नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

December 28, 2012

ये सब होता आया हैं तो "गलत कैसे " हुआ .

  अभिजीत मुख़र्जी ने बयान "dented painted " लड़कियां / औरते छात्रा नहीं  हैं और वो बलात्कार की घटना के बाद फैशन की तरह मोमबती ले कर विरोध प्रदर्शन करती हैं

जब उनके इस बयान पर विवाद हुआ , विरोध हुआ तो दूसरा बयान आया की उन्हे पता नहीं था ये सब भाषा बोलना " sexiest remarks " माना जाता हैं

एक दम सही
सदियों से जो लोग औरतो को "कुछ भी " कहने के आदि रहे हैं वो कैसे समझ सकते हैं की ये सब गलत हैं .

अब अभिजीत मुख़र्जी की क्या बात करे हमारे आप के बीच में ही ना जाने कितने ऐसे हैं जो निरंतर ब्लॉग पर ख़ास कर हिंदी ब्लॉग पर ऐसे ना जाने कितने शब्दों और वाक्यों का प्रयोग करते रहे हैं .

उनकी नज़र में ये सब होता आया हैं तो "गलत कैसे " हुआ .

जेल में बंद गैंग  रेप के दोषी भी यही कह रहे हैं की उनको समझ नहीं आ रहा हैं की "इतनी ज़रा सी बात का इतना हंगमा कैसे बन गया . औरत के खिलाफ  क्रिमिनल एसोल्ट तो वो करते ही रहे हैं , इस मे इतना गलत क्या हैं "


जो सब होता आया हैं वो गलत होता आया हैं , महिला को उसके अधिकार , समानता के अधिकार से हमेशा वंचित किया गया हैं . उसको सुरक्षित रहने की शिक्षा दे कर रांड , छिनाल , कुतिया , और भी ना जाने कितने नाम दे कर "यौन शोषण " उसका किया गया हैं .

लोग ये समझना ही नहीं चाहते की ये किसी भी महिला का मूल भूत  अधिकार हैं की वो कुछ भी करे कुछ भी लिखे कैसे भी रहे

आप को ना पसंद हो तो आप उसका विरोध करे लेकिन आप को ये अधिकार नहीं हैं की आप उसको "sexist" रिमार्क्स दे . आप को किसी की भी निजी पसंद ना पसंद पर ऊँगली उठाने का अधिकार हैं ही नहीं . कानून और संविधान के दायरे मे रह कर बात करे और विगत में क्या होता था इसको ना बताये क्युकी विगत गलत था हैं और रहेगा . महिला के कपड़े , सहन , बातचीत इत्यादि को सुधारने की जगह अगर ये ध्यान दिया जाए की आप की भाषा में कभी भी कही भी "सेक्सिस्ट टोन " तो नहीं हैं

कल खुशदीप की एक कविता थी की अगर नगर वधु का अस्तित्व ना होता तो समाज में और दरिन्दे होते जो और बलात्कार करते इस लिये नगर वधु को सलाम

बड़ी ही खराब सोच हैं अपनी जगह { कविता ख़राब हैं मै ये नहीं कह रही } , नगर वधु यानी वेश्या इस लिये चाहिये ताकि पुरुषो की कामवासना तृप्त होती रहे , इस से विभत्स्य तो कुछ हो ही नहीं सकता . समाज में कोई वेश्या ना बने कोशिश ये होनी चाहिये .

कल की पोस्ट पर एक स्टीकर बनाया हैं संभव हो तो उसका उपयोग करे और नारी के प्रति हिंसा का विरोध करे


13 comments:

  1. आज के लेख में सच्चे व भयंकर शब्दों का प्रयोग किया गया है अत: मेरे कुछ कहने से कोई बेवजह का विवाद पैदा करे इसलिये चुप रहना ही ठीक है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अत: मेरे कुछ कहने से कोई बेवजह का विवाद पैदा करे इसलिये चुप रहना ही ठीक है।

      sahi kaha jaat devta...

      jai baba banaras...

      Delete
  2. मोमबत्ती तो प्रतीक मात्र है .... प्रकाश करने के छोटे प्रयास का।

    अराजकता अन्याय के फैले गहन अन्धकार में कोई इतना भी न करे तो क्या करे .... अस्त्र-शस्त्र लेकर घूमना जब वर्जित हो तब मोमबत्ती फैशन का हिस्सा होती है। वाह रे पोल्टू नंदन!! वाह!!!

    जनाब, आप क्यों काला चश्मा लगाकर घूमते हैं? मानने को तो वो भी फैशन के दायरे में रखा जा सकता है। आँखों की मक्कारी न झलक जाए ,... क्या इस कारण ही???

    ReplyDelete
  3. सुन्दर प्रस्तुति,
    जारी रहिये,
    बधाई !!

    ReplyDelete
  4. एक स्टीकर बनाया हैं ....
    स्टीकर kahaan hai .......... ??

    ReplyDelete
    Replies
    1. http://indianwomanhasarrived.blogspot.in/2012/12/blog-post_26.html
      you can find the sticker here and also on the top right of the template of this blog

      Delete
  5. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (29-12-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  7. पता नहीं ये देश कब सुधरेगा और नारी को कब पहचानेगा।

    ReplyDelete
  8. this is what mr abhijit mukherji - son of mahamahim - is saying.

    that

    i am apologising BECAUSE PEOPLE WERE HURT , and despite the reporters asking him REPEATEDLY that are you just apologising for "hurt sentiments" but not about the THOUGHT PROCESS - he refuses to reply, he sticks to his VIEW, but takes back the WORDS....

    whether people speak dirt or not does not matter much when inside their heads they THINK those things. because when they THINK dirty, they will definitely act dirty whenever they get a chance, though they may not show their true colors in places where they are going to be ridiculed for their dirty mindsets

    ReplyDelete
  9. एक ट्रेंड सा हो गया है , कुछ भी कह लो , फिर माफ़ी मांग लो ..
    मैं आपके इस कथन से एकदम सहमत हूँ कि कोई नगरवधू ना बने , ना बनाई जा सके , समाज की आवश्यक जिम्मेदारी होनी चाहिए !

    ReplyDelete
  10. विचारोत्तेजक पोस्ट .. मैं आपके ब्लॉग पर ये देखने आया था की एक महिला वैज्ञानिक के दिए विवादित बयान के बारे में कोई पोस्ट आई है या नहीं, यदि है तो कृपया मुझे उसका लिंक दें

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्छी पोस्ट .... पोस्टिंग रखना

    बधाई !!

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts