नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

July 12, 2011

आम औरत की छवि बिगाड़ते टीवी धारावाहिक...!


टेलीविजन पर प्रसारित होने वाले अधिकतर धारावाहिकों में मुख्य किरदार महिलाओं के ही होते हैं।  छोटे पर्दे दिखाये जाने वाले ज्यादातर धारावाहिकों में महिलाएं नई-नई कूटनीतिक चालें चलकर बड़े-बड़े घरानों को बर्बाद या आबाद कर सकती हैं। उच्च वर्ग का रहन सहन इन सीरियल्स पर इतना हावी है कि आम महिलाओं के जीवन से जुडी समस्याओं के लिए इनमें कोई जगह नजर नहीं आती। इतना ही नहीं इन धारावाहिकों में कुछ बातें तो हकीकत से बिल्कुल उलट ही नजर आती है। 

 इन सीरियल्स के ज्यादातर महिला किरदार कामकाजी न होकर गृहणी के रूपे में गढे जाते हैं । इन धारावाहिकों  में घरों में होने वाली उठा-पटक काफी तड़क-भड़क  के साथ परोसी जाती है। जिनमें महिला किरदार अहम भूमिका निभाते नजर आते है। 

इन धरावाहिकों में परंपरा के नाम पर कुछ भी परोसा जा रहा है | आधारहीन कल्पनाशीलता के नाम पर इनमें कई गैर जिम्मेदाराना बातें दिखाई जाती है। हद से ज्यादा खुलापन और और सामाजिक रिश्तों की मर्यादा से खिलवाड़ को तकरीबन हर सीरियल की कहानी का हिस्सा बनाया जाता है। हैरानी की बात तो यह है कि यह सब कुछ भारतीय सभ्यता और संस्कृति के नाम पर पेश किया जा रहा है। जिसका विचारों और संस्कारों पर गहरा असर पड रहा है। बहुत से धारावाहिकों में विवाहेत्तर संबंधों को प्रमुखता से दिखाया जाता है। 

अधिकतर भारतीय भाषा और साज सज्जा में दिखाये जाने वाले महिला पात्रों को व्यवहारिक स्तर पर ऐसे कुटिल, कपटी और षडयंत्रकारी रूप में टेलीविजन के पर्दे पर उतारा जा रहा है जो हकीकत के सांचे में फिट नहीं बैठते। विवाह संस्कार हमारी संस्कृति की सबसे बड़ी  विशेषता रही है, जबकि इन धारावाहिकों में शादी जैसे गंभीर विषय को भी मनमाने ढंग से दिखाया जाता है। 

 भारतीय सभ्यता ,संस्कृति और पारिवारिक मूल्यों के नाम पर दिखाई जा रही ये कहानियां  परंपरागत मान्यताओं अवमूल्यन और सामाजिक सांस्कृतिक विकृति को जन्म दे रही हैं.है। दिनभर में कई बार प्रसारित होने वाले इन धारावाहिकों के दर्शक लगभग हर उम्र के लोग है। आमतौर पर सपरिवार देखे जाने वाले इन टीवी सीरियलों से परिवार का हर सदस्य चाहे छोटा हो बडा, जैसा चाहे वैसा संदेश ले रहा है। 

आलीशान रहन सहन और हर वक्त सजी धजी रहने वाली महिला किरदारों की जीवन शैली एक आम औरत को हीनभावना और उग्रता जैसी  सौगातें दे रही है।  टीवी चैनलों पर हर वक्त छाये रहने वाले इन धारावाहिकों में संस्कारों की बातें तो बहुत की जाती है पर पात्रों की जीवन शैली और दिखाई जाने वाली घटनाओं का देखकर महसूस होता है कि इनके जरिए कुछ नई धारणाएं , नए मूल्य गढ़े जा रहे हैं। 

ऐसे कार्यक्रमों के बीच में दिखाये जाने वाले विज्ञापन भी खासतौर महिलाओं को संबोधित होते हैं। कई टीवी सीरियलों के तो कथानक ही विज्ञापित प्रॉडक्ट का सर्मथन करने वाले होते हैं। बात चाहे पार्वती और तुलसी जैसे किरदारों द्धारा पहनी मंहगी साड़ियों की हो या रमोला सिकंद स्टाइल बिंदी की । इन सास बहू मार्का सीरियलों में दिखाये जाने वाले उत्पाद आसानी से बाजार में अपनी जगह बना लेते हैं।  इन सीरियलों में महिला किरदारों का प्रेजेंटेशन और साज सज्जा  का इतना व्यापक असर होता है कि बाजार में इन चीजों की मांग लगातार बनी रहती है। 

ये महिला किरदार या तो पूरी तरह आदर्श होते हैं या नैतिकता से कोसों दूर। जिसका सीधा सा अर्थ यह है कि टीवी सीरियल्स में दिखाये जा रहे महिला चरित्र वास्तविकता से परे हैं। क्या एक आम महिला दिन भर सज-धज कर सिर्फ कुटिलता करने की योजना बनाती  रहती है ..? ज़्यादातर गृहणियां ऐसा करते दिखाई जाती हैं ...जबकि हकीकत यह है घर पर रहने वाली महिलाओं को इतना काम होता है की स्वयं के लिए भी समय नहीं मिलता | कामकाजी महिलाओं की व्यस्तता तो और भी ज्यादा है ... |  सच में मुझे तो ये किरदार घर-परिवार और समाज में मौजूद आम महिलाओं की छवि बिगाड़ने वाले ही लगते हैं...!

11 comments:

  1. ek achchhi post haen monika

    aur sahii haen aap kaa view point


    har baat sae sehmat hotey huae bas ek baat aur jodna chahugi

    baalika badhu jaese retrgrade serial sae ek aam jan jaagran jarur huaa haen

    maere saamnae jo aadmi kapade press karta haen unsane ek din kehaa wo apni betiyon ki shaadi 21 saal ki honae kae baad karega kyuki baalika badhu wo daekhtaa hae

    ReplyDelete
  2. मैं रचना जी से सहमत नहीं हूँ ...मुझे तो बालिका वधू बाल -विवाह या बेमेल विवाह को प्रोत्साहित करता ही प्रतीत हुआ!

    ReplyDelete
  3. मेरे कमेन्ट में retrograde शब्द मिस कर गयी क्या ????

    ham jisae galet maantey haen wo bhi maantey haen

    mae khud is serial kae virodh mae isii blog par kam sae kam 3 baar post dae chuki hun

    lekin apnae press wale ki baat sun kar mujhe lagaa ki retrgradae serial sae bhi kahin haa kahin chetna aaii haen

    ReplyDelete
  4. बिल्कुल सहमत हूं | पूरे धारावाहिकों में महिला किरदार ही हावी रहती है उन्हें या तो पूरी तरह से देवी के रूप में रखा जाता है जो हर बात में त्याग की प्रतिमूर्ति बनी होती है या फिर बिल्कुल ही काले रंग में रंग किरदार जो हर समय दूसरे का बुरा ही चाहता है | कोफ़्त तो तब होती है जब लोग इन किरदारों को सच मन आम जीवन में भी उनकी तुलना करने लगते है | ऐसे दिमाग वालो के लिए ही इस तरह के धारावाहिक बनाते है |

    ReplyDelete
  5. बहुत ही बढ़िया पोस्ट |
    बिलकुल मीठे ,धीमे जहर की तरह सबके घरो में प्रवेश कर चुके है ये कीटाणु ,और बाजार भी इन्ही की गिरफ्त में है |
    हर धारावाहिक के साथ यह लिखा जाता है की हम ऐसी गलत परम्पराओ का विरोध करते है और उन्ही गलत परम्पराओ को बढ़ा चढ़ा कर दिखाते हुए उन्हें अनुसरणीय जामा पहना देते है |

    ReplyDelete
  6. आपने बिल्कुल सही तस्वीर उतार दी आपने टीवी धारावाहिको की...बहुत कम लोग ही सही सबक ले पाते हैं नही तो बुरा आचरण करने में एक पल नहीं लगता...

    ReplyDelete
  7. सार्थक पोस्ट पूरी तरह से सहमत

    ReplyDelete
  8. आपने मेरे मन की बातों को सटीक अभिव्यक्ति दी है मोनिका जी ! टी वी धारावाहिकों के स्त्री पात्र अतिरंजना के शिकार होते हैं ! इन सीरियल्स में आदर्श स्त्री पात्रों को इतना दुःख झेलते हुए दिखाते हैं कि वास्तविक जगत की नासमझ लड़कियाँ अच्छा बनने से तौबा ही करना चाहती हैं ! धारावाहिकों की अनावश्यक लम्बाई, नायिका को अच्छे मूल्यों की प्रतिस्थापना की जद्दोजहद में मिलने वाली लगातार हार और अपमान और उससे उपजा अंतहीन दुःख, हताशा और कुंठा युवा पीढ़ी को भ्रमित कर रहा है ! "दुष्ट स्त्रियाँ अपनी गलत सोच के साथ भी जीवन के सारे मज़े ले रही हैं तो अच्छा बनने से क्या फ़ायदा !" यही संदेश समाज में जा रहा है ! विचारणीय पोस्ट के लिये बहुत बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  9. सराहनीय प्रयास |
    मातृशक्ति को प्रणाम ||

    ReplyDelete
  10. Bahut sahi bat kahi apne. Is or sabhi ko gambhirta se sochne ki jarurat hai.

    ReplyDelete
  11. शब्दशः सहमती है आपसे...
    बड़ी ही दुर्भाग्यपूर्ण स्थति है...
    कुछेक धारावाहिकों को छोड़कर अधिकांश जो दिखाते हैं,क्या सोचकर दिखाते हैं,समझ नहीं आता...

    नैतिकता की सोचने वाला तो कोई निर्माता रहा नहीं अफ़सोस यह है की सेंसर नाम की भी कोई चीज यहाँ नहीं है...

    इन धीमे जहर द्वारा संस्कृति का ह्रास तो हो ही रहा है,लोगों की संवेदनशीलता भी कुंद पड़ती जा रही है...

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts