर रचना जी और सभी सदस्‍यों को बधाई और सफलता के नित नए प्रतिमान बनाने की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  24. अपनी सक्रियता बनाए रखने के लिए "नारी" को ढेर सारी बधाई औऱ शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  25. एक वर्ष पूरा होने की खुशी में बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं
    आपके चिठ्ठे की चर्चा आज समयचक्र में
    समयचक्र: चिठ्ठी चर्चा : एक लाइना में गागर में सागर

    ReplyDelete
  26. कर पदाघत अब मिथ्या के मस्तक पर, सत्यान्वेषण के पथ पर निकलो नारी
    तुम बहुत दिनो तक बनी दीप कुटिया की
    अब बनो क्रांति की ज्वाला की चिंगारी

    शुभकामनाएं....बधाई.....

    ReplyDelete
  27. बधाई.. और शुभकामनाऐं नये बर्ष के लिये.

    ReplyDelete
  28. सार्थक...सुविचारित...सुघड़
    प्रस्तुति की वर्षगाँठ पर
    बधाई अंतर्मन से.
    ==============
    चन्द्रकुमार

    ReplyDelete
  29. एक वर्ष पूरा होने पर बहुत बहुत बधाई...अभी तो यह बाल्यावस्था है... और भी कई पड़ाव पार करने हैं जिसके लिए शुभकामनाएँ ..

    ReplyDelete
  30. !! लाल और बवाल --- जुगलबन...
    • aahuti • baar-baardekho
    • girish billore - Google Blo...
    • Manish4all
    • nitin's Blogs
    • SRIJAN
    • उड़न तश्तरी ....
    • डूबेजी
    • बुन्देली-राज़
    • मिसफिट Misfit,மிச்பிட்,మిస్...
    • शब्द विहंग
    • सव्यसाची
    • हिन्दी साहित्य संगम जबलपुर
    • मेरे मुहल्ले का नुक्कड़
    • Meri Rachnaye-Prem Farrukha...
    • विवेक रंजन श्रीवास्तव ,
    •आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'!!,
    यानी हम सभी जबलपुरिया ब्लॉगर'स की शुभ कामनाएं स्वीकारिए

    ReplyDelete
  31. नारी ब्लॉग और इसके पूरे परिवार को पहली वर्षगांठ की बहुत-बहुत शुभकामनाएं.. यह कारवां यूं ही आगे बढ़ता रहे..

    ReplyDelete
  32. कई नई चुनोतियाँ आपके सामने है . नारी या कहे जननी ही स्रष्टि का आधार है .एक वर्ष पूरा होने की खुशी में बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं ... आशा है 'नारी' ब्‍लाग निरंतर प्रगति के पथ पर अग्रसर रहेगा।

    ReplyDelete
  33. मेरी भी बधाई स्वीकारें .

    ReplyDelete
  34. सबको धन्यवाद . कुछ अपने अभी भी नहीं आये हैं .

    ReplyDelete
  35. लेटलतीफ़ी के लिये क्षमा चाहता हूं। एक सार्थक संघर्ष का एक वर्ष पूरा होने पर हार्दिक बधाई और साधुवाद। मेरी दृष्टि में आपकी सबसे बड़ी उपलब्धि लोगों को नारी की सामाजिक अवस्थिति के बारे में स्वस्थ वैज्ञानिक संवाद के लिये प्रेरित कर पाना है। इस प्रयास में आपने जिस सैद्धान्तिक दृढ़ता और व्यवहारिक लचीलेपन का प्रमाण दिया है उसके लिये आपकी जितनी प्रशंसा की जाय कम है।

    ReplyDelete
  36. बधाई और शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  37. BAHUT BAHUT BADHAYEE !

    PAHLEE BAR YEHAN AAYA .

    YEH PRAYAS AUR ISKA UDDESHY MATRISHAKTI KA AAVAHAN HAI, PRATEEK BHEE.

    JAROOREE HAI KI KAREEB KAREEB SAMPOORNA GYANT MANVEEYA ITIHAS ME, POOREE DUNIYA ME FAILE, PURUSH SATTATMAK SAMAJ VYAVASTHA ME BADLAAV HO.ISEE VYAVASTHA ME HEE NAREE KE PRATI SARVKALEEN POORVAGRAH JANYA AAPRADHIKATA KEE JADEN BHEE HAIN.

    AUR IS SOCH KO SIRF NIYAM VIDHAN SE HEE NAHEEN BALKI SIKSCHA, SVAVALAMB AUR AVASARON KEE SAMANATA SE HEE BADLA JA SAKTA HAI.

    PRAKRITI NE STREE PURUSH KEE BHUMIKAYEN TAY KEE HAIN PAR YAH ROG TO SAMAJ VYAVASTHA KA HAI JAHAN NAREE 'CHOTEE' HOKAR HEE PAIDA HOTEE HAI .'SRISTI' NAREE KARTEE HAI 'VANSH' PURUSH KA CHALTA HAI.

    BINA IS SOCH ME BADLAAV KE,MANVEEY SAMAJ VYAVASTHA KA KOYEE BHEE 'SHUBH' SAMBHAV NAHEEN, NA SOCHA JA SAKTA HAI.

    POORE SAMAJ ME ' SAMTA , SAMANATA AUR PARASPAR SAMMAN ' KA UDDESH ISKE BINA SAMBHAV NAHEEN.

    LEKIN YAH SANGHARSH LAMBA AUR KATHIN HAI. ISLIYE PRAYAS BHEE VAISE HEE KARNA HOGA.

    AAP SAB KO PUNAH BADHAYEE AUR MERA NAMAN !

    ReplyDelete
  38. "नारी" एक अच्छा पर्यास है पर बहुत से पुरुष भी हैं जो नारी जागृति और उत्थान के लिए सरगर्म रहे हैं और अब भी हैं.....

    खैर....एक बार फिर मुबारकबाद स्वीकार करें....!

    ReplyDelete
  39. नारी चेतना को जागृत करने वाला एक अद्भुत ब्लॉग ...बहुत बहुत शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  40. नारी से जुड़े सभी ब्लोगर को बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  41. रचना जी
    नमस्कार
    देर आयद दुरुस्त आयद वाली कहावत आज मेरे ऊपर सही साबित हो रही है जो कि मैं इतनी देर से" नारी " ब्लॉग पर पहुंची । नारी ब्लॉग के एक वर्ष पूरे होने पर बहुत - बहुत बधाई हो ।
    रचनाजी मैं भी आपके इस ब्लॉग से जुडना चाहती हूम , इसके लिए मुझे क्या करना होगा बताईयेगा जरूर । मेरा ई मेल आई डी --shashi.asma@gmail.com

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts