नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

April 29, 2010

मुंबई ब्लॉगर मीट - एक नया आयाम

मुंबई ब्लॉगर मीट कि रिपोर्ट कई ब्लॉग पर पढ़ी ।विषय था " मेरी रचना, मेरी कलम और ब्लोगकी दुनिया " अनीता कि पोस्ट पर पढ़ा । साथ साथ ये भी पढ़ा "घुघुती जी का कहना था कि ब्लोगिंग से पहले उनकी अपनी कोई पहचान नहीं थी, उनकी पहचान उनके पति से थी, उनका सामाजिक दायरा पति के सहकर्मियों से जुड़ा था और वो खुश हैं कि ब्लोगिंग ने उन्हें अपनी एक पहचान दी है और अपने मित्र दिये हैं। "



ब्लॉग लिखने मे अपने अस्तित्व की तलाश करती नारियों को एक नया माध्यम मिला हैं अभिव्यक्ति का और अपने सरोकार बढाने का ।


वो लोग जो महिला के ब्लॉग पर विद्रूप , विषय से हट कर हास्य पूर्ण , और अश्लील कमेन्ट देते हैं या व्यक्तिगत कमेन्ट मे लेखक के परिवार , उसके रहन सहन पर आक्षेप करते हैं वो एक बार जरुर सोचे।


बहुत सी गृहणियां जिनके पास अब समय हैं अपने को अभिव्यक्त करने का और जिनके पास अब एक ऐसा माध्यम हैं जो उनके विचारों को देश विदेश तक ले जाता हैं उन सब को लिखने दे । बढ़ावा नहीं दे सकते तो कम से कम गलत कमेन्ट दे कर उनका उत्साह तो ना ख़तम करे ।

आज के लिये बस इतना ही ।

23 comments:

  1. ब्लॉग्गिंग से जुड़ने का मेरा अनुभव ,स्वयं को दोबारा खोजने जैसा रहा, विद्यार्थी जीवन में कलम चलाई ,विवाह के बाद कलछी/की-बोर्ड में इतनी व्यस्त हुई की लगा अब कभी नहीं लिख पाऊँगी.. जी तो रही थी पर जिंदा होने का एहसास अब हुआ है

    ReplyDelete
  2. बिलकुल सही कहा है। पूरी तरह सहमत है।

    ReplyDelete
  3. सही है !आपसे सहमत।

    ReplyDelete
  4. blog to bas ek medium hai na jane aaj kitne star par mahilayen personal ko political bana rahi hai unki aawaj ko aaj koi bhi ansuna nahi kar sakta

    ReplyDelete
  5. rachna ji 'kanpur ki vyatha katha' wala link to khul hi nahi paya

    ReplyDelete
  6. kanpur ki vyatha katha post woman related nahin thee hataa di kshma chahtee hun aap ko pareshani hui

    ReplyDelete
  7. ब्लॉग लिखने मे अपने अस्तित्व की तलाश करती नारियों को एक नया माध्यम मिला हैं अभिव्यक्ति का और अपने सरोकार बढाने का ।

    आपसे पूर्णतय सहमत।

    ReplyDelete
  8. बिलकुल सही कहा है। आपसे पूर्णतय सहमत।

    ReplyDelete
  9. मेरा ख्याल है कि अभिव्यक्ति के लिए असीम आकाश से हो गए हैं ब्लॉग ...यूं तो आकाश में कोई विभाजन रेखायें नहीं पर सबके सम्मानजनक सहअस्तित्व की गुंजायश जरुर है ! दुःख केवल एक है कि यहां उन्मुक्त उड़ान भरते मासूम परिंदों के साथ कुछ गिद्ध भी मंडरा रहे हैं जिन्हें इस बात का शऊर नहीं कि जीवितों की गरिमा और सम्मान किसे कहते हैं !

    ReplyDelete
  10. अभिव्यक्ति ka esse achha madhayam aur kahan....
    Aapki baat se purn sahmat

    ReplyDelete
  11. रचना जी, बहुत अच्छा टॉपिक लिया है आपने. मैं भी जब रश्मि जी के ब्लॉग पर इस मीट की रिपोर्टिंग पढ़ रही थी, तो यही बात दिमाग में आयी थी. ब्लॉगिंग ने उन औरतों की भावनाओं को अभिव्यक्ति दी है, जो घर से बाहर नहीं निकलती हैं. अब घर में बैठे-बैठे ही वे अपने अनुभव, दुःख-सुख, भावनाएँ सभी कुछ श्र्यर कर सकती हैं.

    ReplyDelete
  12. A nice effort .Congratulations
    Asha

    ReplyDelete
  13. beshak bahot khoob alfaaz rakam kiye hai

    ReplyDelete
  14. Sochna to jaroor chahiye par dusaron ke bare mein achchha kaun soche, jab apni vidroopata se furast mile tab to!

    ReplyDelete
  15. एक वर्ष की पूर्णता पर बधाई ।
    स्तुत्य विचार ।

    ReplyDelete
  16. एक सराहनीय मंच नारी को मिला है ब्लॉग के माध्यम से .... अब कोई मंथन न हो , अब कोई बंधन न हो ...

    ReplyDelete
  17. जब भी कोई अच्छा काम या सोच सामने आती है तो कुछ लोग उसका विरोध करने व कहने में अपने को महत्व देने की कोशिश में सामने आते हैं.
    *जबकि वे नहीं जानते कि ये कार्य उनको स्वयं खुद की ही नहीं दूसरों कि नजर में भी नीचा दिखाता है. तो ऐसे कम बुद्धि लोगों पर ध्यान देने कि जरुरत नहीं.*
    हमारी महिला शक्ति अपने नव-निर्माण में संपूर्ण स्फूर्ति+शक्ति से सहभागिता में लगी रहें .व्यक्तिगत रूप से एक-दूसरे को नहीं जानते हुए भी ब्लॉगिंग के माध्यम से हमारे विचार कितने एकमत हैं ,
    यही है इसकी महत्ता एवं उपयोगिता.
    स्वागत है सभी का ,मन के विचारों का.
    बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ .
    अलका मधुसूदन पटेल ,लेखिका-साहित्यकार

    ReplyDelete
  18. सही है !आपसे सहमत।

    ReplyDelete
  19. एक वर्ष की पूर्णता पर बधाई ।

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts