नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

July 31, 2012

पिता का पत्र ,नव-विवाहिता बेटी के नाम.


अहा ! जिंदगी

"अहा ! ज़िन्दगी" के जुलाई माह के अंक में मेरी ये चिट्ठी प्रकाशित हुई है.....आप सभी को पढाना चाहती हूँ....बिटिया को विदा करके पिता क्या सोचते हैं...क्या उम्मीद रखते हैं...क्या समझाइश करते हैं.....



प्रिय अनु,

तुम्हारे विवाह के बाद ये मेरा पहला पत्र है. यकीं ही नहीं हो रहा अब तक कि हमारी छोटी सी,शरारती,चुलबुली बिटिया अब बड़ी हो गयी और ब्याह कर हमसे दूर हो गयी है(दिल से नहीं.)
बेटियों को विदा करके अकसर मां-बाप थोडा फ़िक्र मंद होते हैं उनके भविष्य को लेकर.हम भी हैं...पत्र तुम्हें इसी आशय से लिख रहा हूँ .
वैसे आमतौर पर माएं ये फ़र्ज़ अदा करतीं हैं मगर बचपन से तुम भावनात्मक तौर पर मुझसे ही ज्यादा करीब रहीं .
जब कभी तुम व्यथित होतीं, अपनी भीगीं पलकें पोंछने को मां का आँचल नहीं मेरा कंधा खोजा करती थी.....सो तुम्हारी मां का आग्रह था कि ये पत्र तुम्हे मैं ही लिखूँ.

बेटा मुझे तुम्हारी समझदारी पर कोई शंका नहीं है मगर फिर भी कुछ बातें तुमसे कहना चाहता हूँ....जैसा तुम अकसर कहती हो कि"जल्दी मुद्दे पर आइये " मैं भी शुरु करता हूँ अपनी बात, बिंदुवार....
साथ फेरे के साथ सात वचन  लेकर तुम ब्याहता कहलायीं.अब मेरी ये सात बातें गाँठ बाँध कर सुखी जीवन व्यतीत करो ये कामना है मेरी.

पहली बात- तुम ससुराल में हो और  अब वही तुम्हारा घर है.
मगर ये बात ध्यान रखना कि जिस घर में तुम पली बढ़ी हो,तुम्हारा मायेका,वो भी सदा तुम्हारा रहेगा....तुम्हारा संबल बनेगा.
बिटिया हमने तुम्हें पराये घर भेजा है,पराया नहीं किया है.

दूसरी बात- ससुराल में सभी का उचित मान-सम्मान करना.बड़ों को शिकायत का कोई मौका न देना.
मगर बिटिया कोई तुम्हारा अपमान करे तो संयम और विनम्रता से अपना विरोध दर्ज़ कराना.अपमान सहना किसी भी सूरत में उचित नहीं है.

तीसरी बात-सबको अपना समझना. तुम्हारी हर चीज़ पर उनका भी हक़ है.और वैसे ही तुम्हें भी अधिकार है ससुराल की हर चीज़ को अपना समझने का.कोई इच्छा मन में दबा कर न रखना,तुम्हें पूरी उम्र वहाँ गुजारनी है.कुंठित होकर जीने से ह्रदय में स्नेह नहीं रहता.

चौथी बात- पति को अपना मित्र समझना.तुम्हारी ओर से प्रेम और सम्मान में कोई कमी ना रहे...और व्यवहार संतुलित हो.तभी तुम भी पाओगी भरपूर प्रेम और मान.
हो सकता है उनके ह्रदय में स्थान बनाने में तुम्हें वक्त लगे,परन्तु अपने प्रयासों में कमी ना होने देना.रिश्ते मुट्ठी में बंद रेत की तरह होते हैं.....मुट्ठी हौले से बांधना....ज्यादा कसने से रेत  फिसल जाती हैं और रह जाते हैं खाली हाथ. 

पांचवी बात-अपने स्वभाव में ठहराव लाना.अब तुम्हारे ऊपर एक परिवार का दायित्व है.मगर अपने विचारों में कभी ठहराव न लाना.अपनी कल्पनाशीलता को मत बांधना....अपने व्यक्तित्व की बाढ़ को मत रोकना,इसे निखरने देना दिन-प्रतिदिन.

छटवीं बात- सभी की आज्ञा का पालन करना तुम्हारा कर्त्तव्य होना चाहिए.मगर ध्यान रहे समाज के प्रति भी तुम्हारे कुछ कर्त्तव्य हैं.जैसे, जब तुम गर्भवती हो तब किसी के भी कहने से  लिंग जांच न कराना.यदि कन्या जन्म ले तो भी उसका स्वागत करना,और उसको अपनी तरह दृढ़ और सुशील बनाना...ससुराल में पल रही किसी भी कुप्रथा को न मानने का तुम्हें पूरा अधिकार है.

सातवीं बात-नया घर,नये लोग,नया परिवेश.....कभी ना कभी अकेलापन लगेगा,घबराहट भी होगी,उदासी भी घेरेगी.ईश्वर पर विश्वास  रखना...और उससे ज्यादा ज़रूरी है कि खुद पर यकीं रखना.जैसे मुझे यकीन है तुम पर और अपने दिये संस्कारों पर.

सदा खुश रहो 
सस्नेह
तुम्हारा पिता.

20 comments:

  1. sahi hai par jyadatar betiyon ki jindagi aapki har baat ka pahla vaakya poora karte karte nikal jaati hai.....papa ki yaad aa gai ye padhkar

    ReplyDelete
  2. ये बात सभी बेटियों को जानना जरुरी है !

    ReplyDelete
  3. सभी बातें बेहतरीन हैं और जीवन में उपयोगी हैं... अपनी पत्नी को भी बोलूँगा पढ़ने के लिए.....

    ReplyDelete
  4. येल्लो, पिछले कुछ महीने से ही 'अहा जिंदगी' से शुरू से चला आ रहा पाठक-पत्रिका का सम्बन्ध अनियमित हुआ है, न तो वहीं पढ़ चुके होते|

    चिट्ठी एक पिटा की तरफ से अपनी बेटी को लिखी गई आदर्श चिट्ठी है|

    ReplyDelete
  5. एक सहज रूप से हर बेटी के लिये उपयोगी जानकारी , काश हर पिता ये अपनी बेटी को समझाये

    ReplyDelete
  6. पत्र से बहुत संतुलित और कल्याणकारी संदेश मिलता है .

    ReplyDelete
  7. भावनाओं के संतुलित आवरण में कर्तव्य और अधिकार का संतुलन भी दिखता है इस चिट्ठी में !
    बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  8. अच्छी और उत्तम सलाह ! ये बाते तो बेटियों को पहले ही बता देनी चाहिए विवाह तक इंतजार क्यों क्योकि इसमे से तो ज्यादातर खुद उसके घर में भी उसके काम आयेंगी और अपने बेटो को भी समझा देना चाहिए कुछ बाते ताकि किसी और की बेटी घर आये तो उसे भी सम्मान और प्यार से रख जाये |

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच कहा अंशुमाला जी....सीख बेटों को भी दी जानी चाहिए,
      आभार.
      अनु

      Delete
  9. बहुत काम की बातें लिखी हैं इस चिठ्ठी में...

    ReplyDelete
  10. sarthak post ,aabhar.
    अनु जी ,
    पहले तो रक्षाबंधन पर्व की शुभकामनाएं स्वीकार करें , दस्तावेज़ में कविताओं के लिए भी स्थान है, बशर्ते वे शहीदों की, देश प्रेम की या समाज की तस्वीर उकेरती हों,
    सस्नेह : एस.एन.शुक्ल

    ReplyDelete
    Replies
    1. सर प्रयास करती हूँ कुछ अच्छा लिखने का..
      सादर
      अनु

      Delete
  11. बहुत ही संतुलित और सयामीत भाषा का प्रयोग करके जो शिक्षा दी गयी है वह एक बेटी को उसके नए जीवन में प्रवेश करने के साथ साथ दोनों परिवारों के माँ और मर्यादा के नौरूप है साथ ही अपने निजत्व और आत्मसम्मान के प्रति सजग रहने का सन्देश देती है. इसके लिए आपको बधाई.
    --

    ReplyDelete
  12. ये बात सभी बेटियों को जानना जरुरी है !

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर और संयमित पत्र …………ये शिक्षा भी जरूरी है।

    ReplyDelete
  14. आप सभी के स्नेह से अभिभूत हूँ.........
    आप सभी का धन्यवाद.

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  15. pratyksh/apratyksh..dono roopon mein bs yehi siksha milti hai...anu ji aapke lekhan ka tarika abhibhut krta hai...

    ReplyDelete
  16. pratyksh /aprtyksh...dono roopon mein bs yahi sikh milti hai...amda lekhan shaili...

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts