नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

February 24, 2011

क्या हाऊस वाईफ का कोई अस्तित्व नहीं ?

क्या हाऊस वाईफ का कोई अस्तित्व नहीं ?
क्या उसे financial decision लेने का कोई अधिकार नहीं ?
क्या हाऊस वाईफ सिर्फ बच्चे पैदा करने और घर सँभालने के लिए होती हैं ?
क्या हाऊस वाईफ का परिवार , समाज और देश के प्रति योगदान नगण्य हैं ?
यदि नहीं हैं तो
क्यों ये आजकल के लाइफ insurance , बैंक या mutual fund आदि से फ़ोन पर पूछा जाता हैं कि आप हाऊसवाईफ हैं या वर्किंग ?financial decision तो सर लेते होंगे ?
इस तरह के प्रश्न करके ये लोग हाऊस वाईफ के अस्तित्व पर प्रश्नचिन्ह खड़ा नहीं कर रहे ?
क्यों आज ये पढ़े लिखे होकर भी ऐसी अनपढ़ों जैसी बात पूछी जाती हैं और सबसे मज़ेदार बात ये कि पूछने वालीभी महिला होती हैं .
क्यूँ उसे पूछते वक्त इतनी शर्म नहीं आती कि महिलाएं वर्किंग हों या हाऊस वाईफ उनका योगदान देश के विकास मेंएक पुरुष से किसी भी तरह कमतर नहीं हैं . जबकि आज सरकार ने भी घरेलू महिलाओं के योगदान को सकलघरेलू उत्पाद में शामिल करने का निर्णय लिया हैं .................अपने त्याग और बलिदान से , प्रेम और सहयोग सेहाऊस वाईफ इतना बड़ा योगदान करती हैं ये बात ये पढ़े लिखे अनपढ़ क्यूँ नहीं समझ पाते ?
आज एक स्वस्थ और खुशहाल समाज इन्ही हाऊस वाईफ की देन हैं यदि ये भी एक ही राह पर निकल पड़ें तोपश्चिमी सभ्यता का अनुकरण करने में कोई कमी नहीं रहेगी और उसका खामियाजा वो चुका रहे हैं तभी वो भी हमपूरब वालों की तरफ देख रहे हैं और हमारे रास्तों का अनुसरण कर रहे हैं . आज बच्चों की परवरिश और घर कीदेखभाल करके जो हाऊस वाईफ अपना योगदान दे रही हैं वो किसी भी वर्किंग वूमैन से काम नहीं हैं ---------क्याये इतनी सी बात भी इन लोगों को समझ नहीं आती ?

इस पर भी कुछ लोगों को ये नागवार गुजरता है और वो उनके अस्तित्व पर ही प्रश्न चिन्ह लगा देते हैं ..........पतिऔर पत्नी दोनों शादी के बाद एक इकाई की तरह होते हैं फिर सिर्फ आर्थिक निर्णय लेने की स्थिति में एक को हीमहत्त्व क्यूँ? क्या सिर्फ इसलिए क्यूंकि वो कमाता है ? ऐसा कई बार होता है कि कोई मुश्किल आये और पति होतो क्या पत्नी उसके इंतज़ार में आर्थिक निर्णय ले ? या फिर पत्नी की हैसियत घर की चारदीवारी तक ही बंद हैजबकि हम देखते हैं कि कितने ही घरों में आज और पहले भी आर्थिक निर्णय महिलाएं ही लेती हैं........पति तो बसपैसा कमाकर लाते हैं और उनके हाथ में रख देते हैं ..........उसके बाद वो जाने कैसे पैसे का इस्तेमाल करना हैजब पति पत्नी को एक दूसरे पर इतना भरोसा होता है तो फिर ये कौन होते हैं एक स्वच्छ और मजबूत रिश्तेमें दरार डालने वाले.............ये कुछ लोगों की मानसिकता क्या दर्शा रही है कि हम आज भी उस युग में जी रहे हैंजहाँ पत्नी सिर्फ प्रयोग की वस्तु थी ............मानती हूँ आज भी काफी हद तक औरतों की ज़िन्दगी में बदलाव नहींआया है तो उसके लिए सिर्फ हाउस वाइफ के लिए ऐसा कहना कहाँ तक उचित होगा जबकि कितनी ही वोर्किंगवुमैन भी आज भी निर्णय नहीं ले पातीं ...........उन्हें सिर्फ कमाने की इजाजत होती है मगर खर्च करने या आर्थिकनिर्णय लेने की नहीं तो फिर क्या अंतर रह गया दोनों की स्थिति में ? फिर ऐसा प्रश्न पूछना कहाँ तक जायज है किनिर्णय कौन लेता है ? और ऐसा प्रश्न क्या घरेलू महिलाओं के अस्तित्व और उनके मन सम्मान पर गहरा प्रहारनहीं है ?


ऐसी कम्पनियों पर लगाम नहीं लगाया जाना चाहिए ..........उन्हें इससे क्या मतलब निर्णय कौन लेता है .........वोतो सिर्फ अपना प्रयोजन बताएं बाकि हर घर की बात अलग होती है कि कौन निर्णय ले ...........ये उनकी समस्या हैचाहे मिलकर लें या अकेले........उन्हें तो इससे फर्क नहीं पड़ेगा ........फिर क्यूँ ऐसे प्रश्न पूछकर घरेलू महिलाओंके अस्तित्व को ही सूली पर लटकाते हैं ?


क्या आप भी ऐसा सोचते हैं कि -----------

घरेलू महिलाएं निर्णय लेने में सक्षम नहीं होतीं?
उन्हें अपने घर में दायरे तक ही सीमित रहना चाहिए?
आर्थिक निर्णय लेना उनके बूते की बात नहीं है ?
जो ये कम्पनियाँ कर रही हैं सही कर रही हैं?
..........

19 comments:

  1. are bhaai hous wife hmari bahn bloging ki duniyaa ki sirmor he fir kya khen . akhtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  2. अत्यंत विचारणीय प्रश्न उठाए है आपने....घरेलू महिलाओं को अकसर फुरसतिया और निर्णय लेने में अक्षम मान लिया जकतक है...इस पर सभी को विचार करना चाहिए।

    एक अत्यंत सार्थक मुद्दा उठाने के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  3. घरेलू महिलाएं निर्णय लेने में सक्षम नहीं होतीं?

    hotee haen par unkae har niranay mae prathmiktaa unkae pati ki hi hotee haen kyuki wo paesa laataa haen
    उन्हें अपने घर में दायरे तक ही सीमित रहना चाहिए?
    unka dayra simit ho hi jataa haen kyuki ghar sae bahar kyaa ho rhaa haen yae wo daekhna nahin chahtee haen karan kuchh bhi ho
    आर्थिक निर्णय लेना उनके बूते की बात नहीं है ?

    aarthik nirnay wahi laetaa haen jo paesa laataa haen kamaa kar aur ghar mae rhane waali har patni kabhie naa kabhie yae jarur suntee haen " paesa kaesae kamaya jata haen tumko kyaa pataa


    जो ये कम्पनियाँ कर रही हैं सही कर रही हैं?

    company samaaj kaa darpana hae agr sab housewife jo sahii aur achchaa nahin haen us par turant apna virdoh phone par hi pragat kar dae aur phone karnae / karnae vaali ko kshma mangnae ko kahe to yae apnae aap sahii ho jayegaa

    ReplyDelete
  4. naari blog par vandana ji kaa swaagat haen

    ReplyDelete
  5. सबसे पहले तो वंदना दीदी का लेख नारी ब्लॉग पर देख कर अच्छा लगा :)

    ReplyDelete
  6. @फिर ऐसा प्रश्न पूछना कहाँ तक जायज है किनिर्णय कौन लेता है ? और ऐसा प्रश्न क्या घरेलू महिलाओं के अस्तित्व और उनके मन सम्मान पर गहरा प्रहारनहीं है ?

    हाँ "उलटे सीधे प्रश्न" .. आजकल तो सब पूछ रहे हैं .. (आप भी.... मैं भी .... वो भी )

    एक सिंपल सा प्रश्न मेरा भी लाइफ insurance , बैंक या mutual fund आदि से फ़ोन पर पर ये जो पूछा जाता है (अक्सर महिला द्वारा) ..........एक कोमन सेन्स वाली बात क्या है ?????

    (आज के "टाइम इज मनी" वाले सिद्दांत पर चलने वाले समाज (स्त्री पुरुष दोनों शमिल ) + कोमन सेन्स को ध्यान में रखते हुए + जेंडर को ध्यान से हटा कर सोचियेगा )

    ~~~मतलब उसे क्या पूछना चाहिए ???
    ~~~फोन ही रख देना चाहिए ????
    ~~~स्कीम बतानी चाहिए ??(ये काम उनका समय लेता है )
    ~~~क्या ये इस बात का प्रतीक नहीं है की पूछने वाली (वाला ) कन्फ्यूज है आपके निर्णय लेने के स्टेटस के बारे में जो एक अच्छी बात है (यही बात दो भाइयों को ध्यान में रख कर भी सोचियेगा , एक कमाता है.... एक नहीं )

    ReplyDelete
  7. मुझे लगता है हमें इन बातों से ज्यादा उस विचार बिंदु पर चिंतन करना चाहिए जिसके चारों हमारी सोच गोल गोल घूमती रह जाती है ....क्योंकि परिवर्तन आ नहीं रहा है ......मुझे ऐसे कईं बुद्धिजीवी (स्त्री पुरुष) मिलते हैं जो कभी तो परिवर्तन (धारा के विपरीत) की बात करते हैं कभी "परिस्थितियों के अनुसार निर्णय लेने में बुद्दिमानी है" समझाते है

    ReplyDelete
  8. एक और बात .....
    " रूढ़िवादी पुरुष" मेरी नज़रों में वो है जो हर बात को अपने पुरुष होने से जोड़ कर देखते हैं.... मैंने कईयों से कहा है और इस कमीं के दूर होने पर व्यवहार/सोच में सुधार आता है .. ये विकास की दिशा है
    अब यही बात स्त्रियों पर लागू होती है .. माना ये चुभने वाली बात है (साइकोलोजी क एंगल से ) पर इस एंगल (गृहणियों का अपमान) से देखना मुझे सही नहीं लगा .. ये किसी के भी साथ हो सकता है, बाकी ऊपर के कमेन्ट में उदाहरण से स्पष्ट कर दिया है

    (कोई कमेन्ट गैर जरूरी लगे तो अनुरोध है "हटा दीजियेगा" पर इस बात पर सोचियेगा जरूर )

    ReplyDelete
  9. शेष तो पता नहीं, ये हाउस-वाइफ न हो तो कम-से-कम हमजैसों का तो एक मिनट जीना दुश्वार हो जाये....!!

    ReplyDelete
  10. वंदना जी नारी ब्लॉग पर आप का स्वागत है | अभी कंपनिया समाज के बनाये पुराने ढांचे और चलन के हिसाब से ही चल रही है जल्द ही वो भी समझ जाएँगी की गृहणी भी अब घर के हर मामले में निर्णय लेने लगी है ,कुछ ये बात समझ चुकी है, विज्ञापनों को देख कर आप समझ सकती है की वहा पर अब गृहणियो को एक बड़े उपभोक्ता के रूप में देख जा रहा है |

    ReplyDelete
  11. वाह गौतम , तब भी आज तक तुम्हारी की हुई चिटठा चर्चा मे इस ब्लॉग का जिक्र नहीं आया हैं . तुमको यहाँ देख कर खुश हूँ उम्मीद पर दुनिया कायम हैं

    ReplyDelete
  12. अंशुमाला जी सही कह रही हैं…
    कम्पनियाँ सुधर रही हैं, लेकिन बहुत धीरे-धीरे…

    ReplyDelete
  13. वंदना जी,

    बहुत ज्वलंत प्रश्न उठाया है. हॉउस वाइफ का जो दर्जा है वह कमाने वाले पुरुष भी नहीं ले सकते हैं. पूछने वालों को शायद ये नहीं मालूम है की कमाने वाले को आते डाल का भाव भी मालूम नहीं होता घर के अर्थशास्त्र को सिर्फ यही हाउस वाइफ ही ले पाती है. जो ऐसा सोचते हैं उनकी सोच पर तरस आता है. आर्थिक निर्णय लेने का अधिकार तो कभी कभी पति से अधिक कमाने वाली पत्नियों को भी नहीं होता तो क्या सिर्फ कमाने भर से स्त्री का ओहदा बढ़ जाता है.

    ReplyDelete
  14. आपके इस प्रयास और कदम की हम सराहना करते हैं बधाई और शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  15. ...आज एक स्वस्थ और खुशहाल समाज इन्ही हाऊस वाईफ की देन हैं यदि ये भी एक ही राह पर निकल पड़ें तोपश्चिमी सभ्यता का अनुकरण करने में कोई कमी नहीं रहेगी और उसका खामियाजा वो चुका रहे हैं ...

    Wao, that is a pretty absurd explanation of what is happening in the west. When women in west struggled to come out of homes to make a living they did not abandon domestic duties, but gradually their jobs became demanding and they started asking their male partners to step up. When men did not step up to do their share of domestic chores women felt if they could make a living and run a household at the same time why do they need to serve men. It is male failure to change and accomodate not just women stepping out of homes.

    ...जब पति पत्नी को एक दूसरे पर इतना भरोसा होता है तो फिर ये कौन होते हैं एक स्वच्छ और मजबूत रिश्तेमें दरार डालने वाले...
    If their is mutaul trust and respect in a relationship then do you realistically say someone stranger can disintegrate it in 2 minute phone call.

    If a phone call asks a housewife (who is not making any financial decisions in the household) who makes those decisions then it should rather wake her up and she should start asking that question and why he makes the decisions.

    Please be reasonable.

    Your post raises valid points but the line of reasoning is weak.

    Peace,
    Desi Girl

    ReplyDelete
  16. वंदनाजी, हाऊस वाइफ के कारण ही यह दुनिया सहजता से चल रही है। देश की उन्नति में दिए जा रहे योगदान के लिए भारतीय समाज सदैव उनका ऋणी रहेगा। हाल ही में किए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार भारत उन देशों की सूची में सबसे ऊपर है जो महीने के लिए निर्धारित किए गए बजट के अनुसार ही चलटा है और घर को चलाता कौन है यह तो सब को मालूम है....एक अच्छी पोस्ट के लिए धन्यवाद...सादर।

    ReplyDelete
  17. शुक्रिया दोस्तों जो कहा उसे समझने और अपने सुझाव देने का………यही कोशिश है कि जो गलत चल रहा है उसे बदला जाये और उसके लिये आवाज़ उठायी जा सके ताकि उन्हे पता चल सके आज की नारी अब अबला नही रही …………पुरुष के कंधे से कंधा मिलाकर चलने मे सक्षम है तो फिर आर्थिक निर्णय इतनी बडी बात नही है………हर नारी को उसके अधिकारो का पता चले और उसका कैसे ्मानसिक शोषण किया जा रहा है उसका पता चल सके इसलिये ये आहवान किया गया है जो काफ़ी हद तक सफ़ल है ।

    ReplyDelete
  18. क्यों आज ये पढ़े लिखे होकर भी ऐसी अनपढ़ों जैसी बात पूछी जाती हैं और सबसे मज़ेदार बात ये कि पूछने वालीभी महिला होती हैं .

    जबकि हम देखते हैं कि कितने ही घरों में आज और पहले भी आर्थिक निर्णय महिलाएं ही लेती हैं........पति तो बसपैसा कमाकर लाते हैं और उनके हाथ में रख देते हैं ..........उसके बाद वो जाने कैसे पैसे का इस्तेमाल करना हैजब पति पत्नी को एक दूसरे पर इतना भरोसा होता है तो फिर ये कौन होते हैं एक स्वच्छ और मजबूत रिश्तेमें दरार डालने वाले.............ये कुछ लोगों की मानसिकता क्या दर्शा रही है

    ReplyDelete
  19. aawashyakata aawiskar ki janani hai , agar kisi ko shikayat hai to house hasbend ki byawastha apanaya jay jaise meghalay rajy ,nepal desh me kuchh jatiyon me laagu hai kampalen kis bat ka ,lokatantr hai koi bhi byawastha apnaai ja sakati hai ?

    ReplyDelete

Popular Posts