नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

February 07, 2009

कर सकती हैं थाने जाने से इनकार

पिछले दिनों पुणे शहर में देर शाम यह हादसा हुआ। खुद को सादे कपड़ों में पुलिस का आदमी बताने वाले एक बदमाश ने एक युवा जोड़े की कार रुकवाई और कागज़ात दिखाने को कहे। वे दोनों अपने ड्राइविंग लाइसेंस नहीं दिका पाए। उस आदमी ने युवक को लाइसेंस लाने भेज दिया और युवती को थाने चलने को कहा।

युवती को थाने ले जाने की जगह कहीं और ले जाया गया जहां उसके खिलाफ भयानक दुष्कर्म हुआ।

हममें से कम ही लोग ऐसे हालात से बचने का कानून जानती हैं। कानून साफ कहता है कि कोई भी महिला शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे तक पुलिस थाना जाने से इनकार कर सकती है, भले ही उसके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी हुआ हो।

कानूनन किसी महिला को सुबह 6 से साम 6 बजे के बीच ही गिरफ्तार किया जा सकता है। उसकी भी शर्तें साफ हैं-

कोई महिला पुलिस अधिकारी उसे गिरफ्तार करे और महिला पुलिस थाना ले जाए, या
अगर पुरुष पुलिस अधिकारी गिरफ्तारी करे तो यह साबित करना होगा कि उस समय कोई महिला पुलिस अधिकारी गिरफ्तारी के समय ड्यूटी पर थी।

और आधारभूत नियम तो यह है कि बिना वारंट के कोई पुलिस वाला या ट्रैफिक पुलिस वाला किसी को डिटेन नहीं कर सकता।

हमें यह बात जाननी और याद रखनी चाहिए। साथ ही ज्यादा से ज्यादा औरतों तक पहुंचानी चाहिए ताकि ऐसे हादसे आने की नौबत ही कम आए। ये कानून महिलाओं की सुरक्षा के लिए बने हैं, इनका भरसक इस्तेमाल करना चाहिए।

एक अपराध का आरोपी होने का अर्थ यह कतई नहीं है कि व्यक्ति न्यायव्यवस्था के नाम पर हर अनाचार को झेले। कानून और न्याय प्रणाली अपराधी को दंड देने के लिए नहीं बल्कि अपराधों को रोकने, कम करने और अपराधियों को बेहतर रास्तों पर चलने को प्रेरित करने के लिए है।

8 comments:

  1. एक अपराध का आरोपी होने का अर्थ यह कतई नहीं है कि व्यक्ति न्यायव्यवस्था के नाम पर हर अनाचार को झेले।

    सहमत हूँ आप से अनुराधा , कानून को जानना बहुत जरुरी हैंआप काफी दिन बाद पर नारी पर पोस्ट ले कर आयी हैं एक जागरूक पोस्ट

    ReplyDelete
  2. वाकई अपने एक अनमोल जानकारी नारीओं के लिए उपलब्ध कराई है. मेरे ब्लॉग की पहली पोस्टिंग मैं एक पंक्ति है, -- दिल दुखता है जब राह चलती किसी लड़की को कोई सीटी मारता है या रास्ता रोकता है .... कभी- कभी सोचता हूँ कि कैसे-कैसे लोग हमारे बीच में रहते है... ये सब करते समय उन्हें तनिक भी ये बहन नहीं रहता कि हमारे घर में भी ..... नारी रहती है.

    ReplyDelete
  3. ऐसी घटनाओं को अंजाम देनेवाले वास्‍तव में दरिंदे है.... बात है कि सभी कानून....सभी नियमों की जानकारी हम पढी लिखी महिलाओं तक को ही हो पाती है....सबसे पहले महिलाओं को साक्षर बनाए जाने की जरूरत है....तभी उनपर अत्‍याचार होना कम हो सकता है।

    ReplyDelete
  4. सच तो ये है की महिलाओं को वास्तव में अपने कानूनी अधिकारों का ज्ञान नहीं है!जबकि सभी को ये कानून मालूम होने ही चाहिए! ये पोस्ट महिलाओं की जागरूकता बढाने वाली है!

    ReplyDelete
  5. bahut hi achhi jankari di hai, hamesha yaad rahega.

    ReplyDelete
  6. Anuraadha, aapka bahut bahut dhanywaad itni mahtvapurn jaankari ke liye, mujhe nahi pata tha is kanoon ke baare main.
    Dil dehel jaata jab aise hadse sunne ko milte hain.

    ReplyDelete
  7. पुलिस थाने में भी महिलाओं के साथ उचित व्यवहार नहीं होता है। पुलिस थाने में दुर्व्यवहार (बलात्कार) से जुड़े एक केस जो कि मथुरा बलात्कार केस के नाम से जाना गया के कारण तो पूरा कानून ही बदलना पड़ा।

    ReplyDelete
  8. घरेलू हिंसा क्या सिर्फ शारीरिक उत्पीड़न से ही समझी जा सकती है, सबको संस्कार अपने परिवार से ही मिलते हैं लेकिन इसके बाद भी मनुष्य कि संगति भी उसके आचरण और व्यवहार के लिए जिम्मेदार होता है. यह उत्पीड़न पत्नी के खिलाफ तो होता ही है क्योंकि पुरुष सर्वोपरि है यह तो उनको घुट्टी में ही पिला दिया जाता है और रहा सहा घर की दादी और माँ उन्हें कुलदीपक और घर का चिराग बता कर उनके आचरण को हवा देती हैं.
    कितने घरों की बात करें, अच्छे सम्पन्न घरों में यही होता है. मेरे अर्तिक्ले अनदेखा उत्पीड़न में यही बात मैंने उठाई थी. वह हर चीज उत्पीड़न की सीमा में आती है, जहाँ अनिच्छा से समजौता करके की जाया क्योंकि वह कभी बच्चों के बारे में सोचती है और कभी परिवार के सम्मान के बारे में. यह नहीं कि अब यह मात्र महिलाओं के साथ ही होता है, इस उत्पीड़न कि दिशा में महिलाओं ने भी कदम रखने शुरू कर दिए हैं. परिवार संस्था का विखंडन होता जा रहा है. शादी के बाद वह पत्नी कि इच्छा के विरुद्ध माँ से बात भी नहीं करे, उसके लिए कुछ भी खर्च करे तो पत्नी से पूछ कर , उसकी बीमारी में सेवा अगर बेटे को करनी हो तो करे अन्यथा पत्नी यह सब नहीं करेगी.
    यह भी संस्कार परिवार के परिवेश से ही मिलते हैं, जहाँ पर घर की महिलायें शासन करने के नाम पर पति को
    कठपुतली बना लेती हैं, उस परिवार की लड़कियों को भी यही शिक्षा मिल जाती है. अगर मांएं यह सिखाती हैं की सहनशीलता उसके लिए जरूरी है, तो ऐसी भी माँओं की कभी नहीं है की जो अपनी लड़कियों की आचरण की शिक्षा देती हैं और ससुराल में भी दखल करती हैं.
    ऐसे मामले सदैव कानून और पुलिस से नहीं निपटते हैं बल्कि इसके लिए काउंसिलिंग की जरूरत होती है. किरण बेदी जैसी महिला जो इस दिशा में कर रही हैं, वह प्रशंसनीय ही नहीं अनुकरणीय भी है.
    आवाज हम सुनें तो , उसको सुलझाने की कोशिश करें , अपनी संस्कृति के प्रतिमानों की रक्षा करने के लिए एक मंच तैयार करे, उनको समझाएं, पीड़ित कोई भी हो सकता है और जो भी पीड़ित है वह न्याय का हकदार है.

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts