नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

March 12, 2009

प्रगतिशील नारियां एक ऐसा शब्द बना दिया गया हैं जो आप एक गाली कि तरह इस्तमाल करते हैं ।


प्रगतिशील नारियां यानी बंधी बंधाई सोच से हट कर सोचने वाली स्त्रियाँ । रुढिवादी सोच यानी एक बंधी बंधाई लकीर जिस पर सालो से नारी चल रही थी । जहाँ क्या क्या करना हैं और क्या क्या नहीं करना हैं इसका फैसला वो ख़ुद नहीं करने मे सक्षम थी , उसे कोई और बताता था । समाज के बनाए हुए नियम जिसमे नारी को बराबरी का नहीं दर्जा नहीं दिया गया । जहाँ नारी को केवल और केवल एक वस्तु माना गया पुरूष के लिये एक ऐसा खिलौना जिसका शील कभी भी पुरूष भंग कर सकता था ।

इन सब परिस्थितयों से लड़कर जिस स्त्री ने भी अपना मुकाम अलग बनाया , समाज से अपने अस्तित्व कि पुकार कि कही उसे नारीवादी कहा गया तो कही फेमिनिस्ट और कहीं प्रगतिशील का तमगा दिया गया .

प्रगतिशील शब्द का का सीधा अर्थ हैं
प्रगतिशील नारी कि परिभाषा प्रगतिशील शब्द से फरक हो जाती हैं ऐसा क्यूँ । ये भेद भाव कब तक जारी रहेगा जहाँ हम नारी कि प्रगति को एक तंच के रूप मे देखते रहेगे ।

आज एक ब्लॉग पर एक बहुत अच्छी पोस्ट देखी वहाँ जो लिखा था अनुजा अपने ब्लॉग पर लिखती हैं । लेखक ने मुद्दा अपने ब्लॉग पर सही उठाया हैं लेकिन जब यही बात कोई स्त्री कहती हैं तो उसको प्रगतिशील का फतवा दे दिया जाता हैं और उसको भारतीये संस्कृति नष्ट करने के अपराध का दोषी माना जाता हैं ।
धर्म और उसकी दासता क्या ये केवल स्त्रियाँ ही करती हैं , भारतीये पुरूष नहीं करते । क्या धर्म से जुडी बातो को केवल और केवल महिलाए ही मानती हैं ?? धार्मिक दासता का शिकार तो पूरा भारत हैं और अज्ञान- जितनी जल्दी दूर हो उतना अच्छा ।

प्रगतिशील नारियां एक ऐसा शब्द बना दिया गया हैं जो आप एक गाली कि तरह इस्तमाल करते हैं ।
  • प्रगतिशील होने मे क्या बुराई हैं ??
  • प्रगति के रास्ते पर चलना क्यों ग़लत हैं ।
  • प्रश्न हैं प्रगति क्या हैं ??
  • क्यारुढिवादी सोच से हट कर सोचना प्रगति हैं ??
  • रुढिवादी सोच क्या हैं क्या आप परंपरागत सोच को रुढिवादी मानते हैं
  • या ये दोनों अलग अलग बाते हैं ?

जो लोग प्रश्न करते हैं कि ब्लॉग लिखने से हम हर तबके कि स्त्रियों का भला नहीं कर सकते , सही लिखते हैं । लेकिन क्या केवल महिला ब्लॉगर के ब्लॉग पढे लिखे तक ही जाते हैं , क्या पुरूष ब्लॉगर के ब्लॉग सड़क पर काम करती मजदुर औरते या घर मे काम करती मैड और चौका बर्तन मांजने वाली औरते पढ़ती हैं ??
ब्लॉग केवल और केवल पढे लिखे लोगो तक ही पहुंचता हैं । नारी सशक्तिकरण कि जरुरत पढ़ी लिखी नौकरी पेशा औरतो को ज्यादा हैं । आज भी बहुत सी महिलाए नौकरी करती हैं पर अपने पैसे पर उनका अधिकार नहीं हैं और ये बात मैने इस सर्वे मे पढ़ी हैं woman earn and man decide how to spend
ऐसी महिलाए जो सशक्त तो हैं पर अधिकारों के प्रति सचेत नहीं हैं , ब्लॉग लेखन उनके लिये भी हो सकता हैं । सशक्तिकरण के साथ साथ अधिकारों के प्रति सजगता ही प्रगति का दरवाजा खोल सकती हैं ।

पोस्ट ख़तम करते करते याद आया जहां मेरी माता श्री रेकी सेण्टर चलाती हैं उस मार्केट मे जिस दिन सुबह महिला सफाई कर्मचारी नहीं आती हैं तो हर पुरूष दूकानदार दुसरे से पूछता हैं " क्या हुआ मायावती , आज फिर नहीं आयी ? " और बाकी सब फिस्स करके बतीसी फाड़ देते हैंअब ना तो उस महिला सफाई कर्मचारी का नाम मायावती हैं और ना इस प्रश्न मे हंसने लायक कोई बात हैं फिर वो सब इतना क्यूँ हंसते हैं बूझो तो जाने । कुछ पहेलियाँ वाकई समझ नहीं आती ।

एक और भी पहेली हैं कि क्या हिन्दी मे ब्लॉग लिखने के लिये अपनी बात को लोगो तक पहुचाने के लिये हिन्दी पत्रपत्रिकाए पढ़ना , हिन्दी मे सक्षम होना { यानी डिग्री डिप्लोमा होना } जरुरी हैं

10 comments:

  1. रचनाजी, आपने इस पोस्ट को मेरे लेख के जवाब में लिखा। यानी मुझे उत्तर दिया। इस हाजिर जवाबी के लिए शुक्रिया। दिल से।
    दरअसल, धर्म के प्रति जितनी बेचारगी महिलाओं में है, उतनी ही पुरुषों में भी। दोनों ही एक बिंदु पर खड़े हैं। धार्मिक आसक्ती दोनों के ही रास्तों को भटका रही है।
    और जो पुरुष स्त्रियों और उनके काम पर हंसते हैं, मेरी नजर में वे सब नापुंसक हैं। मैं उनका विरोध करता हूं। जहां जो गलत है, उसका प्रतिकार करने के लिए हर एकको आगे आना चाहिए।
    बहरहाल, आपने बंधनों को तोड़ने की बात कही। यह प्रयास बेहतर है। पर इसमें भी बहुत-सी बातें और चीजें हैं जो वैचारिक और सामाजिक बदलाव चाहती हैं।

    ReplyDelete
  2. "नारी सशक्तिकरण कि जरुरत पढ़ी लिखी नौकरी पेशा औरतो को ज्यादा हैं ।"
    आपकी सभी बातों से सहमत हूँ, पर यह बात कुछ हजम नहीं हुई.
    ज़रा इसको स्पष्ट करें. हमारे जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय में कई लडकियां हैं जो एम्.फिल और पीएच.डी कर रही हैं, उनमें से कई जानी मानी बहुराष्ट्रीय कंपनियों में काम भी करती हैं. अगर उनकी जीवनशैली को देखें तो लगता है की पुरुष भी उनसे कम स्वछन्द हैं. दिनभर में ३-४ पैकेट सिगरेट पीना (कभी-कभी ड्रग्स भी) और रात के दो बजे तक लड़कों के साथ मिनी स्कर्ट में घूमना. उन्हें और कितने अधिकारों और "सशक्तीकरण" की आवश्यकता है ये समझ में नहीं आता. और अगर इन्हें और ज्यादा अधिकार (मुझे नहीं पता कौन से) मिल भी जाते हैं तो दुनिया में महिला जाति का कितना कल्याण हो पायेगा? क्योंकि ऐसी महिलाओं की संख्या का प्रतिशत दशमलव में ही आयेगा.
    आपने जिस सर्वे का जिक्र किया है वह भी ऐसी ही एलिट क्लास की महिलाओं के बीच किया गया है. घर के किसी भी सदस्य (चाहे वो पुरुष हों या स्त्री) द्वारा कमाए गए पैसों को कैसे खर्च या निवेश किया जाए यह निर्णय सामान्यतः सर्वसम्मति से या फिर घर के सबसे अनुभवी और जिम्मेदार व्यक्ति द्वारा लिया जाता है. गावों में देखें तो आज भी पुरुष अपनी पूरी तनख्वाह घर की सबसे वरिष्ठ और जिम्मेदार महिला के हाथों में देते हैं चाहे वो दादी हों, माँ अथवा पत्नी और इसे कैसे खर्च करना है इसका निर्णय भी सामान्यतया वही करती हैं.

    रही बात महिला सफाई कर्मचारी को "मायावती" संबोधित करने वाली तो यह "महिला अधिकारों" का नहीं "दलित अधिकारों" का मुद्दा है. क्योंकि ऐसी टिप्पणियां पुरुष सफाई कर्मचारियों पर भी की जाती हैं. और टिपण्णीकारों का उद्देश्य लिंग विशेष को नहीं बल्कि जाति/वर्ग विशेष को नीचा दिखाना होता है.

    ReplyDelete
  3. अंशुमाली जी आप नारी ब्लॉग पर चल रही प्रगतिशीलता के आलेखों को { जो केवल एक लाइन के थे } और जिन पर आप ने कमेन्ट भी किया हैं को नज़रअंदाज कर रहे हैं । आपकी पोस्ट का जिक्र इस पोस्ट मे हैं पर किसी जवाबी कार्यवाही के तहत् नहीं हैं ब्लॉग लेखन आत्म मंथन हैं

    ReplyDelete
  4. आप एलिट किसे कहते हैं निर्भर इस पर करता हैं । बदलते परिवेश मे middle क्लास भी एलिट हो गया हैं . मैने कई बार पहले भी कहा हैं की हर वो चीज़ जिसको आप { यानी समाज } ग़लत समझता हैं उसको अगर बंद करवाना हैं तो स्त्री पुरूष दोनों के लिये बंद करवाये । आप एक बार आत्म मंथन करके बताये आप को आपत्ति किस बात पर हैं की रात को २ बजे लडकियां मिनी स्कर्ट मे घुमती हैं या इस बात पर की रातो २ बजे वेस्टर्न outfit मे घुमती नयी पीढी { यानी लड़के और लड़की दोनों }

    ReplyDelete
  5. रचना जी , आपकी बात सच हो सकती है पर आप जिस नारी तबके की बात कर रही है वहां ऐसी कितनी महिलाएं हैं जिनकी मासिक आय पुरूष लेते हैं । स्वतंत्र और स्वछंद दोनों शब्दों के अलग अलग पर्याय हैं । हमें अभी जरूरत है नारी की स्वतत्रा की । अधुनिक होना बिल्कुल गलत नहीं पर आधुनिकता के साथ गलत कार्यों में संलग्न होना गलत है । बराबर का अधिकार समाज में नारी को अभी तक नहीं मिला है यह बात बिल्कुल सही हैं । पितृसत्तामक समाज होने यह बात पुरूष वर्ग स्वीकार नहीं करता । यह बदलाव धीरे- धीरे ही हो रहा है और हो सकता है । प्रगतिशील के मायने आपने खुद ही गिनाये हैं पर इनसे दो हाथ आगें बढ़कर जब नारी कुछ करती है तो बात गले नहीं उतरती ।

    आपकी ये बात सही है कि जो महिला ब्लागर लिखती हैं उसको पढ़ने वाला कौन है ? वो महिलाओं का बड़ा वर्ग गांवों बसता है उसके लिए क्या मायने पर यहां मैं यही कहूँगा कि अब महिलाएं हर क्षेत्र में सामने तो आ रही है । आपके भी चिचार बहुत हद तक सकारात्मक है । बधाई इस पोस्ट के लिए ।

    ReplyDelete
  6. आपकी बात से सहमत हूँ ....

    ReplyDelete
  7. उस मार्केट मे जिस दिन सुबह महिला सफाई कर्मचारी नहीं आती हैं तो हर पुरूष दूकानदार दुसरे से पूछता हैं " क्या हुआ मायावती , आज फिर नहीं आयी ? " और बाकी सब फिस्स करके बतीसी फाड़ देते हैं । अब ना तो उस महिला सफाई कर्मचारी का नाम मायावती हैं और ना इस प्रश्न मे हंसने लायक कोई बात हैं फिर वो सब इतना क्यूँ हंसते हैं बूझो तो जाने । कुछ पहेलियाँ वाकई समझ नहीं आती ।
    Yeh hamare samaaj ke paakhandi charitra par tippni hai jo kahta to hai sabko ek hi () ne banaya hai, par vastav meN manta kya hai vahi is 'HISS' meN chhupa hai. Kabhi-kabhi lagta hai ki yeh kisi zahrile sanp ki 'HISS' se kai guna khatarnak aur ghinauni hai.

    ReplyDelete
  8. मुझे आपति किसी बात से नहीं है. मैं महिलाओं के अधिकारों और उनकी स्वछंदता का सामान करता हूं. मुझे बस आपकी "नारी सशक्तिकरण कि जरुरत पढ़ी लिखी नौकरी पेशा औरतो को ज्यादा हैं ।" वाली बात से इत्तिफाक था जो मैंने दर्ज करा दिया. मेरे हिसाब से तो नारी सशक्तिकरण कि जरुरत निम्न और निम्न-मध्यम वर्ग की महिलाओं को ज्यादा है; जिन्हें "अधिकार" और "नारी सशक्तिकरण" का मतलब भी पता नहीं है.

    ReplyDelete
  9. कृपया ऊपर की टिप्पणी में "सामान" को "सम्मान पढें.

    ReplyDelete
  10. रचना जी , आपकी बात सच हो सकती है पर आप जिस नारी तबके की बात कर रही है वहां ऐसी कितनी महिलाएं हैं जिनकी मासिक आय पुरूष लेते हैं

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts