नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

January 30, 2012

आज एक समाचार पढ़ा और नारी हित में उसको आप सब से उसको बाँट रही हूँ ।

आज एक समाचार पढ़ा और नारी हित में उसको आप सब से उसको बाँट रही हूँ ।
पंजाब में ऍन आर आई से विवाह करके बहुत सी महिला मुसीबत मे आ जाती हैं । विदेशो की सुख सुविधा किसी को भी लालच मे डाल देती हैं और बेटियों के माँ पिता खूब सारा दहेज़ देकर अपनी पुत्री का विवाह करते हैं लेकिन बहुत बार ना तो उनकी लड़की विदेश जा पाती हैं और कई बार दहेज़ को लेकर मांग बढ़ती ही जाती हैं

एक पासपोर्ट अफसर परमीत सिंह ने पासपोर्ट इम्पौंड करने की प्रक्रिया को शुरू करके बहुत से परेशान अभिभावकों और उनकी विवाहित बेटियों के लिये एक मसीहा का काम किया हैं ।
परमीत सिंह उस व्यक्ति का पास पोर्ट इम्पौंड करवा देते हैं जिसके खिलाफ क़ोई अफ आ ई आर दर्ज होती हैं क्युकी ये पासपोर्ट law में दिया हैं । उन्होने इस law को हथियार बना कर बहुत सी महिला को राहत दिलवाई हैं । खबर आप नीचे पढ़ सकते हैं बस इस पोस्ट का मकसद ये हैं की अगर आप अपने आस पास किसी को ऐसी परेशानी मे देखे जहां लड़की का विवाह किसी अन आर आई से हुआ हैं और वो इस विवाह को करके परेशान हैं तो ये जानकारी जरुर संझा करे ।

अगर किसी भी व्यक्ति का पास पोर्ट इम्पौंड हो जाता हैं तो वो फिर उस पासपोर्ट पर यात्रा नहीं कर सकता हैं इसलिये इस दिशा में पीड़ित लड़की और उसके माँ पिता को अगर जानकारी दे दी जाए तो संभव एक जीवन नष्ट होने से बच जाए ।

अब पूरी खबर पढ़े





Showcasing stories of ordinary people with extraordinary achievements in New India.
Today we feature a passport officer who has helped victims of marriage fraud in Punjab.



TAKING A STAND In Punjab, a state notorious for marriage fraud by NRIs, a passport officer is making the law look good

Sarabjit Kaur, a 28-year-old postgraduate government school teacher in Amritsar married Gurpreet, 30, a Jalandhar-based college lecturer in 2002.
It was a late marriage by Punjabi standards. Kaur's parents were worried, the groom's parents were desperate, and hence the marriage happened in 15 days, without the due diligence.

Soon after, Sarabjit started facing harassment and demands for money from her in-laws. Since August 2003, when she gave birth to her daughter, she has been in and out of her marital home.
(Gurpreet abandoned her and left for the UK). Her married life has been put on hold, or restored, depending on payment of cash.

Like thousands of women deserted by their NRI husbands, Kaur found herself fighting alone for justice, until she found her messiah in 2010, in the most unlikely of places -a busy passport office at Jalandhar.

Parneet Singh, the 36-year-old passport officer, who had heard of the infamous `holiday' marriages that plagued the region, saw it as a chance to put erring husbands in the dock. “Rather than blaming the system or delve into why earlier no action had been taken regarding complaints, I considered it my responsibility to make it all work,“ he said. His 105member team took a while to shake off their bureaucracy; Singh led by example by keeping longer hours, started a grievance cell that held hearings on Saturdays, even Sundays, if needed.

Before joining the new assignment, Singh had studied the Passport Act, especially the provision of impounding passports in case an FIR is registered.
He turned the law into a credible weapon. In what was perhaps a firstof-its-kind initiative, he started impounding the passports of NRI husbands under Section 10 (3) of the Passport Act, after serving them a show-cause notice based on their wives' complaints. So far, he has impounded 68 passports out of the over 400 cases of NRI marriages lodged since he assumed office (207 such complaints were lodged just last year).

Singh, however, is no softie to be swayed by sob stories. He does due diligence before impounding a passport.
“I gauge the seriousness of a complaint by first checking whether a lady has lodged an FIR,“ he said. He then gives the husband 15 days before issuing a show-cause notice and also demands certain affidavits from the wife before impounding her husband's passport.

As marriage frauds are common in the Doaba region of which Jalandhar is a part, the beneficiaries of Singh's initiative feel his measures have given them a fair shot at justice. Sarabjit, for instance, approached Singh with a fresh complaint against Gurpreet when her earlier application was ignored.

“To my surprise, he informed me that Gurpreet's passport had already been impounded on the basis of my three-year-old complaint“, she said.
Unless he settles his divorce case, the passport will not be renewed, Singh said. Gurpreet or his family could not be reached for comments.

Singh considers his efforts as “simply being responsible to my seat. If I've been entrusted with something, I must do justice to it.“ His interventions have been an important link in creating deterrents for errant husbands.

“Once a passport is impounded, the grooms are unable to leave the country since the document is seized at air or sea-ports,“ he said, explaining the process. “We also write to Indian missions and embassies abroad, appending a copy of the victim's complaint along with relevant documents, to initiate action against the violators of the Passport Act. Subsequently, they can be intercepted anywhere in the world and be extradited to India. If abroad, they face deportation when they apply for the renewal of passport at the Indian embassy. They are also liable to be arrested in India for travelling on an invalid passport.“

Another victim of marriage fraud, Nandini Sharma, who now stays in the US, says she got her husband, Vishal Sharma, a green-card holder, booked for demanding dowry and torture when they were married in India. “Vishal's passport was impounded recently based on my complaint. Now, he cannot travel back to India on the Indian passport.“ The passport officer impounded Sharma's passport since a dowry case was pending before the court.

Parneet's efforts, however, need state intervention and police support, especially in cases in which an NRI manages to acquire foreign citizenship, despite complaints for dowry harassment or other offences being lodged back home. Parneet has, in fact, followed up his initiative proactively.

“We are in touch with the foreign regional registration office at Amritsar International Airport to ensure all NRIs get their spouse's name added before leaving the country,“ he said, adding that this can check the practice of many NRIs disowning their marriage at a later stage. It's all in a day's work but Parneet Singh has clearly gone beyond his call of duty. FINE PRINT Section 10 (3) of the Passport Act says that the passport authority may impound a passport if it deems it necessary in the interest of general public; if proceedings in respect of an offence alleged to have been committed by the passport holder are pending before a criminal court in India or if a warrant or summons for the appearance or a warrant for the arrest of the passport holder has been issued by a court.




All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

12 comments:

  1. यह तो अच्छी खबर है.
    घुघूतीबासूती

    ReplyDelete
  2. एक समय हैदराबाद से दुबई ब्याही जाती लडकियों की कहानियां सुनता था, जब चार साल दुबई में रहा तो अपनी आँखों से देखने का मौक़ा मिला.. पंजाब की खबरें तो आम हैं.. कहीं वीजा एक्सटेंड करने या नागरिकता हासिल करने के लिए वहाँ शादी कर ली या छुट्टियों में यहाँ शादी कर ली.. कई बार तो यहाँ की ब्याहता बीवियों की मिलीभगत के किस्से भी सुने, जहां पंजाब में नकली तलाक देकर विदेश में नया ब्याह रचाया.. यह खबर एक ईमानदार से ज़्यादा संवेदनशील ऑफिसर की पहल का नतीजा है... मुद्दा इतना डेलिकेट है कि इसे संभाल कर हैंडल करने की ज़रूरत है!
    वैसे अच्छी पहल है यह भी!!

    ReplyDelete
  3. रचना जी ,
    बहुत ही कल्याणकारी कदम उठाया गया है ,और आपने सबको सूचित कर उन बेबस लड़कियों और उनके माता-पिताओं की चिंता दूर की है .आपको साधुवाद !

    ReplyDelete
  4. ये सज्जन वाकई अच्छा कार्य कर रहें हैं.

    ReplyDelete
  5. बहुत उपयोगी जानकारी....

    ReplyDelete
  6. एक सराहनीय प्रयास...... बहुत अच्छी बात है.....

    ReplyDelete
  7. काबिलेतारीफ़ पहल है ये , आपने बहुत अच्छा किया जो इस जानकारी को यहां साझा किया ।

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छा प्रयास हैं.

    ReplyDelete
  9. अच्छा प्रयास है!

    ReplyDelete
  10. बहुत ही अच्छा प्रयास और उपयोगी जानकारी...

    ReplyDelete
  11. बहुत काम की है ये जानकारी. आभार.

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छी जानकारी है। धन्यवाद।

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts