नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

September 26, 2009

टी वी के नारी पात्र --------------- सब कमेन्ट एक बार फिर से पाठको के पठन के लिये ।

इच्छा और तपस्या

इस पोस्ट पर ये टिपण्णी आयी हैं

6 Comments:

रेखा श्रीवास्तव said...

वास्तविकता से बहुत दूर होती हैं ये कहानियां. ये उच्च वर्ग और निम्न वर्ग का अंतर कभी मिटेगा ही नहीं. कभी अगर बहुत खुले दिल से किसी ने स्वीकार किया तो मजबूरीवश फिर दुनिया के सामने कुछ और होता है और पीछे कुछ और. पहले वाहवाही लूट ली दरियादिली की और फिर उस लड़की से पूछ कर देखिये. लडके तो ऐसे निर्णय ले सकते है और लेते भी हैं लेकिन घर में रहना है और पति हर वक्त तो साथ नहीं रहता है. पति के निर्णय के सम्मान के लिए वह बहुत कुछ सह लेती है.

अनिल कान्त : said...

दैनिक धारावाहिकों में ऐसी ऐसी कहानियाँ दिखाते हैं जिनका वास्तविक दुनिया से बिल्कुल भी तालमेल नहीं बैठता

MANVINDER BHIMBER said...

क्या ऐसी शादी अगर वास्तविक जीवन मे हो तो निभेगी ?? क्या इतने संभ्रांत परिवार मे एक बस्ती की लड़की का......
वास्तविकता से बहुत दूर होती हैं ये कहानियां.

शोभना चौरे said...

अक उच्च वर्ग परिवार निम्न वर्ग के परिवार को आर्थिक और सामाजिक द्रष्टी से मदद तो कर सकता है लेकिन जिस तारह से उतरण मे दिखया जा रहा है है वो कोरा आद्रश वाद है जो की रोजमर्रा की जिंदगी मे असम्भव है| और अब तो दोस्ती भी अमीर और ग़रीब मे नही होती ,और खुदाना ंखास्ता होती भी है ती ग़रीब एन केन प्रकारेन जल्दी से जल्दी अमीर बनने की जुगाड़ मे लग जाता है |

AAKASH RAJ said...

इस धारावाहिक के सभी पात्र और घटनाएँ काल्पनिक हैं इनका किसी भी वास्तविक घटना से कोई सम्बन्ध नही है, अगर किसी भी घटना से इनका सम्बन्ध दीखता है तो ये मात्र एक संयोग कहा जायेगा|

और आज तो ये घटनाएँ संयोग से भी नही घटित हो सकती हैं|

वाणी गीत said...

सच ही बहुत मुश्किल है वर्ग की खाइयों का पटना मगर फिर भी इस दुनिया में असंभव कुछ भी नहीं है ..एकता कपूर जैसे धारावाहिकों में तो बिलकुल भी नहीं
नवरात्री की बहुत शुभकामनायें ..!!


अब टी आर पी मे टॉप पर हैं तो मान लेना चाहिये कि ........

पर आयी टिपण्णी

6 Comments:

विनोद कुमार पांडेय said...

Badhayi ho..achchi shuruaat hai..

अनिल कान्त : said...

रोना तो इसी बात का है

शोभना चौरे said...

kuch salo phle filmo me in sab cheejo ko peeche chod mhilao ne apni apni svtntrta se apni phchan banai thi sadgi se shadi hona apne nirny khud lena .jisme rjnigadha jaisi picture shamil hai kintu aaj un sbhi ko vapis peeche dhkelkar .ghar ghar me t. v. ke madhym se asvastvikta bnavtipan dikhava mhilao se apekshaye ashneey shnsheetlta prosi ja rhi hai .aur jo roj roj thali me aayega vhi khane aadt ho jati hai.

प्रवीण शाह said...

.
.
.
सुमन जी,
यही तो विडंबना है हमारे समाज की...
एक बात और, इस तरह के धारावाहिकों को टी आर पी मिलती भी महिला दर्शकों से ही है।
क्या किया जाये ?

डॉ० कुमारेन्द्र सिंह सेंगर said...

yadi anyatha na liya jaaye to is vishay par bhi bahut kuchh hai bataane aur dikhane ko.
waise pravin shah ji kii baat men DAM hai.

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...

टीवी पर धारावाहिक टीआर्पी की सीढ़ी तेजी से चढ़ता है वह वास्तविकता से उतना ही दूर होता है। आजकल टीवी पर लोग केवल मनोरंजन के लिए जाते हैं। ज्ञानी-ध्यानी होने नहीं। अपने आस-पास की दुनिया से थोड़ा अलग माहौल पाने के लिए। टीवी वाले इस बात को समझते हैं और वही सब दिखाते हैं जो सच्ची दुनिया में कहीं नहीं होता। इसलिए चिन्ता की कोई बात नहीं। यह सब चालू विज्ञापनों की तरह देखिए। मन को भारी करने की कोई जरूरत नहीं है।


लड़की का दर्जा उसकी सुन्दरता और रंग से बनता हैं । बकौल धारावाहिक


इस पोस्ट पर आये कमेन्ट

6 Comments:

Yogesh Gulati said...

great! bu the question is who is responsible for this? and the answer you know very well........women! apke dono hi udaharano me ladaki ki maa, jo apani hi beti par ek bigade hue ladke se shaadi kaa dabav banati hai. vo khud bhi naari hi hai. ladke ki sas jo kahti hai ki sari galtiya ladki me hoti hai ladke valo ka koi dosh nahi. vo bhi ek naari hai. aur perfect bride me us ladke ki maa jise gori bahu chahiye vo bhi ek naari hai aur shayd vo khud bhi gehue rang ki hi hai. log ise pasand kar rahe hai kyoki ye bhi hamare samaj ka hi ek pahalu hai! ye hi hamari sachchai hai. kahi na kahi andar se ham sab aise hi hai! lekin shayad sach ka samana karane ko ham taiyar nahi hote. apane dil me jhak kar dekhiye kahi aap bhi to aisi hi soch nahi rakhati hai?

प्रकाश पाखी said...

सही प्रश्न उठाया हैआपने,शायद हमारे समाज में विवाह के लिए लड़की का परफेक्ट होना ही जरूरी है..लड़के के सौ गुनाह माफ़ ..इस मानसिकता को लड़किया ही बदल सकती है...आप जब तक लड़कों को रिजेक्ट करना नहीं शुरू कर देती तब तक इस जुल्म के लिए तैयार रहिये...!

वाणी गीत said...

बहुत सही सवाल..धारावाहिकों में ही क्यों..लगभग सारे विज्ञापनों में भी यही कुछ दिखाया और सराहा जाता है ..
जिस समाज में लड़की की योग्यता उसकी शादी हो जाने तक कुछ मान्यता नहीं रखती ..लड़कियों का आगे होकर रिश्ते को रिजेक्ट करना बहुत मुश्किल है..ऐसी कई जहीन और अच्छी खासी पढ़ी लिखी लड़कियों को कई बार रिजेक्ट कर दिए जाने के कारण मन मार कर माता पिता की ख़ुशी और छोटी बहनों की शादी में अड़चनों को देखते हुए अवांछित लड़कों को पसंद कर जिन्दगी निबाहते देखा है ..
जो माएं इस तरह रिजेक्ट करने का काम करती है..कभी न कभी उन्होंने भी ऐसा रिजेक्शन देखा और झेला है..और दूसरो को रिजेक्ट कर शायद अपने अपमान का बदला इस तरह लेती है ...

फ़िरदौस ख़ान said...

बेहद उम्दा...सुन्दरता लड़कियों की ही क्यों देखी जाती है, लड़कों की क्यों नहीं...

Dipti said...

ये एक तरह का मनोविज्ञान है। जोकि हमारी भारतीय सोच को जकड़े हुए हैं। इससे उबर पाना मुश्किल है नामुमकिन नहीं। योगेश का कमेन्ट भी सही है कि बहुत हद तक लड़कियाँ भी ज़िम्मेदार होती हैं।

naveentyagi said...

is baat me pooree sachchai nahi hai.hamare samaj me ye vikrti videshiyon ke sath aayi. anytha apala, gargi,meera jaise vidushi mahilayen,aur padymini, jhansi ki rani jaise ver mahilayen apne roop ke karan nahi balki apne guno ke karan hamare man me basti hai.


सुमन की पिछली दो पोस्ट से कुछ आगे की बात आज

इस पोस्ट पर जो कमेन्ट आये

7 Comments:

निशाचर said...

मैं कोई भी टी0 वी० धारावाहिक नहीं देखता क्योंकि केबल टी0 वी० आने के बाद उन पर प्रसारित होने वाले धारावाहिकों के एक- आध एपिसोड देखकर ही मन वितृष्णा से भर गया था. इन धारावाहिकों के पटकथा लेखको की अभिरूचि को देखकर क्षोभ और घृणा होती है इसीलिए इन्हें न देखना ही इनके विरोध का एकमात्र उपाय दीखता है.

जहाँ तक बात दिखाई गई प्रवृति की है तो इस विषय में यही कहना चाहूँगा की टी0 वी0 सूचना, संचार और शिक्षण का शशक्त माध्यम होते हुए भी ऐसे लोगों के हाथों में पड़ गया है जो इसे व्यापार से ज्यादा कुछ नहीं समझते. साथ ही इनका सदाबहार कुतर्क होता है कि हम तो वही दिखा रहे हैं जो दर्शक देखना चाहते हैं. मेरा इनसे विनम्र किन्तु ठेठ देशी भाषा में आग्रह है कि देखना तो दर्शक 'ब्लूफिल्म' भी चाहेंगे और वह भी उनकी बहन -बेटियों के किरदार वाली. क्या वे वह भी दिखायेंगे??

इस असभ्य आग्रह हेतु क्षमाप्रार्थी हूँ परन्तु इनके कुतर्क का ठेठ जवाब मुझे यही सूझा.

suman said...

आप की बात को मान देते हुआ मे सिर्फ़ इतना कहना चाहूंगी कि "वह भी उनकी बहन -बेटियों के किरदार वाली" मानसिकता पर आप एक बार पुनर्विचार करे । बहिन बेटी किसी कि भी हो उस को "शरीर" ना बनाए । जिस दिन ये बात मन से निकल जायेगी किस किसी कुतर्क का जवाब देने के लिये "उसकी माँ बेटी " करना जरुरी हैं उसी दिन से स्वस्थ समाज कि संरचना शुरू हो जायेगी ।

रचना आप ने पोस्ट दी मेरी बात को आगे बढाते हुए शुक्रिया ।

रेखा श्रीवास्तव said...

रचना,
वैसे तो मैं टी वी देखने के लिए समय निकाल ही नहीं पाती हूँ, फिर भी कल किसी के यहाँ गयी तो परफेक्ट ब्राइड ' आ रहा था और देखा तो सोचा कि तुम्हारी पोस्ट के लिए ये कमेन्ट अच्छा रहेगा.
ये टी वी धारावाहिक तो बाजार का नजारा पेश करते नजर आ रहे हैं. 'परफेक्ट ब्राइड' क्या लगता है? लड़कियाँ यहाँ बिकाऊ है और उनको ठोक बजा कर सासें खरीदने के लिए आयीं हैं. फिर उसके ऊपर लड़कियों के ऊपर किये गए कमेन्ट उनको क्या लगता है कि वे ही एक बेटे कि माँ हैं , उनके अधिकार बहुत बड़े हैं और लड़कियों की माँ उनसे कमतर है. उन्हें भी हक़ है अपनी बेटी के लिए वर खरीदने का . ये काली है, इसके नैन-नक्श अच्छे नहीं या फिर इसको निकाल दिया जाना चाहिए. ये सार्वजनिक तमाशा बंद किया जाना चाहिए. वे यह भूल रही हैं कि वे सिर्फ किसी लड़की को ही आरोपित नहीं कर रही हैं बल्कि अपनी छवि प्रस्तुत करके अपने लडके के भविष्य के लिए भी बाधक बन रही हैं. ऐसी तेज तर्र्रार सास के साथ लड़कियाँ भी इनकार कर सकती हैं. देखती जाइए अभी आगे क्या होता है? और ये माँ के हाथ के कठपुतले भविष्य में क्या करेंगे? जो सारा काम छोड़ कर इस तमाशे में शामिल होने चले आये.

suman said...

रेखा जी उन लड़कियों का क्या तो इस तरह " परफैक्ट ब्राइड " बन रही हैं । सभी आधुनिक हैं और सभी पढ़ी लिखी ।

शोभना चौरे said...

t.v dharavahiko ke madhym se bajar aur apne ghre pav jmata ja rha hai .in dharavahiko ko dekhkar hi aajkal shadiyo me anap shnap kharch badh raha hai aur sbse bdi bat hai ptktha likhne vale bhi to madhaym vrggey parivar ke log hai jinka bazar chlane vale jmkar uyog kar rhe hai .

प्रकाश पाखी said...

मुझे ये धारवाहिक कभी पसंद नहीं आते पर श्रीमती जी देखती रहती है..गोया की महिलाएं ही उसको पसंद करती है.अब नारी तो अपने आपको बदले, उसको तर्कपूर्ण और समझदारी भरे निर्णय लेते क्यों नहीं दर्शाया जाता है...प्राय तो महत्वपूर्ण निर्णय लेते ही नहीं दर्शाया जाता है..अब जब हम लड़कियों को निर्णय लेने के संस्कार ही नहीं डालने देंगे तो फिर धारवाहिकों में नारी के यही चरित्र दिखाए जायेंगे..
बोधपूर्ण आलेख के लिए आभार.

mukti said...

जब धारावाहिकों की बात चली है तो मैं भी एक धारावाहिक की बात करती हूँ. मैं आजकल ना आना इस देश लाडो देख रही हूँ. हालाँकि इसमें भी सभी धारावाहिकों की तरह मिर्च-मसाला है. पर हाल ही में इसकी एक कड़ी में औरतों को एक पुरुष की कम्बल-परेड करते दिखाया गया है क्योंकि उसने अपनी पत्नी को बुरी तरह पीटा था. इस प्रसंग में एक बात गौर करने लायक है कि औरतें जब तक अपने ऊपर हो रहे अत्याचार का विरोध खुद नहीं करतीं उनका शोषण रोकने कोई और नहीं आयेगा.


नारी पात्र आज के टी वी धारावाहिकों मे


इस पोस्ट पर पाठक राय

7 Comments:

संतोष कुमार said...

आज पेपर में पढ़ा की एकता कपूर अब घर बसाना चाहती हैं, और वे ऐसा पति चाहती हैं जो उनपर शासन कर सके. अब इसे क्या कहेंगे?

रचना गौड़ ’भारती’ said...

नारी आज भी नारी है बस भूमिका बदल गई है। क्या आप आगरा की रहने वाली है क्योंकि मैं भी श्रीवास्तव हूं और आगरा के डा० आशीर्वादि लाल श्रीवास्तव जी की पोती हूं।

रेखा श्रीवास्तव said...

सुमन,

जीवन का यथार्थ यही है की घर में आनेवाली बहू सुसंस्कारी, कुशल गृहणी , सुन्दर और उच्च शिक्षित हो . अगर प्रोफेशनल योग्यता धारक हो तो और भी अच्छा लेकिन घर में उसको इसी रूप में दिखना चाहिए. वैसे अब ससुर का कम सास का शासन अधिक नजर आता है. थोक के बाजार से जैसे चीजें बटोर कर लाती हैं वैसे ही बहू के लिए लिस्ट बना कर एक एक कर देख कर निर्णय लेती हैं. जैसे वह कोई खरीदने वाली चीज है. दहेज़ तो चाहिए ही क्योंकि आप सब कुछ अपनी बेटी के लिए दे रहे हैं हमको तो कुछ चाहिए ही नहीं.

लड़कियाँ चाहे आत्मनिर्भर हों या फिर दूसरों को भी पालने की क्षमता रखती हों, उन्हें बहू बनाने के पहले ठोक बजा कर देखने की प्रथा अब भी है. वह बात और है कि अब लड़कियों ने भी अपनी पसंद जाहिर करना शुरू कर दिया है और गलत निर्णय पर शादी से इनकार भी करने लगी हैं. उनका अपना जीवन है , मान - बाप सिर्फ शादी करके अपने दायित्व कि इति श्री न समझें. उनकी पसंद और परिवार के संस्कार और जीवन शैली पर भी ध्यान दें. ऐसा न हो कि कल विषम स्थितियों का सामना करना पड़े. विवाह संस्कार की पवित्रता को कायम रखना दोनों पक्षों का काम है.

शोभना चौरे said...

आपने धरावाहिको में दिखाई जाने वाली बातो पर खूब बारीकी से लिखा है और उसमे सबकी भूमिका निर्धरित है लेकिन लडकी की भूमिका एक मूक गुडिया सी होती है ऐसा ही एक धारावाहिक है भाग्य विधाता जिसमे बदूक की नोक पर शादी कराइ जाती है बहू जिस घर में रहती है वहां उसके चचेरे देवर द्वारा उसकी इज्जत लूटने का प्रयास किया जाता है जो की उसके पति को भी मालूम है क्योकि उसी की शह eहोती है कारन की पति को अपनी बीबी पसंद नही होती |यहाँ भी उस समय तो लड़की अपनी इज्जत बचा लेती है किंतु न तो वो किसी से इसका जिक्र करती है न ही उसे कोई करार जवाब देती है जबकि लडकी स्नातकोत्तर शिक्षा प्रप्त है |जब घर में ही भक्षक हो और इससे बड़ी ज्य्द्ती की लडकी कोई प्रतिवाद न kre येकैसी साहित्यिकी संस्क्रती है? और उस घर में दिन रात देवी माँ की पूजा होती है संस्कारो की बात होती है |
इस धरावाहिक में भी दहेज़ की लें देन की बात आम है |

PD said...

सबसे बड़ी बात तो यह है कि इस टी.आर.पी. में सबसे ज्यादा सहयोग इन्हें महिलाओं से ही मिल रहा है..

वाणी गीत said...

अब जी उकता गया है घर तोड़ते ...साजिशें और षडयंत्र रचते ..तो क्यों ना संस्कारों और नारी दमन पर कुछ धारावाहिकों का निर्माण कर लिया जाये ....
इनके लेखकों की यही सोच है शायद ..!!

रेखा श्रीवास्तव said...

क्यों जी उकता गया? क्या आप और हम नहीं जानते हैं की ये सारी गतिविधियाँ परिवारों में भी हुआ करती हैं. हर तरह से षडयंत्र रचे जाते हैं, बड़ों की नजर में छोटों को गिराने के लिए और या सही को गलत सिद्ध करने के लिए. घर में रहने वालों को नए नए विचार मिलते रहते हैं, इन धारावाहिकों से. ये बात और है की इसमें पिसने वाला कौन हो? कभी सास बहू के षड्यंत्रों के चंगुल में फंस जाती है और कभी ननद और भाभी . जो जितना चालाक और चतुर हो.

1 comment:

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts