नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

August 26, 2009

उन्हें जीने दो - उन्हें भी जीने का हक है!

इस देश के सिर्फ एक कानपुर शहर में पिछले एक हफ्ते पहले, प्रतिदिन का एक समाचार इस का होता था कि एक नवजात बच्ची मृत मिली। कभी कूड़े के ढेर पर , कभी नाले के किनारे और कभी सड़क के किनारे। यह ख़बर रोज निकलती रही और हम उसको एक ख़बर समझ कर पढ़ते रहे। दो चार अपशब्द उसके घर वालों के लिए बोल कर अपने कर्तव्य की इति श्री समझ ली ।
इस दुनिया में आने के बाद भी उनसे उनके जीने का हक़ छीन लिया गया। किसने छिना यह अधिकार? शायद हमने ही - हाँ हम ही तो हैं इसके जिम्मेदार। उन ८ बच्चियों में कुछ के सिर पर चोट करके मारा गया था , किसी को भरी बारिश के बीच सड़क के किनारे डाल दिया गया था. कुछ को जीवित ही फ़ेंक दिया और बाद में मौत मिली और किसी को घर वालों ने मौत बख्श दी फिर फ़ेंक दिया।

इनमें ही एक माँ ने साहस किया या फिर घर वालों से मिन्नतें करके बच्ची के जीवन तो मांग लिया लेकिन अपनी गोद से वंचित करने की शर्त पर । कम से कम उसको जीवन तो मिला जाएगा। कल एक बच्ची एक मन्दिर में पड़ी पाई गई , २० दिन की बच्ची जिसके गले पर रस्सी से कसने के निशान हैं। पर उस बच्ची के लिए कई सूनी गोद फैल गयीं। आज नहीं तो कल उसको एक गोद मिल जायेगी और उसके जीवन को एक सफर।

ये सजा सिर्फ उन मासूमों को ही नहीं मिली जिनको आँखें खोलते ही मौत दे दी गई बल्कि उन माँओं को भी मिली जिन्होंने घर वालों के तमाम ताने सहते हुए उसे प्रसव तक अपने गर्भ में पाला, प्रसव पीड़ा सही और फिर मिली उनको खाली गोद और उन मासूमों के लिए उनके स्तनों से बहता हुआ दूध। कितनी मौत मरती है वह माँ. सिर्फ एक लडके की चाह ने उस मासूम को जीने नहीं दिया।

इन मारने वालों ने कभी सूनी गोद वालों की पीड़ा को नहीं सहा है और उसका अहसास भी नहीं कर सकते हैं। जो अपने ही अंशों को गला घोंट कर मार देते हैं, वे पीड़ा से परे होते हैं. घर के आँगन में एक किलकारी गूंजने की चाह में कितने दंपत्ति मन्दिर, मस्जिद और गुरुद्वारों पर माथा टेकते हैं। तब भी उनको कोई एक माँ और पापा कहने वाला नहीं मिल पता है और हम अपने आँगन में आए उस सुख को ख़त्म कर देते हैं।

मेरी तो सबसे यही प्रार्थना है की इन बच्चियों को मत मारो, उनके जीने का हक़ दो। अगर आप नहीं पाल सकते तो उन्हें जिन्दा किसी आश्रम , मन्दिर या फिर पालना घर जैसी स्वयंसेवी संस्थाओं में छोड़ दो। उनको कोई घर मिल जाएगा और किसी घर को उनकी किलकारियों का सुख। तुम्हें तो उनसे ममता नहीं है और न प्यार, बस उन्हें इस दुनियां में जीने का हक़ दो। उन्हें लेने के लिए सैकड़ों खाली आंचल फैल जायेंगे। वह एक जीवन जो तुमने सृजित किया है, उसको नष्ट मत करो। मारने वाला कोई भी हो, मेरे ख्याल से माँ तो नहीं हो सकती और अगर माँ भी है तो अपने ही रक्त मज्जा से सृजित शरीर को कुत्तों और कौवों का आहार बनाने से बेहतर है कि किसी की गोद को भरने के लिए छोड़ दो।
वे बच्चियां जिन्होंने तुम्हारे घर में जन्म लिया है, उनकी हत्या करना बंद करो। एक सवाल उन्हीं से क्या कभी नवजात शिशु जो पुल्लिंग होता उसके इस तरह से मारा गया है। नहीं - ऐसा कभी नहीं होता है, अगर वह बीमार भी पैदा होता है तो अस्पतालों के चक्कर लगाते और मन्नतें मान रहे होते। क्या बेटे पैदा होते ही आपको कमाई खिलाने लगाते हैं या फिर उनका दहेज़ आपको पहले से नजर आने लगता है। हम आज भी किस भ्रम में जी रहे हैं। बेटियाँ आज आसमान छू रही हैं, वंश के नाम के चलने के प्रश्न पर भी मैं पूछती हूँ, कि कितनी पीढ़ियों तक आप का नाम जीवित रहेगा। इंसान का नाम अपने कर्मों से जीवित रहता है, बेटे और पोते से नहीं. बेटियाँ भी उतनी ही सक्षम होती हैं, जितने कि आपके बेटे। उन्हें जीवन दीजिये मृत्यु नहीं। अगर नहीं चाहिए तो उन्हें जीवन ही मत दीजिये। इन हत्याओं का आपको कोई दंड नहीं देगा क्योंकि ये अनदेखा अपराध किसने देखा है ? लेकिन इसका अपराध बोध आपका पीछा सारे जीवन नहीं छोडेगा।

इसलिए फिर वही प्रार्थना कि बेटियों को जीने दीजिये , अपनी गोद नहीं देनी है तो दूसरों कि सूनी गोद में जीने दीजिये। ये आपका उपकार होगा मानवजाति पर, स्त्री जाति पर और उन सूने आंगनों पर जिनमें ये किलकारियों कल गूजेंगी जिन्हें आप खामोश कर देना चाहते हैं.

8 comments:

  1. पता नहीं इश्वर उनको बच्चे क्यूँ देता हैं जिनको
    उनकी जरुरत ही नहीं हैं . और बेटी देकर तो और
    भी अन्याय ही करता हैं

    ReplyDelete
  2. शर्मनाक ..छिः कैसे हैवान हैं ये लोग.

    ReplyDelete
  3. समाज को सामाजिक आंदोलन बदलते हैं। बेटियों को बचाने का सामाजिक आंदोलन आरंभ होना चाहिए। उस के लिए जरिए तलाशे जाएँ। कानून भी बने कि जिन के घर इकलौती बेटी या एक से अधिक बेटियाँ हैं उन्हें प्रोत्साहित किया जाए।

    ReplyDelete
  4. कैसे पत्थरदिल होते हैं ये इंसान ..क्या इंसान कहलाने लायक भी होते है ...शर्मनाक ..खौफनाक..भयावह ..जितनी भर्त्सना की जाये कम है ..

    ReplyDelete
  5. उचित लेख. समाज में अपने बच्चों के वध (चाहे बेटी या बेटा) जघन्य पाप कोई नहीं हैं. ऐसे माता-पिता पर हत्या का मुकदमा चलना चाहिए. और कितनी बच्चिया तो भ्रूंड हत्या की शिकार होती हैं. इसकी जितनी भी भर्त्सना की जाये कम हैं हैं.

    असमर्थ माता पिता द्वारा स्वयंसेवी संस्थाओं में छोड़ देने की पहल सार्थक कदम हो सकती हैं. ऐसे प्रयासों से जहाँ कई सूनी गोद भर जाएँगी वहीँ इस जघन्य पाप को भी रोका जा सकेगा.

    ReplyDelete
  6. dineshji ki bat se shmat.samajik andollan hona chahiye.aur aise kogo tak ye sndes phuchna chahiye .sashakt madhymo dvara .

    ReplyDelete
  7. dineshji arambha kaun karega? ham aur aap hi na, phir agar ham sankalp len ki apane aas paas ke logon ko isake liye maanasik roop se taiyar karenge to yah sankalp eka svasth samaj ka nirmaan karane men eka mashal ban kar jalegi aur usa se do teen aur phir saikadon aur hajaron.

    ReplyDelete
  8. EK WO LOG HEY JO SANTAN KE LIYE TARASTEY HEY JEEVAN BHAR. EK WO JO INSAAN NAHI JANNVAR BHI NAHI KEHNA PASAND KAROOGA JO NAVJAT SISHU KO KOODE KE DHER PAR DAL JATE HEY .INKO BANDARIYA SE SEEKH LENI CHAHIYE JO MARE BACHEY KO BHI CHATI SE LAGA KAR GHOOMATI HEY.

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts