नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

August 14, 2009

आज़ादी आन्दोलन की एक परम्परा , स्वाइन फ्लू को कम कर सकती है

नारी ब्लॉग पर प्रश्न उठाने की परम्परा शुरू से रही है और लंबे शीर्षकों की भी!!!
आजादी की इस पूर्वसंध्या पर एक सवाल, एक लंबे शीर्षक के साथ मैं भी पूछना चाहती हूँ, कि कैसे इस दिन को सार्थक तरीके से मनाया जा सकता है? एक अमूर्त भारतमाता की जे-जयकार से, एक छूट्टी की तरह, या फ़िर उत्सव धर्मिता मे रंगे त्यौहार और वर्चुअल शुभकामनाओं के आदान प्रदान से? या फ़िर ऐसे ही संकेतो से?
आज़ादी की पूर्वसंध्या पर जब देश मे बहुत से लोग स्वाइन फ्लू के आतंक से घिरे है, अपनी जेबों मे अपनी और अपने परिवार की सुरक्षा को तलाश रहे है, और बाज़ार कुछ असली नकली मास्क और तमाम तरह की चीजों को बेचने मे लगा है, और मीडीया का काम सिर्फ़ सनसनी फैलाना भर है, मुझे लगता है की ब्लॉग जैसे सीमित मंच से ही सही, अपनी एक भूली-बिसरी परम्परा जो आजादी के आन्दोलन का मुख्य हिस्सा थी, को याद करने का ये सटीक समय है। आज़ादी की लड़ाई के साथ एक और मुहीम महात्मा गांधी ने चलाई थी। वों थी सफाई अभियान, सामाजिक सारोकार की और आमजन की भागीदारी की। पढ़े-लिखे, छात्र और नागरिको को शहरी और सार्वजानिक स्थलों की सफाई मे भागीदार बनाना। गरीब बस्तियों मे शिक्षा और स्वास्थ्य संबन्धी जानकारी इसका प्रचार करना, शिक्षा और सूचना को समाज के कमजोर हिस्सों तक पहुचना और सबके लिए सार्वजनिक जीवन को बेहतर बनाने के लिए इसका इस्तेमाल करना।

स्वाइन फ्लू से बचने के लिए व्यक्तिगत हायजीन, मास्क, वैक्सीन, और बाज़ार मे मौजूद तमाम साधनों पर कई ब्लोगों पर बात हो चुकी है। कुछ मैंने अपने ब्लॉग स्वपनदर्शी पर भी लिखा है। एक पक्ष जो सामने नही आया है वों ये है कि अकेले अपने दम पर, अपनी जेब की दम पर इसका मुकाबिला करना सम्भव नही है। ये एक संक्रमित बीमारी है, और अमीर-गरीब, स्त्री पुरूष, काले-गोरे का भेद नही करेगी। १०० करोड़ जनसँख्या वाले देश मे व्यक्तिगत हाईजीन अगर एक चौथाई तबका फोलो भी करे तब भी ख़ुद को बचा नही पायेगा। अपने-अपने द्वीप मे हम नही रहते, और इसीलिये, अपने और अपनो को बचाने की इस मुहीम का सबसे कारगर हिस्सा, मास्क खरीदने, फ्लू के मंहगे टेस्ट के पीछे भागने की बजाय पुब्लिक हायजीन को ठीक करने मे हमारा थोडा -बहुत योगदान , सहयोग हो सकता है। और ये एक आदमी के बूते की बात नही है, बल्की कई लोगो का मिलाजुला अपने-अपने स्तर पर प्रयास हो सकता है। इतिहास की महामारियों, जिनमे प्लेग काफी कुविख्यात है, का सबसे बड़ा प्रतिरोध पब्लिक स्पेस मे लोगो की सामूहिक भागीदारी के जरिये साफ़-सफाई का ही रहा है।

क्या इस तरह की किसी पहल के लिए लोग तैयार है? ज्यादा नही, क्या एक घंटा प्रति महीने आप सार्वजानिक स्वच्छता मे किसी तरह का सहयोग कर सकते है, किसी ऐसे को स्वास्थ्य और बीमारी से बचाव की शिक्षा दे सकते है, जो पढ़ना -लिखना न जानता हो? कामगार हो? किसी स्कूल मे जाकर, खासकर गरीब स्कूलों मे, सरकारी स्कूलों मे बच्चों के साथ साफ़-सफाई की जानकारी बाँट सकते है?

4 comments:

  1. सही समय पर सही आलेख आया हैं नारी ब्लॉग
    पर

    ReplyDelete
  2. ji ha mai ak ghanta bant skti hoo un bachho ke sath jinka 100 krod ki janta me bhi nam nhi hai .
    maine kchra beenne valo bachho ko ,mandir me bhikh mangne vale bachho ko prathmik sfai ke bare me aur school jane ke liye taiyar kiya hai aur aaj ve kaksha panchvi me pdhte hai sarkari school me .

    ReplyDelete
  3. इस काम का बीडा उठाने के लिए शोभना जी को बहुत बधाई..प्रयास अपने स्तर पर भी जरुर करेंगे..
    स्वतंत्रता दिवस की बहुत शुभकामनायें. .!!

    ReplyDelete
  4. aapka prayas sukhad aur prasansaneey hai. Thanks

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts