नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

हिन्दी ब्लोगिंग का पहला कम्युनिटी ब्लॉग जिस पर केवल महिला ब्लॉगर ब्लॉग पोस्ट करती हैं ।

यहाँ महिला की उपलब्धि भी हैं , महिला की कमजोरी भी और समाज के रुढ़िवादि संस्कारों का नारी पर असर कितना और क्यों ? हम वहीलिख रहे हैं जो हम को मिला हैं या बहुत ने भोगा हैं । कई बार प्रश्न किया जा रहा हैं कि अगर आप को अलग लाइन नहीं चाहिये तो अलग ब्लॉग क्यूँ ??इसका उत्तर हैं कि " नारी " ब्लॉग एक कम्युनिटी ब्लॉग हैं जिस की सदस्या नारी हैं जो ब्लॉग लिखती हैं । ये केवल एक सम्मिलित प्रयास हैं अपनी बात को समाज तक पहुचाने का

15th august 2011
नारी ब्लॉग हिंदी ब्लॉग जगत का पहला ब्लॉग था जहां महिला ब्लोगर ही लिखती थी
२००८-२०११ के दौरान ये ब्लॉग एक साझा मंच था महिला ब्लोगर का जो नारी सशक्तिकरण की पक्षधर थी और जो ये मानती थी की नारी अपने आप में पूर्ण हैं . इस मंच पर बहुत से महिला को मैने यानी रचना ने जोड़ा और बहुत सी इसको पढ़ कर खुद जुड़ी . इस पर जितना लिखा गया वो सब आज भी उतना ही सही हैं जितना जब लिखा गया .
१५ अगस्त २०११ से ये ब्लॉग साझा मंच नहीं रहा . पुरानी पोस्ट और कमेन्ट नहीं मिटाये गए हैं और ब्लॉग आर्कईव में पढ़े जा सकते हैं .
नारी उपलब्धियों की कहानिया बदस्तूर जारी हैं और नारी सशक्तिकरण की रहा पर असंख्य महिला "घुटन से अपनी आज़ादी खुद अर्जित कर रही हैं " इस ब्लॉग पर आयी कुछ पोस्ट / उनके अंश कई जगह कॉपी कर के अदल बदल कर लिख दिये गये हैं . बिना लिंक या आभार दिये क़ोई बात नहीं यही हमारी सोच का सही होना सिद्ध करता हैं

15th august 2012

१५ अगस्त २०१२ से ये ब्लॉग साझा मंच फिर हो गया हैं क़ोई भी महिला इस से जुड़ कर अपने विचार बाँट सकती हैं

"नारी" ब्लॉग

"नारी" ब्लॉग को ब्लॉग जगत की नारियों ने इसलिये शुरू किया ताकि वह नारियाँ जो सक्षम हैं नेट पर लिखने मे वह अपने शब्दों के रास्ते उन बातो पर भी लिखे जो समय समय पर उन्हे तकलीफ देती रहीं हैं । यहाँ कोई रेवोलुशन या आन्दोलन नहीं हो रहा हैं ... यहाँ बात हो रही हैं उन नारियों की जिन्होंने अपने सपनो को पूरा किया हैं किसी ना किसी तरह । कभी लड़ कर , कभी लिख कर , कभी शादी कर के , कभी तलाक ले कर । किसी का भी रास्ता आसन नहीं रहा हैं । उस रास्ते पर मिले अनुभवो को बांटने की कोशिश हैं "नारी " और उस रास्ते पर हुई समस्याओ के नए समाधान खोजने की कोशिश हैं " नारी " । अपनी स्वतंत्रता को जीने की कोशिश , अपनी सम्पूर्णता मे डूबने की कोशिश और अपनी सार्थकता को समझने की कोशिश ।

" नारी जिसने घुटन से अपनी आज़ादी ख़ुद अर्जित की "

हाँ आज ये संख्या बहुत नहीं हैं पर कम भी नहीं हैं । कुछ को मै जानती हूँ कुछ को आप । और आप ख़ुद भी किसी कि प्रेरणा हो सकती । कुछ ऐसा तों जरुर किया हैं आपने भी उसे बाटें । हर वह काम जो आप ने सम्पूर्णता से किया हो और करके अपनी जिन्दगी को जिया हो । जरुरी है जीना जिन्दगी को , काटना नही । और सम्पूर्णता से जीना , वो सम्पूर्णता जो केवल आप अपने आप को दे सकती हैं । जरुरी नहीं हैं की आप कमाती हो , जरुरी नहीं है की आप नियमित लिखती हो । केवल इतना जरुरी हैं की आप जो भी करती हो पूरी सच्चाई से करती हो , खुश हो कर करती हो । हर वो काम जो आप करती हैं आप का काम हैं बस जरुरी इतना हैं की समय पर आप अपने लिये भी समय निकालती हो और जिन्दगी को जीती हो ।
नारी ब्लॉग को रचना ने ५ अप्रैल २००८ को बनाया था

July 07, 2011

आगे बढिए : बढाइये कदम महिला भ्रूण हत्या के खिलाफ


 (मैं जानती हु इस लेख को पढने वाले अधिकतर लोग मानसिक रूप से सुद्रढ़ है पर और सभी मुझसे ज्यादा अनुभवी है सबने मुझसे ज्यादा दुनिया देखी है हो सकता है ये लेख आप सबको बचकाना लगे पर अगर १ भी व्यक्ति पर मेरे लेख का सकारात्मक प्रभाव पड़ा तो मैं मानूगी की की मेरा लिखना सफल हुआ....अगर कोई त्रुटी हो तो क्षमा करें और अपने सुझाव अवश्य दें )


तू कितनी अच्छी है,तू कितनी प्यारी है न्यारी न्यारी है ओ माँ मेरी माँ !

अच्छा लगता है न ये गाना मुझे लगता है सबको अच्छा लगता होगा.

पर उन अजन्मी बच्चियों के बारे मैं सोचिये जो सिर्फ माँ के गर्भ मैं कभी एक आध बाद इस गाने की धुन भी महसूस नहीं कर पाई होंगी और इस दुनिया मैं आने से पहले ही दूसरी दुनियां मैं चली गई .आज न जाने क्यों एक तीस सी उठ रही है मन मैं की काश वो भी मेरी तरह ये दुनिया देख पाती.वो भी अपने माँ के कोमल अहसास को महसूस कर पाती.

पर न जाने क्यों उसकी अच्छी प्यारी और न्यारी माँ उसे इस दुनिया मैं लाने की हिम्मत नहीं कर पाई ,जाने किसके दबाव मैं उसने अपनी बच्ची को अपने से दूर कर दिया.या खुद को आधुनिका कहने वाली उसकी माँ खुद ही अपनी दकियानूसी सोच नहीं बदल पाई.

अजीब है ये देश जहा इतनी उन्नति के बाद भी लोग लिंगभेद करते है भारत की हाल ही मैं हुई गिनती के अनुसार भारत मैं महिलाओं एवं पुरुषों का अनुपात ९३३ प्रति १००० हो गया है और सबसे ज्यादा चौकाने वाली बात ये है की शहरी क्षेत्रो मैं ये अनुपात ९०० महिलाएं प्रति १००० पुरुष है जबकि गावों मैं ये अनुपात ९४६ प्रति १००० पुरुष है.स्वतंत्रता के बाद ये पहली बार है जब महिला पुरुष अनुपात मैं इतना अंतर आया है.
शर्म आती है मुझे ये सोचते हुए भी की पढ़े लिखे लोग तकनिकी का किस तरह फायदा उठा रहे है .
जब भारत स्वतंत्र हुआ था तब लोगो ने शायद ये सोचा होगा की जेसे जेसे शिक्षा का प्रसार होगा लोगों मैं जागरूकता आएगी और महिला भ्रूण हत्या कम होगी पर सेंसेक्स की रिपोर्ट देखकर लगता है शेहरी लोगो ने तकनिकी का महिला भ्रूण हत्या मैं भी जमकर फायदा उठाया है .बढती महंगाई ने शहर के लोगो इस बात के लिए तो मानसिक रूप से तैयार कर दिया की उन्हें १ या २ ही बच्चे चाहिए पर गिरती हुई मानसिकता कहिये या जड़ मैं बेठी हुई सोच की अब वो १ ही बच्चा उन्हें लड़का चाहिए .मतलब साफ़ है जनसँख्या चाहे उस तेजी से न बढे पर लड़कियों की संख्या तेजी से कम हो रही है.

हम क्यूँ अपने आप को पढ़ा लिखा कह रहे हैं?क्या लोग पढाई सिर्फ इसलिए करते है की वो पैसा कमा सके ?क्या शिक्षा अपने साथ सोच मैं बदलाव नहीं कर रही ? क्या शिक्षा गुणात्मक फायदा नहीं दे रही ?

एक बार सोचकर देखिये नए ढंग के कपडे पहनना ,बड़े होटलों मैं खाना,वीकेंड पर बाहर जाना ,कंप्यूटर,लैपटॉप,आई -फ़ोन ,इन्टरनेट,वेबकैम और न जाने कितनी तकनिकी सुविधाओं का उपयोग करना ,माल्स मैं शौपिंग करना,गावों के लोगो को दकियानूसी कहना ,नौकरी करना ,पैसे कमाना ,और हमें सिर्फ १ बच्चा चाहिए या हमें सिर्फ दो बच्चे चाहिए जेसी बातें करके फॅमिली प्लानिंग की डींगे हांकना क्या यही सब शहरीपन है? क्या फायदा असी पढाई लिखाई का जो हमें सही रस्ते पे चलना भी नहीं सिखा रही.....

पढ़ी लिखी लड़कयाँ और महिलाएं क्या सिर्फ इसलिए पढ़ रही है की वो अपने आप को साबित कर सके,पुरुषों के कंधे से कन्धा मिला मिला सके ,या आज की शहरी भाषा मैं कहे तो घर की अर्निंग मेम्बर बन सके ,क्या वो अभी भी इतनी समझदार और परिपक्व नहीं हुई की अपनी बच्ची को दुनिया मैं लाने के लिए आवाज उठा सके? और खुद को प्रबुद्ध कहने वाला पुरुष वर्ग क्या अब भी नहीं समझ पा रहा महिलाओं की ये घटती संख्या देश मैं १ दिन कुवरो पुरुषों की भीड़ बढ़ा देगा.

इस देश मैं सब समझदार है सारे लोग क्रिकेट पर टिपण्णी करना जानते है,सब ओसामा की मौत पर बातें करते है,अमेरिका के बारे मैं बोलते है,मुफ्त के रायचंद काफी है यहाँ. पर महिला भ्रूण हत्या के विरोध में  मैआवाज उठाने  वालो  की संख्या कम है क्योंकि  सब जानते है ये गलत  है पर सब डरते  है बोलने  से .में मानती हु कुछ लोगो में जाग्रति आई है पर प्रतिशत काफी कम है .

मेरी बस लोगो से यही उम्मीद  है की वो पढ़े लिखे है तो अपनी शिक्षा का सही उपयोग करें  और अपनी तरफ  से पूरी  कोशिश  करें  की वो कभी महिला भ्रूण हत्या में  शामिल  न हो साथ ही अपने आस  पास  के लोगो को भी असा  करने  से रोकें .युवा  हो तो युवा  होने  के उत्तरदायित्व  को समझो  ,भीड़ में  शामिल  हो जाओ  पर भीड़ का हिस्सा  बनकर  गन्दगी  को साफ़ करो ........


                                                                                                    कनुप्रिया गुप्ता


21 comments:

  1. kanya bhund hataya aesaa mudda haen jis kaa virodh kartey rehna hogaa

    ReplyDelete
  2. जी रचना जी आपकी बात से सहमत हू.इसीलिए अपने ब्लॉग पर इस से सम्बंधित लेख लिखती रही हू मैं और उन लेखों का लिंक अपने फेसबुक और ट्विट्टर अकाउंट पर बार बार डालती हू ताकि मेरे सभी युवा मित्र उन्हें पढ़े शायद इस यज्ञ में यही मेरी आहुति हो.

    ReplyDelete
  3. भ्रूण हत्या का विरोध किया जाना चाहिए , इस मानसिकता का शिक्षित या धनवान होने से कोई फर्क नहीं पड़ता ...ज्यादा मामलों में खुद महिलाएं जिम्मेदार होती है , मेरा अनुभव है !

    @हमें सिर्फ १ बच्चा चाहिए या हमें सिर्फ दो बच्चे चाहिए जेसी बातें करके फॅमिली प्लानिंग की डींगे हांकना क्या यही सब शहरीपन है?
    बढती जनसँख्या के मद्देनजर हर वर्ग की जिम्मेदारी होनी चाहिए , इसका ताल्लुक शहरीपन से नहीं देश के विकास के साथ कम होते कृषि क्षेत्र और बढती महंगाई से है !

    ReplyDelete
  4. भ्रूण हत्या का विरोध किया जाना चाहिए.सवालों से जूझना कोई आपसे सीखे. आपको पढना हमेशा अच्छा लगा है.
    समय हो तो युवतर कवयित्री संध्या की कवितायें. हमज़बान पर पढ़ें.अपनी राय देकर रचनाकार का उत्साह बढ़ाना हरगिज़ न भूलें.
    http://hamzabaan.blogspot.com/2011/07/blog-post_06.html

    ReplyDelete
  5. अच्छी बात बतायी है अपने ब्लॉग पर।
    मुझे नहीं लगता ऐसा होगा, जब तक ये मानसिकता नहीं बदलेगी।

    ReplyDelete
  6. aapne sach kaha aur apni kalam ke prabhaav se jagrit karne ki koshish bhi ki...lekin ek baat main kahna chahungi ki kya sirf kanya bhroon hatya na karva kar ladki ko janam de dene bhar se hi ham apne desh ke prati, samaj ke prati, nari jati ke prati apna kartavy pura kar lete hain? is se aage aur kuchh nahi.....?

    mere is sawal ki babat main agle buddhwar 13/7/2011 ko ek post daalungi...kripya use jaroor padhiyega.

    ReplyDelete
  7. कनुप्रिया जी आप ने सही खा की जरुरी ये है की लोग अपनी मानसिकता बदले अपनो सोच बदले क्योकि कानून या समाज के दबाव में लोग यदि बेटी को जन्म दे भी दे तो उसके साथ कभी भी अच्छा व्यवहार नहीं करेंगे और हमेसा उसके सतग भेदभाव करेंगे उसको बेटे से कमतर मानेगे |

    ReplyDelete
  8. शिक्षित होने भर से ही लोख कन्या भ्रूण हत्या बंद कर देते तो ये समस्या बहुत हद तक खत्म हो गई होती.गर्भस्थ लिंग का पता लगाने के लिए सामग्री व सूचनाएँ वेब पर भी मौजूद है जिनका प्रयोग ये पढा लिखा वर्ग ही करता है.केवल भ्रूण हत्या ही नहीं अब तो जेनिटोप्लास्टी जैसी तकनीकें भी मौजूद है जिससे गर्भस्थ शिशु का लिंग ही परिवर्तित कर दिया जाता है.इसके अलावा कई जगह पैदा होने के बाद भी बच्चियों को मार दिया जाता है या कही लावारिस छोड दिया जाता है.यहीं नहीं गाँवों में तो जहाँ लडके को जन्म देने के बाद माँ को कई हफ्तों तक आराम दिया जाता है वहीं लडकी को जन्म देने के तीन चार बाद ही माँ को काम में जुट जाना पडता है.इस कारण उचित देखभाल नही होने या बीमार होने के कारण बच्ची दम तोड देती है .अत: केवल भ्रूण हत्या ही नहीं लिंगानुपात कम होने के और भी कई कारण है.
    आपका लेख अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  9. kanupriya ji,
    bahut sarthak likha hai aapne kintu aaj padhe likhe log hi ais kar rahe hain aur dekhiye bhawagwan k nyay ladki mren par ladka paida hota hai .hamare yahan kai ke sath aisa hua hai aur ahi bad me apne ladke hone ka maza maa-baap ko chakhata hai.

    ReplyDelete
  10. महिला भ्रूण हत्या को रोकने का पहला कदम भी महिला को ही उठाना होगा...

    ReplyDelete
  11. sach mei maa ban na duniya ka sabse sukhad ahsaas hota hai, or apne brun navjaat bache ko marna sabse dukhad ...waise to hospitals mei hum dekhte hai likha hua ke brud mei ling ki jaach karana kanooni apradh hai, par paiso ke khatir aaj bhi log ye apradh karte hai, sahi kaha aapne agar ye karam aise hi chalta raha to wo samay dur nahi jab desh ki jansakya mei ladkiya sirf naam matr reh jayeng... hum narriyo ko hi iske khilaf aawaz uthani padegi

    ReplyDelete
  12. भ्रूण हत्या मानवता पर एक अभिशाप है जिसका पुरजोर विरोध होना चाहिए !
    मै इस सभ्य समाज को तब तक सभ्य नहीं मानता जब तक बेबस , अजन्मी बच्चियों की हत्या बंद नहीं होती !
    नारी और पुरुष में भेद करने वाला आदमी जानवर से भी बदतर है !
    आभार !

    ReplyDelete
  13. आप सभी का धन्यवाद् .शहरोज जी मैंने वो कविताएँ पढ़ी बहुत ही अच्छी है.
    हो सके तो मेरा ब्लॉग देखे वहा नारी से सम्बंधित एक कविता है आपकी प्रतिक्रिया चाहूंगी.
    http://meriparwaz.blogspot.com/2011/07/blog-post_07.html#comments
    आप लोगो ने जो सुझाव या कमियां बताई है में अपने अगले लेख में उन सभी बातों का ध्यान रखूंगी.

    ReplyDelete
  14. बहुत ही बढ़िया और जरूरी मुद्दा आपने उठाया है कन्या भ्रूण हत्या का | हम सबको वास्तव में जरूरत है इस पर नए सिरे से सोचने की | हम कब तक अपने आपमें शिक्षित और सभ्य समाज के चिन्तक का स्वांग रचते रहेंगे और इस विषय पर मूक दर्शक बने रहेंगे | लेकिन यह काम दोस्तों खाली ब्लॉग्गिंग और सभाएं करने से चलने वाला नहीं है | इसके लिए हम सभी को एकजुट होकर प्रयास करने होंगे वोह भी अपने अपने तरीके और समय के हिसाब से लोगों में जागरूकता भरकर |

    ReplyDelete
  15. kanu ji ,
    bahut sahi aalekh likha hai aapne aaj ye sab ho raha hai to fir likhne ke liye naya vishay kahan se aayega.sarthak prastuti.

    ReplyDelete
  16. महिला भ्रूण हत्या को रोकने के लिए हर महिला को खुद जागरूक होकर लोगों को भी इसको रोकने के लिए हर वक्त प्रयासरत रहने की जरूरत है..
    बहुत बढ़िया जागरूकता भरी प्रस्तुति के लिए आभार!

    ReplyDelete
  17. विषय को सार्थक ढंग से उठाने के लिए आपका आभार...

    बहुत सही कहा आपने...पढ़े लिखे आधुनिक / शहरी तबके में भ्रूण परीक्षण और कन्या भ्रूण हत्या सर्वाधिक होती है...

    बहुत बहुत बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है यह...

    केवल कानून बना देने से यह बंद नहीं होने वाला..जबतक माताएं स्वयं इसके लिए कृतसंकल्प नहीं होंगी,यह नहीं रुकेगा...क्योंकि ९५% महिलायें स्वेच्छा से कन्याभ्रूण परीक्षण और हत्या करवाती हैं,जबकि ऐसा नहीं कि वे बच्चे का खर्च उठा पाने में अक्षम हैं या परिवार के प्रत्यक्ष दवाब में ऐसा कर रही हैं..

    ReplyDelete
  18. धन्यवाद् रंजना जी ,आपने मेरे लेख के मुख्य उद्देश्य को समझा.मेरा यही कहना था की पढ़ लिखकर सब समझकर खुद नारी होकर नारी एसा कर रही है जिसे रोकना सिर्फ उसके खुद के हाथ में है....

    ReplyDelete

copyright

All post are covered under copy right law . Any one who wants to use the content has to take permission of the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium .Indian Copyright Rules

Popular Posts