नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

February 08, 2011

क्या नारी वाकई अबला है?

  आज क्या कहूं मन बहुत क्षुब्ध है कारण वही की आज भी ऐसी महिलाएं हैं जो अपने अधिकारों को जानते हुए भी दुःख सहती हैं और खुद ही रोती रहती हैं.महिलाओं के भाग्य में रोना केवल पुरुष वर्ग ने ही नहीं लिखा बल्कि ये रोना महिलाओं   ने स्वयं भी लिखा है.अब आप ये सोचेंगी की आखिर आज में ये क्या लिखने बैठ गयी?मैं कानून जानती हूँ किन्तु क्या करूँ ऐसे महिला वर्ग को कानून बताकर जो सब कुछ जानकर भी अपने लिए दुःख ही बटोर रहा है.
       मेरे पापा की एक मुवक्किल है जिसकी अभी पिछले वर्ष ही शादी हुई थी.वह धर्म से मुसलमान है और जिसे अपनी शादी से पहले ही पाता था कि उसके पति की एक पत्नी पहले भी है चूंकि इस्लाम धर्म में बहुविवाह का प्रचलन है ऐसे में उसे इससे कोई आपति नहीं थी ये बात उसने मुझे शादी के बाद बताई .शादी के बाद वह मेरे घर मिठाई लेकर भी आयी और बड़ी खुश भी दिखाई दी किन्तु लगभग २-३ महीने बाद से ही पता चला की वह अपने मायके में ही रह रही थी अभी हाल में ही जब वह आयी तो मैने उसके पति के बारे में पूछा तो वह कहने लगी "कि मैंने तो ये सोचा था कि उसका अपनी पहली पत्नी से कोई मतलब नहीं है और हमें बताया भी यही गया था कि वह साथ नहीं रहती है .इस पर भी मुझे उसके रहने पर कोई एतराज़ नहीं है किन्तु उसे मेरी तरफ भी तो कोई ध्यान देना चाहिए."केवल इतनी सी मांग भी उसकी पूरी नहीं होती जबकि इस्लाम में ये साफ-साफ लिखा है कि तुम चार बीवी रख सकते हो किन्तु तुम्हे सबको संतुष्ट रखना होगा.
       उसका पति ये तो चाहता है कि वह वहाँ रहे किन्तु उससे कोई आशा न रखे.वह पूछ रही थी कि मैं क्या करूँ तो माने उसे गुज़ारा भत्ते की बात कही  तो कुछ दिन तो वह नहीं आयी फिर जब आयी तो कहने लगी कि मैं क्या करूँ वह कहता है कि यहाँ आकर रह नहीं तो मैं तेरे खिलाफ रिपोर्ट लिखा दूंगा कि तू घर से जेवर पैसे लेकर भाग गयी है.वह कहने लगी कि आज तक उसने मेरे लिए कोई कपडा नहीं सिलवाया और मेरे भी जो कपडे हैं वह भी नहीं लाने देता इसलिए मैं भी यहाँ से जब जाती हूँ तो अपने कुछ कपडे यहीं छोड़ जाती हूँ.
   इतने पर भी वह अपने पति पर गुजारे भत्ते की वसूली की कार्यवाही के लिए तैयार नहीं है और दिन दिन भर रो रोकर अपनी ऑंखें सुजा रही है.ऐसे में आप ही बताएं कि क्या कानून का कोई फायदा है जब सब कुछ जानकर भी महिलाओं को रोना ही मंजूर है.

11 comments:

  1. bahut afsos hota hai nari kee yah dasha dekhkar par sahas to use hi karna hoga tabhi aur sab bhi uska saath de sakte hai .achchhi post .

    ReplyDelete
  2. यही कमी है भारत की नारियों में..

    ReplyDelete
  3. मानवीय जीवन के ऐसे पहलू मुझे हमेशा स्तब्ध अवाक /निःशब्द कर देते हैं ..ओह !

    ReplyDelete
  4. सही कहा हैं शालिनी आपने । ना जाने कितनी ऐसी महिला हैं जिनको मे व्यक्तिगत रूप से जानती हूँ , उनमे से कुछ को दोस्त भी कहती हूँ , जो "रो " सकती हैं पर कुछ करने के लिये आगे नहीं आती । वो सब झूठ बोलती हैं जो कहती हैं हम परिवार , बच्चो के लिये "सहते " हैं । असलियत ये हैं वो अपनी कुछ ना करने कि कमजोरी को छिपाती हैं ।
    लिखती रहे ।

    ReplyDelete
  5. स्त्रियाँ स्वयं को अबला समझती हैं, यह समझ टूटनी चाहिए। जहाँ वे चाहती हैं सबला ही नहीं बला साबित होती हैं।
    नारियों में यह जागरण आवश्यक है।

    ReplyDelete
  6. शालनी जी

    बिल्कुल सही बात कही ऐसी महिलाओ को कोई क़ानूनी सहायता देना बेकार है अक्सर महिलाए ये बात खुद ही मान कर चलती है की की उन्हें समाज में तभी सम्मान मिलेगा जब वो हर हाल में पति के साथ रहे वरना तलाक शुदा या अपने पति से अलग रह रही महिला को लोग अच्छा नहीं मानते है पर वास्तव में ऐसा है नहीं आज समाज के एक बड़े वर्ग ने इस बात को स्वीकार कर लिया है की यदि पति और ससुराल में आप के साथ बुरा व्यवहार हो रह है तो आप उससे अलग हो जाये | वैसे महिलाओ की इस बुद्धि पर भी तरस आता है की वो क्या सोच कर एक विवाहित व्यक्ति जो पहली पत्नी के साथ रह रह है उससे शादी कर लेती है धोखे से किया जाये तब भी कई बार महिलाए पति के खिलाफ रिपोर्ट नहीं लिखाती है |

    ReplyDelete
  7. रो रोकर अपना जी हल्का करके सहानुभूति पाने की कोशिश करती है ऐसी महिलाये |एक तो शुरू में ही गलत काम एक शादीशुदा आदमी से शादी करना, फिर अपने अधिकारों के लिए कोई भी प्रयत्न न करना ,सदा बेचारी बने रहना अपने पैरो पर खुद कुल्हाड़ी मारने जैसा ही है |

    ReplyDelete
  8. आम स्थिति है यह।
    केवल मुसलिम समाज में नहीं बल्कि हिन्दू समाज में भी।
    कई पीढियाँ लगेंगी समाज में सुधार आने में।
    जब तक नारी शिक्षित और स्वावलंबी नहीं होती उसका यही हाल होता रहेगा।
    पर कभी कभी तो शिक्षित नारी भी इन मुसीबतों से जूझती हैं।
    क्या करे कोइ? मेरी भी समझ में नहीं आता।
    जी विश्वनाथ

    ReplyDelete
  9. bhartiye naari ke man mein sanskar ke naam par har dukh sah jana aur chup rah jana yahi dala gaya hai. rag rag mein sanskaar ki hi duhai bhari hui hai

    ReplyDelete
  10. जब तक हम खुद को कमजोर समझेंगे स्थितियां नहीं सुधरेंगी. अगर जीना है तो लड़ना भी सीखना होगा।

    ReplyDelete
  11. mai bahut mushkil aur pareshani me hoo.......

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts