नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

November 09, 2008

आज एक दिन बहुत सार्थक बीता । महिला जो ब्लॉग लिखती हैं दिल्ली हाट मे मिली ।

सात एक बहुत अच्छी संख्या मानी जाती हैं ।
षड़ज, ऋषभ, गांधोर, मध्यम, पंचम, धैवत तथा निषाद ये सात स्वर
अतल, वितल, सुतल, तलातल, महातल, रसातल और पाताल ये सात तल
मरीचि, अंगिरा, अत्रि, पुलह, केतु, पौलस्त्य और वैशिष्ठ ये सात ऋषि
भू, भुवः स्वः, महः, जन, तप और सत्य नाम के सात लोकों
गोरोचन, चंदन, स्वर्ण, शंख, मृदंग, दर्पण और मणि सात पदार्थ
इन्द्रधनुष के सात रंग और सात समुद्र
आज एक दिन बहुत सार्थक बीता । महिला जो ब्लॉग लिखती हैं दिल्ली हाट मे मिली । संख्या ७ थी !!
नाम हैं
मनिवंदर ,रंजना ,सुजाता ,अनुराधा ,सुनीता , मीनाक्षी और रचना
अभी के लिये एक स्लाइड शो , विस्तृत रिपोर्ट बहुत शीघ्र ।

Your pictures and fotos in a slideshow on MySpace, eBay, Facebook or your website!view all pictures of this slideshow

16 comments:

  1. अच्छा जी! बहुत बढ़िया.अच्छी ब्लागर मीट कर ली आप लोगों ने,रपट का इंतजार है.

    ReplyDelete
  2. waah bahut badhiya tasveerein hai,aur chehre bata rahe hai muskan dil se hai,sundar meet raha.

    ReplyDelete
  3. is tarah ke aayojan ke liye sadhuwaad.bahut achcha laga dekhkar.par photographs ke saath naam bhi de den to pahchanne me badi suwidha hogee.

    ReplyDelete
  4. ये बढ़िया रहा, बधाई..आगे विवरण का इन्तजार है.

    ReplyDelete
  5. " bhut bhut bdhaee aab sbhee ko, detailed report pdhne ka wait hai.."

    Regards

    ReplyDelete
  6. वधाई हो. जिस उद्देश्य से आपने यह गोष्टी की उस में आप को सफलता मिले.

    ReplyDelete
  7. देख कर अच्छा लगा... विवरण का इन्तजार रहेगा.

    ReplyDelete
  8. मीट की फोटोस्लाइड देखकर बहुत अच्छा लगा. विस्तृत आख्या की प्रतीक्षा है.

    डॉ. मीना अग्रवाल

    ReplyDelete
  9. बधाई,...काश हम भी देहली मैं होते.

    ReplyDelete
  10. मुझे भी आना था. आ नहीं सकी. सबको देखकर लग रहा है खूब मस्ती हुई. अब अगली बार जरुर आउंगी .

    ReplyDelete
  11. तस्वीरें देखकर लगता है मैंने बहुत कुछ मिस किया

    ReplyDelete
  12. आप सभी को एक साथ देखकर खुशी हुई -
    विश्वास है कि काफी महत्त्वपूर्ण और आशा से भरी चर्चा रही होगी
    स स्नेह,
    - लावण्या

    ReplyDelete
  13. congrats to all of you.

    slideshow bahut badhiya raha . aur aaj meenakshi ji ke blog pr padha bhi sach hamne miss kar diya . khair agli baar sahi .

    aur han vo sameer ji ke shabdoin me sadhuvaad .

    ReplyDelete
  14. तस्वीरों के साथ ब्लॉगर्स का नाम भी इंगित होता तो अच्छा होता। अनुराधाजी और रचनाजी के अतिरिक्त बाकी को पहचानने में कन्फ्यूजन हो रहा है। कैर... इस मुलाकात के लिए आप सबको बधाई।

    सात की संख्या पर संकलन अच्छा रहा। शोभा जी भी आ गयी होतीं तो आठ पर कुछ दूसरी बातें पढ़ने को मिलतीं:)

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts