नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

November 01, 2008

"मनविंदर" को थैंक्स और "चुलबुल" का स्वागत

अभी तक कही भी हिन्दी ब्लोगिंग की बात होती थी प्रिंट मीडिया मे तो केवल कुछ ही गिने चुने ब्लोगर्स का नाम प्रिंट मीडिया मे दिया जाता था । किसी भी लेख मे ब्लोगिंग करती महिलाओं का जिक्र नहीं होता था । मनविंदर ने अपने अथक परिश्रम से ब्लोगिंग करती महिलाओ के ब्लोग्स को अपने अखबार हिन्दुस्तान के माध्यम से बहुत से लोगो तक पहुचाया हैं । मै मनविंदर की दिल से आभारी हूँ की उन्होने इस विषय को इतनी गंभीरता से लिया हैं और मै तारीफ़ करती हूँ उनकी लगन की । मनविंदर केवल कुछ ही महीनो से हिन्दी ब्लॉगर बनी हैं पर उनका योगदान हिन्दी ब्लोगिंग को आगे ले जाने मे बहुत हैं । मनविंदर के अपने ब्लॉग का नाम हैं मेरे आस पास । मनविंदर सरीखी सखियाँ हो तो जिन्दगी आसन हो जाती हैं और बहुत सी नारियों और चोखेर बालियों को अपनी घुटन से आज़ादी मिल जाती हैं । हिन्दी ब्लॉग लेखन मे ब्लॉग लिखती महिला और उनके ब्लॉग को "ब्लॉग फेमिनिस्म " कह कर एक नेगेटिव सोच से बांधना मुझे कभी सही नहीं लगा क्युकी मैने कभी नारी के हक़ मे की गयी बात को पुरूष के विरोध मे की बात नहीं माना । मनविंदर की तरह एक अनकहे मकसद की तरह इस मुहीम को आगे ले जाना कि " नारी को आगे बढ़ाने के लिये हम जो कर सकते हैं हम अपनी अपनी जगह और अपने अपने तरीके से करे " एक बहुत ही पोसिटिव नजरिया हैं ।






मनविंदर की नज़र से रचना { सूत्रधार } का कम्युनिटी ब्लॉग नारी












मनविंदर की नज़र से सुजाता { सूत्रधार } का कम्युनिटी ब्लॉग चोखेर बाली










मनविंदर की नज़र से आर. अनुराधा का ब्लॉग इन्द्रधनुष










मनविंदर की नज़र से अनुजा का ब्लॉग मत-विमत








मनविंदर की नज़र से प्रत्यक्षा का ब्लॉग प्रत्यक्षा








मनविंदर की नज़र से रंजना का ब्लॉग कुछ मेरी कलम से














अगर कोई प्रविष्टि शामिल होने से रह गयी हैं तो सूचित करे
और स्वागत करे हमारी एक नन्ही मुन्नी ब्लॉगर चुलबुल...उम्र 4 साल...class l.k.g...
मज़ा ले इनके कार्टून्स का

12 comments:

  1. मनविंदर जी जो हिन्दी ब्लागिंग के लिए कर रही हैं वह सच में बहुत तारीफे काबिल हैं ..उनका तहे दिल से शुक्रिया और रचना जी इस दिशा में आपकी मेहनत भी कम नहीं हैं जो हर ख़बर को सब पढने वालों तक पहुंचाती हैं ..नन्ही चुलबुल का स्वागत है

    ReplyDelete
  2. मनविंदर जी को हमारी भी वधाई और धन्यवाद.
    चुलबुल का ब्लाग देखा, बहुत अच्छा लगा. हमारी शुभकामनाएं.

    @मैने कभी नारी के हक़ मे की गयी बात को पुरूष के विरोध मे की बात नहीं माना.
    इस सकारात्मक सोच के लिए वधाई.

    ReplyDelete
  3. My heartfelt wishes to all of you. Keep writing & blogging. This is our way to express our feelings.

    ReplyDelete
  4. रचना जी नमस्कार,
    अच्छा लगा कि आप इतना गंभीरता से इस ब्लॉग को देखती है. आपकी हौसलाफजाई के लिए शुक्रिया. दरअसल ये सारे ड्राइंग मेरी 4 साल की बिटिया ही बनाती है जिसके नाम से ये ब्लॉग है. मेरा काम सिर्फ़ उस कार्टून को लेकर बोले गए उसकी बातो को लिखना है. जब वो नया कुछ बनाती है तभी मई ब्लॉग update कर पाती हू. अच्छे दर्शक के रूप में आपके सहयोग के लिए शुक्रिया..
    http://chulbulrashmitoons.blogspot.com/
    I got this on my email id from Rashmi Singh Chulbuls mother

    ReplyDelete
  5. यह तो बहुत खुशी की बात है । मनविंदर जी को धन्यवाद ।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  6. चलते रहें हम चलते रहें

    ReplyDelete
  7. रचना जी.
    आप मुझे यूँ ही थैंक्स कर रही है ...ऐसा कर मुझे शर्मिंदा न करो यार....मुझे ख़ुद को ब्लॉग पर लिख कर और उसे कालम में शामिल कर अच्छा लगा . मैं जब ब्लोगिंग में आई तो मुझे कुछ ब्लॉग सच मुच्च अच्छे लगे.....मैंने इन ब्लॉग को अपने कालम में लिया......हम सब अपने अपने ब्लॉग पर कुछ न कुछ लिख कर ब्लोगिंग में अपनी उपस्तिथि दर्ज कर रही हैं.....यह हम सब के लिए गर्व की बात है.....हम में से कई ऐसी भी हैं जिन्हें आपने स्पोर्ट किया...रंजना ने स्पोर्ट किया .....दरअसल ये हम सब के साँझा प्रयास हैं....आपने सभी ब्लॉग को एक जगह दे कर और भी अच्छा काम कर दिया. ......आपको मेरी और से ढेर साड़ी बधाई

    ReplyDelete
  8. मनविन्दरजी ,आपके सकारात्मक प्रयास काबिले तारीफ हैं,,,नन्ही चुलबुली से परिचय कराने का भी शुक्रिया...

    ReplyDelete
  9. Manvinder ji ko bahut badhayee aur rachna ji ko bhi jo sabhi nari bloggers ko ek saath lane ka prayas kar rahi hain.chul bul ka swagat hai-aur bahut sari shubh kamnayen bhi-

    ReplyDelete
  10. मनविंदर सचमुच एक अच्छा काम कर रही हैं। इसके लिए मेरा हृदय से धन्यवाद। किसी मकसद के लिए काम करना एक बात है, और प्रतियोगिता के इस ज़माने में दूसरों के काम को महत्व देते हुए सबके सामने लाना मेरेख्याल से ज्यादा बड़ा काम है। इसके लिए मनविंदर को बधाई। अपना अच्छा काम जारी रखें।

    ReplyDelete
  11. बहुत बधाई मानविन्दर जी !देर से देखा पर अच्छा लगा देख कर ।

    ReplyDelete
  12. मन्विंदर जी, सबको एक साथ एक रूप देकर जो आपने छवि प्रस्तुत कि है उसके लिए बधाई.

    मैं अभी नयी नयी ही इस ब्लॉगर परिवार में शामिल हुई हूँ .

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts