नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

July 23, 2012

जन हित मे जारी


अगर आप एक विवाहित स्त्री हैं और आप का विवाह हिन्दू सनातनी रीति रिवाज से हुआ हैं , यानी विवाह तो हुआ , लेकिन उसका कोई क़ानूनी प्रमाण पत्र आप के पास नहीं हैं तो जान लीजिये की आप को कभी भी समस्या आ सकती हैं .
अब विवाह का रजिस्ट्रेशन करवाना जरुरी होता जा रहा हैं .
अगर आप शादी के बाद विदेश जाना चाहती हैं तो पासपोर्ट पर पति का नाम हो ना हो लेकिन अगर आप विवाहित हैं तो आप के पास उसका प्रमाण पात्र जरुरी चाहिये .
अगर आप को अपने नाबालिग बच्चे का पासपोर्ट बनवाना हैं तो भी आप के पास शादी का प्रमाण पात्र जरुरी हैं ,
इसके अलावा कभी बुरा समय आने पर अगर पति के ना रहने पर { ईश्वर ना करे } आप को कहीं ये प्रूव करने को कह दिया जाए की आप ही उनकी "लाफुल्ली weded  वाइफ " हैं जैसे बैंक , लाइफ इंश्युरेंस इत्यादि पर तो केवल और केवल ये एक प्रमाण पत्र दे कर आप बहुत सी कानूनी दांव पेच से बच जायेगी . बहुत मुश्किल काम होता हैं कानून अपने को पत्नी सिद्ध करना , कई गवाह और अफिदेवित की जरुरत होती हैं .

अगर आप अपनी बेटी का विवाह किसी अन आर आई से कर रही है तो आप को उस विवाह को तुरंत रजिस्टर करा देना चाहिये क्युकी आज कल भारतीये लड़कियों से अन आर आई लडके शादी तो कर लेते हैं , दान दहेज़ भी लेते हैं पर उनको अपने साथ विदेश नहीं ले जाते . अगर शादी रजिस्टर नहीं होगी तो आप की बेटी विदेश जा ही नहीं सकती

अभी इस रजिस्ट्रेशन को कम्पलसरी नहीं किया गया हैं पर ये कानून लागू बहुत जल्दी किया जाने वाला हैं .

समाज में हिन्दू विवाह को मान्यता हैं लेकिन क़ानूनी वैद्यता के लिये लीकित दस्तावेज चाहिये होता हैं

आर्य समाजी रीति से जो विवाह होते हैं , उनमे प्रमाण पत्र  दिया जाता हैं पर सनातनी रीति मे इस का प्रावधान नहीं है .

मैने दिनेश जी और अजय जी मेल देकर पूछा था की क्या उन्होने कोई पोस्ट इस पर दी हैं ? उन्होने इस पोस्ट मे और जानकारी देने की बात की हैं जो टिपण्णी मे आते ही अपडेट कर दूंगी







4 comments:

  1. Anu ji aapne badw pyar se mere blog par tippni dete hue likha ki aapne meri bat man li...is blog par aa kar jana ki aap to naari blog chalaati hain..padh kar achchha lagaa .shukriya ji.

    ReplyDelete
  2. रचना जी ,
    आपने बहुत ही सामयिक और सटीक मुद्दा उठाया है इस पोस्ट में । विवाहों के पंजीकरण को अनिवार्य किए जाने के नए कानून के विषय में आपने बहुत सारी बातें लिखीं को आम जन में मन निश्चित रूप से उठ रही होंगीं । सबसे पहली बात तो ये बता दूं कि हमारे यहां देश में एक सबसे बडी कमी प्रशासन और व्यवस्था की ये रही है , या शायद जानबूझ कर छोडी गई है कि किसी भी कानून के बनने बनाने की प्रक्रिया में आम जनता का कोई सहयोग विरोध तो दूर उसे भनक न ही लगे तो अच्छा है की प्रवृत्ति पर ही काम किया गया है ।

    विवाहों का पंजीकरण अनिवार्य किए जाने के पीछे बहुत सारे विधिक ,सामाजिक और प्रशासनिक कारण रहे हैं जिनकी चर्चा विशद हो जाएगी । मोटे तौर पर इसे इस तरह समझा जाए कि , सरकार ने अपने रिकॉर्डों को दुरूस्त करके उससे होने वाले फ़ायदे नुकसान का मन बना लिया है । राजधानी दिल्ली में इसे अनिवार्य कर दिया गया है अब , और जल्दी ही पूरे देश में भी कर दिया जाएगा ।

    पिछले कुछ वर्षों मे पनपे सामाजिक अपराधों में एक अपराध आश्चर्यजनक रूप से वो था जो कहीं न कहीं विवाह से जुडा हुआ था , अलबत्ता उन पहले से चले आ रहे अपराधों , जैसे बाल विवाह आदि , एक से अधिक शादियां कर लेना वो भी किसी गलत उद्देश्य से , धोखे से गलत जानकारियां देकर शादी कर लेना , शादी करके विदेशों में जा बसना या विदेशों से आकर भारत में शादी करने के बाद उन्हें ठग निकलना आदि जैसे जुर्मों को ध्यान में रखते हुए इसे अनिवार्य करने की पहल ठीक कही जानी चाहिए ।

    हां ये बात बिल्कुल दुरूस्त है कि कानून के अनुसार पत्नी अधिकांश मामलों में पहली वारिस या उत्तराधिकारी मानी जाती है विशेषकर तब जब वो खुद इस हक से कानून के सामने आए , उस समय जरूर ही ये बहुत जरूरी हो जाता है साबित करना कि वे शादीसुदा पति पत्नी हैं और अभी चलन में चल रहे दस्तावेज़ों में राशनकार्ड , या फ़िर मतदाता पहचान पत्र आदि सहायक और पूरित कागज़ात हैं , विवाह पंजीकरण प्रमाणपत्र की जरूरत कुछ वर्षं पश्चात उसी तरह मानी समझी जाएगी जैसे आज से कुछ वर्षों पहले तक मैट्रिक की परीक्षा के प्रमाणपत्र को जन्मतिथि के लिए पर्याप्त माना जाता था जबकि अब एक नियत वर्ष के बाद पैदा हुए बच्चों के लिए जन्म तिथि प्रमाण पत्र का होना अनिवार्य कर दिया गया है ।

    शुरूआती दिनों में विवाह पंजीकरण करवाना आसान नहीं था , तकनीकी विधिक प्रक्रिया थी और बहुत सारी अनिवार्य सी शर्तें , जिन्हें अब जाकर कुछ कुछ लोगों की सहूलियत के हिसाब से बदला गया है । मसलन पहले पंजीकरण कराने वाले वक्तियों का उपस्थित होना जरूरी था जबकि अब नए के अनुसार अब इस अनिवार्यता को समाप्त कर दिया गया है , गवाहों की उपस्थिति आदि नियमों में बदलाव किए गए हैं , जिन्हें अलग से विस्तृत पोस्ट में कहना होगा । फ़िलहाल ये कदम उचित अपेक्षित और अनिवार्य कदम के रूप में ही देखा जाना चाहिए , बेशक सरकार चाहे तो इस प्रमाणपत्र के बनने और उसे आम लोगों के हाथों में पहुंचने की प्रक्रिया को जितना सरल कर सके उसका प्रयास करना चाहिए । बहरहाल एक नागरिक और विधिक क्षेत्र से जुडे होने के कारण मैं इतना ही कह सकता हूं कि इस कानून का सम्मान और पालन करना चाहिए , ये हमारे हित का कानून है । ...

    बाप रे कमेंट लंबा हो गया लगता है , चलिए मैं जल्दी ही अपनी पोस्ट भी लिखता हूं इस विषय पर

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts