नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

February 06, 2012

अगर क़ोई घर से दूर हैं तो बलात्कार करना उसका अधिकार हैं , कंट्रोल जो नहीं रहता -- शेम शेम

राम कृष्ण हरिजन ने एक दस माह की बच्ची के साथ मुंबई में बलात्कार किया था । १० जनवरी २००६ की बात हैं ये । अपने पडोसी की बच्ची को वो उठा कर लेगया था । बच्ची की रोने की आवाज सुन कर उसकी माँ ने जब उसको खोजा तो उसको पास के एक मैदान में बच्ची मिली और राम क्रिशन हरिजन वहाँ से भाग गया । बच्ची के निजी अंगो से खून बह रहा था ।
पुलिस ने इसको बलात्कार का मामला ना बनाया केवल sodomy कह कर शिकायत दर्ज की ।

लोअर कोर्ट ने १० साल की सजा सुनाई रेप मान कर लेकिन
मुंबई हाई कोर्ट ने सजा को ७ साल कर दिया क्युकी

राम कृष्ण हरिजन उत्तर प्रदेश से दूर मुंबई में रहता था
वो अपने घर परिवार से दूर था
अपनी बीवी से दूर था
इस लिये उसका "कण्ट्रोल " अपने ऊपर से ख़तम होगया

हाई कोर्ट मे राम कृष्ण के वकील अरफान साईट की दलील की "कंट्रोल " ख़तम होगया को सही मानते हुए जस्टिस ऍम अल तहलियानी ने राम कृष्ण का जुर्म
बलात्कार नहीं माना
सजा १० साल से घटा कर ७ साल कर दी
और क्युकी वो ६ साल सजा काट चुका हैं इस लिये उसको भी ध्यान मे रखना चाहिये पर जोर दिया
इसके अलावा जस्टिस का मानना था की लोअर कोर्ट के सामने भी अगर ये तथ्य रखा गया होता तो वहाँ भी इतनी सजा ना मिलती ।

इस नाइंसाफी के खिलाफ एक अभियान चल रहा हैं जहां तमाम लोग इस सजा को कम करने का विरोध कर रहे हैं
आप भी वहाँ जा कर अपना विरोध दर्ज करवा ही सकते हैं

विरोध दर्ज करवाने के लिये लिंक हैं http://www.ipetitions.com/petition/justice-for-child-abuse-victims/


कितनी अजीब बात हैं की अगर क़ोई पुरुष इस प्रकार का दुष्कर्म करे तो हम उसको माफ़ कर दे क्युकी उसके पास अपनी काम वासना की पूर्ति के लिये उसकी पत्नी की देह उपलब्ध नहीं थी ।

एक तरफ हम नोर्वे सरकार की आलोचना कर रहे हैं जहां बच्चो के हित में कानून बने हैं और दूसरी तरफ हम ऐसे लोगो को माफ़ करना चाहते हैं । इनलोगों को माफ़ी देने का मतलब हैं की इनको छोड़ देना ताकि ये अपने कुकर्म दोहरा सके ।

एक दो साल की बच्ची फलक १ महीने से अस्पताल में हैं
उसको लाने वाली १४ साल की बच्ची सेंटर में हैं
हम कितना भी भावना मे बह कर बच्चो के प्रति अपनी संरक्षण की बात को जस्टिफाई कर ले लेकिन आज भी एक २ साल की बच्ची फलक को १४ साल की बच्ची अस्पताल लाती हैं , फलक का शरीर लहू लुहान हैं और १४ साल की बच्ची का शोषण होता रहा हैं

भारत में प्रवति हैं की हम बातो को छुपाने में माहिर हैं , हमारे यहाँ बच्चो की सुरक्षा के लिये कोई कानून नहीं हैं . बच्चो को मरना पीटना और उनसे काम करवाना आम बात हैं और उनका यौन शोषण करना भी अब आम बात ही हो जायेगी अगर राम कृष्ण हरिजन जैसे लोग खुले घुमेगे ।

आज एक हैं कल ना जाने ये संख्या कितनी होगी
विनम्र आग्रह हैं इस लिंक पर अपनी आपति दर्ज करवा दे



All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

21 comments:

  1. sach mei ye shame shame hai humare kanoon or inko man ne walo pe, aise logo ko fasi de di jaye, jo balatkar jaisa jaghanya apradh krte h

    ReplyDelete
  2. सजा कम करने की दलील बहुत ही घटिया है... बच्चो को साथ इस तरह की घिनौनी हरकत करने वालों को 10 साल की सज़ा कम करके 7 साल नहीं बल्कि बढ़ा कर सज़ा-ए-मौत मिलनी चाहिए.

    हमने अपनी आपत्ति दर्ज कर दी है...

    ReplyDelete
  3. जितना हिंसक-दानवी कृत्य रामकिशन ने कियी है, उससे कम हिंसक फ़ैसला जजों का नहीं है. इस घिनौने जघन्य कृत्य पर यदि कोर्ट इस बात पर छूट देती है कि रामकिशन की पत्नी वहां नहीं थी तो समझिये कि पूरी न्यायपालिका ऐसे गुनाहों की पक्षधर है. कल के दिन फिर कोई रामकिशन पांच महीने की बच्ची के साथ पत्नी न होने के एवज़ में दुराचार करेगा. सिलसिला रुकने की जगह बढता ही जायेगा. बहुत शर्मनाक है.
    जहां तक नॉर्वे का मामला है, तो जितना पक्ष दिखाई दे रहा है, वो जायज़ नहीं है.

    ReplyDelete
  4. कंट्रोल न रहने की दलील निहायत बेहूदा है...इस दलील पर चले तो किसी भी लड़की या महिला का देश में रहना मुश्किल हो जाएगा...कड़े शब्दों में मेरी आपत्ति दर्ज की जाए, ऐसे नरपिशाच को दस साल नहीं कम से कम आजीवन कारावास दिया जाए...​
    ​​
    ​जय हिंद...

    ReplyDelete
  5. बेबुनियाद तर्क है कंट्रोल ना कर पाने की विवशता कतई तार्किक नहीं है!
    इट्स शेमफुल!

    ReplyDelete
  6. कोलकाता में एक गुजराती परिवार की बच्ची के साथ ऐसा ही हुआ था.. बलात्कार और ह्त्या.. पीड़ित परिवार न्याय के विलम्ब के कारण गुमनामी के अँधेरे में छिप गया.. अपराधी को फाँसी हुई (बलात्कारी को नहीं मिलती, हत्यारा था इसलिए मिली सज़ा).. जिस सुबह उसे फाँसी डी जानी थी, उसके पिछली रात लोग मोमबत्तियाँ जलाए उसकी रिहाई की दुआ मांग रहे थे.. अलीपोर जेल के सामने!!
    बेहिस समाज!!

    ReplyDelete
  7. ये निर्णय और इसी तरह के और निर्णय यह सिद्ध करते हैं कि हमारे न्यायालय भी पितृसत्तात्मक सोच से मुक्त नहीं हैं. सच में, ऐसे लोगों को आजीवन कारावास का दंड दिया जाना चाहिए ताकि वो दोबारा ऐसे घृणित अपराध ना कर सकें.

    ReplyDelete
  8. ऐसे भेडिये को सिर्फ सजा ए मौत ही नहीं बल्कि उससे पहले कठोर यातनाएँ देनी चाहिए.
    अपनी आपत्ति दर्ज करवा दी है...
    पोस्ट के विषय में कुछ और कहना चाहूँगा.
    बच्चों के लिए कानून बनाए गए हैं और यदि जरूरी हो तो और बनाए जाने चाहिए,मुझे नही लगता कि इससे किसीको भी एतराज होगा लेकिन कानून कैसे हों इसको लेकर सभी के विचार अलग अलग हो सकते हैं.नार्वे सरकार वाला मामला अलग था उसके बारे में यहाँ कुछ कहना सही नहीं होगा.
    और रचना जी...आप किसीसे भी पूछकर देख सकती हैं बल्कि आप तो खुद भी देख रही होंगी कि बच्चों को लेकर समाज में जागरुकता और संवेदनशीलता पहले की तुलना में बढी ही हैं उनकी इच्छा अनिच्छाओं का ज्यादा रखा जाता हैं और अब बच्चों की पिटाई पहले जितनी नहीं होती.खासकर शहरी मध्यमवर्गीय माता पिता बच्चों को लेकर कहीं ज्यादा संवेदनशील हैं.ऐसे ही बच्चों से घर का काम भी अब पहले जितना नहीं कराया जाता.मीडिया की सक्रिय भूमिका के कारण हमें लगता हैं कि बच्चों पर ज्यादती के मामले बढ रहे हैं जबकि पहले की तुलना में अब बहुत परिवर्तन आया हैं.और मुझे नहीं लगता कि इसमें कानून की कोई भूमिका रही हैं.
    कानून बनाए जाने चाहिए लेकिन यदि घरवाले ही बच्चों के प्रति लापरवाह हैं तो कानून ज्यादा कुछ कर पाएगा इसमें संदेह हैं.

    ReplyDelete
  9. IndianHomemaker के ब्लॉग पर भी यह चर्चा का विषय बना हुआ है।
    सर्वसम्मति से इस फ़ैसले की भर्त्सना की गई है।
    Petition हमने भी sign की।
    जी विश्वनाथ

    ReplyDelete
  10. रचना जी, मेरा कमेंट फिर गायब है :(

    ReplyDelete
  11. हद हो गई बेशर्मी की यह कोई बात हुई की कंट्रोल नहीं हुआ एक बार को यह बात मान भी ली जाये तो ऐसे कंट्रोल के लिए बाज़ार में बहुत सी सुविधाएं है। उसके बावजूद भी एक मासूम बच्ची के साथ ऐसा दुर व्यवहार.... उसे तो ऐसी कोई सजा मिलनी चाहिए की कोई और यदि इस विषय में ऐसा कुछ सोच भी रहा हो तो,तो वो एक बार नहीं सौ बार 100 सोचे।

    ReplyDelete
  12. यह तो बहुत बेहूदा तर्क दिया है...... ऐसे तो लाखों लोग अपने परिवारों से दूर रहकर कमाते है तो क्या ऐसा करना उचित माना जायेगा ?

    ReplyDelete
  13. यह तो एक मज़ाक़ लगता है, कोर्ट का न्याय नहीं।

    (न्यायाधीश के बैकग्राउंड का पता लगाना चाहिए। )

    इस दलील के आधार पर सोचिए यह स्थिति यदि आए कि पत्नी मर ही जाए तो ऐसे लोगों को और भी सहानुभूति दिखाएगी हमारी अदालतें।

    ReplyDelete
  14. जिनका खुद पर कण्ट्रोल नहीं रहता उनके लिए भी खास जगहें बनी हुई हैं, जैसेकि जेलें या पागलखाने|

    ReplyDelete
    Replies
    1. //जिनका खुद पर कण्ट्रोल नहीं रहता उनके लिए भी खास जगहें बनी हुई हैं, जैसेकि जेलें या पागलखाने|//
      एकदम सही बात कही आपने!

      Delete
  15. पहले तो वह बेचारा, पत्नी से दूर अकेला, साल में एक बार तो छुट्टी लेकर मनभर पत्नी का बलात्कार कर आता होगा. फिर भी कंट्रोल नहीं था. अब ७ साल बाद जब जेल से निकलेगा तो क्या हाल होगा? स्त्री जाति ही नहीं शायद वह छोटे लड़कों को भी न छोडेगा. सो उसके जेल से निकलते समय 'सावधान कंट्रोलविहीन बेचारे जी खुले घूम रहें हैं' की घोषणा करवा देनी चाहिए या फिर बच्चियों,स्त्रियों, बच्चों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उनकी पत्नी को बुलवा कर उन्हें तुरंत हनीमून के लिए भेज देना चाहिए. पत्नी साथ न जाना चाहें तो भी.आखिर वह चाहने न चाहने वाली कौन होती है?
    दिन रात ऐसी ख़बरें सुनते सुनते हम पत्थर होते जा रहें हैं.
    घुघूतीबासूती

    ReplyDelete
  16. कम से कम स्त्री की चिंताओं से लैस मंचों पर बलात्कार जैसे जघन्य अपराधों के लिए "दुष्कर्म" या "कुकर्म" जैसे शब्दों का प्रयोग न केवल बंद हो, बल्कि इसके खिलाफ अभियान भी चलाया जाए। बलात्कार को कृपया जेब काटने जैसे "दुष्कर्मों" के बराबर करके न देखें, इसके बारे में ज्यादा संवेदनशील होने की जरूरत है। गुस्से में यह न भूलें कि एक शब्द से एक व्यवस्था बनती है। "दुष्कर्म" या "कुकर्म" जैसे शब्द बलात्कार शब्द की भयावहता को हम करने के लिए गढ़े गए हैं और धड़ल्ले से इस्तेमाल किए जा रहे हैं, समूचे मीडिया में और जिस पुरुष सत्तावाद को यह सुविधाजनक लगता है, उन सबकी भाषा में।

    इस मसले पर आराधना चतुर्वेदी मुक्ति ने अपने ब्लॉग पर लिखा भी है-

    http://feminist-poems-articles.blogspot.in/2012/02/blog-post.html

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस पोस्ट में जहाँ दुष्कर्म शब्द का प्रयोग हुआ हैं वहाँ कर्म को लेकर हुआ हैं यानी किया हुआ गलत काम या वो काम जो गलत है और किया गया हैं
      बलात्कार शब्द को बलात्कार और रेप ही कहा गया हैं

      Delete
  17. मेरा आग्रह है कि "बलात्कार" और "दुष्कर्म" के घालमेल के खिलाफ सक्रिय होने की जरूरत है।


    इस लेख में यह लाइन है-

    "कितनी अजीब बात हैं की अगर क़ोई पुरुष इस प्रकार का दुष्कर्म करे तो हम उसको माफ़ कर दे क्युकी उसके पास अपनी काम वासना की पूर्ति के लिये उसकी पत्नी की देह उपलब्ध नहीं थी ।"

    इसमें "इस प्रकार दुष्कर्म" का अर्थ बलात्कार ही है। कुकर्म का प्रयोग भी इसी अर्थ में किया गया है।


    लेकिन कई बार यह असावधानीवश और चलन में होने की वजह से होता है। इससे न सिर्फ बचने की जरूरत है, बल्कि जहां ऐसे प्रयोग हों, उस पर आपत्ति जताया जाना चाहिए।

    व्यवस्था बेहद बारीकियों में अपना खेल खेलती है और खुद को बनाए रखने का यह उसका एक बड़ा हथियार है। यह साजिश शब्दों के प्रयोग के स्तर सबसे गहरी है।

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts